Top 5 This Week

spot_img

Related Posts

कोरोना का JN.1 वैरिएंट क्या है (Corona JN. 1 Variant in Hindi)

कोरोना का JN.1 वैरिएंट क्या है, वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट, लक्षण, ईलाज, उपचार, भारत में एक्टिव मरीज, ताज़ा खबर (Corona JN. 1 Variant in Hindi) (Covid Subvariant, Symptoms, Active Case in India, Latest News)

देश में कुछ साल पहले ही कोरोना वायरस ने काफी ज्यादा तबाही मचा कर रखी थी। हालांकि यह तबाही सिर्फ हमारे देश में ही नहीं बल्कि दुनिया के विकसित कहे जाने वाले देशों में भी मची हुई थी, परंतु जिस प्रकार से भारतीय सरकार ने तुरंत एक्शन लेते हुए देश के सभी लोगों के लिए वैक्सीनेशन का कार्यक्रम चलवाया और सभी लोगों को कोरोना की वैक्सीन लगवाई वह काबिले तारीफ है। हालांकि अब एक बार फिर से भारतीय सरकार की चिंता बढ़ चुकी है, क्योंकि दुनिया के कुछ देशों में कोरोनावायरस का एक नया वेरिएंट सामने आ गया है। इसके बारे में बड़े साइंटिस्ट यह दावा कर रहे हैं कि, यह पहले के मुकाबले में ज्यादा खतरनाक है। इस वेरिएंट को वैज्ञानिकों के द्वारा JN.1 का नाम दिया गया है। चलिए इस पेज पर जानते हैं कि आखिर JN.1 वायरस क्या है

Corona JN. 1 Variant

कोरोना का JN.1 वैरिएंट क्या है

कोरोनावायरस के बारे में यदि आप जानते होंगे तो बताना चाहते हैं कि, उसी का जो नया वेरिएंट है उसे JN.1 का नाम दिया गया है जो की कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है और इस वायरस के सामने आने की वजह से देश और दुनिया के वैज्ञानिक परेशान हो गए हैं। जानकारी के अनुसार इंग्लैंड, फ्रांस, आइसलैंड के अलावा अमेरिका जैसे देश में भी यह वाइरस काफी हद तक फैल चुका है। इसकी पहचान साल 2023 में 25 अगस्त के दिन लक्जमबर्ग में हुई थी और इसके बाद इसका असर दूसरे देशों में भी पाया गया है। वैज्ञानिकों ने यह बताया है कि इस वेरिएंट से जो लोग इनफेक्टेड हो रहे हैं उन पर कॉविड वैक्सीनेशन भी काम नहीं कर पा रही है। हालांकि हमारे देश के लिए अच्छी बात है कि अभी देश में JN.1 वेरिएंट का कोई भी मामला सामने नहीं आया हुआ है, परंतु फिर भी सरकार इस पर चिंतित है।

JN.1 वेरिएंट का भारत में एक्टिव केस

हमारे भारत में भी JN.1 वेरिएंट का एक मामला सामने आया है। यह मामला केरल से है जहां पर JN.1 का पेशेंट पाया गया है।

JN.1 वेरिएंट के लक्षण

कोरोनावायरस के जो लक्षण है, उसी प्रकार के लक्षण इस वेरिएंट के भी होते हैं। यदि कोई पेशेंट इस वेरिएंट से इनफेक्टेड है, तो उसमें निम्न लक्षण दिखाई पड़ सकते हैं।

  • बुखार और ठंड लगना
  • सीने में दर्द
  • सांस लेने में दिक्कत
  • गले में खराश और चुभन
  • मांसपेशियों में दर्द और थकान
  • सिरदर्द और नाक बंद होना
  • उल्टी और मतली
  • स्वाद न मिलना

भारत के वैज्ञानिकों ने कहा है कि, कोरोना के इस नए वेरिएंट से अपना बचाव करने के लिए वैक्सीन लगवाना काफी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि जब वैक्सीन लगवाई जाती है तो आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है जिससे उसे नुकसान कम पहुंचने की संभावना होती है। हमारे देश में थोड़े समय पहले ही कोरोनावायरस की अपडेटेड वैक्सीन आ चुकी है। ऐसे में यदि कोई मामला सामने आता है, तो जल्दी सरकार उस पर काबू पा लेगी।

JN.1 वैरिएंट से बचाव

JN.1 वायरस से बचने के लिए आपको निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • आपको अपनी स्वच्छता पर विशेष तौर पर ध्यान देना चाहिए। आपको रोजाना साबुन और पानी के द्वारा कम से कम 20 सेकंड तक अच्छी तरह से अपने हाथ धोना चाहिए। अगर साबुन उपलब्ध नहीं है, तो ऐसे में आपको हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए। जो लोग ग्रामीण इलाके में रहते हैं, वह लोग चूल्हे की राख का इस्तेमाल भी हाथ धोने के लिए कर सकते हैं। आपको अपने हाथ को धोए बिना अपने चेहरे को टच करने से बचना चाहिए।
  • आपको पब्लिक स्थान पर अपने चेहरे पर मास्क लगाना चाहिए। खास तौर पर ऐसी जगह पर तो अवश्य ही मास्क लगाना चाहिए, जहां पर सोशल डिस्टेंसिंग के जो नियम है उनका पालन करना पॉसिबल ना हो। मास्क आपको नाक और मुंह को ढक कर लगाना चाहिए और लगातार इस पहने रहना चाहिए।
  • ऐसे व्यक्ति जिसमें लगातार खाने, छीकने या फिर किसी बीमारी के लक्षण दिखाई दे रहे हैं उनसे आपको तकरीबन 6 फीट की दूरी बना करके रखनी चाहिए, साथ ही आपको ऐसी जगह पर जाने से बचना चाहिए, जहां पर लोगों की ज्यादा भीड़ होती हो।
  • खांसने के दौरान अथवा छींकने के दौरान आपको मुंह और नाक को रुमाल के माध्यम से ढकना चाहिए और इसके बाद अपने हाथ धोने चाहिए।
  • आपको एक अच्छे सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए और गवर्नमेंट के द्वारा जो भी इंस्ट्रक्शन दिए जा रहे हैं, उसका पालन करना चाहिए। घर में लाइट स्विच, मोबाइल फोन, कीबोर्ड जैसी वस्तुओं की सफाई का विशेष तौर पर ध्यान रखना चाहिए।
  • हेल्थ ऑफिसर के द्वारा जो भी जानकारी दी जा रही है उसे लेकर के आपको alert रहना चाहिए और उनके इंस्ट्रक्शन का पालन करना चाहिए। अगर आपको कोई खराब एक्सपीरियंस होता है तो आप मेडिकल सहायता ले सकते हैं। यदि सरकारी वैक्सीनेशन के लिए कहती है, तो समय रहते अपना वैक्सीनेशन भी जरूर करवा ले।
होमपेजयहां क्लिक करें

FAQ

Q : पहली बार वायरस की खोज किसने की थी?

Ans : मार्टिनस बेजरिन्क

Q : कोरोना वायरस कैसे फैलता है?

Ans : खासने या छीकने से

Q : JN. 1 का पहला वेरिएंट कब मिला?

Ans : दिसंबर 2022

Q : JN. 1 का पहला वेरिएंट कहां मिला?

Ans : लक्जमबर्ग

Q : JN.1 कितने देश में फैल चुका है?

Ans : 40+

ऑफिसियल न्यूज़ वीडियो

https://timesofindia.indiatimes.com/videos/toi-original/covid-variant-jn-1-has-minimum-symptoms-only-0-5-will-require-assistance-health-expert/videoshow/106109001.cms

अन्य पढ़ें –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular Articles