एच डी एम आई एक डिजिटल नज़र | What is HDMI Technology in hindi

What is HDMI technology in hindi मनुष्य शुरू से अपने जीवन को आसान बनाने का प्रयास करता रहा है. यही वजह है समय समय पर संसार में नए- नए आविष्कार देखने मिलते हैं. फिर उस आविष्कार से अन्य नई चीज़ें ख़ुद ब ख़ुद निकल आयीं. मनुष्य समय के साथ अपनी आवश्यकताओं के साथ अपनी इच्छाओं पर भी गौर करने लगा. मनोरंजन इस लम्बे जीवन की ज़रुरत होती गयी और इन्हीं ज़रूरतों ने एक नयी चीज़ को जन्म दिया, जिसे “टेक्नोलॉजी” कहा जाने लगा. कंप्यूटर इसी की देन है, जिसके आने से आम जन- जीवन में एक क्रांति आ गयी. इसका प्रभाव राजनीति पर भी पड़ा. टेक्नोलॉजी मुख्यतः दो तरह की हैं डिजिटल एंड एनालॉग. यह डिजिटल समय के साथ अधिक विकसित होती गयी है. एच.डी.एम.आई का पूरा नाम हाई डेफिनिशन मल्टीमीडिया इंटरफ़ेस है, जोकि डिजिटल टेक्नोलॉजी का बहुत नया रूप है.

hdmi

एच.डी.एम.आई – एक डिजिटल नज़र

What is HDMI technology in hindi

एच.डी.एम.आई क्या है (What is HDMI technology)

एच.डी.एम.आई टेक्नोलॉजी एक वीडियो ऑडियो टेक्नोलॉजी है, जो इन दोनों सिग्नलों को एक सिंगल डिजिटल इंटरफ़ेस में बदलती है, जिसका इस्तेमाल डिजिटल वीडियो डिस्क, डिजिटल टेलीविज़न और डिजिटल सेट टॉप बॉक्स में किया जाता है. इसमें इस्तेमाल होने वाले केबल में कुल 19 तारें एक दूसरे से अलग- अलग होती हैं. ये तारें हाई स्पीड वीडियो, ऑडियो और विभिन्न डिजिटल सिंगलों का वहन करती है. ये टेक्नोलॉजी हाई बैंडविद्थ डिजिटल कंटेंट प्रोटेक्शन (HDCP) पर आधारित है. अक्सर HDCP का इस्तेमाल DVI डिस्प्ले से आने वाली तथा ट्रांसमिटेड डिजिटल सिग्नलों को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है. एच.डी.एम.आई स्टैण्डर्ड, उत्कृष्ट, हाई डेफिनिशन सभी तरह के वीडियो को उसके ऑडियो के साथ सपोर्ट करता है. एच.डी.एम.आई सम्प्रेषित डिजिटल वीडियो का भी वहन करता है, जिसकी बैंडविड्थ पाँच गीगाबाईट तक भी हो सकती है. आज इसका प्रयोग हर तरह की बड़ी बड़ी कम्पनियां कर रही हैं. ये एनालॉग वीडियो स्टैण्डर्ड का विकल्प है.

एच.डी.एम.आई  सभी प्रोटोकॉल सिग्नल, इलेक्ट्रिकल सिग्नल्स को परिभाषित करता है. शुरुआत में एच.डी.एम.आई 1.0 की अधिकतम पिक्सल क्लॉक 165 मेगाहर्ट्स थी, जो 1080 पिक्सल तक की वीडियो का सिग्नल लेता था. उसके बाद एच.डी.एम.आई 1.3 की आवृत्ति 340 मेगाहर्ट्स हुई, जिसकी संकल्प सीमा (2500-1600) थी. एक एच.डी.एम.आई सिंगल डबल लिंक का हो सकता है. 25 मेगाहर्ट्स से कम के वीडियो का संचारण पिक्सल-दूहरव के साथ होता है.

  • डिस्प्ले डेटा चैनल (I2C) बस विनिर्देश पर आधारित एक चैनल है. इसका प्रयोग एच.डी.एम.आई चैनल में EEDID डाटा को रीड करने के लिए होता है.
  • एच.डी.एम.आई में DDC चैनल हाई बैंड विड्थ डिजिटल सामग्री की सुरक्षा के लिए होता है.

इसके अलावा इसके इस्तेमाल के लिए एडप्टर या असामान्य केबल का इस्तेमाल करने से किसी तरह के सिग्नल परिवर्तन की ज़रुरत नहीं होती, जिससे वीडियो डेटा में कोई नुकसान नहीं होता. HDCP डिजिटल राइट्स मैनेजमेंट का एक नया रूप है. एच.डी.एम.आई आवश्यकता पड़ने पर HDCP के ज़रिये सोर्स डिवाइस से सिग्नल एन्क्रिप्ट कर सकता है.

एच.डी.एम.आई के केबल (HDMI cable)

एच.डी.एम.आई के लिए दो तरह के केबल पाए जाते हैं, स्टैण्डर्ड केबल और हाई स्पीड केबल.

  • स्टैण्डर्ड केबल:

स्टैण्डर्ड केबल केटेगरी 1 एच.डी.एम.आई के नाम से भी जाना जाता है. ये 75 मेगाहर्ट्स की पिक्सल गति में 2.23 gbps बैंडविड्थ के साथ काम करता है. ये 1080i सिग्नल का बिना संप्रेषित (कॉम्प्रेस) किये आसानी से वहन कर सकता है.

  • हाई स्पीड केबल:

ये केबल एच.डी.एम.आई 2 के नाम से भी जाना जाता है. ये 340 मेगाहर्ट्स के पिक्सल स्पीड के साथ 10.2 GBPS बैंडविड्थ के साथ काम करता है. यह केबल 1440P क्वालिटी के वीडियो-ऑडियो सिग्नल का वहन कर सकती है. 

एच.डी.एम.आई  कनेक्टर (HDMI connector)

कुल पांच तरह के एच.डी.एम.आई पाए जाते हैं. टाइप A/B, एच.डी.एम.आई  के पहले संस्करण में परिभाषित हैं. इसके बाद सी, एच.डी.एम.आई 1.3 तथा एच.डी.एम.आई 1.4 के लिए टाइप डी और ई का इस्तेमाल होता है. अलग अलग तरह के एच.डी.एम.आई कनेक्शन के लिए अलग-अलग तरह के केबल कनेक्टर का इस्तेमाल होता है. किसी एक कनेक्टर का इस्तेमाल दो तरह के एच.डी.एम.आई के लिए नहीं हो सकता. इसके लिए एच.डी.एम.आई के केबल की लम्बाई का विवरण कहीं दिया नहीं गया है.

1.3 के लिए विशेष तरह के केबल का इस्तेमाल होता है, जिसकी आवृत्ति 74.5 मेगाहर्ट्स है. इसके अलावा हाई स्पीड के लिए अलग केबल का इस्तेमाल होता है. एक स्टैण्डर्ड केबल 1080i से 720p तक के लिए इस्तेमाल होता है. यही केबल का ईथरनेट में भी प्रयोग होता है. हाई स्पीड एच.डी.एम.आई केबल 1080p, 4k 30fps 3D गहरे रंग के लिए इस्तेमाल होता है.

 इस टेक्नोलॉजी के आने से टेलीविज़न की दुनिया में बहुत ज्यादा काम हुआ है. एक ही चैनल दो तरह से आने लगे हैं. HD चैनल की सबसे खास बात ये होती है, कि उसमे कमर्शियल ऐड नहीं आते और पिक्चर बहुत बेहतर क्वालिटी के साथ देखने मिलती है. HD चैनल स्टैण्डर्ड चैनलों से थोडा महंगा आता है. इसमें पिक्चर क्वालिटी के साथ आवाज़ भी बहुत साफ़ और अच्छी आती है.

एच.डी.एम.आई  से फायदे (HDMI Advantages)

  • उत्तम क्वालिटी : ये तकनीक प्रसारण के समय कम से कम डेटा का नुकसान करती है. इससे वीडियो क्वालिटी बहुत अच्छी मिलती है. कम ब्राइटनेस वाली स्क्रीन पर भी इसका आनद लिया जा सकता है. इस कारण इसकी वीडियो क्वालिटी एनालॉग सिस्टम से बहुत अच्छी होती है. इस तकनीक में स्क्रीन पर तस्वीरें बहुत शार्प होती है, जिससे विवरणों को बहुत आसानी से पढ़ा जा सकता है.
  • सिग्नल इंटीग्रिटी : ये तकनीक डिजिटल सिग्नल को संचित करके बाद में बिना किसी डेटा नुकसान के साथ संचारित कर सकती है. इस तरह सिग्नल डीग्रेडेशन नहीं होता है, जिस वजह से इसका प्रयोग HD कंटेंट के लिए किया जाता है.
  • सिंगल केबल : इस तकनीक की बड़ी उपलब्धियों में एक उपलब्धि ये भी है कि इसके सारे सिग्नल एक ही केबल से संचारित होते हैं. इन सिग्नलों में वीडियो, ऑडियो और कण्ट्रोल इनफार्मेशन होती हैं.
  • तेज़ रंग : ये तकनीक 10, 12 और 16 बिट कलर डेप्थ को सपोर्ट करती है, जो लाखों तरह के रंगों को स्क्रीन पर बहुत अच्छी तरह से परिभाषित कर सकती है.
  • असंक्षिप्तीकरण: चूँकि HD सिंगल के प्रसारण के समय संक्षिप्तीकरण (कम्प्रेशन) नहीं होता है, तो सिग्नल क्वांटिटी में कमी नहीं आती.
  • विभिन्न तरह के वीडियो फॉर्मेट का समर्थन : इस तकनीक की सहायता से हर तरह के वीडियो फॉर्मेट का आनंद लिया जाता है. 720P, 1080i, 1080P, NTSC, PAL आदि फॉर्मेट बड़ी आसानी से प्रसारित हो सकते हैं.

एच.डी.एम.आई  की कमियाँ (HDMI Disadvantages)

  • एच.डी.एम.आई कैट 1 केबल की अधिकतम दूरी 35 मीटर है, वहीँ कैट 2 के लिए ये 10 मीटर हो जाती है, इसके बाद प्रसारण के लिए एक्सटेंडर का इस्तेमाल होता है. यहाँ तक कि स्विच, प्रसारक एम्पलीफायर, ऑडियो वीडियो प्रोसेसर सब एक रिपीटर की तरह काम करते हैं.
  • कभी कभी प्रमाणीकरण (ऑथेंटिकेशन) में देर होने पर स्क्रीन काला हो जाता है या एरर दिखाने लगता है.
  • एनालॉग कंप्यूटर केबल के मुक़ाबले इसका केबल अधिक महंगा आता है.
  • एच.डी.एम.आई केबल के फील्ड टर्मिनेशन में काफ़ी दिक्क़त आती है. मसलन ये अपने एनालॉग रूप में नहीं बदले जा सकते.

अन्य पढ़ें –

 

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *