हमारा देश इंग्लिश बोलने वालों से ज्यादा प्रभावित हैं | Hindi Bhasha Ka Mahatva in hindi

क्यूँ हमारा देश इंग्लिश बोलने वालों से ज्यादा प्रभावित हैं | Hindi Bhasha Ka Mahatva in hindi

हिंदी भारत की मूल भाषा है, परन्तु जिस तरह देश में भिन्न भिन्न धर्म के लोग हैं, उसी तरह कई भाषाये एवम बोलियाँ भी यहाँ बोली जाती है. इन सबके आलावा देश में हिंदी एवम अंग्रेजी भाषा अर्थात इंग्लिश के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ती ही चली जा रही हैं. इंग्लिश बोलने वाले लोग हिंदी भाषी की तुलना में आकर्षण का केंद्र होते हैं, जैसे अगर किसी ऑफिस में कोई हिंदी में बात कर रहा हो और उसी समय कोई इंग्लिश में बात करे, तो सभी का ध्यान इंग्लिश भाषी की तरफ होता हैं और उनकी सुनवाई भी हिंदी भाषी की तुलना में जल्दी होती है.

कड़वा है पर सच है देश में देश की मूल भाषा से ज्यादा तवज्जु पश्चिमी भाषा को दी जा रही है, उसका मुख्य कारण हैं रोज़ गार प्राप्ति में आने वाली रूकावट. इंग्लिश को सभी अच्छी रोज़गार कंपनियों तथा अन्य सस्थाओं में विशेष प्राथमिकता दी जाती है. कोई छात्र अपनी फिल्ड का दिग्गज ही क्यूँ ना हो, लेकिन उसकी इंग्लिश अच्छी नहीं है, तो उसे रोज़गार में कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता हैं जो कि उसके आत्म विश्वास को गहरा आघात पहुंचता हैं.

इंग्लिश को आज के वक्त में अत्यंत आवश्यक भाषा माना जा रहा हैं क्यूंकि यह एक अन्तराष्ट्रीय भाषा हैं पर इसे ना बोलने वालो को क्यूँ हीन दृष्टि से देखा जाता हैं ? अगर गौर से सोचा जाए तो यह महज़ एक भाषा हैं जिसका मतलब में अपनी बात सामने वाले को उचित तरीके से समझाना, जो कि टूटी फूटी इंग्लिश या अन्य भाषा के ज़रिये भी किया जा सकता हैं लेकिन इंग्लिश ने एक फ़ेशन की तरह हमारे देश को प्रभावित कर रखा हैं.

आइये जाने एक एतिहासिक कारण कि क्यूँ हमारा देश इंग्लिश बोलने वालों से ज्यादा प्रभावित हैं :

जब देश पर अंग्रेजों का आतंक था, हमारे देश का हर कोना अंग्रेजों का गुलाम था, उस वक्त देश को सही तरह से नियंत्रित एवम चलाने के लिए अंग्रेजों को स्थानीय लोगो की आवश्यक्ता थी और जिसके लिए अपने कार्यालयों की नीची पोस्ट पर भारतीय लोगो को रखा जाता था, जिसके लिए उन लोगो को इंग्लिश सीखना जरुरी था, ताकि वे अंग्रेजी सरकार एवम भारतीय नागरिको के बीच ताल मेल बैठा सके. उस वक्त इन सरकारी मुलाज़िमों को देश की जनता द्वारा उनकी इंग्लिश जानने की क्षमता से पहचाना जाता था और यह मुलाज़िम देश की अनपढ़ एवम गरीब जनता के बीच बहुत शान से जीता था, जिस कारण उन्हें अलग ओहदा मिलता था, इसके अलावा जो भारतीय इंग्लिश जानते थे, वो पढ़े लिखे अथवा बड़े घरानों के होते थे. इन्ही सब कारणों से देश की जनता के बीच इंग्लिश भाषा का रौब अलग था, जो यहाँ कि परम्परा बन गया. आज आजादी के बाद भी इंग्लिश भाषी की तरफ लोगो का आकर्षण ज्यादा हैं.

hindi bhasha ka mahatva

यह जानने की जरुरत हैं कि इंग्लिश एक भाषा हैं जिससे डरने की जरुरत नहीं, उसे सीखने की जरुरत हैं, जिस तरह हम देश की अन्य भाषा जैसे मराठी, गुजराती, कन्नड़ या मलयालम आदि को सीखने की कोशिश करते हैं, जब भी हम इन भाषाओँ को बोलने की कोशिश करते हैं हम गलत बोलते हैं, सही बोलने की कोशिश करते हैं और हँसते हँसते सीख जाते हैं, लेकिन इन भाषाओँ को ना बोल पाने पर हम हताश नहीं होते लेकिन अगर हम इंग्लिश नहीं बोल पाते, तो हम खुद को कमज़ोर पाते हैं, उससे डर कर भागते हैं, शर्म महसूस करते हैं पर इसमें शरमाना क्या? अगर हमारी परवरिश उस जगह हुई जहाँ इंग्लिश नहीं बोली जाती थी, तो इसमें क्या गलत हैं यह एक आम भाषा है, जिसे हम बिना झिझक अपनाएंगे, तो यह भाषा हमें अपना लेगी. डर कर और शरमाकर अंग्रेजी सीखने की कोशिश करेंगे तो कभी नहीं सीख पायेंगे. जिसके लिए जरुरी हैं अपने अन्दर के आत्म विश्वास को मजबूत करना और अपनी ताकत को पहचानना.

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी धरातल पर हिंदी भाषा में अपना उद्द्बोधन दिया और शान के साथ अपनी भाषा को अपनाया और उसके प्रयोग पर ज़ोर दिया. हमारे देश में हर साल 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है.

आज के वक्त में इंग्लिश जरुरत हैं जिसे सीखना समय की मांग हैं पर इससे डरना या ना बोल पाने शर्मिंदा होना गलत हैं. जरुरत हैं बिना डरे इसे सीखने तथा आत्म विश्वास के साथ अपनाने की हैं.

अन्य पढ़े:




Karnika
कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं | यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here