शीत युद्ध (Cold War) किसे कहते हैं, कारण एवं परिणाम

शीत युद्ध (Cold War) किसे कहते हैं, क्या है, कारण, परिणाम, कब हुआ था, अंत कब हुआ, दौर (Cold War Kya hai in Hindi) (Meaning, Period, Battle, Reason, Result)

शीत युद्ध में किसी भी तरह के हथियारों का इस्तेमाल नहीं होता है। यह युद्ध अप्रत्यक्ष होता है और इसे कूटनीतिक युद्ध भी कहते हैं। यह एक ऐसा युद्ध होता है जिसमें किसी भी तरह की जान माल की हानि नहीं होती है। लेकिन फिर भी जिन देशों के बीच यह होता है वह आपस में एक दूसरे का नुकसान कर देते हैं। अगर आपको इस युद्ध के बारे में जानकारी नहीं है तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। इस पोस्ट में हम आपको इससे संबंधित सारी बातें बताएंगे।

cold war in hindi

शीत युद्ध क्या है (What is Cold War in Hindi)

युद्ध का नामशीत युद्ध
कब हुआसाल 1946
कब खत्म हुआसाल 1989
युद्ध होने का कारणसोवियत संघ और अमेरिका के बीच पारस्परिक मतभेद
कितनी हानि हुईजान मान की कोई हानि नहीं हुई लेकिन इसका असर विश्व की अर्थव्यवस्था पर पड़ा।

शीत युद्ध किसे कहते हैं (Cold War Meaning)

सबसे पहले हम आपको बता दें कि शीत युद्ध एक ऐसा युद्ध होता है जिसमें सैनिक शक्ति का इस्तेमाल नहीं किया जाता। बता दें कि इसमें किसी भी सैनिक या लोगों की जाने इसलिए नहीं जाती क्योंकि इसमें गोलीबारी या अस्त्र शस्त्र का प्रयोग नहीं होता। सोवियत संघ और अमेरिका के बीच यह युद्ध हुआ था। आपको बता दें कि यह दोनों देश ही पूरे विश्व पर अपना सर्वस्व कायम करना चाहते थे। यह दोनों ही शक्तियां एक दूसरे को नीचा दिखाने में लगी रहती थी। बताते चलें कि जब दो विरोधी विचारधाराओं के बीच में यह युद्ध होता है तो तब कोल्ड वॉर की संभावना बहुत ज्यादा हो जाती है।

शीत युद्ध की उत्पत्ति और कारण (Cold War Reason)

जब दितीय विश्व युद्ध हुआ था उस समय से ही शीत युद्ध होने के आसार बनने लगे थे। जानकारी दे दें कि इसका कारण सोवियत संघ (रूस) और अमेरिका के बीच पारस्परिक मतभेद थे। निम्नलिखित हम कोल्ड वॉर के मुख्य कारणों के बारे में बता रहे हैं जो कि इस प्रकार से हैं –

  • इसका सबसे मुख्य कारण साम्यवादी और पूंजीवादी विचारधाराओं का प्रसार था।
  • रूस ने याल्टा समझौते पालन करने से इंकार कर दिया था।
  • अमेरिका और रूस के जो वैचारिक मतभेद थे वह विश्व स्तर पर उजागर हो गए थे।
  • सोवियत संघ जब एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में उभरा तो अमेरिका को यह बर्दाश्त ना हुआ।
  • सोवियत संघ का बिना जरूरत के इरान में हस्तक्षेप करना।
  • टर्की राज्य में सोवियत संघ का खुले तौर पर हस्तक्षेप करना।
  • यूनान में साम्यवादी विचारधारा का प्रचार और प्रसार करना।
  • तुष्टीकरण की नीति को बनाना और दितीय मोर्चे संबंधी विवाद को बढ़ाते।
  • बाल्कन समझौते की सोवियत संघ द्वारा उपेक्षा किया जाना।
  • एक कारण अमेरिका का परमाणु कार्यक्रम भी बना।
  • एक दूसरे का परस्पर विरोधी प्रचार करना जो कि विश्व स्तर पर रहा।
  • इसके अलावा लेंडलीज समझौते का समापन भी इसका कारण बना।
  • अमेरिका ने फासीवादी शक्तियों को जब अपना सहयोग दिया।
  • वर्लिन विवाद भी इसकी एक वजह रहा है।
  • वीटो पावर का जब बार-बार रूस ने उपयोग किया।

शीत युद्ध के चरण (Cold War Period)

सन 1917 में दुनिया में शीत युद्ध की संभावना धीरे-धीरे दिखाई देने लगी थी। लेकिन जब द्वितीय विश्व युद्ध हुआ तो उसके बाद यह साफ तौर से दिखाई देने लगा था। अमेरिका और रूस जैसी दोनों महा शक्तियों के बीच आलोचना और अशांति जैसी स्थिति ने पूरे विश्व में भय का माहौल बना दिया था। यहां हम इसके प्रमुख चरणों के बारे में बता रहे हैं जो कि इस प्रकार से हैं –

1, 1946 से लेकर 1953 तक शीत युद्ध के विकास का पहला चरण है।

2, 1953 से लेकर 1963 तक शीत युद्ध का दूसरा चरण माना गया है।

3, 1963 से लेकर 1979 तक शीत युद्ध का तीसरा चरण माना गया है। इस चरण को तनाव शैथिल्य काल भी माना जाता है।

4, 1980 से लेकर 1989 तक शीत युद्ध का चौथा और आखिरी चरण माना जाता है।

शीत युद्ध के परिणाम (Cold War Result)

जब अमेरिका और रूस जैसी दो महा शक्तियों के बीच में शीत युद्ध हुआ तो उसके कुछ परिणाम भी निकले जैसे कि –

  • इसका असर बहुत से देशों पर तो बहुत ज्यादा रहा लेकिन बहुत से देश ऐसे भी थे जहां पर इसका प्रभाव बहुत कम रहा।
  • इतना ही नहीं इसकी वजह से अंतरराष्ट्रीय राजनीति पर भी काफी ज्यादा असर पड़ा था।
  • इसके चलते ही दुनिया के बहुत से देशों में आतंकवाद फैला।
  • दुनिया भर के व्यापार पर और उनकी अर्थव्यवस्था पर भी इसका काफी नकारात्मक प्रभाव पड़ा।

FAQ

Q : शीत युद्ध कब शुरू हुआ?

Ans : द्वितीय विश्व युद्ध के बाद।

Q : क्या शीत युद्ध में जान माल की हानि हुई थी?

Ans : जी नहीं।

Q : कोल्ड वॉर के कितने चरण थे?

Ans : इसके चार चरण थे।

Q : क्या शीत युद्ध का नकारात्मक प्रभाव केवल अमेरिका और सोवियत संघ पर ही पड़ा था?

Ans : जी नहीं इसका प्रभाव पूरे विश्व में देखने को मिला।

अन्य पढ़ें –

  1. प्रथम विश्व युद्ध के कारण
  2. द्वितीय विश्व युद्ध क्यों हुआ
  3. चीन भारत युद्ध का इतिहास
  4. पाकिस्तान और बांग्लादेश के बीच युद्ध

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here