कोरोना वायरस के दौरान घर बैठे बोर हो रहे बच्चों को व्यस्त करने के तरीके | How to engage toddlers at home in hindi

कोरोना वायरस के दौरान घर बैठे बोर हो रहे बच्चों को व्यस्त करने के तरीके (How to engage toddlers at home in hindi, Activities Ideas, Tips)

कोरोना वायरस के कहर ने पूरे भारत देश के लोगों को उनके घरों में कैद कर दिया है. इस वायरस का प्रकोप इतना ज्यादा है कि इस वायरस से बड़े- बुजुर्गों के साथ-साथ बच्चे भी नहीं बच पाए हैं उन्हें भी उनके घर में कैद कर दिया गया है. ऐसे में सबसे बड़ी दिक्कत तो यह आ रही है कि बच्चों का मन कैसे बहलाया जाए. 15-16 साल की उम्र से ऊपर के बच्चे तो अपना मन खुद लगा लेते हैं टीवी फोन या फिर किसी अन्य खेल के साथ परंतु 15 साल से छोटी उम्र के बच्चों का मन बहलाना और उन्हें घर पर व्यस्त रखना बेहद मुश्किल काम होता जा रहा है.

indoor games ideas tips, engage child at home hindi

बच्चे हो रहे है बोर..

इस भयंकर महामारी के चलते माहौल कुछ ऐसा है कि बच्चों को बाहर घुमाने भी नहीं ले जाया जा सकता और ना ही उन्हें खेलने के लिए घर से बाहर निकलने दिया जा सकता है. जहां दूसरी तरफ बच्चे स्कूल में जाकर मनोरंजक चीजें करते थे उसमें उनका आधा दिन तो यूं ही बीत जाता था और आधा दिन होमवर्क करते हुए गुजर जाता था.  परंतु अब महामारी के चलते स्कूलों को भी बंद करा दिया गया है और इस बात का भी अब तक खुलासा नहीं हो पाया है कि कब इस महामारी का प्रकोप कम होगा और कब से स्कूल आरंभ किए जाएंगे.

ऐसे में सबसे बड़ी मुश्किल उन माताओं के लिए बढ़ गई हैं जिनके बच्चे छोटे हैं और घर पर रहकर बहुत ज्यादा बोर हो चुके हैं. आज हम ऐसी ही महिलाओं की परेशानी को दूर करने के कुछ उपाय लेकर आए हैं जिनको अपना नहीं से आप अपने बच्चे को व्यस्त भी रख सकते हैं और उन्हें एक मनोरंजक समय भी दे सकती हैं. तो यह जान लेते हैं ऐसे ही कुछ मजेदार टिप्स के बारे में जो कोरोना वायरस के चलते परेशान हो चुकी माताओं की समस्या को दूर कर सकते हैं.

क्यों होती है बच्चों में असुरक्षा की भावना, उसके उपाय यहाँ पढ़े

घर पर बच्चों को व्यस्त रखने के कुछ बेहतरीन टिप्स

निम्नलिखित कुछ मजेदार उपाय के साथ आप अपने बच्चों को घर पर व्यस्त भी रख सकती हैं और उन्हें एक बेहतरीन शिक्षा के साथ, बेहतर यादें भी दे सकते हैं. साथ ही उन्हें कुछ नया सीखने का मौका भी इन उपायों से मिल सकता है.

  • पेंटिंग:- स्कूल के दौरान अक्सर बच्चों को पेंटिंग जैसी चीज़े करने का समय नहीं मिल पाता है लेकिन अब यह कुछ खाली समय ऐसा है जिस दौरान बच्चे आसानी से पेंटिंग करके अपना समय बेहतरीन बना सकते हैं. खाली समय का सही उपयोग करना हो तो बच्चों  को विभिन्न प्रकार की पेंटिंग बनाना सिखाएं और उनका सहयोग करते हुए उन्हें पेंटिंग  के बारे में कुछ रोचक तथ्य भी बताएं.
  • इंडोर गेम्स:- आज के युग में बच्चे अक्सर फोन, टीवी, कंप्यूटर्स ऐसी चीजों पर व्यस्त रहते हैं जैसे मैं उन्हें इंडोर गेम्स का मतलब तक नहीं पता होता है. यदि आप बच्चों को व्यवस्था था चाहते हैं और उन्हें कुछ नए मनोरंजक पल देना चाहते है तो इसके लिए आप उनके साथ इंडोर गेम्स भी खेल सकते हैं जिनमें लूडो, केरेम्म, चैस, और साथ ही डम श्रास जैसे खेल आते हैं.  इन सभी खेलों से बच्चों का दिमाग भी तेज होता है और उनकी कॉन्सनट्रेशन शक्ति भी बढ़ती है.
  • अपनी खुद की नई गेम बनाएं:- बच्चों में हमेशा एक नया काम करने की लगन रहती है ऐसे में यदि आप उन्हें घर पर कुछ नए कार्ड के साथ नए गेम बनाकर उनके साथ खेलने के लिए प्रोत्साहित करेंगे तो वो अधिक दिलचस्पी के साथ उस गेम को खेलेंगे भी और उसके साथ मनोरंजन का अनुभव भी करेंगे.
  • ट्रेजर हंट खेले:- यदि आप बच्चों के साथ नए-नए काम करेंगे तो उन्हें आपके साथ खेल में ज्यादा आनंद आएगा वरना वे 1 खेल के बाद बोर होने लगेंगे. ऐसे में उनके लिए सबसे अच्छा खेल ट्रेजर हंट साबित हो सकता है. ऐसे में आप घर का कुछ सामान घर के अंदर ही इधर-उधर छुपाकर बच्चों को छोटे-छोटे हिंट की पर्ची बना कर दे सकते हैं.  ऐसे खेलों में बड़े भी बच्चों के साथ बच्चे बनकर उनका साथ दे सकते हैं और उन्हें उनको दिमाग तेज करने और एकाग्र बनाने में उनकी मदद कर सकते हैं.
  • घर में ही पिकनिक का माहौल बनाए:- माहौल कुछ ऐसा है कि घर से बाहर पिकनिक मनाने जाएं ऐसा संभव नही है. परंतु बच्चों के साथ घर पर ही पिकनिक मनाएं. यह आईडिया बहुत ज्यादा अच्छा है ऐसे में बड़ों के साथ-साथ बच्चों का भी मनोरंजन हो जाएगा. साथ ही आप बच्चों को घर पर ही रह कर एक नया और मनोरंजक माहौल देने में सक्षम हो पाएंगे. इसके लिए आप घर में ही चादर से एक टेंट बनाकर लगा सकते हैं. जिसके अंदर टॉर्च लेकर आप बच्चों के साथ अलग-अलग खेल भी खेल सकते हैं और उन्हें नए-नए अनुभव भी दे सकते हैं.
  • बच्चों की छुट्टियों से जुड़ी एक डायरी बनवाएं:- कुछ बच्चों को लिखना बहुत पसंद होता है लेकिन कुछ बच्चे लिखने में बहुत ज्यादा आलसी होते हैं.  ऐसे में यदि मनोरंजन के साथ कुछ लिखने के लिए बच्चों को दिया जाए तो वह बहुत ज्यादा दिलचस्पी के साथ अपने लेख को पूरा भी करेंगे और साथ ही उन्हें कुछ नयापन अपने लेख में ला सकेंगे. इसके लिए आप कोशिश करें कि बच्चों को छुट्टियों के दौरान एक डायरी प्रदान करें जिसमें अपनी रोज की दिनचर्या के बारे में  लिखने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करें.
  • बागबानी कराएं:- पेड़ पौधे लगाना और उनकी देखभाल करना आज के समय में बहुत ज्यादा जरूरी और मनोरंजक काम भी हो गया है.  ऐसे में घर से बाहर जाना तो संभव नहीं है परंतु कुछ बीजों के जरिए आप घर पर ही बच्चों को बागवानी सिखा सकते हैं और उन्हें अपने पर्यावरण के प्रति सजग और सतर्क रहने की प्रेरणा भी दे सकते हैं.  आप उन पेड़ पौधों के बारे में उन्हें नई नई बातें भी सिखा सकते हैं और साथ ही उनकी शिक्षा से संबंधित चीजों के बारे में बताकर उन्हें व्यस्त भी रख सकते हैं और साथ ही उन्हें शिक्षा संबंधित चीजें भी सिखा सकते हैं.
  • कोलाज बनाना सिखाएं:- घर में बहुत सारी किताबें ऐसी होती हैं जिनका कोई इस्तेमाल भी नहीं होता है लेकिन उनसे नए-नए कोलाज बनाकर बच्चे अपना बहुत अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं जिनसे उन्हें आनंद की अनुभूति भी होगी और कुछ नया करने की प्रेरणा भी मिलेगी.
  • कुकीज बनाने में मदद ले:- कुछ हेल्दी कुकीज घर पर बनाएं और कोशिश करें कि बच्चे उसमें आपकी सहायता करने में दिलचस्पी लें. उन्हें अपने काम में सम्मिलित कराएं और उन्हें मनोरंजन का एहसास दिला कर उनका समय थोड़ा व्यस्त बनाने की कोशिश करें.
  • साफ सफाई के प्रति जागरूक बनाएं:- बच्चों को महामारी के बारे में बताते हुए उन्हें साफ सफाई के प्रति जागरूकता प्रदान करना बेहद आवश्यक है. क्योंकि आज के बच्चे हमारा आने वाला भविष्य है और हमारा सुरक्षित भविष्य निर्माण करने के लिए बच्चों को साफ-सफाई और वर्तमान में चल रही महामारी के प्रति जागरूक करना बेहद आवश्यक है.
  • शारीरिक क्रियाएं कराएं:- 5 साल की उम्र से लेकर 15 साल तक की उम्र के बच्चे में विभिन्न प्रकार के विकास होते हैं ऐसे में उनके शारीरिक विकास के दौरान उनके शरीर के हारमोंस में कई प्रकार के बदलाव भी आते हैं. इन बदलावों के चलते छोटे बच्चों के स्वभाव में कई प्रकार के परिवर्तन भी आते हैं जिनकी वजह से वे ज्यादा शैतान, चिड़चिडे और बदतमीज होने लगते हैं. ऐसे में सबसे ज्यादा जरूरी होता है बच्चों के शरीर के बढ़ते एनर्जी लेवल को बर्न करना. जितना बच्चों का एनर्जी लेवल बर्न होगा उनका दिमाग उतना ज्यादा शांत और एकाग्र बनेगा. इसके लिए बच्चों को यदि घर पर आप डांस, व्यायाम और भाग दौड़ जैसे काम करायेंगें तब ही उनके शरीर की एनर्जी बर्न हो पाएगी. ऐसे कामों से उनका दिमाग भी व्यस्त रहेगा और साथ ही वे अपने समय को मनोरंजक रूप में व्यतीत भी कर पाएंगे.
  • स्कूल के कार्य में करे सलंग्न:– स्कूल में अनचाहे अवकाश की वजह से स्कूल की बहुत सारी टीचर्स बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास देकर बच्चों की पढ़ाई के नुकसान की कुछ हद तक भरपाई कर रहे थे ऐसे में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप की वजह से उन ऑनलाइन क्लास को भी बंद करा दिया गया है जिसके बाद बच्चों के लिए कुछ असाइनमेंट और होमवर्क घर पर करने के लिए दिया गया है ऐसे में यदि आप अपने बच्चे को व्यस्त रखना चाहते हैं तो खेल खेल के बीच में उन्हें उनके स्कूल द्वारा प्राप्त होमवर्क और असाइनमेंट भी कराते रहें. खेल के साथ पढ़ाई करना थोड़ा सरल हो जाता है ऐसे में बच्चों का समय भी कट जाता है और पढ़ाई भी हो जाती है.

बच्चों को व्यस्त करना आज के समय में सबसे मुश्किल काम है लेकिन यदि इस मुश्किल काम को हम कई अलग-अलग तरीकों से सोचे और समझे तो यह एक माता के लिए बहुत ज्यादा आसान बन जाता है, और साथ ही परिवार के सदस्यों को भी बच्चों के खेल में सलंग्न करने से परिवार के सभी सदस्य स्वस्थ और मानसिक रूप से दुरुस्त बने रहते हैं. तो अपने घर के बड़े बुजुर्गों के साथ-साथ अपने बच्चों को भी वर्तमान समय के खाली समय के दौरान व्यस्त रखें और साथ ही उन्हें मनोरंजन का एहसास भी हमारे बताए गए टिप्स के साथ अवश्य कराएं.

Other links –

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *