जहांगीरपुरी बुलडोज़र विवाद मामला क्या हैं, ज़िम्मेदारJahangirpuri violence case kya hain in hindi,

0

जहांगीरपुरी विवाद (हिंसा, विवाद, केस, कब हुई हिंसा, हिंसा का मुद्दा, लेटैस्ट अपडेट, कौन हुए गिरफ्तार, न्यूज़, इतिहास,) Jahangirpuri Violence Case (vivad, latest news, case detail, case date, matter, history)

दिल्ली के जहांगीरपुरी में 16 अप्रैल यानि शनिवार को हनुमान जयंती के उपलक्ष्य में निकली शोभायात्रा के दौरान अचानक से हिंसा भड़कने का मामला सामने आय़ा था। ऐसा बताया जा रहा था कि, वहां पर दो गुटो के बीच पहले बहस बाजी शुरू हुई उसके बाद हाथापाई वो इतना ज्यादा बढ़ गई कि, कुछ लोगों ने वहां पत्थरबाजी के साथ-साथ फायरिंग भी करनी शुरू कर दी। जिसके बाद मामला और ज्यादा हिंसक हो गया, कि उस इलाके में बारी पुलिस बल को तैनात किया गया। जिसमें बचाव के दौरान कई पुलिसवाले भी जख्मी हुए थे। इसी को संज्ञान में लेते हुए वहां पर हिंसा भड़काने वाले 14 लोगों गिरफ्तार किया गया। जिसके बाद उनकी पेशी रविवार को रोहिणी कोर्ट में की गई। अब ये संख्या बढ़कर 21 हो गई है। इसमें से दो नाबालिग भी शामिल है।

जहांगीरपुरी विवाद

कहां फैली हिंसादिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में
किसके बीच हुई झड़पदो समुदायों के बीच
कितने लोगों की हुई गिरफ्तारी21 लोग
सरकार का एक्शनभारी पुलिस बल किया गया तैनात
हिंसा का मुद्दाआपसी कहासुनी
कब हुई हिंसा16 अप्रैल 2022

बवाल के बाद अलर्ट जारी

जैसे ही हिंसा की खबर केंद्र तक पहुंची गृहमंत्री की तरफ से आदेश दिया गया की कानून व्यवस्था को बनाए रखें और पुरी दिल्ली में अलर्ट जारी किया जाए। जिन जगाहों पर हिंसा भड़कने की आशंक हो सकती है वहां पुलिस बल की तैनाती को बढ़ा दिया गया। इस हिंसा का असर यूपी में भी देखा गया। वहां पर भी कई इलाको में अलर्ट जारी कर दिया गया था।

जहांगीरपुरी हिंसा

  • इस तरह का मामला जहांगीरपुरी इलाके 2020 में सीएए और एनआरसी के मुद्दे को लेकर सामने आई थी। लेकिन उसमें किसी प्रकार की कोई भी हानि नहीं देखी गई थी।
  • इसके अलावा दिल्ली के कई और इलाकों में ऐसे कई मामले सामने आए हैं। जिसमें हिंसा देखने को मिली।
  • 1974 में सदर बाजार में दो सुमदाय के लड़को के बीच हिंसक झड़प।
  • 1990 में सदर बाजार में साम्प्रदायिक हिंसा का मामला सामने आना।
  • 2018 में उत्तर पश्चिमी दिल्ली के संगम पार्क में मंदिर के लेकर बवाल का मामला सामने आना।

जहांगीरपुरी हिंसा में कौन लोग हैं शामिल

दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में शोभा यात्रा के दौरान भड़की हिंसा मामले में अबतक दिल्ली पुलिस ने 21 लोगों की गिरफ्तारी की है। जिनमें से कई लोगों के नाम सामने आए हैं वो हैं जाहिद, अंसार, शहजाद मुख्त्यार, मोहम्मद अली, आमेर, अक्षर, नूर आलम, असलम, जाकिर, अकरम, इम्तियाज, मोहम्मद अली और आहिर।

हैरानी की बात ये है कि, इस दंगे में शामिल अंसार और असलम 2020 में सीएए-एनआरसी के हिंसक दंगों में भी शामिल थे। लेकिन सामने कोई भी सबूत ना आने के कारण इन्हें हिरासत में नहीं लिया गया। इस बार इन्हें पकड़ा गया है और पुलिस इनसे सारी पुछताछ भी कर रही है। जो वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आ रही है उसे देखकर लग रहा है कि, अंसार को इस मामले का कोई मलाल नहीं है वो अभी भी जिंदादिली के साथ पुलिस के सवाल के जवाब दे रहा है और मीडिया केमरे में पोज।

जहांगीरपुरी में कहां हुई हिंसा

ये हिंसा जहांगीरपुरी में कबाड़ी मार्किट के पास मौजूद मस्जिद से शुरू हुआ। जहां से शोभायात्रा निकाली जा रही थी। ऐसा कहा जा रहा है कि, वहां पर पहुंचकर कुछ लोगों ने मस्जिद के बाहर झड़ा लगाने की कोशिश की। जिसको लेकर वहां मौजूद लोग भड़क गए और उनके बीच कहासुनी शुरू हो गई। लेकिन कुछ लोगों का कहना है कि, ऐसा कुछ नहीं हुआ। यात्रा आराम से चल रही थी कि, तभी कुछ हिंसक तबके के लोग उस यात्रा मे शामिल हुए और लोगों को भड़काने लगे। जिसके बाद ये मामला और ज्यादा बढ़ता चला गया।

जहांगीरपुरी विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने जहांगीरपुरी में हुई एमसीडी की कार्रवाई पर फिलहाल रोक लगा दी है। कोर्ट ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा अतिक्रमण के खिलाफ हो रही कार्रवाई पर यथास्थिति बनाए रखने का आदेश जारी किया है। उन्होंने कहा है कि, जबतक इस पर कोर्ट की कार्रवाई पुरी नहीं होगी। तबतक कोई एक्शन नहीं लिया जाएगा। ये आदेश सुप्रीम कोर्ट द्वारा 20 अप्रैल यानि बुधवार को अतिक्रमण के खिलाफ चल रहे बुलडोज को रोकने के लिए लिया गया है।

जहांगीरपुरी की लेटेस्ट अपडेट

फिलहाल इस मामले पर कार्रवाई जारी है। जिसको लेकर कोर्ट में मामले पर सुनवाई भी हो रही है। अब इस मामले में राजनीतिक दल भी शामिल हो गए हैं। कोई इसे बीजेपी सरकार की साजिश बता रहा है तो कोई इसे गरीब वर्ग के लोगों के मुद्दे से जोड़ रहा है। इसी के साथ उस इलाके में नेताओं का आना-जाना भी जारी है। जिसको नियंत्रण में रखने के लिए पुलिसबल वहां तैनात है। वहां पर बाहरी लोगों को आने की मनाही है साथ ही वहां गाड़ियां और किसी भी आवाजाही का वाहन भी नहीं जाने दिया जा रहा है। लोगों को आदेश दिए गए हैं कि, वो बिना किसी काम के घर से बाहर ना आए। इसी के साथ राज्य और केंद्र सरकार ने भी इस मामले में संज्ञान लेना शुरू कर दिया है। वह पल-पल की रिपोर्ट ले रहे हैं।

नवनीत राणा हनुमान चालीसा विवाद

निर्दलीय सासंद और पूर्व साउथ एक्ट्रेस नवनीत राणा इस समय काफी दिक्कतों का सामना कर रही हैं। उनकी दिक्कत का अंदाजा आपको भी काफी अच्छे से होगा। नवनीत राणा के एक बयान ने आज उन्हें जेल तक पहुंचा दिया है। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के निवास स्थान मातोश्री में जाकर हनुमान चालीसा का पाठ करने की बात कही थी। जिसके बाद शिवसेना ने काफी बवाल मचाना शुरू कर दिया था। उनके घर के बाहर प्रदर्शन होने शुरू हो गए थे।

आपको बता दें कि, सांसद नवनीत राणा और उनके पति को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। जिसके बाद राणा दंपति ने बांद्रा कोर्ट में इस फैसले के खिलाफ जमानत अर्जी की अपील दी है। 29 अप्रैल को राणा दंपति की जमानत अर्जी पर सुनवाई होगी। जिसके बाद उन्हें जमानत मिल सकती है। फिलहाल वो इस समय हिरासत में है।

FAQ

Q- जहांगीरपुरी में कब भड़की हिंसा?

Ans- जहांगीरपुरी में 16 अप्रैल 2022 यानि शनिवार को हनुमान जयंती के उपलक्ष्य में निकाली गई शोभायात्रा के दौरान भड़की हिंसा।

Q- हिंसा भड़कने का क्या था कारण?

Ans- हिंसा भड़कने का कारण था दो समुदायों के बीच शुरू होने वाली कहासुनीऔर पथराव। जिसने वहां पर मामले को और ज्यादा बढ़ाने का किया काम।

Q- हिंसा में किन लोगों की हुई गिरफ्तारी?

Ans- इसमें 21 लोगों की गिरफ्तारी हुई है। जिनमें से कई लोगों के नाम सामने आए हैं वो हैं जाहिद, अंसार, शहजाद मुख्त्यार, मोहम्मद अली, आमेर, अक्षर, नूर आलम, असलम, जाकिर, अकरम, इम्तियाज, मोहम्मद अली और आहिर।

Q- हिंसा के बाद क्या लिया गया एक्शन?

Ans- हिंसा भड़कने के बाद वहां 20 अप्रैल 2022 को अवैध जमीन पर हो रहे अतिक्रमण को हटाने का कार्य हुआ शुरू।

Q- सुप्रीम कोर्ट ने किस चीज को लेकर दिए आदेश?

Ans- सुप्रीम कोर्ट ने उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा अतिक्रमण के खिलाफ हो रही कार्रवाई पर यथास्थिति बनाए रखने

Other Links-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here