Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

ब्रह्म कुमारी शिवानी दीदी की जीवनी | Brahma kumaris Shivani Didi biography Quotes in hindi

ब्रह्म कुमारी शिवानी की जीवनी | Brahma kumaris Shivani biography Quotes in hindi

ब्रह्मा कुमारी शिवानी वर्मा को लोग सिस्टर शिवानी के नाम से भी बुलाते है. ये एक आध्यात्मिक संस्था जिसका नाम प्रजापति ब्रह्मा कुमारी विश्वविद्यालय है से एक अध्यात्म शिक्षिका के रूप में जुडी हुई है. ये 2008 से टेलीविजन पर ‘अवेकिंग विद ब्रह्मा कुमारी’ जोकि रोज आस्था चैनल पर प्रसारित किया जाता है, से जुड़ कर लोगों को अध्यात्मिक प्रवचन देती है, जो लोगो को अध्यात्म से जुड़ कर मानव कल्याण के लिए प्रेरित करता है. इनके प्रवचनों को लोगों द्वारा बहुत पसंद किया गया है. न सिर्फ़ भारत में, बल्कि पुरे विश्व में उनको विभिन्न संस्थाओं द्वारा अद्यात्मिक प्रवचन के लिए बुलाया जाता है. इसके बारे में यहाँ कुछ जानकारी दी गई है.

bramhakumari shivani

ब्रह्म कुमारी शिवानी का जन्म और शिक्षा (Brahma kumari sister shivani education)

ब्रह्मा कुमारी शिवानी का जन्म 1972 में पुणे में हुआ है. शुरू से ही इनका परिवार धार्मिक रहा है. इनके माता पिता बहुत ही धार्मिक प्रवृर्ति के थे. सिस्टर शिवनी ने 1994 में पुणे यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की पढाई पूरी की. उसके बाद दो साल तक वह भारती विद्यापीठ इंजीनियरिंग कॉलेज में लेक्चरर के पद पर रहीं.

ब्रह्म कुमारी शिवानी का करियर (Brahma kumari sister shivani career)

शिवानी अपने माता पिता के साथ ब्रह्मा कुमारी विश्वविद्यालय में लेक्चर को सुनने जाया करती थी. वहा उन्हें जाना बहुत पसंद था, क्योंकि जो भी लेक्चर होते थे वो बहुत ही जानकारीपूर्ण और उपयोगी होते थे. इस तरह इस संस्था की तरफ उनका झुकाव बढ़ता गया, और वो इस संस्था से 1995 ईस्वी में जुड़ गई. इनके द्वारा संचालित टीवी सीरिज हिंदी और अंगेजी भाषा में है, जिनमे से कुछ इस प्रकार हैं –

  • राजयोग मेडिटेशन
  • डिप्रेसन
  • विजडम ऑफ़ दादी जानकी
  • इनर ब्युटी
  • लाइफ स्किल्स
  • विजडम ऑफ़ दादी जानकी

ब्रह्मा कुमारी संस्था एक नजर में (Brahmakumari sanstha)

दुनिया को धार्मिक आध्यामिकता से परिचित करने के लिए ब्रह्म कुमारी नामक एक संस्था को दादा लेखराज कृपलानी ने स्थापित किया, जोकि एक बहुत बड़े व्यवसायी थे. जिनको वर्तमान में हम प्रजापिता ब्रह्मा के नाम से जानते हैं. बचपन से ही उनका मन धार्मिक कार्यों में ज्यदा लगता था. धीरे धीरे उनका मन प्रमात्मा की तरफ़ रमने लगा. मानव कल्याण के लिए उन्होंने सन 1936 में इस संस्था की बुनियाद रखी. और लोगो तक आध्यामिक ज्ञान और शिक्षा को पहुचने की शुरुआत कर दी.  इस संस्था की स्थापना उन्होंने कलकत्ता जो की अब कोलकाता नाम से प्रचलित है में की. इस संस्था का मुख्यालय भारत के माउन्ट आबू में हैं, जोकि राजस्थान में स्थित है. इस संस्था की 8500 शाखायें पुरे विश्व में फैली हुई है. शुरुआत में इस संस्था में सिर्फ़ महिलाएं ही थी जो इसको संचालित करती थी और उन्हें ब्रह्मा कुमारी नाम दिया गया, लेकिन अब इसे पुरुषों द्वारा भी चलाया जाता है और वो ब्रह्म कुमार कहलाते हैं. 

 ब्रह्म कुमारी शिवानी के अवार्ड और उपलब्धियां (BK shivani award)

इन्हें वीमेन ऑफ़ द डिकेड अचीवर अवार्ड से सम्मानित किया गया है

ब्रह्म कुमारी शिवानी के चर्चित अनमोल वचन (Brahmakumari shivani quotes in hindi)

ब्रह्मा कुमारी ने अपने अध्यात्मिक प्रवचन में बहुत से महत्वपूर्ण वक्तव्य दिए है, जो लोगो को बहुत ही प्रेरित करते है. जो निम्नलिखित है –

  1. हम सोचते है कि भगवान को याद करने से वो मेरा काम कर देगा लेकिन ऐसा नहीं है हम जब भी भगवान की याद में कोई काम करते है तो वो हमारी शक्ति को बढ़ा देता है और असम्भव कार्य भी संभव हो जाते हैं.
  2. यदि मै मन की आत्मा को व्यर्थ संकल्पों का बोझ ढ़ोने दूंगी तो भारीपन महसूस होगा और जल्दी ही थक जाऊंगी.
  3. जब “मै“ को “हम“ से बदल दिया जाता है तो ‘कमजोरी’ भी ‘तंदुरुस्ती‘ में बदल जाती है.
  4. एक मजबूत आत्मा अपने प्यार का इजहार कर सकता है. केवल वही आत्मा मजबूत हो सकती है जिसमें विन्रमता हो. एक कमज़ोर आत्मा हमें स्वर्थी बना देती है. अगर हम खाली है तो हम दूसरों से लेते है, लेकिन अगर हम भरें है तो हम अपने आप ही सभी को देते रहते है. यही हमारा स्वभाव है.
  5. किसी को भी दिया हुआ प्यार या दी हुई ख़ुशी हमेशा लौट कर वापस आती है संयोग से हम उस व्यक्ति से यह आशा भी रखते है.
  6. अगर हमे किसी में कुछ पसंद नहीं आता तो हम आसानी से नकारात्मक बातों को बोल देते है. हम पहले अपने मन में उन भावों के बारे में सोचते है और गुस्से में उन पर अपनी प्रतिक्रिया दे देते है. गुस्से में कही हुई बात स्वाभाविक रूप से अव्यवहारिक और अपमानजनक होगी. जोकि रिश्तों में एक खाई उत्पन्न कर देता है जिससे रिश्ते टूट भी सकते है. किसी भी तरह की प्रतिक्रिया देने से पहले हमें उसके व्यवहार के बारे में सोचना चाहिए और उसको समझने की कोशिश करना चाहिए, क्योंकि हर व्यक्ति के पास अपने व्यवहार को लेकर कुछ कारण होता है जिसको उस समय हम नहीं समझ सकते और उस समय उस व्यवहार पर अपनी प्रतिक्रिया देने से दुरी बढ़ जाती है. इसलिए हमें उन्हें कुछ समय देना चाहिए. हमें उनमें कुछ सकारात्मक बातों और व्यवहार को पहचान कर सकारात्मकता की शुरुआत करनी चाहिए.
  7. जीवन में आपकी सोच दुनिया के उपर ऊची उडान भरना है तो हवा में उडती उन पंछियों से शिक्षा ले, जो उन्मुक्त होकर अपनी उड़ान का आन्नद लेती है. आपके पास भी ऐसी क्षमता है कि आप समूह में सद्भावना के साथ उडान भर सकते है, और अपने आपको आनन्दित कर सकते है.
  8. मुश्किल से हम अपने समय को बचाने की योजना बनाने की कोशिश करते है. हालांकि जब तक हम अपने दिमाग को स्थिर कर योजनाबद्ध तरीके से नहीं चलाते है तब तक हमारे मन में बेकार और नकारात्मक विचार आते रहेंगें, जिस वजह से हमारा बहुमूल्य समय बेकार होता रहेगा. अगर योजना बना कर उस योजना पर समय पर अम्ल न कर पाए तो यह भी तनाव पैदा कर देता है. इसलिए हमें योजना बनाने पर अपने समय को बर्बाद न करके अपने विचारों का अच्छी तरह इस्तेमाल करना चाहिए. आज से हम पुरे दिन में से अपने लिए 15 मिनट का समय निकालेंगे जो हमारे दिमाग को सकारात्मक उर्जा से भर देगा. अपने लिए समय लेने की सोच को हम कुछ दिनों तक बनाये रखेंगें ताकि अपने में हुए उस परिवर्तन को देख सके.
  9. एक सकरात्मक विचार किसी भी स्थिति को पूरी तरह से बदलने की क्षमता रखता है. जब मै एक सकारात्मक विचार को सोचती हूँ और इसे लगातार अपने मन के अंदर रखने लगती हूँ, तो मुझे ऐसा लगता है कि मेरे अंदर सकारात्मक उर्जा का प्रवाह हो रहा है और मेरे आस पास चीजें बदल रही है. असम्भव भी संभव में बदल रहा है और सब लोग मेरा सहयोग कर रहे है. आज सुबह मै फिर से एक सकारात्मक विचार के साथ शुरुआत करुँगी, चाहे नकारात्मक स्थिति हो तो भी मै अपने सकारात्मक विचार को बनाये रखूंगी. ये सोच ही सकरात्मकता को लाती है और इस तरह के विचार हमेशा जारी रहे तो मुझे ऐसा लगता है कि ये हर स्थिति को बेहतर बनाये रखने में संभव हो सकते है.
  10. जब हम मजबूत सोच के साथ किसी भी कमज़ोरी को कम करने या खत्म करने की कोशिश करते हैं, तो हमें अपने आप ही कुछ सदाचारी गुण उपहार स्वरुप प्राप्त होते है. कमजोरी को ख़तम करने की कोशिश ही हमारे अंदर गुण लाते है, लेकिन हम ऐसा सोचते है कि हम में कुछ परिवर्तित नहीं हो रहा है लेकिन अंत में निश्चित रूप से हमारे अंदर कुछ सदाचारी गुण प्राप्त होते है. इसलिए यह महत्वपूर्ण हों जाता है कि हम अपनी कमजोरियों को पहचान कर उसको दूर करने के लिए प्रयास करते रहे. चाहे इसका लाभ हमे तुरंत दिखाई दे या न दे. आज मै अपनी कमजोरी को पहचान कर दूर करने की कोशिश करुँगी, इसके लिए एक योजना बनाउंगी और अपनी कमज़ोरी को पूरी तरह से हटाने की कोशिश करुँगी. समय समय पर मै अपनी इस योजना की समीक्षा भी करुँगी और इस प्रक्रिया से अपने अंदर विकसित हुए गुणों को उपहार समझ कर इसकी सराहना करुँगी.

अन्य पढ़ें –

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

2 comments

  1. Mujhe shivani di ki batein bahut acchi lagti hein,or mein unki bahut badi fan hu,khaskar unki awaj mein aati vinamrta ki,meri ye iccha h ki mein Jeevan mein kam se kam ek bar unse mil saku,or koshish karti rehti hu ki uki batayi bato ko nibha saku……

  2. अनादि द्विवेदी

    ॐ शांन्ति ॐ।।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *