इनकम टैक्स स्लैब FY 2020-21 [कौन सा चुने किसमें है ज्यादा फायदा] | Income Tax Slab FY 2020 -21

Income Tax Slab for FY 2020-21 or AY 2021-22 In Hindi [calculator, New Tax, exemption] इनकम टैक्स स्लैब 2020-21 – कौन सा चुने किसमें है ज्यादा फायदा

आज भारत सरकार ने अपना 2020- 21 का बजट पेश किया है यह बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी 2020 शनिवार को पेश किया ।

देश की आर्थिक हालत बहुत ही खराब चल रही है। इस तरह लोगों द्वारा कई तरह की अटकलें लगाई जा रही थी कि इस बार मोदी सरकार क्या नया करते हुए अपना बजट पेश करेगी । लेकिन कोई भी किसी भी तरह का अनुमान लगाने में समर्थ नहीं था क्योंकि पिछले बीते वर्षों में उन्होंने किसानों के लिए बड़ी-बड़ी योजनाओं का ऐलान कर दिया था । साथ ही स्वास्थ्य संबंधी भी बड़ी योजनाएं और कई तरह की बीमा योजनाएं भी सरकार द्वारा शुरू की जा चुकी हैं । महिलाओं और बेटियों के विकास के लिए भी सरकार ने विभिन्न प्रकार की योजनाएं शुरू कर दी थी जिनका क्रियान्वयन अभी तक जारी है । इसके बाद इस वर्ष केवल व्यापारी वर्ग को ही सरकार से कुछ उम्मीदें थी क्योंकि देश व्यापार में काफी पिछड़ चुका है । इस वर्ष व्यापार को सुगम बनाने हेतु कई तरह की योजनाएं शुरू की जाए ने वाली हैं ताकि व्यापार बहुत ही आसान तरीके से शुरू हो सके।

Income Tax Slab for AY 2020-21 In Hindi

फिलहाल हमारे इस आर्टिकल में इनकम टैक्स में हुए बदलाव के बारे में आपको विस्तार से बताएंगे –

इस वर्ष मोदी सरकार ने इनकम टैक्स में 500000 रुपये तक की  आमदनी पर 0% टैक्स की घोषणा की है । पिछले वर्ष तक यह आंकड़ा ढाई लाख तक का था जिसे बढ़ाकर 500000 कर दिया गया है अर्थात जो लोग 500000 तक वार्षिक तौर पर कमाते हैं, उन्हें इनकम टैक्स भरना नहीं होगा वह इनकम टैक्स फाइल करना अनिवार्य हैं ।

अप्रत्यक्ष कर क्या है और उसके प्रकार फ़ायदे व नुकसान जानने के लिए यहाँ पढ़ें

नीचे दी गई तालिका में हम पिछले वर्ष एवं इस वर्ष के इनकम टैक्स के बदलाव के बारे में आंकड़ों में जानेंगे

इंकम पहले (Old System) अब (New System)
5 से 7.5 लाख 20 % 10 %
7.5 से 10 लाख 20% 15 %
10 से 12.5 लाख 30% 20 %
12.5 लाख से 15 लाख 30% 25 %
15 लाख से ऊपर  30% 25 %

क्या हैं नयी टैक्स प्रणाली का सबसे बड़ा बदलाब

नयी टैक्स प्रणाली में काफी बदलाव किए गए हैं । पुरानी टैक्स प्रणाली से कई जगहों पर टैक्स को काफी कम किया गया है यह इनकम टैक्स में एक बहुत बड़ा बदलाव है लेकिन इसके साथ ही सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि इनकम टैक्स में मिलने वाली छूट [जो कि लोगों को उनके द्वारा लिए गए लोन, कई तरह की एलआईसी, कई तरह की हेल्थ पॉलिसीज आदि पर मिलती है] वे टैक्स में छुट अब नहीं मिलेगी ।

योजना में शामिल होने की शर्तें क्या हैं?

बजट 2020 की योजना में शामिल होने के लिए आपके लिए कुछ आवश्यक शर्तों का पूरा होना जरूरी है जो इस प्रकार:-

  1. इनकम टैक्स में किसी भी प्रकार की आय गणना को लेकर छूट नहीं दी जाएगी।
  2. आपके द्वारा किसी भी प्रकार की आय हानि की गई हो तो उसके जिम्मेदार आप खुद होंगे ना कि सरकार।
  3. किसी भी प्रकार के मासिक भत्ते या फिर वेतन अनुलाभ के लिए कोई भी छूट नहीं दी जाएगी।
  4. आपके द्वारा खर्च किए गए ब्याज की कटौती वाली संपत्ति को भी अनुमति नहीं दी जाएगी।

इनकम टैक्स बचाने के तरीके जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

किस प्रकार की कटौती / छूट की अनुमति नहीं होगी ?

बजट 2020 में नीचे दी गई रियायतों की हकदार अब नहीं होगी जनता:-

  1. 2020 में छुट्टी लेने पर किसी भी प्रकार के करों में रियायत नहीं दी जाएगी।
  2. किसी भी प्रकार के बाहरी किराए के भत्ते पर आप अन्य कर उठाने में असमर्थ रहेंगे।
  3. आप जनता द्वारा मनोरंजन मानव कटौती के उपलक्ष में भत्ते नहीं दिए जाएंगे।
  4. साल 2020-21 इस योजना के तहत किसी भी प्रकार की पारिवारिक पेंशन नहीं दी जाएगी।
  5. इसके अलावा इनमें 80C,80D,800CD भी होगी कटौती होगी ।

नई योजना के विकल्प का विकल्प कैसे चुना जा सकता है? क्या विकल्प में हर साल व्यायाम करना पड़ता है? क्या कोई स्कीम से बाहर निकल सकता है और नियमित दरों पर कर का भुगतान कर सकता है?

ऐसे में बैठक 2020 के लिए करदाताओं को दो अलग-अलग हिस्सों में विभाजित किया गया है जिसमें पहला व्यवसायिक आय वाले करदाता और बिना आय वाले करदाता।

व्यवसायिक आय वाले करदाताओं के लिए योजना :-

आय वाले करदाताओं के लिए रिटर्न ऑफ इनकम फाइल करते समय एक्स्ट्रा विकल्प का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा कर की दरें हर साल रिटर्न दाखिल करने के समय प्रयोग में लिए गए एक्स्ट्रा विकल्प के अनुसार लागू की जाएगी। इसी के साथ साथ करदाताओं द्वारा लिए गए कर को ड्यू डेट से फाइल करना होगा न्यू डेट से फाइल करना होगा और आइटीआर दर से सामान्य दर तक करना होगा।

कैसे भरे ऑनलाइन एडवांस टैक्स चालान 280 फॉर्म के द्वारा जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

बिना आए वाले करदाता के लिए योजना:-

बिना आए वाले करदाताओं के लिए किसी भी प्रकार का एक्स्ट्रा विकल्प नहीं दिया जाएगा। लिए गए ऋण को निर्धारित समय पर लौटना होगा। यदि किसी साल में आपके पास आए नहीं है तो उस वर्ष आप इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं। एक्स्ट्रा विकल्प का चयन कर सकते हैं जो कि आपको केवल एक बार के लिए दिया जाएगा।

योजना के तहत दावा / छूट क्या हो सकती है?

बजट 2020 नई योजनाओं के तहत दी जाने वाली छूट इस प्रकार है :-

  1. नई धारा 80सीसीडी कि उप धाराओं के तहत अधिसूचित पेंशन योजना में कर्मचारी के खाते में नियुक्त ता का योगदान अनिवार्य होना चाहिए।
  2. किसी भी प्रकार के ट्रांसफर यात्रा के लिए अलग से लागत को पूरा करने के लिए भता दिया जाएगा।
  3. कर्मचारी द्वारा की जाने वाली ड्यूटी के स्थान पर खर्च किए गए शुल्क को पूरा करने के लिए सरकार द्वारा अलग से दैनिक भत्ता दिया जाएगा।
  4. साझेदार के रूप में मृत्यु होने पर ₹2000000 तक की मदद कि जाएगी और पारिवारिक पेंशन भी दी जाएगी।
  5. हाउस प्रॉपर्टी डीलर के तहत रेंटल इनकम का 30% स्टैंडर्ड डेडीकेशन किया जाएगा और उसके अलावा अलग से आर्थिक मदद की जाएगी।
  6. पेशन की प्रतिनियुक्ति की जाएगी जो कि वर्ष 2020 21 से लागू होगी।

सभी लोगों के लिए खुशखबरी यह है कि सरकार ने फिलहाल ने नयी टैक्स प्रणाली सब के ऊपर लागू नहीं की है । इसका जो निर्णय लेना है वह जनता के हाथ में है, वह चाहे तो पुरानी टैक्स प्रणाली के तहत ही टैक्स भर सकती है ।  अगर चाहे तो नयी टैक्स प्रणाली को भी अपना सकती है ।

कैसे भरे ऑनलाइन इनकम टैक्स रिटर्न जानने के लिए यहाँ पढ़ें

सरकार ने यह फैसला केवल इसलिए उठाया है ताकि लोगों को सीए की हेल्प के जरिए ही अपना टैक्स फाइल करना होता था जो कि काफी कठिन प्रक्रिया होती थी अब व्यक्ति खुद ही सरल ली करण के अनुसार अपना टैक्स भर सकता है इसीलिए नयी टैक्स प्रणाली को शुरू किया जा रहा है ।

इस नई टैक्स प्रणाली के जरिए लोगों को लाभ मिलेगा या नहीं यह कह पाना फिलहाल बहुत मुश्किल है कुछ समय बाद ही इस बात के बारे में खुलकर बातचीत की जा सकती है ।

लेकिन क्या इस टैक्स प्रणाली से लोगों में बचत करने की जो भावनाएं होती थी वह खत्म हो जाएंगी, क्यूंकि टैक्स में छुट के लिए ही लोग कई तरह की पॉलिसी लेते थे, कई तरह के निवेद्श करते थे क्या उन पर इस नयी टैक्स प्रणाली का फर्क पड़ेगा? क्या यह टेक्स प्रणाली लोगों को डीमोटिवेट करेगी? अगर इस बारे में आप विस्तार से जानना चाहते हैं तो हमारे इस पेज को सब्सक्राइब करें और अपडेटेड जानकारी समय पर प्राप्त करें ।

अन्य पढे –

  1. कौन है शरजील इमाम 
  2. बच्चों को रात को जल्दी सुलाने के आसान तरीके
  3. जानिए भारतीय मुद्रा का इतिहास 
  4. कोरोना वायरस क्या है

pavan

Director at AK Online Services Pvt Ltd
मेरा नाम पवन अग्रवाल हैं और मैं मध्यप्रदेश के छोटे से शहर Gadarwara का रहने वाला हूँ । मैंने Maulana Azad National Institute of Technology [MNIT Bhopal] से इंजीन्यरिंग किया हैं । मैंने अपनी सबसे पहली जॉब Tata Consultancy Services से शुरू की मुझे आज भी अपनी पहली जॉब से बहुत प्यार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *