मुफ्त राशन वितरण योजना : सरकार ने किया बड़ा बदलाव अब महीने में 15 के बजाय 10 दिन ही मिलेगा राशन, जानें क्या है नई तिथि

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत सरकार देशभर में बाजार से कम कीमत पर अनाज देती है, इस योजना 2013 में कैबिनेट के द्वारा मंजूरी मिली थी, जिसके बाद देश के प्रत्येक राज्य में इस योजना के तहत सब्सिडी रेट में अनाज दिया जाने लगा. साल 2020 में कोरोना महामारी ने जब देश को इस तरह जकड लिया कि हर नागरिक इसकी चपेट में आ गया, ऐसे में गरीब कैसे इससे अछुता रह सकता है. अप्रैल 2020 से खाद्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत भारत सरकार ने सभी सार्वजनिक वितरण प्रणाली को आदेश दिए कि जितने भी राशनकार्ड धारक या जरूरतमंद है, उन्हें मुफ्त में मोटा अनाज जैसे गेंहूँ, चावल, दाल, चना आदि का वितरण किया जाये. केंद्र एवं राज्य दोनों सरकारें मिल कर इस योजना पर काम करती है. पहले योजना के तहत राशन मिलने की तारीख महीने के मध्य में हुआ करती थी, लेकिन अब इसे सरकार ने बदल दिया है. चलिए जानते है कि योजना में क्या बदलाव हुए है, कौन है लाभार्थी आदि.

free-muft-ration-vitran-new-tithi hindi

एक देश एक राशन कार्ड – मुफ्त राशन प्राप्त करने के लिए अपने राशन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कराएँ.

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना क्या है –

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना (NFSA) गरीबों को दो वक्त का खाना रोज मिले, कोई भूखा न सोये इस उद्देश्य से शुरू किया गया था. सरकार चाहती है देश से भूखमरी पूरी तरह से मिल जाये. योजना के तहत सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) द्वारा बीपीएल, एपीएल एवं अन्त्योदय कार्ड धारक को योजना के तहत अनाज दिया जाता है.

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना –

प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा अपिर्ल 2020 में योजना की शुरुवात की गई. कोरोना महामारी की मार झेल रहे लाखों लोगों का पेट भरने के लिए भारत सरकार ने योजना की घोषणा की. योजना के तहत राशनकार्ड धारक को सरकार मुफ्त में दाल, चावल, आटा देती है. कुछ राज्य सरकार अनाज के अलावा शक्कर, तेल भी गरीबों को देती है, ताकि किसी कोई कुछ परेशानी न हो. देश में लॉकडाउन के दौरान सभी काम बंद थे, जिसमें गरीब तो पूरी तहर बेसहाया हो गए थे, ऐसे में भारत की मोदी सरकार ने दुनिया की सबसे बड़ी कल्याणकारी योजना शुरू की, जिसमें 20 हजार करोड़ का बजट दिया गया. यह ऐसे योजना थी जिसकी तारीफ विदेशों में भी हुई है. योजना के तहत पहले अप्रैल से जून तक मुफ्त अनाज की घोषणा हुई थी. बाद में सरकार ने इसे 5 महीने और बढ़ाकर नवम्बर तक कर दिया ताकि त्योहारों के मौके पर कोई भी भूखा न रहे.

राशन वितरण तारीख में हुआ बदलाव –

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत जो गरीबों को मुफ्त अनाज सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत दिया जाता है, उसकी तारीख में सरकार ने कुछ बदलाव किया है. पहले मुफ्त अनाज महीने के मध्य अर्थात 15 तारीख से मिलता था, जो 30 तारीख तक मतलब पुरे 15 दिन मिलता था. अब सरकार ने घोषणा की है कि सितम्बर माह से मुफ्त अनाज हर माह 21 तारीख से 30 तारीख तक मिलेगा. मतलब अब सिर्फ 10 दिन ही मिलेगा. जो भी इस योजना का लाभ उठाते है वो विशेष ध्यान दे, आप महीने की 15 नहीं बल्कि 21 तारीख से मुफ्त अनाज लेने जाएँ.

नया राशन कार्ड आवेदन : अब वार्षिक आय के अनुसार बनेगा सबका राशन कार्ड, जानें क्या है नए नियम, कैसे मिल सकता है मुफ्त राशन का लाभ

मुफ्त राशन योजना में क्या मिलता है –

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत सभी लाभार्थियों जो राशन कार्ड धारक है, उन्हें मुफ्त अनाज मिलेगा. प्रत्येक व्यक्ति को 3 किलो गेंहूँ, 2 किलो चावल एवं 1 किलो चना मिलता है. एक राशन कार्ड में आपके परिवार के जितने भी सदस्य का नाम होगा, उसके अनुसार आपको कुल अनाज मिलेगा. जैसे अगर आपके राशन कार्ड में मुखिया के अलावा 3 और लोग है, तो उस व्यक्ति को कुल 12 किलो गेहूं, 8 किलो चावल एवं 4 किलो चना मिलेगा. अतः यह बहुत आवश्यक है कि आप अपने परिवार के हर एक सदस्य का नाम राशन कार्ड में ऐड करवाएं अन्यथा आप नुकसान में रहेंगें.

यदि किसी सदस्य का नाम नहीं जुड़ा है तो वह यहाँ से राशन कार्ड में नये सदस्य का नाम जोड़ सकता है.

मुफ्त राशन किसे मिलेगा –

योजना के तहत मुफ्त राशन सिर्फ उसे ही मिलेगा जिसके पास राशन कार्ड है. भारत में तीन तरह के राशन कार्ड बनते है. अभी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत सरकार ने सभी राशनकार्ड धारक को मुफ्त अनाज देने की घोषणा की है.

राशन प्राप्त करने के लिए आवश्यक दस्तावेज –

मुफ्त राशन प्राप्त करने के लिए आपको कुछ दस्तावेज के साथ पीडीएस शॉप जाना होगा. राशन दुकान में आपको बिना दस्तावेज दिखाए मुफ्त अजान अधिकारी नहीं देगा. पहले योजना के तहत मुफ्त राशन बिना राशनकार्ड वालों को भी दिया जा रहा था, उस समय आधार कार्ड दिखाकर अनाज मिल जाता था. लेकिन अब मुफ्त अनाज सिर्फ राशनकार्ड धारक को ही मिलता है. अगर आप इसका लाभ लेना चाहते है तो आप अपना राशनकार्ड ले जाना नहीं भूलें. राशनकार्ड देखकर अधिकारी आपको राशन देगा, इसके बाद आपके राशनकार्ड में एंट्री की जाएगी.

Other links –

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *