सितारा स्मृति श्रीनिवास मंधाना की जीवनी | Smriti Mandhana in hindi

महिला क्रिकेट टीम का सितारा स्मृति श्रीनिवास मंधाना की जीवनी (Cricketer Smriti Mandhana Biography in hindi) (Career, Records, Age, Family, Caste)

भारतीय क्रिकेट टीम की  बहुत ही महत्वपूर्ण बल्लेबाज के तौर पर जाने जाने वाली स्मृति मंधाना मुंबई की रहने वाली है.  इन्होंने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत सन 2013 से की थी. जब से अभी तक उन्होंने कई तरह के कीर्तिमान हासिल किए है. स्मृति मंधाना महिलाओं के लिए एक उभरता हुआ सितारा है जिससे प्रेरणा लेकर युवा वर्ग काफी आगे तक आ सकता है. और इनसे सभी उम्र की महिलाओं को बहुत कुछ सीखने मिलता है.  आज हम हमारे इस आर्टिकल में स्मृति मंधाना को और करीब से जानेंगे.

cricketer Smriti Mandhana Biography jivani hindi

स्मृति श्रीनिवास मंधाना की जीवनी

पूरा नामस्मृति श्रीनिवास मंधाना
जन्म18 जुलाई 1996 
आयु 23 वर्ष
स्थान मुंबई, महाराष्ट्र
राशि कर्क
राष्ट्रियता भारतीय
धर्महिन्दू
जातिमारवाड़ी
काम खिलाड़ी
प्लेयर बल्लेबाज
बल्लेबाजी स्टाइल बाएं हाथ
गेंदबाजी स्टाइल राईट आर्म स्विंग
  

स्मृति मंधाना जन्म शिक्षा एवं प्रारंभिक जीवन

स्मृति मंधाना मुंबई महाराष्ट्र की रहने वाली हैं. इनका जन्म 18 जुलाई 1996 को हुआ. स्मृति ने अपना ग्रेजुएशन कॉमर्स से किया वह चिंतामनराव कॉलेज बंगाली महाराष्ट्र से पढ़ी हुई है.  स्मृति को शुरुआत से ही क्रिकेट खेलने में काफी रुचि रही है. उन्होंने सबसे पहले अनंत तांबकर के अंडर में क्रिकेट के तौर तरीके सीखें. अनंत तांबेकर एक जूनियर स्टेट कोच हैं.  

 स्मृति मंधाना के ताल्लुक मारवाड़ी कम्युनिटी से हैं. इनके पिता श्री निवास मंधाना भी एक डिस्ट्रिक्ट लेवल के क्रिकेटर रह चुके हैं. इनकी माता का नाम स्मिता मंधाना है जो कि एक हाउसवाइफ है. इनके भाई श्रवण को भी क्रिकेट खेलने में रुचि रही है वह भी डिस्टिक लेवल तक क्रिकेट खेल चुके हैं. फिलहाल एक प्राइवेट बैंक संगाली में ब्रांच मैनेजर के तौर पर कार्यरत हैं.

यशस्वी जायसवाल कैसे बने क्रिकेटर , यहाँ पढ़े

क्रिकेट की शुरुवात

महज 9 वर्ष की आयु में स्मृति को अंडर -15  की महाराष्ट्र टीम में क्रिकेटर के तौर पर चुना गया था और 11 वर्ष की आयु में ही इन्होंने अंडर-19 टीम में अपनी जगह बनाई.  वे अपने जीवन में अपने भाई से क्रिकेट की तरफ बहुत आकर्षित हुई. उनके भाई भी अंडर -16 महाराष्ट्र टीम की तरफ से खेल चुके हैं. यह बात अक्सर ही स्मृति अपने इंटरव्यू में कहती आई हैं कि वे अपने भाई को देखकर ही क्रिकेट की तरफ आकृषित हुई.

स्मृति मंधाना में अपनी सबसे पहला टेस्ट मैच 13 अगस्त 2014 को इंग्लैंड के खिलाफ खेला था और इन्होंने अपने पहला अंतरष्ट्रीय एकदिवसीय क्रिकेट 10 अप्रैल 2013 को बांग्लादेश के खिलाफ खेला. यह मैच अहमदाबाद में ही खला गया था. 5 अप्रैल 2013 को ही उन्होंने अपने टी-20 करियर की शुरुआत की और अपना पहला मैच फिर से बांग्लादेश के खिलाफ खेला जो कि इंग्लैंड में हुआ था.

अंतर्राष्ट्रीय जानकारी
टेस्ट शुरुवात 13 अगस्त 2014 
अंतिम टेस्ट16 नवंबर 2014 
वनडे शुरुवात 10 अप्रैल 2013 
अंतिम 12 अप्रैल 2018 बनाम इंग्लैंड महिला
एक दिवसीय जर्सी18
टी20 पहला मैच 5 अप्रैल 2013 
अंतिम टी209 जून 2018 

क्रिकेटर मयंक अग्रवाल के बारे में यहाँ पढ़ें

क्रिकेट अचीवमेंट

स्मृति मंधाना ने अपने करियर की उड़ान तब भरी जब 2013 अक्टूबर में एकदिवसीय मैच में 1 दिन में डबल शतक बनाने वाली पहली महिला बनी, यह मैच अंडर-19 टीम में खेला गया था जिसमें स्मृति ने बिना आउट हुए 224 रन महज 150 गेंदों पर बनाए थे. यह मैच गुजरात के खिलाफ हुआ था यह मैच वडोदरा के अल्मबिक क्रिकेट ग्राउंड पर खेला गया था.

स्मृति ने वर्ष 2016 में भारत रेड टीम की तरफ से खेला. यह महिला चैलेंजर ट्रॉफी थी जिसमें उन्होंने तीन अर्धशतक लगाई थी. इसके अंतिम मैच में उन्होंने 82 गेंदों पर 62 रन बनाकर अपनी टीम को जीत दिलाई थी और इस मैच में भी वे नाबाद रही थी.

अन्तराष्ट्रिय करीयर

मंदाना ने अपने सबसे पहला टेस्ट मैच इंग्लैंड के खिलाफ वर्मस्ली पार्क में खेला था. इस मैच में भी इन्होंने अपनी पहली और दूसरी पारी में 22 एवं इनका 51 रन बनाकर अपनी टीम को जीत हासिल करवाई थी वर्ष 2016 में इन्होंने ऑस्ट्रेलिया दौरा किया.

मंदाना ने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय शतक वर्ष 2016 में बनाया था जिसमें उन्होंने 109 गेंदों पर 102 रन बनाए थे वर्ष 2016 में यह आईसीसी महिला टीम में शामिल होने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी थी.

क्रिकेटर दीपक चाहर का जीवन परिचय यहाँ पढ़ें

स्मृति के बारे में अनसुने तथ्य

  1. स्मृति को क्रिकेट खेलने के साथ-साथ कुकिंग करने का भी काफी शौक है और उन्होंने 10 साल की उम्र में ही कुकिंग क्लासेस ज्वाइन की थी और इनकी यह इच्छा थी कि यह होटल मैनेजमेंट करें और आज भी यह चाहती हैं कि वह अपना खुद का रेसटोरेंट शुरू करें. क्रिकेट एवं कुकिंग के अलावा इन्हें ड्राइविंग का भी काफी शौक है.
  2. बचपन से ही इन्हें क्रिकेट खेलने का काफी शौक था. महज 6 वर्ष की उम्र में यह अपने पिता और भाई के साथ क्रिकेट संबंधी बड़ी-बड़ी बातें किया करती थी और लड़कों के साथ गली क्रिकेट भी बहुत खेला करती थी.
  3. इनकी क्रिकेट में रुचि इनके भाई को खेलते हुए देखकर हुई थी इनके भाई बाएं हाथ के बल्लेबाज थे और वे उनको देखकर उनकी कॉपी किया करती थी.
  4. स्मृति हमेशा अपने साथ एक बल्ला रखती हैं लेकिन कभी भी ट्रेनिंग के दौरान उस बल्ले का इस्तेमाल नहीं करती. यह बल्ला उनके भाई को मिला था जिस पर राहुल द्रविड़ ने ऑटोग्राफ दिया था.
  5. जब इन्होने अपना खेल प्रारंभ किया था. तब यह चाहती थी कि उनके बल्लेबाज मैथ्यू हेडन की तरह हो लेकिन जब उनके कोच ने इंका खेल देखा  तो इन्हें बताया कि उनकी बल्लेबाजी स्टाइल मैथ्यू हेडन की तरह नहीं है.  इन्हे इनकी स्टाइल को समझना होगा और कुमार संगकारा को अपना आइडल बनाना होगा.

भारतीय महिला क्रिकेट टीम वर्ष 2020 में टी20 विश्व कप के लिए उम्दा प्रदर्शन करते हुए फाइनल का हिस्सा बन चुकी है और इसमें स्मृति मंधाना ने बहुत अहम भूमिका अदा की है. इस टीम की कप्तान हरमन कौर जिन्हें विराट कोहली से कंपेयर किया जाता है ने भी अपनी अहम भूमिका अदा की. फिलहाल इसी मैच के कारण स्मृति मंधाना सुर्खियों में छाई हुई हैं अब देखना यह है कि यह भारतीय टीम को विजय दिला पाएंगे या नहीं.

Other links –

Priyanka
प्रियंका खंडेलवाल मध्यप्रदेश के एक छोटे शहर की रहने वाली हैं . यह एक एडवोकेट हैं और जीएसटी में प्रेक्टिस कर रही हैं . इन्हें बैंकिंग, टेक्स्सेशन एवं फाइनेंस जैसे विषयों पर लिखना पसंद हैं ताकि उनका ज्ञान और अधिक बढ़ सके. उन्होंने दीपावली के लिए लिखना शुरू किया और इस तरह अपने ज्ञान को पाठकों तक पहुँचाने की कोशिश की.

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here