क्रिकेटर मयंक अग्रवाल का जीवन परिचय

क्रिकेटर मयंक अग्रवाल का जीवन परिचय (Mayank Agarwal Biography in hindi) (बायोग्राफी, आयु, टेस्ट करियर, आईपीएल) (Height, Career, Batting, Test Ranking)

 भारतीय क्रिकेट आज के युवाओं के बीच में इस कदर छाया हुआ है कि क्रिकेट की बॉल और बेट से लेकर क्रिकेट के खिलाड़ियों कि हर चीज के दीवाने हैं। एक से बढ़कर एक बल्लेबाज ने भारत का नाम पूरी दुनिया भर में रोशन किया है उन्हीं में से एक खिलाड़ी के बारे में आज हम आपको यहां पर विस्तार से बताने वाले हैं। जो आने वाली 16 फरवरी साल 2020 को पूरे 29 साल के हो जाएंगे। आप सोच रहे होंगे कि हम किस खिलाड़ी की बात कर रहे हैं तो बता देंगे हम भारतीय खिलाड़ी मयंक अग्रवाल की बात कर रहे हैं।

mayank agarwal biography in hindi

मयंक अग्रवाल का परिचय (Mayank agarwal Introduction)

परिचय बिंदु परिचय
पूरा नाम (Full Name) मयंक अग्रवाल
अन्य नाम (Other Name) प्रणव कुमार पांडे
निक नाम (Nick Name) मॉन्क्स
पेशा (Profession) क्रिकेटर
शैली (Genre) भारतीय खिलाड़ी
जन्म (Birth) 16 फरवरी 1991
जन्म स्थान (Birth Place) बेंगलुरु, कर्नाटक, भारत
राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय
गृहनगर (Hometown) बेंगलुरु
जाति (Caste) अग्रवाल पंडित
खाने में पसंद (Food Habit) शाकाहारी
पसंद (Hobbies) क्रिकेट खेलना, गाने सुनना
शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification)    –
वैवाहिक स्थिति (Marital Status) विवाहित
प्रेरणा स्त्रोत (Role Model) सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, विराट कोहली
बालों का रंग (Hair Color) काला
आँखों का रंग (Eye Color) काला

कौन है मयंक अग्रवाल

 भारतीय क्रिकेट टीम में बेहतरीन 15 खिलाड़ियों में से एक नाम मयंक अग्रवाल का है जिन्होंने अपने जीवन के कड़े संघर्ष के बाद भारतीय क्रिकेट टीम में अपना एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त कर लिया है। मयंक अनुराग अग्रवाल का जन्म बेंगलुरु, कर्नाटक में हुआ।

मयंक अग्रवाल के परिवार की जानकारी (Mayank Agarwal Family Details)

पिता का नाम (Father’s Name) प्रणव कुमार पांडे
माता का नाम (Mother’s Name) सुचित्रा सिंह
पत्नि का नाम (Wife’s Name) आशिता शूद
बेटे (Son)
भाई (Brother) राजकिशन

मयंक अग्रवाल का पारिवारिक जीवन

मयंक अग्रवाल ने बचपन से ही एक क्रिकेटर बनने का सपना देखा था, उनके पिता जो कि एक बिल्डर थे उन्होंने हमेशा ही उनके इस सपने का सम्मान किया और उनका साथ दिया। उनके भाई जिनका नाम राजकिशन था वे भी क्रिकेट प्रेमी रहे हैं और स्टेट लेवल पर क्रिकेट खेला करते थे। आरंभ में अपने शानदार स्ट्रोक प्ले की वजह से मयंक अग्रवाल अंडर-19 की टीम में बेहद प्रसिद्ध खिलाड़ी रह चुके थे। अपनी प्रतिभा के चलते साल 2008-09 में ही वे कूच बिहार ट्रॉफी के अंतर्गत अपने बेहतरीन प्रदर्शन की वजह से सुर्खियों में छा गए और अंडर-19 में चुन लिए गए।

मयंक अग्रवाल का वैवाहिक जीवन

साल 2018 जनवरी के दौरान मयंक अग्रवाल ने बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर प्रवीण सूद की बेटी आशिता सूट जो उनकी बचपन की दोस्त रह चुकी है, उनके साथ सगाई कर ली और बाद में 6 जून साल 2018 को उन दोनों की शादी हो गई और वे दोनों एक वैवाहिक जीवन में बंध गए। बचपन से उन्होंने साथ में ही पढ़ाई पूरी की और बाद में वह दोस्त बन गए दोस्ती प्यार में बदल गई और दोनों ने शादी कर ली।

मयंक अग्रवाल का प्रारंभिक जीवन

मयंक अग्रवाल एक उभरता हुआ भारतीय खिलाड़ी जिसने बैंगलोर के कॉटन ब्वॉय स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद जैन विश्वविद्यालय में अपनी आगे की पढ़ाई को जारी रखा। अपने बेहतरीन प्रदर्शन के लिए वे कर्नाटक टीम में प्रथम श्रेणी पर मैच खेला करते थे और सलामी बल्लेबाज के तौर पर जाने जाते हैं।

मयंक अग्रवाल का करियर

  • उनकी सलामी बल्लेबाजी के चलते आईसीसी क्रिकेट विश्व कप में उन्हें पहली बार अंडर-19 में चुना गया था जिसके बाद वे अंडर-19 टीम के टॉप स्कोरर के रूप में जाने गए।
  • साल 2010 में कर्नाटक प्रीमियर लीग में उन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन के चलते उस मैच की मैन ऑफ द सीरीज अपने नाम कर ली, इसके अलावा उन्होंने उस टूर्नामेंट में जीत हासिल करने के लिए बेहतरीन शतक भी बनाया।
  • नवंबर साल 2017 को रणजी सत्र के दौरान मयंक ने कर्नाटक प्रीमियम लीग के बेहतरीन खिलाड़ी के रूप में महाराष्ट्र टीम के खिलाफ नाबाद 304 रन बनाकर अपने जीवन का पहला तिहरा शतक लगाया।
  • उनके इस शतक ने उन्हें भारतीय क्रिकेट के इतिहास में 50 वे तिहरा शतक लगाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में लाकर खड़ा कर दिया। उनके लिए यह बहुत गर्व और सम्मान की बात रही।
  • साल 2017-18 के रणजी सत्र में उन्होंने अपने बेहतरीन प्रदर्शन के साथ 1160 रन बनाकर भारतीय क्रिकेट के इतिहास में अपना नया नाम दर्ज कराया।
  • 2017-18 के पूरे सत्र के दौरान उन्होंने जितने भी मैच खेले उनमें कुल मिलाकर 2141 रन बनाए जो प्रथम श्रेणी के दर्जे में सम्मिलित किए जाते हैं और इस घरेलू सत्र के दौरान यह सबसे अधिक रन बनाने का एक नया रिकॉर्ड भी है। जो मयंक अग्रवाल ने अपने नाम किया।
  • कुछ समय पश्चात साल 2018 नवंबर में मयंक अग्रवाल को रणजी ट्रॉफी के लिए 8 खिलाड़ियों में से एक के रूप में चुना गया।

अंतरराष्ट्रीय करियर

  • साल 2015 में उन्होंने दक्षिण अफ्रीका एक ही टीम के खिलाफ मैच खेला जिसमें उन्होंने क्रिकेट की पिच पर मनीष पांडे की साझेदारी के साथ नाबाद 203 रन बनाए। मयंक ने अकेले ही 176/133 रन बनाकर क्रिकेट के इतिहास में सुनहरे पन्नों में अपना नाम दर्ज कराया।
  • मयंक को साल 2018 में अंतरराष्ट्रीय तौर पर टीम वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत की टीम में शामिल तो किया गया लेकिन वह मैच खेल नहीं पाए क्योंकि उस मैच के दौरान उनके ग्राउंड पर जाने का समय आया ही नहीं।
  • उसके बाद उनका टेस्ट डेब्यु साल 2018 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में हुआ था। उन्होंने अपनी पहली पारी के दौरान ही नाबाद 76 रन बनाए जो कि अपने आप में ही 71 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ते हुए एक नया इतिहास बनाने में सक्षम रहा। टेस्ट डेब्यु के दौरान यह एक ऐसा रिकॉर्ड था जो 71 साल बाद एक भारतीय खिलाड़ी ने अपने नाम किया था।
  • साल 2019 आईसीसी क्रिकेट विश्व कप के दौरान उन्हें भारतीय टीम में शामिल किया गया और बाद में भारतीय खिलाड़ी विजय शंकर के घायल होने पर उन्हें टीम में खेलने की जगह दी गई।

आईपीएल करियर [IPL Career]

  • उन्होंने धीरे-धीरे अपने बेहतरीन प्रदर्शन से सबका दिल जीत लिया आखिरकार साल 2011 में उन्हें आईपीएल सीजन के दौरान आरसीबी टीम के द्वारा खरीद लिया गया।
  • आईपीएल सीजन में उन्होंने मुंबई इंडियंस की आक्रमणकारी गेंदबाजी का सामना करते हुए नाबाद 41 रन बनाए।
  • उस पूरे टूर्नामेंट के दौरान उन्होंने अपने बल्लेबाजी से मैदान पर अपनी ऐसी छाप छोड़ी के सभी उनके तारीफ के पुल बांधते नहीं थक रहे थे। उन्होंने 8 मैचों के दौरान नाबाद 723 रन बनाकर आईपीएल के इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया।
  • उनके इस बेहतरीन प्रदर्शन ने बीसीसीआई को भी उन्हें रणजी ट्रॉफी में सर्वोच्च रन स्कोरर का पुरस्कार प्रदान करने से नहीं रोका। उन्हें उनके नाबाद रनों की पारी खेलने की वजह से माधवराव सिंधिया पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया।
  • साल 2015 के दौरान काफी चोट व शारीरिक समस्याओं से गुजरने के बाद मयंक अग्रवाल ने फिर से वापसी की और खुद को एक बेहतर क्रिकेटर के रूप में साबित करने के लिए आईपीएल टीम के सामने आये। उस समय साल 2014 में उन्हें दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए 2 साल के कॉन्ट्रैक्ट के साथ नीलामी में चुन लिया गया था।
  • टीम दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ मिलकर साल 2015 में उन्होंने अपने बेहतरीन प्रदर्शन से दिल्ली डेयरडेविल्स के नाम को रोशन।
  • कुछ समय पश्चात साल 2016 में राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स की ब्रांड जो कि एक नई फ्रेंचाइजी बनी थी उन्होंने मयंक अग्रवाल को अपनी टीम के लिए खरीद लिया। हालांकि इस टीम के साथ मिलकर वे अपना कुछ भी बेहतरीन प्रदर्शन नहीं दे पाए।
  • धीरे-धीरे वह क्रिकेट के रंग में कुछ इस तरह रंग की सभी भारतीय प्रशंसकों को वे पसंद आने लगे और आईपीएल के 10 वे सीजन के दौरान किंग्स इलेवन पंजाब की टीम द्वारा साल 2018 में नीलामी के दौरान उन्हें खरीद लिया गया।

अपने बेहतरीन प्रदर्शन के बाद अब तक मयंक अग्रवाल को विश्व कप में खेलने का मौका तो नहीं मिल पाया है लेकिन बेहतरीन खिलाड़ी के रूप में उन्हें आने वाले समय में विश्व कप के के दौरान भारतीय टीम का हिस्सा बनने का सुनहरा अवसर अवश्य मिलने वाला है।

मयंक अग्रवाल के जीवन की उपलब्धियां/ रेकॉर्ड्स [Records and Achievement]

  • मयंक अग्रवाल साल 2010 के दौरान अंडर-19 टीम के सर्वोच्च खिलाड़ी के रूप में नजर आए। वे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी के रूप में प्रसिद्ध हुए और सुर्खियों में छा गए।
  • साल 2011 आईपीएल के दौरान उन्होंने आरसीबी टीम का खिलाड़ी बनकर 31 बॉल में 41 रन बनाकर मुंबई इंडियन टीम की बेहतरीन गेंदबाजी को पछाड़ दिया।
  • साल 2015 में उन्होंने साउथ अफ्रीका के खिलाफ मैच खेला जिसमें उन्होंने 176 बॉल पर 133 रन बनाए और मनीष पांडे के साथ बेहतरीन सहभागिता कर के नाबाद 372 रन का टारगेट सेट किया।
  • बेहतरीन प्रदर्शन के लिए और सबसे अधिक रन बनाने की वजह से उन्हें साल 2018 में विजय हजारे ट्रॉफी में सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी के रूप में सम्मानित किया गया।
  • उनके रन बनाने के रिकॉर्ड कुछ इस तरह थे जो क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड द्वारा उन्हें माधवराव सिंधिया पुरस्कार से सम्मान दिया गया जो कि उन्हें साल 2018 जून में मिला उनके लिए यह बेहद गर्व की बात थी।

मयंक अग्रवाल के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  • मयंक अग्रवाल आरंभ से ही वीरेंद्र सहवाग को बेहद पसंद करते हैं उनके पसंदीदा क्रिकेटर में से सबसे एक विरेंद्र सेहवाग हैं और उनकी तरह वे खेलना और स्टाइल रखना बेहद पसंद करते हैं।
  • मयंक अग्रवाल खुद बताते हैं कि सचिन तेंदुलकर उनकी प्रेरणा है वह सदैव ही सचिन तेंदुलकर की तरह बनने की कोशिश में लगे रहते हैं।
  • यदि बात करें सचिन तेंदुलकर के प्रति उनके समर्पण की तो बता दें कि उनके घर में सचिन तेंदुलकर की एक मूर्ति भी बनी हुई है जिसके सामने वे सदैव हाथ जोड़कर नमन करते हैं।
  • मयंक अग्रवाल अपनी फिटनेस का बेहद अधिक ख्याल रखते हैं वे हमेशा ही योग और ध्यान में विश्वास रखते आए हैं इसलिए वे सदैव विपश्यना करते हैं।
  • वे कभी भी अपने जीवन में दुखी या फिर निराश महसूस करते हैं तो वह अग्रवाल जोसेफ मर्फी की पुस्तक द पावर ऑफ द अवचेतन मन को पढ़ते हैं और उससे आगे बढ़ने की प्रेरणा लेते हैं और अपने मन को शांत कर लेते हैं।
  • मयंक अग्रवाल सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा अधिक सक्रिय रहते हैं आप विश्वास नहीं करेंगे कि ट्विटर पर उनके 145 हजार से भी ज्यादा फॉलोअर्स है और इंस्टाग्राम पर 260 हज़ार से भी ज्यादा फॉलोअर्स उन्हें फॉलो करते हैं।

भारतीय टीम में वैसे तो एक से बढ़कर एक खिलाड़ी है सभी अपने बेहतरीन प्रदर्शन के लिए जाने जाते हैं लेकिन अपने सपने को पूरा करके आगे बढ़ने वाले लोग कम ही नजर आते हैं। उन्हीं में से एक है मयंक अग्रवाल जिन्होंने बचपन से ही यही सपना देखा था कि वे एक बेहतर खिलाड़ी बने और आज पर एक बेहतर प्रदर्शन देने वाले खिलाड़ी के रूप में सबके सामने प्रत्यक्ष खड़े हैं। उनका जीवन आने वाली भावी पीढ़ियों के लिए बेहद अधिक प्रेरणादायक बनेगा क्योंकि वे सदैव ही अपने जीवन के कड़े संघर्षों को पार करके आज इस स्थान को प्राप्त कर चुके हैं।

Other links –

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *