हिमा दास का जीवन परिचय

हिमा दास का जीवन परिचय (Hima Das Biography in hindi, Age, Height, 400m Gold, Family In Hindi)

भारतीय रेसर हिमा दास ने फिनलैंड देश की धरती पर नया इतिहास रच दिया है और ये हमारे देश की पहली ऐसी महिला बन गई हैं, जिन्होंने आईएएएफ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर दौड़ को प्रथम स्थान पर आकर खत्म किया है. असम राज्य के किसान परिवार से आने वाली हिमा ने साल 2017 में अपने कोच से दौड़ने की ट्रेनिंग लेना स्टार्ट किया था और बेहद ही कम समय में इन्होंने रेस में महारत हासिल कर ली.

Hima Das 400 m Gold

हिमा दास से जुड़ी जानकारी

नाम (Name) हिमा दास
निक नेम  (Nick Name) ढिंग एक्सप्रेस, मोन जय और गोल्डन गर्ल
जन्मदिन (Birthday) 9 जनवरी, साल 2000
जन्म स्थान (Birth Place) ढिंग, नागांव, असम
नागरिकता (Citizenship) भारतीय
गृह नगर (Hometown) असम
कहां से हासिल की शिक्षा (Education)

स्कूल का नाम 

कॉलेज/यूनिवर्सिटी का नाम

 जानकारी नहीं
धर्म (Religion) हिन्दू
राशि (Zodiac) मकर राशि
घर का पता (Home Address)
पेशा (Occupation) ट्रैक और फील्ड
रिकॉर्ड (Record) विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप (400 मीटर दौड़ ) जीतने वाली प्रथम भारतीय महिला
बुरी आदतें (Bad Habits)
कुल संपत्ति (Net Worth)

 हिमा दास का जन्म, परिवार और शिक्षा (Birth, Family And Education)

  • हिमा दास का जन्म भारत के असम राज्य के ढिंग गांव में हुआ है और इनके माता पिता का नाम जोमाली और रोनजीत दास है.
  • इनके पिता अपने राज्य में चावल की खेती किया करते हैं, जबकि इनकी मां घर को संभालती हैं. 18 वर्षीय हिमा के परिवार में इनके माता पिता के अलावा इनके पांच भाई और बहन हैं और ये अपने माता पिता की सबसे छोटी बेटी हैं.
  • हिमा दास ने कितनी पढ़ाई कर रखी है और किस स्कूल से पढ़ाई कर रखी है, इसके बारे में अभी तक कोई जानकारी उपलब्ध नहीं हैं.

हिमा दास का रेसर बनने का सफर-

  • हिमा दास का बचपन से ही स्पोर्ट की ओर झुकाव था और ये बचपन से ही कई तरह के स्पोर्ट खेला करती थी. कहा जाता है कि हिमा अपने स्कूल के दिनों में लड़कों के साथ मिलकर फुटबॉल खेला करती थी और इसी दौरान ही इनका स्टैमिना काफी बढ़ गया था. जिसकी वजह से ये दौड़ते समय जल्दी से नहीं थकती थी.
  • हिमा को एक रेसर बनने की सलाह सबसे पहले जवाहर नवोदय विद्यालय के फिजिकल एजुकेशन के टीचर द्वारा दी गई थी. जिसके बाद हिमा ने अपना ध्यान रेसिंग में लगाना शुरू कर दिया था और इन्होंने कई तरह की रेस से जुड़ी प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लेना भी शुरू कर दिया था.
  • रनिंग ट्रैक की सुविधा मौजूद नहीं होने के चलते हिमा ने अपने करियर के शुरुआती दिनों में रेसिंग की प्रक्टिस मिट्टी के फुटबॉल मैदान में की थी.

हिमा दास का लुक (Look) 

रंग (colour) गेहुंआ
लम्बाई (Height) 5’ 5 फीट इन्च
वजन (Weight) 55 किलो
बॉडी साइज (Body Measurements) 32-36-34
आंखो का रंग (Eye Colour) गहरा भूरा
बालों का रंग (Hair Colour) काला

 हिमा दास का करियर (Career)

  • साल 2017 में हिमा की मुलाकात अपने कोच, निपुण दास से खेल और युवा कल्याण निदेशालय की और से आयोजित किए गए इंटर-डिस्ट्रिक्ट कम्पटीशन के दौरान हुई थी.
  • इस प्रतिस्पर्धा में हिमा ने 100 मीटर और 200 मीटर की दौड़ में भाग लिया था और ये दौड़ हिमा ने सस्ते से जूते पहनकर लगाई थी. हिमा ने इन दोनों दौड़ में प्रथम स्थान हासिल किया था और जिस गति से उन्होंने ये दौड़ लगाई थी, उसको देखकर सब हैरान हो गये थे.
  • हिमा की दौड़ को देखकर निपुण दास ने उन्हें ट्रेन करनी की इच्छा जाहिर की थी और हिमा को वो अपने साथ गुवाहाटी ले आए थे. हिमा का परिवार काफी गरीब था इसलिए गुवाहाटी में हिमा को ट्रेनिंग देने के दौरान उनके रहने का सारा खर्चा उनके कोच द्वारा किया गया था.
  • शुरू शुरू में निपुण ने इन्हें 200 मीटर रेस के लिए तैयार किया था और जैसे जैसे इनका स्टैमिना बढ़ता गया, इन्होंने 200 मीटर की जगह 400 मीटर के ट्रेक पर दौड़ना शुरू कर दिया था.

हिमा दास का इंटरनेशनल करियर (International career)

  • हिमा ने बैंकॉक देश में हुई एशियाई यूथ चैंपियनशिप की 200 मीटर रेस में भाग लिया था और इस रेस को सातवें स्थान पर खत्म किया था.
  • 18 वर्ष की हिमा दास ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भी भारत की और से हिस्सा लिया था. हालांकि वो इस गेम्स में ज्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई थी और 400 मीटर के फाइनल में छठे स्थान पर रहीं थी.
  • कॉमनवेल्थ गेम्स के बाद हिमा ने वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप ट्रैक कॉम्पिटिशन में हिस्सा लिया था और कॉम्पिटिशन को जीत भी लिया था.

हिमा दास द्वारा बनाए गए रिकॉर्ड (Record)

हाल ही में ये फर्स्ट ऐसी इंडियन महिला बन गई हैं, जिन्होंने वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप ट्रैक कॉम्पिटिशन में स्वर्ण पदक हासिल किया . इनसे पहले कोई भी भारतीय महिला आईएएफ वर्ल्ड अंडर-20 चैंपियनशिप की चार सौ मीटर की रेस जीतने में कामयाब नहीं हुई है. इन्होंने 400 मीटर की ये रेस केवल 51.46 सेकेंड में पूरी की है और प्रथम स्थान प्राप्त किया.

हिमा दास ने 1 महीने में 5 गोल्ड मैडल जीत कर इतिहास रच दिया 

हिमा दास ने नॉवे मेस्टो सीजेच रिपब्लिक (Nove Mesto, Czech Republic) में शनिवार को 400 मीटर की दौड़ में स्वर्ण-पदक हासिल करके देश का नाम रोशन किया हैं. इस दौड़ प्रतियोगिता में उन्होंने 52.09 सेकंड लिए थे हालाँकि ये स्पीड उनके अब तक के बेस्ट स्पीड से कम हैं. 2 जुलाई 2019 से लेकर 22 जुलाई 2019 तक हिमा यूरोप में होने वाली विविध प्रतियोगिताओं में 5 बार स्वर्ण पदक हासिल करके देश को गौरवान्वित कर चुकी हैं.

  • जुलाई में पहली बार हिमा ने 2 जुलाई को 200 मीटर की रेस 23.65 सेकंड में पूरी की थी और पोलैंड में पोजनान एथेलेटिक्स ग्रैंड प्रिक्स (Poznan Athletics Grand Prix) में स्वर्ण पदक हासिल किया था.
  • इसके बाद दूसरी बार 8 जुलाई को उन्होंने पोलैंड में ही कुट्नो एथेलेटिक्स मीट में 200 मीटर की रेस को 23.97 सेकंड में पूरा करके स्वर्ण पदक हासिल किया था,
  • फिर तीसरी बार 13 जुलाई को उन्होंने क्जेच रिपब्लिक में क्लाद्नो एथेलेटिक्स मीट (Kladno Athletics Meet in Czech Republic) में 23.43 सेकंड के साथ 200 मीटर की रेस में स्वर्ण पदक और
  • चौथी बार 17 जुलाई को टाबोर एथेलेटिक मीट (Tabor Atheletic Meet) में भी 200 मीटर में स्वर्ण पदक जीता था, इस तरह ये उनका इस महीने में पांचवा स्वर्ण पदक हैं.

अप्रैल में हुए एशियन एथेलेटिक्स चैंपियनशिप के बाद हिमा का ये बेहतरीन प्रदर्शन हैं, जिसमें हिमा 400 मीटर की रेस पूरी नहीं कर पायी थी,उसके बाद उन्होंने 400 मीटर की रेस में अब ही भाग लिया हैं.  

हिमा दास की पसंद (Like) 

पसंदीदा खेल (Favourite Sport) फुटबॉल और रेसिंग
पसंदीदा फुटबॉल खिलाड़ी Player (Favourite  ) निकोलस वेलेज़
पसंदीदा एक्टर (Favourite Actor) विक्की कौशल
पसंदीदा अभिनेत्री (Favourite Actress) आलिया भट्ट
पसंदीदा फिल्मी (Favourite Movie) मोन जय (असमी फिल्म) , मिशन चाइना (असमी फिल्म)
पसंदीदा गायक (Favourite Singer) जुबीन गर्ग
पसंदीदा जगह (Favourite Place) शिमला हिमाचल प्रदेश 
पसंदीदा एथलीट (Athlete) अश्विनी अक्कुंजी

 हिमा दास से जुड़ी अन्य जानकारी –

  • हिमा दास के गोल्ड जीतने के बाद इनको प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी और हमारे देश के प्रेजिडेंट सहित कई राजनेताओं द्वारा बधाई दी जा रही है और हर किसी ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए इनकी तारीफ की थी.
  • इस महिला खिलाड़ी की कमजोर इंग्लिश के चलते भारतीय एथलेटिक्स संघ द्वारा एक ट्वीट कर उनका मजाक बनाया गया था. दरअसल इन्होंने जब आईएएएफ विश्व U-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर दौड़ के सेमीफाइनल को जीता था, तो उसके बाद भारतीय एथलेटिक्स संघ द्वारा उनकी भाषा को लेकर एक ट्वीट किया था, और इनका मजाक बनाया था.
  • हालांकि दास के फाइनल जीतने के बाद भारतीय एथलेटिक्स संघ ने अपने ट्वीट को लेकर इनसे क्षमा मांगी थी.

उम्मीद है कि आने वाले समय में हिमा कई और रिकॉर्ड बनाए और हमारे देश के लिए और मेडल जीतकर ला सकें. साथ ही हिमा के जीवन का संघर्ष  देखकर और भी लोग इनसे प्रेरित हो सके और बेहतरीन खिलाड़ी बन सकें.

अन्य पढ़े:

pavan

Director at AK Online Services Pvt Ltd
मेरा नाम पवन अग्रवाल हैं और मैं मध्यप्रदेश के छोटे से शहर Gadarwara का रहने वाला हूँ । मैंने Maulana Azad National Institute of Technology [MNIT Bhopal] से इंजीन्यरिंग किया हैं । मैंने अपनी सबसे पहली जॉब Tata Consultancy Services से शुरू की मुझे आज भी अपनी पहली जॉब से बहुत प्यार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *