पैन कार्ड का महत्व व उपयोग | PAN Card Meaning, Importance, Benefits In Hindi

पैन कार्ड का महत्व व उपयोग, वित्तीय लेनदेन जिसमें पैन कार्ड अब अनिवार्य है ( PAN Card Meaning, Importance, Benefits, Financial transactions where PAN CARD  is mandatory In Hindi)

1 जनवरी 2005 से किसी भी चालान के साथ पैन कार्ड नंबर का होना जरुरी बताया गया है, इसके साथ ही किसी भी वित्तीय दस्तावेजों या लेनदेन के साथ पैन कार्ड की जानकारी डालना भी अतिआवश्यक है. पैन कार्ड किसी भी बैंक में खाता खोलने, राशि निकालने या जमा  करने या किसी भी तरह के वित्तीय लेनदेन के लिए एक अतिमहत्वपूर्ण आईडी कार्ड है. यह विशिष्ट, राष्ट्रीय और स्थायी होता है और शहर या राज्य के बदलने पर इसमें कोई परिवर्तन नहीं होता है.

पैन कार्ड क्या होता है? (What Is PAN Card)

पैन कार्ड एक विशिष्ट पहचान कार्ड है जिसे  स्थायी खाता संख्या (Permanent account number) कहा जाता है, जो कि किसी भी तरह के आर्थिक लेनदेन में बहुत जरुरी है. पैन कार्ड में एक अल्फ़ान्यूमेरिक 10 अंकों की संख्या होती है, जो कि आयकर विभाग द्वारा निर्धारित की जाती है. यह प्रक्रिया केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) के अंतर्गत आती है. पैन कार्ड एक जरुरी कार्ड है.

PAN Card In Hindi

पैन कार्ड के नम्बर का मतलब क्या हैं (Meaning of PAN Card Number) 

पैन कार्ड में एक 10 अंक की अल्फ़ान्यूमेरिक संख्या होती है, जिसमे प्रत्येक अंक का एक मतलब होता है. और आयकर अधिनियम 139A के तहत पैन कार्ड जारी किये जाते है .

  • पैन कार्ड में मिले विशिष्ट समान संख्या में शुरुआत के 5 अक्षर अल्फ़ा-बेट्स, अगले 4 अक्षर संख्यात्मक और आखिरी अक्षर अल्फाबेट होता है .
  • शुरुआत के 5 अल्फ़ा-बेट्स में पहले 3 में A से Z के बीच के कोई भी अल्फ़ा-बेट्स होते है.
  • चौथा अल्फ़ाबेट निम्नानुसार नियमों के हिसाब से तय किया जाता है .
  1. कंपनी के लये C
  2. व्यक्ति के लिए P
  3. HUF (हिन्दू अविभाजित परिवार) के लिए हिन्दू अविभाजित परिवार के पैन कार्ड के लिए यहाँ पढ़ें.
  4. फर्म के लिए F
  5. व्यक्तियों के संघ (AOP) के लिए A
  6. ट्रस्ट के लिए T
  7. व्यक्तियों के शारीर (BOI) के लिए B
  8. स्थानीय प्राधिकरण के लिए L
  9. कृत्रिम न्यायिक व्यक्ति के लिए J
  • सरकार के लिए G
  • पाँचवा अल्फ़ाबेट किसी भी व्यक्ति के आखिरी नाम, किसी कंपनी या संगठन के नाम का पहला अक्षर होता है.
  • आखिरी 5 अंक एक जाँच नंबर होता है. यह सुरक्षा के लिए होता है.

पैन कार्ड में निहीत एक तारीख होती है, जो कि उस पैन कार्ड को जिस दिन जारी किया गया है वह दर्शाती है.

पैन कार्ड के महत्व व उपयोग क्या हैं? (What is uses and importance of PAN CARD in hindi)

पैन कार्ड के महत्व और उसके उपयोग इस प्रकार है-

  • सम्पत्ति खरीदने या बेचने के लिए
  • वाहन खरीदने या बेचने के लिए
  • 50,000 से अधिक की राशि के लेन देन के लिए
  • बैंक में नया खाता खोलने के लिए
  • 50,000 से अधिक की राशि के शयेर्स के लेन देन के लिए
  • टेलीफोन के नये कनेक्शन के लिए
  • 25,000 की राशि से अधिक की राशि किसी होटल में भुगतान के लिए

आज के समय में बढ़ते हुए व्यापार को देखते हुए पैन कार्ड एक महत्वपूर्ण आईडी है. यह व्यक्ति की आय का उचित ब्यौरा देने जैसे उसके नियमित कर के भुगतान होने की एक आईडी होती है.

कुछ परिवर्तन जैसे किसी व्यक्ति की मृत्यु होना या संगठन के बन्द होने की उचित सूचना CBDT को समय पर देना जरुरी होता है .

पैन कार्ड के लाभ क्या हैं? (What is the Benefits Of PAN Card)

  • पैन कार्ड कर दाताओ के लिए लाभकारी परिचय पत्र हैं .
  • पैन कार्ड कर संबंधी परेशानियों से भी बचाता हैं .
  • पैन कार्ड को आइडेंटिटी प्रूफ के तौर पर भारत में कहीं भी किसी भी जगह लगाया जा सकता हैं .
  • पैन कार्ड को सेलेरी अकाउंट से जोड़ना लाभकारी होता हैं .
  • पैन कार्ड हर तरह की जॉब पार्ट टाइम, फूल टाइम में काम आता हैं .

वित्तीय लेनदेन जिसमें पैन कार्ड अब अनिवार्य है (Financial transactions where PAN CARD  is mandatory)

पैन कार्ड देश में उत्पन्न होने वाले कुल कर राजस्व का अनुमान लगाने के लिए एक बहुत ही उपयोगी टूल है. सिर्फ पहचान दस्तावेज के रूप में इसका उपयोग ही पैन कार्ड की प्राथमिकता नहीं है. आधार कार्ड आने के बाद से पैन कार्ड की अपेक्षा आधार कार्ड की महत्ता अधिक हो गई है. लेकिन पैन कार्ड अभी भी महत्वपूर्ण है, खासकर वित्तीय लेनदेन के लिए.

10 अंकों का यह अल्फ़ान्यूमेरिक नंबर आयकर विभाग द्वारा जारी किया जाता है. पैन कार्ड के द्वारा आयकर विभाग प्रत्येक भारतीय नागरिक के द्वारा जो भी पैसों का लेनदेन होता है, उस पर नजर रखता है, जबकि आधार का मुख्य उद्देश्य भारत में रहने वाले प्रत्येक नागरिक का केंद्रीकृत डेटाबेस बनाना है. आधार कार्ड में किसी व्यक्ति का नाम, फोटो और बॉयोमीट्रिक डेटा होता है. पैन कार्ड नंबर किसी भी लेनदेन के लिए अनिवार्य है, आयकर विभाग ने इन कुछ जगह पर इसे अनिवार्य कर दिया है, जैसे बैंक में खाता खोलना, बैंक खातों में नकदी जमा करने, डीमैट खाते खोलना, जमीन  संपत्ति का लेनदेन, प्रतिभूतियों में लेनदेन आदि.

केंद्र सरकार, राज्य सरकार और वाणिज्य दूतावास कार्यालयों को छोड़कर प्रत्येक भारतीय व्यक्ति द्वारा पैन कार्ड का उपयोग अनिवार्य है. नीचे आपको कुछ लेनदेन के बारे में बताया जा रहा है, जहाँ पैन कार्ड के बिना आप कोई लेनदेन नहीं कर सकते हैं –

  • दो चके वाले वाहनों की खरीद, बिक्री के लिए पैन कार्ड जरुरी नहीं है, लेकिन दो से अधिक चके के वाहनों को खरीदते या बेचते समय, दोनों के लिए आपको पैन कार्ड की आवश्कता पड़ेगी.
  • अपने आस पास के किसी भी सरकारी, प्राइवेट या कोआपरेटिव बैंक में खाता खोलते समय भी पैन कार्ड अनिवार्य है, इसके लिए ओरिजिनल पैन कार्ड दिखाना होगा, साथ ही फोटोकॉपी जमा करनी होगी. इसके साथ ही यहाँ पैसे जमा करते समय भी आपको पैन कार्ड लगेगा.
  • किसी भी बैंक से क्रेडिट या डेबिट कार्ड के लिए आवेदन करना चाहते है, तो पैन कार्ड पहले बनवाएं फिर बैंक में क्रेडिट या डेबिट कार्ड के लिए संपर्क करें.
  • शेयर मार्केट में निवेश करने वालों को डीमैट अकाउंट की जरुरत होती है, इसके बिना वे शेयर्स का लेनदेन नहीं कर पाते है. यह अकाउंट खुलवाने के लिए भी पैन कार्ड जरुरी है.
  • किसी भी होटल या रेस्तरां में अगर आपका बिल पचास रुपये से ज्यादा का बनता है और अगर आप उसकी पेमेंट कैश में करते है, तो यह बिना पैन कार्ड के मुमकिन नहीं है.
  • देश से बाहर जाते समय टोटल खर्चा 50 हजार के उपर है, तो उसकी पेमेंट के समय आपको पैन कार्ड जरुरी है. इसके साथ ही अगर आप उस देश की मुद्रा खरीदते है तो भी आपको पैन कार्ड कि जरुरत होगी.
  • म्यूचुअल फंड भी एक तरह का निवेश है, भारत देश में सरकार के नियम अनुसार, कोई भी निवेश बिना पैन कार्ड के नामुमकिन है. अतः इसमें पैसे लगते समय भी आपको पैन कार्ड आवश्यक है.
  • किसी कंपनी या किसी संस्था से डिबेंचर या बॉन्ड प्राप्त करने के लिए 50,000 रुपये से अधिक की राशि का लेनदेन के समय पैन कार्ड जरुरी.
  • रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा बांड निकाला जाता है, जिसे कोई भी भारतीय खरीद सकता है. अगर 50 हजार से अधिक का यह होगा तो आपको इसकी पेमेंट के समय पैन कार्ड लगेगा.
  • बैंकिंग कंपनी या सहकारी बैंक से बैंक ड्राफ्ट या पे ऑर्डर या बैंकर चेक खरीदते समय अगर 50,000 रुपये से अधिक की राशि का नगद भुगतान करना है, तो पैन कार्ड अनिवार्य है.
  • अगर 50,000 रुपये से अधिक की राशी यहाँ जमा होती है तो पैन कार्ड जरुरी है –
  • एक बैंकिंग कंपनी या एक सहकारी बैंक
  • पोस्ट ऑफिस
  • एक गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी
  • अगर आपने जीवन बीमा पॉलिसी ली है, तो उस कंपनी में अगर आपका वार्षिक प्रीमियम पचास हजार से अधिक होता है, तो इसको भरने के लिए आपको पैन कार्ड लगेगा.
  • अगर शेयर्स मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज में आपका नाम नहीं है, तो शेयर्स खरीदते एवं बेचते समय 1 लाख के उपर का पेमेंट पैन कार्ड द्वारा होगा.
  • अगर आप कोई भी अचल संपत्ति मतलब जो एक जगह से दूसरी जगह नहीं जा सकती जैसे कोई घर, प्लाट उसका सौदा करते है, तो रजिस्ट्री के समय पैन कार्ड लगेगा. 10 लाख से कम का अगर सौदा है तो जरूरत नहीं है, लेकिन इससे अधिक के सौदे पैन कार्ड के बिना नहीं हो सकते.
  • 2018-19 के बजट में वित्त मंत्री ने कहा था कि अब से 5 लाख के उपर अगर कोई भी पैसों का लेनदेन होता है, तो उसके लिए पैन कार्ड अनिवार्य है. इसमें गहनों कि खरीद बिक्री भी शामिल है.

नोट –

  • अगर कोई आयकरदाता नहीं है, तो वो अपने माता-पिता या अभिभावक पैन कार्ड इन लेनदेन के लिए उपयोग कर सकता है.
  • कोई भी व्यक्ति जिसके पास पैन कार्ड नहीं है और उपर्युक्त दिए हुए लेनदेन करता है तो फॉर्म 60 में इसके बारे में जानकारी दे सकता है.

इस तरह पैन कार्ड की अनिवार्यता के लिए बहुत से नियमों को लागू किया गया है. इसके अलावा बजट 2017 में भी इसके लिए कुछ बदलाव किये जाने की उम्मीद जताई गई थी. बजट 2017 की मुख्य बातें जानने के लिए यहाँ पढ़ें.

पैन कार्ड की नई डिजाईन (New design of PAN CARD)

आयकर विभाग के रूप में पैन कार्ड की मौजूदा डिजाईन में कुछ परिवर्तन निर्धारित किये गये हैं. तदनुसार, नये पैन कार्ड इन परिवर्तनों को शामिल करने के बाद जारी किये जायेंगे. कृपया ध्यान दें कि मौजूदा पैन कार्ड धारकों को नये पैन कार्ड के लिए आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है. नये पैन कार्ड में निम्न परिवर्तन किये गये हैं-

  • पैन कार्ड के सत्यापन को सक्षम करने के लिए त्वरित प्रतिक्रिया (QR) कोड पैन कार्ड में छिपा हुआ होगा जिसमे पैन आवेदक की जानकारी होगी.
  • महापुरुष (legends), विशेष कर के नाम, पिता का नाम और जन्मतिथि के लिए शामिल किया गया है.
  • पैन और हस्ताक्षर की जगह में बदलाव किया गया है.

अन्य पढ़े:

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *