Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

क्या है नकदी की कमी और क्यों आ रही है देश में नकदी की कमी | Reason of Current Cash Crunch In Hindi

क्या है नकदी की कमी और क्यों आ रही है देश में नकदी की कमी | Reason and meaning of Current Cash Crunch | ATMs run out of cash In Hindi

हमारे देश के कई राज्यों में इस वक्त नकदी की कमी हो गई है और लोग एटीएम मशीन से पैसे नहीं निकाल पा रहे हैं. दरअसल इस वक्त हमारे देश में नकदी की कमी चल रही है, जिसके कारण एटीएम मशीन में बैंकों द्वारा पैसे नहीं डाले जा रहे हैं. वहीं सरकार ने लोगों को आश्वासन दिया है कि सरकार जल्द ही देश में हुई इस नकदी की कमी को खत्म कर देगी.

Reason of Current Cash Crunch Hindi

किन किन राज्य में हुई है नकदी की कमी (ATMs run out of cash in many states)

नीचे बताए गए कुछ राज्य में नकदी की कमी काफी देखी जा रही है.

  1. असम,
  2. आंध्र प्रदेश,
  3. तेलंगाना,
  4. कर्नाटक,
  5. महाराष्ट्र,
  6. राजस्थान,
  7. उत्तर प्रदेश,
  8. मध्य प्रदेश

क्यों हुई देश में नकदी की कमी (Reason of Current Cash Crunch)

हाल ही में देश में नोटबंदी हुई थी जिसके कारण से हमारे देश में नए नोटों को छापा गया था. लेकिन ये नोट अभी तक भी कई राज्यों में पर्याप्त मात्रा  में पहुंच नहीं सके हैं. इसके अलावा नए 200 के नोट भी छापे गए हैं लेकिन ये नोट भी अभी तक देश के हर कोने तक पहुंच नहीं पाएं हैं. वहीं नीचे हमने देश में आई नकदी की कमी के अन्य मुख्य कारणों का विवरण किया है-

छोटे नोटों की कमी (Denomination)

दरअसल देश के कई बैंकों के पास 100 रुपए के नोटों की कमी चल रही है, जिसके कारण ये नोट एटीएम और बैंक में उपलब्ध नहीं हैं. हालांकि बैंकों के पास 500 रुपए के नोट मौजूद हैं, लेकिन 500 रुपए के नोट 100 रुपए के नोट की कमी पूरी नहीं कर पा रहें.

मांग बढ़ने से आई कमी (Demand)

कहा जा रहा है कि पैसों की अचानक मांग बढ़ने के कारण भी नकदी में कमी आई है. हालांकि देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ये साफ किया है कि देश के पास पैसों की कोई भी कमी नहीं है.

अफवाह की वजह से भी आई कमी (Rumor)

देश में नकदी कि कमी की खबर सुनकर, कई लोग बैंकों से और एटीएम से पैसे निकालने लगे हैं, जो कि आवश्यकता से ज्यादा है. जिसके कारण भी नकदी की कमी हुई है.

मजदूरों को भुगतान करना (wages)

नकदी की कमी का जो अन्य कारण माना जा रहा है वो किसानों द्वारा बेची जा रही फसल है, क्योंकि किसानों को फसल का भुगतान करने के लिए छोटे नोटों की जरुरत पड़ती है, जो कि पर्याप्त मात्रा में बाजार में उपलब्ध नहीं है. इसके अलावा अभी भी कई राज्य में 2000 रुपए की कमी चल रही है.

त्योहारों की वजह से भी आई कमी (Festivals)

देश के कई हिस्सों में कई तरह के त्योहार मनाए जा रहे हैं जिससे की नकदी की डिमांड एक दम से बढ़ गई थी. कहा जा रहा है कि अभी हाल ही में असम राज्य में बिहू त्योहार के दौरान नकदी की मांग बढ़ गई, जिससे की इस राज्य में भी नकद पैसों की कमी आ गई है.

एफआरडीआई बिल भी है बड़ी वजह (FRDI Bill)

एफ.आर.डी.आई विधेयक 2017 के कारण भी देश में नकदी की कमी हुई है, क्योंकि इस विधेयक को लेकर देश में काफी अफवाह फैलाई जा रही थी कि अगर ये बिल कानून बन गया तो, लोगों के पैसे बैंकों में सुरक्षित नहीं रहेंगे. जिसके बाद लोगों ने बैंकों से अपनी जमा राशि निकालना शुरु कर दी थी, जिसके कारण बैंक के पास नकद राशि की कमी आई गई.

देश में होने वाले चुनाव भी हैं मुख्य कारण (Elections)

देश के कई हिस्सों में इस साल चुनाव होने वाले हैं और ऐसी स्थिति में चुनाव का प्रचार करने के लिए पैसों की जरुरत पड़ रही है. पैसों की इसी जरुरत के कारण बैंक से कई पार्टियों द्वारा कैश निकाला जा रहा है ताकि वो चुनाव का प्रचार कर सकें.  अभी 12 मई को कर्नाटक में चुनाव होने वाले हैं जिसके कारण इस राज्य में नकदी की मांग एक दम से बढ़ गई है. इसी तरह मध्य प्रदेश और राजस्थान राज्य में भी विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और इन दोनों राज्यों में भी नकदी की कमी हो गई है.

वहीं सरकार का कहना है कि आरबीआई के पास पर्याप्त मात्रा में पैसे मौजूद हैं और कुछ राज्य में नकदी की आपूर्ति में आई कमी को जल्द ही पूरा कर दिया जाएगा और देश में हालात सामान्य हो जाएंगे.

अन्य पढ़े:

  1. यो-यो टेस्ट क्या है 
  2. आधार वर्चुअल आईडी क्या है
  3. चाबहार बंदरगाह का इतिहास व महत्त्व 
  4. 1942 भारत छोड़ो आन्दोलन के कारण

2 comments

  1. Dr. Zakir Ali Rajnish

    बहुत ही अच्‍छे से नकदी की कमी के बारे में बताया आपने, आभार।

  2. विवाह के सीजन मे नकदी की कमी होने से लोगो को बहुत समस्या आ रही है । लोगो को और सरकार को इस से निपटने के प्रयास करने होंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *