बुल्ली बाई एप केस Bulli bai App case kya hain In hindi

0

बुल्ली बाई एप केस (एप्लीकेशन, गिथुब, सुल्ली डेयल्स, विवाद, डौन्लोड) Bulli Bai App Case (application, github, sillu deals, controversy, download process)

आजकल इंटरनेट पर और टीवी पर बुलीबाई एप्लीकेशन की काफी ज्यादा चर्चा हो रही है। वैसे तो यह एप्लीकेशन काफी लंबे समय से अपना काम कर रही थी परंतु अचानक से ही यह एप्लीकेशन फेमस नहीं हुई है बल्कि इसके पीछे एक ऐसा कारण निकल कर के सामने आ रहा है जो कानून की नजरों में अवैध है।

और इसीलिए जिस व्यक्ति ने बुलीबाई एप्लीकेशन का निर्माण किया था उस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है और अब उस पर कानूनी कार्रवाई जारी कर दी गई है। आखिर बुलीबाई एप्लीकेशन है क्या और क्यों इस पर इतना विवाद हो रहा है?इसके बारे में आपको इस आर्टिकल में जानकारी मिलेगी।

बुल्ली बाई एप्लीकेशन

 एप्लीकेशन का नाम:  बुलीबाई
वर्जन:1.3.8 एंड्राइड  
प्रेजेंटेड बाय: गीटहब  
लास्ट अपडेट:4 जनवरी 2020  
टाइप:  एडल्ट
उपलब्ध:एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म  
मालिक:नीरज बिश्नोई  

बुल्ली बाई एप्लीकेशन क्या है?

Github ही वह एपीआई है जहां पर बुलीबाई एप्लीकेशन को होस्ट करने का काम किया गया है। यह बिल्कुल उसी एप्लीकेशन की तरह काम करता है जिस एप्लीकेशन का नाम पिछले साल चर्चा में आया था, उसका नाम Sulli Deals एप्लीकेशन था।

इस एप्लीकेशन पर मुसलमान महिलाओं की कई तस्वीरें पोस्ट की गई थी, साथ ही उसमें मुसलमान महिलाओं के दाम भी लिखे गए थे। कुल मिलाकर देखा जाए तो इस एप्लीकेशन पर मुस्लिम महिलाओं की फोटो अपलोड करके उन्हें खरीदने और बिक्री करने के लिए पेश किया गया था और यही वजह है कि कुछ लोगों की नजरों में जब यह एप्लीकेशन आई, तब इस एप्लीकेशन के बारे में लोगों को पता चला।

इस एप्लीकेशन को जो व्यक्ति ऑपरेट कर रहा था, वह ट्विटर हैंडल पर भी काफी एक्टिव था।‌ हालांकि पुलिस की नजरों में जब इस एप्लीकेशन की जानकारी आई तो उसके ट्विटर हैंडल को भी ट्विटर ने बैन कर दिया। जो व्यक्ति इस एप्लीकेशन को चला रहा था उसने अपने बायो में ‘बुली बाई खालसा सिख फोर्स’ लिखा हुआ था।

Github क्या है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह एक प्रकार का ओपन सोर्स प्लेटफॉर्म होता है। Sulli Deals और Bulli Bai इन दोनों ही एप्लीकेशन को बनाने का काम इस पर ही किया गया है।

गीटहब का इस्तेमाल करके आप अपनी मनपसंद एप्लीकेशन या फिर सॉफ्टवेयर क्रिएट कर सकते हैं और उसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट के जरिए किसी भी व्यक्ति के साथ शेयर कर सकते हैं। संक्षेप में कहें तो Github लोगों को एप्लीकेशन बनाने की परमिशन देता है। इसलिए coding करने वाले और सॉफ्टवेयर बनाने वाले डेवलपर इसका इस्तेमाल करते हैं।

बुल्ली बाई एप्लीकेशन में क्या दिखाई देता है?

यह एक प्रकार की सोशल मीडिया एप्लीकेशन है। जब इस एप्लीकेशन को ओपन किया जाता है तब यहां पर अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से लेकर के अपलोड की गई मुस्लिम महिलाओं की अलग अलग फोटो दिखाई देती है और उनके बारे में उनकी कुछ जानकारियां भी लिखी होती है, साथ ही उनकी खरीदी और बिक्री की बात भी लिखी होती है। इसके अलावा उन महिलाओं का दाम भी लिखा हुआ होता है।

मुख्य तौर पर देखा जाए तो इस एप्लीकेशन में आकर के लोग मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें देखते हैं और उस पर अपने मन मुताबिक कमेंट करते हैं। कई लोगों मुस्लिम महिलाओं की बोली लगाने के लिए भी इस एप्लीकेशन का सहारा लेते हैं।

Sulli Deals क्या थी?

पहले तो आपको बता दें कि Sulli Deals

का मामला आज का नहीं है परंतु इसके बारे में आपको जानना इसलिए आवश्यक है क्योंकि यह यह मामला भी कहीं ना कहीं बुलीबाई एप्लीकेशन के फॉर्मेट से ही जुड़ा हुआ है। साल 2021 में जुलाई के महीने में ट्विटर पर Sulli Deals के नाम से मुस्लिम महिलाओं की कई फोटो शेयर की गई थी जिसकी टैग लाइन थी

Sulli Deals of the Day. Sulli महिलाओं के खिलाफ इस्तेमाल किए जाने वाला एक बहुत ही खराब शब्द है जिसे Github पर ही कुछ लोगों के ग्रुप ने बनाया था, जिसकी पहचान नहीं हो पाई।

बुल्ली बाई मामले में अभी तक क्या हुआ?

जब से इस मामले का खुलासा हुआ है तब से ही सोशल मीडिया पर काफी हंगामा बरपा हुआ है और कई लोग इस एप्लीकेशन को चलाने वाले लोगों की गिरफ्तारी की डिमांड कर रहे हैं, जिसके बाद पुलिस भी काफी हरकत में आई और मयंक रावल(21) नाम के एक विद्यार्थी को पुलिस ने उत्तराखंड राज्य से गिरफ्तार किया।

इसके अलावा इसकी दूसरी आरोपी एक लड़की है जिसका नाम श्वेता सिंह है(19) है, उसे पुलिस ने उत्तराखंड से गिरफ्तार किया। तीसरा आरोपी विशाल कुमार झा(21) है जिसे बेंगलुरु से पुलिस ने गिरफ्तार किया। विशाल कुमार झा इंजीनियरिंग की वर्तमान में पढ़ाई कर रहा है।

मुंबई पुलिस के अनुसार इस मामले में और भी लोग शामिल हैं इसीलिए पुलिस पकड़े गए आरोपियों से उनके नाम के खुलासे कर रही है जैसे ही उनके बारे में जानकारी हासिल होती है वैसे ही पुलिस उनकी भी गिरफ्तारी करेगी और आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Bulli Bai एप विवाद क्या है?

सामान्य शब्दों में कहा जाए तो यह एक एप्लीकेशन है जिसे कई लोग एक साथ मिल कर के चला रहे थे परंतु इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल महिलाओं का अपमान करने के लिए हो रहा था। खासतौर पर इस एप्लीकेशन पर मुस्लिम महिलाओं की अधिक फोटो लगाई जाती थी और फोटो के साथ उनकी कुछ पर्सनल इंफॉर्मेशन भी पोस्ट की जाती थी साथ ही उनके दाम भी लिखे जाते थे और यही वजह है कि इस मैटर में इतना ज्यादा हाईलाइट पकड़ा।

सोशल मीडिया पर लोग काफी पुरजोर तरीके से इस एप्लीकेशन का और इसे बनाने वाले लोगों का विरोध कर रहे हैं और वह इससे जुड़े हुए सभी आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। मुंबई में इस मामले में साइबर सेल में मामला भी दर्ज किया गया है और 3 लोगों को अभी तक गिरफ्तार किया गया है तथा अन्य लोगों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

Bulli Bai App पर क्या होता है?

इस एप्लीकेशन को बनाने वाले लोग अलग-अलग जरिए से मुस्लिम महिलाओं की फोटो इकट्ठा करते थे और उनकी फोटो को इस एप्लीकेशन पर उनकी कुछ पर्सनल इंफॉर्मेशन और उनके दाम के साथ पोस्ट करते थे। उनके अनुसार यह दावा किया गया है कि लोग इस एप्लीकेशन की सहायता से मुस्लिम महिलाओं की बोली लगा सकते हैं अथवा उन्हें बुक कर सकते हैं।

Bulli Bai App Download कैसे करें?

बता दें कि गूगल प्ले स्टोर पर आपको यह एप्लीकेशन नहीं मिलेगी। हालांकि इंटरनेट पर आपको इसकी एपीके फाइल मिल जाएगी। हमने जब इसकी एपीके फाइल को डाउनलोड करने का प्रयास किया तो इसकी एपीके फाइल डाउनलोड नहीं हुई जिससे हमें यह लगता है कि बुली ब्वॉय एपीके फाइल को डाउनलोड करने का जो तरीका बताया गया है वह काम नहीं करता है।

FAQ:

Q: बुलीबाई एप को कौन से यूआरएल पर होस्ट किया गया था?

Ans: Bullibai.github.io

Q: Bulli Bai App क्या है?

Ans: हमने आपको इस एप्लीकेशन की जानकारी आर्टिकल में दी है। इसीलिए आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें।

Q: बुली भाई एप्लीकेशन विवादों में क्यों है?

Ans: इस पर मुस्लिम महिलाओं की आपत्तिजनक फोटो अपलोड की जा रही थी और उन पर आपत्तिजनक टिप्पणी की जाती थी। इसीलिए यह विवादों में है।

Q: बुली बाई एप्लीकेशन को किसने बनाया?

Ans: इसे कई लोगों के ग्रुप ने मिलकर के बनाया है।

अन्य पढ़े –

तीन तलाक पर शाह बानो का केस 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here