Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

फरमान दूरदर्शन का प्रसिद्ध सीरियल | Farmaan Doordarshan Old TV Serial in hindi

Farmaan Doordarshan old tv serial in hindi यह आलेख खासकर उन लोगों के लिए ​जो दूरदर्शन देखते हुए बड़े हुए, एक ऐसा दौर जब दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाला हरेक कार्यक्रम अपने बेहतरीन कंटेट और सामाजिक जुड़ाव के लिए जाना जाता था. एक ऐसा दौर जब धारावाहिक खत्म होते थे, एक ऐसा युग जब कहानी का सिर भी होता था और पैर भी. डेली सोप आपेरा का दौर शुरू नहीं हुआ था, और खास धारावाहिक के लिए खास दिन मुकर्रर हुआ करता था और लोग अपनी पसंद के अनुसार उस धारावाहिक के समय के हिसाब से अपने काम निपटाया करते थे. ये वह दौर था जब चित्रहार और रंगोली घर—घर में देखी जाती थी. दूरदर्शन का लोगो सत्यम, शिवम, सुन्दरम हरेक भारतीय पहचानता था. ठीक उसी दौर में दूरदर्शन पर एक धारावाहिक का प्रसारण हुआ, जिसने प्रेम करने वाले दिलों को लुभाया और टीनएज लव करने वाले युवाओं को प्रेम करने का नया माध्यम दिया. युवा हो रहे लड़के—लड़कियों के लिए इस धारावाहिक के पात्र आइकॉन बन गए. हम बात कर रहे हैं लेख टंडन निर्देशित धारावाहिक फरमान की. दूरदर्शन पुरानी यादें के बारे में यहाँ पढ़ें.

FARMAAN SERIAL

फरमान दूरदर्शन का प्रसिद्ध सीरियल

Farmaan Doordarshan old tv serial in hindi

क्या था फरमान का फरमान?

फरमान राफिया अमीन के उपन्यास आलमपनाह पर आधारित एक टीवी सीरियल था, जिसका प्रसारण दूरदर्शन पर 1994 में हुआ. लेख टंडन इस धारावाहिक के निर्देशक थे. इस सीरियल की कुल 14 कड़िया प्रसारित की गई. लोगों ने और खासकर युवाओं ने इसे बहुत पसंद किया. इसी धारावाहिक से कंवलजीत को स्टार की हैसियत मिली. हालांकि इससे पहले प्रसारित हुए धारावाहिक बुनियाद से ही कंवलजीत को बतौर टीवी स्टार पहचान मिल चुकी थी, लेकिन इस धारावाहिक से वे युवाओं के पसंदीदा टीवी स्टार बन गए. इस धारावाहिक की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसे दूरदर्शन ने कई बार अपने विभिन्न चैनल्स पर समय—समय पर प्रसारित किया.

कौन थे फरमान के किरदार? (Farmaan old tv serial cast) –

फरमान की कहानी हैदराबाद एक नवाब परिवार की कहानी है जो अपने पेचिदा संबंधों के कारण एक—दूसरे से दूरी बनाकर रखते हैं. परिवार का हरेक सदस्य दूसरे से एकदम अलहदा है. परिवार की मुखिया है बड़ी सरकार. बड़ी सरकार का रोल विनिता मलिक ने ​निभाया है. यह किरदार अपने शाही नवाबी परम्पराओं को जिंदा रखने के लिए एक कठोर प्रशास की तरह व्यवहार करता है. मां होने के बावजूद वह अपने बेटे से भी बड़ी सरकार का संबोधन ही स्वीकार करती है. कह सकते हैं कि नवाबी रौब गालिब करती परिवार के इस सदस्य से सभी डरते हैं. उनका एक बेटा है जिसका नाम है, अजर नवाब. इस किरदार का पर्दे पर जिंदा किया है कंवलजीत ने. बड़ी सरकार की छोटी सौतेली बहन है, तसनीम पाशा. यह किरदार निभाया है कल्पना अय्यर ने. उनके दो बच्चे है एक बेटा बशारत नवाब जिसे पर्दे पर निभाया है राजा बुंदेला ने और एक बेटी शहाना, जिसे नेहा शरद ने बखूबी निभाया है. कंवलजीत का किरदार अजर नवाब जहां अपनी मां की तरह गंभीर और खडूस है वहीं बशारत नवाब मस्त, खिलंदड़ और मजाकिया है. इसमें नवीन निश्चल ने वकार चंद का किरदार निभाया है जो पेशे से चित्रकार है और अपने इसी पेशे की वजह से उसके और परिवार के बीच दूरियां आ जाती है क्योंकि नवाबी शानो—शौकत वाला परिवार उनके पेशे को अपनी गरिमा के खिलाफ मानता है. नवीन निश्चल का किरदार आजादी पसंद और खुले ख्यालों वाला है. कहानी की नायिका है अयमन शहाब, इस किरदार को निभाया है दीपिका ने जो उस वक्त हर युवक की पसंदीदा टीवी अभिनेत्री बन गई थीं.

फ़रमान ओल्ड टीवी सीरियल से जुडी कुछ प्रमुख जानकारी

फ़रमान ओल्ड टीवी सीरियल से जुडी कुछ मुख्य जानकारी निम्न सूची में दर्शायी गई है-

क्र.. जानकारी बिंदु प्रमुख जानकारी
1. सीरियल का नाम फ़रमान , मोहब्बत का हम दिल से सुनाते है
2. देश भारत
3. भाषा हिंदी, उर्दू
4. विषय रोमांटिक
5. निर्देशक लेख टंडन
6. उत्पादक गुल आनंद
7. टेलीकास्ट की तारीख सन 1994
8. प्रसारण दूरदर्शन पर
9. टेलीकास्ट कुल एपिसोड 14
10. एपिसोड की लम्बाई 22 मिनट
11. कास्ट के नाम
  • विनीता मलिक, बड़ी सरकार के रूप में
  • कंवलजीत सिंह, अज़र नवाब/ छोटे सरकार के रूप में
  • दीपिका देश पाण्डे अमिन, ऐमन शाहब के रूप में
  • नवीन निस्चोल, वक़ार चाँद के रूप में
  • कल्पना अय्यर, तसनीम पासा के रूप में
  • राजा बुंदेला, बशरत नवाब के रूप में
  • नेहा शरद, शहाना के रूप में

 

क्या थी फरमान की कहानी? (Farmaan old tv serial story) –

हैदराबाद का नवाब परिवार अपने शानदार बंगले फरमान में रहता है. लंबी चौड़ी जमीन जायदाद और कारोबार की मालकिन है बड़ी सरकार. उनके शौहर बड़े नवाब का इंतकाल हो चुका है. वे ही सारा काम संभालती है. इसी बीच उन्हें अपने काम के लिए एक सहायक की जरूरत पड़ती है. अब इस परिवार की ठहरी सी जिंदगी में कुछ हलचल होती है जब बड़ी सरकार को एक निहायत ही खूबसूरत अस्स्टिेंट मिलती है, अयमन शाहाब. अयमन फरमान में आती है तो काफी कुछ बदल जाता है, वह पहले पहल जब अजर नवाब से मिलती है तो दोनों में खासी तकरार होती है. इन दोनों की तकरार खासी लुभाती है. अजहर नवाब के मौसेरे भाई बशारत नवाब आयमन को अपना दिल दे बैठते हैं और पूरी कहानी के दौरान वो अयमान को रिझाने की हर सूरत कोशिश करते हैं. इसी बीच बार—बार अजर नवाब और अयमान के बीच झगड़ा बढ़ता जाता है. बीच — बीच में कहानी में मां — बेटे, चाचा — भतीजे और भाई — भाई के बीच के द्वंद्व और भावनाओं को भी दिखाया जाता है लेकिन कहानी के केन्द्र में अजर नवाब और अयमान ही बने रहते हैं जो काफी जद्दोजहद के बाद यह मानते हैं कि उन्हें एक — दूसरे से प्यार है.

क्यों खास बना यह धारावाहिक?

फरमान के लिए लोगों के दिल में खास जगह बनी. उसकी कुछ खास वजुहात रहीं. पहली और सबसे खूबसूरत बात यह रही कि लोगों को नफीस उर्दु सुनने का मौका मिला. लंबे समय बाद दूरदर्शन पर कोई ऐसा धारावाहिक आया था, जो मुस्लिम और खासकर नवाबी रहन—सहन और करीने को उनके सामने लेकर आया था. दूसरी खास बात इन किरदारों की पेचीदगी और सादगी ने लोगों को छूआ. तीसरी कंवलजीत की ड्रेसिंग ने उस समय लोगों को दिवाना बना लिया था. चौथी और सबसे महत्वपूर्ण चीज थी कहानी. एक ऐसी कहानी जो अभी तक लोगों ने सुनी नहीं थी.

इस कहानी को देखकर लोगों को जेन आॅस्टिन के उपन्यास प्रेज एंड प्रिज्यूडाइज्ड का ख्याल आया जहां नायक और नायिक आपस में लड़ते—झगड़ते रहते हैं और आखिर में एक हो जाते हैं. नफरत से प्रेम की तरफ जाने वाली इस हैप्पी एंडिंग स्टोरी में कोई खलनायक नहीं था हालांकि ग्रे शेड वाले कुछ किरदार थे, लेकिन वे कहानी को ज्यादा प्रभावित नहीं करते हैं. फरमान को उसके शुरूआत के लिए नहीं उसके आखिर के लिए याद किया जाता है, क्योंकि इस कहानी के खत्म हो जाने का रंज हो आता है और दर्शक चाहता है कि वे अजर नवाब और शाहबा की कहानी देखते ही रहें, देखते ही रहें. एक कथा जो निरन्तर चलती रहनी चाहिए, एक फरमान जो हर दिल को सुनना नहीं देखना भी चाहिए.

अन्य पढ़ें –

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *