कोरोना वायरस से बचने के लिए मुंह पर पहने वाले मास्क को घर पर आसानी से बनायें | How to Make Surgical Mask at Home in Hindi

मुंह पर पहनने वाले मास्क को घर पर कैसे बनाएं (How to Make Surgical Mask at Home in Hindi) (Raw Material, DIY, With Cloth, Fabric, Tissue Paper, Medical, Dust Air Pollution Mask)

अक्सर आपने देखा होगा जब आप हॉस्पिटल जाते हैं तो वहां डॉक्टर्स एवं हॉस्पिटल का स्टाफ सभी मरीज से मिलने से पहले अपने मुंह पर फेस मास्क लगाते हैं. अब आप सोच रहे होंगे कि वे ऐसा क्यों करते हैं तो हम आपको बता दें कि वे ऐसा इसलिए करते हैं ताकि संक्रमित मरीज के संपर्क में आने से मरीज का संक्रमण उन तक न पहुंचे. अब हालही में दुनियाभर में बड़े स्तर पर फ़ैल रहे कोरोना वायरस से बचने के लिए लोग इस तरह के मास्क को पहन कर ही अन्य लोगों के संपर्क में आ रहे हैं. जिसके चलते बाजार में इसकी जल्द ही शोर्टेज हो सकती हैं. ऐसे में आपको हम इस लेख में घर पर ही इस तरह के मास्क बनाने की विधि के बारे में बता रहे हैं.

How Make Surgical Medical Air Pollution Mask home hindi

मुंह पर पहनने वाले मास्क क्या है ? (What is Surgical Mask ?)

मुंह पर लगाये जाने वाले फेस मास्क ऐसे मास्क होते हैं जो आपको संक्रमण से बचाते हैं. जब आप किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं तो उसके बैक्टीरिया आप तक न पहुंचे इसके लिए इन फेस मास्क का इस्तेमाल किया जाता हैं.  

मुंह पर पहनने वाले मास्क के प्रकार (Types of Surgical Mask)

मुंह पर पहनने वाले मास्क 2 तरीके के होते हैं जिसकी जानकारी इस प्रकार हैं –

  • इनसाइडर टू आउटसाइडर मास्क :- ऐसे मास्क जो बैक्टीरिया को अंदर से बाहर आने से रोकता हैं, वे मास्क ‘इनसाइडर टू आउटसाइडर’ मास्क होता हैं. ये अक्सर डिस्पोजेबल या सर्जिकल मास्क होते हैं, जोकि अक्सर अस्पतालों में डॉक्टर्स एवं स्टाफ द्वारा उपयोग किये जाते हैं. इन्हें 3 से 8 घंटे उपयोग करने के बाद फैंक दिया जाता हैं. हालांकि इस तरह के मास्क से आप संक्रमण से तो बच सकते हैं, लेकिन खतरनाक कोरोना वायरस जैसे बीमारी से नहीं बच सकते हैं.
  • आउटसाइडर टू इनसाइडर मास्क :- दूसरे तरह के मास्क वे होते हैं जो बाहर फैले बैक्टीरिया को अंदर आने से रोकते हैं. ये मास्क एन 95 रेस्पिरेटर मास्क होते हैं. लेकिन आपको बता दें कि ये भी 3 तरीके के होते हैं एफएफपी 1, एफएफपी 2 एवं एफएफपी 3. जिनमें से सबसे अच्छा एफएफपी 3 मास्क होता हैं जोकि 99 प्रतिशत फिल्ट्रेशन करता हैं और 1 प्रतिशत उससे लीकेज होता है. डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के मुताबित कोरोना वायरस से बचने के लिए इसी तरह के फेस मास्क का इस्तेमाल करना बेहतर हो सकता है.

गिलोय जूस पीने से कोरोना वायरस जैसी बीमारी से भी बचा जा सकता है, अधिक जानकारी यहाँ पढ़ें

मुंह पर पहनने वाले मास्क को घर पर बनाने का तरीका (Surgical Mask Making Process at Home)

मुंह पर पहनने वाले मास्क को आप घर पर आसानी से बना सकते हैं इसे बनाने की विधि इस प्रकार हैं –

सामग्री :- फेस मास्क बनाने के लिए आपको निम्न सामग्री की आवश्यकता पड़ेगी. 

  • किचेन पेपर
  • टिश्यू पेपर
  • रबर बैंड
  • पंचिंग मशीन
  • पेपर मास्किंग टेप
  • बाइंडर क्लिप्स
  • कैंची
  • प्लास्टिक वायर्स
  • चश्मा
  • प्लास्टिक फाइल फोल्डर

विधि :-

  • फेस मास्क बनाने के लिए सबसे पहले आप अपने हाथों को सैनीटाइजर लगाकर साफ करें.
  • फिर आप टिश्यू पेपर के बराबर किचेन पेपर को काट लें और इसके आपको 2 पीस लेना हैं और इसे एक के ऊपर एक रखना हैं.
  • इसके बाद इसके ऊपर आप एक टिश्यू पेपर रखिये. और फिर इसे बीच से आधा 2 भागों में कैंची की मदद से काट लीजिये.
  • अब कटे हुए हिस्से की दोनों साइड्स को पेपर मास्किंग टेप की मदद से चिपका दीजिये.
  • फिर जिन दोनों साइड्स पर आपने टेप लगाया हैं उसे पंचिंग मशीन की सहायता से पंच कर 2 – 2 छेद कर दीजिये.
  • अब आप किचेन पेपर वाली साइड पर प्लास्टिक कोटेड वायर को टेप की मदद से चिपका दीजिये.
  • अब आपने जो पंचिंग मशीन की मदद से छेद किये हैं उन पर रबर बैंड बांध दीजिये.
  • इसके बाद आप एक प्लास्टिक फाइल फोल्डर लीजिये और इसे भी आधा काट लीजिये.
  • अब अपने चश्मे की दोनों डंडियों में बाइंडर क्लिप्स की मदद से इस आधे कटे हुए प्लास्टिक फाइल फोल्डर को क्लिप कर दीजिये. आपका फेस मास्क बन कर तैयार हैं.

एलोवेरा के जूस पीने से क्या फायदे है, यहाँ पढ़ें

नोट :- आप किचेन पेपर एवं टिश्यू पेपर की संख्या बढ़ा भी सकते हैं क्योंकि जितना मोटा फेस मास्क आप उपयोग करेंगे, उतना ही अधिक आप संक्रमित होने से बचे रहेंगे. क्योंकि यह मास्क संक्रमण आप तक जल्दी नहीं पहुँचा पायेगा. इसके अलावा आपको बता दें कि इस फेस मास्क का उपयोग करने के बाद इसे आप कान की तरफ से निकालते हुए सीधे बंद डस्टबिन में फैंक दें. इसे आप सामने से अपने हाथों से न छुए, क्योंकि इससे बैक्टीरिया आपके हाथों में नहीं आ पाएंगे.

मुंह पर पहनने वाले मास्क बनाने के अन्य तरीके

यहाँ हम आपको पहनने वाले मास्क को बनाने के कुछ अन्य तरीके की जानकारी दे रहे हैं –

  • कपड़े से बना फेस मास्क :- आप फेस मास्क को कपड़े से भी बना सकते हैं. इसके लिए आपको मोटे फैब्रिक का कपड़ा लेना होगा और उसे 20 सेमी चौड़ा और 17 सेमी लंबा काट लें. इसके बाद इसके 20 सेमी वाले दोनों कोनों को 1-1 इंच मोड़ कर सिलाई कर दीजिये. अब आप इसमें 5 सेमी की दूरी इसे 1 इंच मोड़िये और ऐसे ही 3 – 3 इंच कि दूरी पर 2 बार मोड़िये. अब मुड़ा हुआ हिस्सा खुले नहीं इसके लिए इस पर प्रेस पर दीजिये. इसके बाद आप कपड़े का अन्य टुकड़ा लेकर इसके अन्य दोनों भागों को भी सील पैक करते हुए सिलाई रख दीजिये. अंत में आप 15 सेमी की 2 इलास्टिक काटिए और इसे मास्क के चारों कोने में इस तरह से लगाइये कि वह एक एक पहनने वाले मास्क कि बन जाये. और इलास्टिक आपके कान में फस सकें. इस तरह यह फेस मास्क आपका बन जायेगा.

किचेन नैपकिन एवं टिश्यू पेपर से बना फेस मास्क :- इसके अलावा आप किचेन नैपकिन और टिश्यू पेपर से भी अन्य तरीके से भी फेस मास्क बना सकते हैं. इसका एक तरीका यह हैं कि आप 20 * 17 सेमी का एक किचेन पेपर ले और इसके ऊपर इसी साइज़ का टिश्यू पेपर चिपका दें. अब आप इसके 20 सेमी वाले दोनों कोने में इलेक्ट्रिक वायर काटकर लगा दीजिये और कोने को 1 -1 इंच मोड़ कर स्टेप्लर कर दीजिये. इसके बाद 3 – 3 इंच कि दूरी में इसे 1 – 1 इंच मोडकर इसे कोने से स्टेप्लर कर दीजिये. ध्यान रहे यह बीच में चिपके नहीं, केवल किनारे से ही चिपका रहे. इसके बाद इसके चारों कोनो में फेस मास्क पहनने के लिए रबर बेंड लगा दीजिये. और इसे अपने कानों में फसाते हुए इस फेस मास्क को आराम से पहनन सकते हैं.  

मुंह पर पहनने वाले मास्क का उपयोग किस तरह करें ? (How to Use Surgical Mask in Our Face ?)

कोरोना वायरस से बचने के लिए आप इस फेस मास्क को मुंह पर इस तरह से पहने जिससे कि आपकी नाक से लेकर मुंह तक का हिस्सा चारों ओर से इस फेस मास्क से कवर हो जायें. और इसके बाद आप अपनी आंखों पर भी यह चश्मा लगा लें, जिससे कि बैक्टीरिया आपकी आंखों के माध्यम से भी आपके अंदर प्रवेश न कर सकें. इस फेस मास्क का उपयोग आप कहीं भी बाहर जाते समय या भीड़ – भाड़ वाले इलाके में जाते समय अवश्य करें. यह आपको काफी हद तक कोरोना वायरस से बचने में मदद कर सकता हैं.

हालांकि आपको केवल इससे ही नहीं बल्कि अन्य चीजों के माध्यम से भी खुद को काफी हाइजिन रखना आवश्यक है, जिससे आप कोरोना वायरस जैसी घातक बीमारी से बच कर रह सकते हैं.

Other links –

pavan

Director at AK Online Services Pvt Ltd
मेरा नाम पवन अग्रवाल हैं और मैं मध्यप्रदेश के छोटे से शहर Gadarwara का रहने वाला हूँ । मैंने Maulana Azad National Institute of Technology [MNIT Bhopal] से इंजीन्यरिंग किया हैं । मैंने अपनी सबसे पहली जॉब Tata Consultancy Services से शुरू की मुझे आज भी अपनी पहली जॉब से बहुत प्यार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *