झारखंड फसल राहत योजना 2021 | Jharkhand Fasal Rahat Yojana in Hindi

झारखंड फसल राहत योजना, फसल बीमा योजना, 2021, किसान कर्ज (ऋण) माफ़ी योजना, ऑनलाइन आवेदन, रजिस्ट्रेशन (Jharkhand Fasal Rahat (Bima) Yojana in Hindi) (Kisan Karj Mafi Yojana, Online Registration, Eligibility, Documents, List)

किसानों की स्थिति को सुधारने का निरंतर प्रयास केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा किया जा रहा है. अक्सर किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के कारण बहुत भारी नुकसान उठाना पड़ता है इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए झारखंड सरकार ने झारखंड फसल राहत योजना का शुभारंभ कर दिया है. झारखंड सरकार द्वारा यह योजना झारखंड फसल राहत योजना प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के स्थान पर प्रारंभ की गई है. इस योजना के जरिए झारखंड राज्य के जिन किसान भाई बहनों ने अब तक 50 हजार रुपए से अधिक कृषि लोन लिया है, उन्हें इस योजना के अंतर्गत सरकार माफ कर देगी और इसके जरिए किसान भाई बहन सरकारी कर्जे से भी मुक्त हो जाएंगे. चलिए इस लेख के माध्यम से इस योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातें जैसे लाभ, उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज एवं आवेदन प्रक्रिया आदि जान लेते हैं.

jharkhand fasal rahat yojana in hindi

कृषि उपकरण अनुदान योजना : सरकार दे रही हैं महंगे से महंगे कृषि यंत्र खरीदने के लिए 50 से 80% तक सब्सिडी, जानिए कैसे मिलेगा लाभ.

झारखंड फ़सल राहत योजना

योजना का नाम झारखंड फसल राहत योजना
किसने लांच की झारखंड सरकार
योजना की शुरुआतवर्ष 2020-21
लाभार्थी झारखंड के किसान
उद्देश्य फसल का नुकसान होने पर आर्थिक सहायता प्रदान करना, एवं किसानों का कर्ज माफ़ करना.
आधिकारिक वेबसाइट जल्द लॉन्च की जाएगी
हेल्पलाइन नंबर NA

झारखंड फसल राहत योजना क्या है

अभी हाल ही में झारखंड राज्य सरकार ने किसानों के हित के लिए झारखंड फसल राहत योजना का शुभारंभ किया है. इस योजना के जरिए झारखंड राज्य के जिन किसान भाई बहनों ने अब तक 50 हजार रुपए से अधिक कृषि लोन लिया है, उन्हें इस योजना के अंतर्गत सरकार माफ कर देगी और इसके जरिए किसान भाई बहन सरकारी कर्जे से भी मुक्त हो जाएंगे. बेवजह होने वाले नुकसान की भरपाई करने के लिए सरकार ने इस योजना को क्रियान्वित किया है, जिसकी सहायता से किसानों को अधिक नुकसान नहीं होगा तथा उनकी आय भी बढ़ेगी और आत्मनिर्भर बनने की प्रेरणा भी उन्हें मिलेगी. किसानों के हित के लिए झारखंड राज्य सरकार ने करीब इस योजना में 2000 करोड़ रुपयों से भी अधिक का निवेश करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है.

आपको बता दें कि झारखंड सरकार द्वारा जारी की गई झारखंड फसल राहत योजना के अंतर्गत किसानों को प्राकृतिक आपदा के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई करने के लिए फसल के लिए बीमित राशि सरकार की तरफ से प्राप्त होती है. परंतु इस योजना में बीमा की राशि प्राप्त करने के लिए किसानों को अपनी फसल का बीमा करवाना होता है और प्रीमियम की राशि का भुगतान करना होता है. इस योजना के अंतर्गत प्राकृतिक आपदाएं जैसे सूखा पड़ना ओलावृष्टि एवं अन्य आपदाएं शामिल की गई हैं. इस योजना का लाभ सभी किसानों को तो मिल नहीं सकता क्योंकि इस योजना में जो किसान आवेदन भरेंगे केवल उन्हीं किसानों को इस योजना का लाभ सरकार की तरफ से मिल सकेगा.

पीएम किसान ट्रेक्टर योजना : सरकार किसानों को कृषि में उपयोग होने वाले ट्रेक्टर खरीदने में कर रही हैं मदद, आप ऐसे उठा सकते है फायदा.

झारखंड फसल राहत योजना के साथ किया जाएगा किसानों का ऋण माफ

इस योजना के साथ-साथ किसानों को उनके ऋण से भी मुक्ति मिलेगी क्योंकि योजना के साथ किसानों का ऋण भी माफ करने की प्रक्रिया सरकार द्वारा चलाई जा रही है. इस मिली जुली योजना के लिए सरकार ने किसानों के लिए 2000 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित कर दिया है. इस प्रक्रिया के अंतर्गत भी किसानों का डाटा एकत्रित किया जाएगा तथा किसानों के द्वारा लिए गए किसी भी बैंक से कर्ज को माफ कर दिया जाएगा. यह प्रक्रिया भी दिसंबर 2020 के अंत तक प्रारंभ कर दी जाएगी.

झारखंड फसल राहत योजना का उद्देश्य

प्राकृतिक आपदाओं की वजह से होने वाले नुकसान की भरपाई करके किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करना ही झारखंड फसल राहत योजना का मुख्य उद्देश्य है. सरकार इस योजना की मदद से किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाना चाहती है और किसानों को काफी हद तक सशक्त बनाने की योजना पर कार्य कर रही हैं. इस योजना के माध्यम से किसानों की आय में काफी हद तक वृद्धि भी होगी और फसल में बेवक्त होने वाले नुकसान की जनता से भी किसान मुक्त हो जाएंगे और मन लगाकर काम कर पाएंगे.

मुफ्त राशन योजना : अपने पुराने राशन कार्ड को नये में तब्दील करें और मुफ्त में अनाज पायें.

झारखंड फसल राहत योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • इस योजना की सबसे पहली मुख्य विशेषता यही है कि इस योजना के अंतर्गत प्राकृतिक आपदाओं की वजह से हुए नुकसान की भरपाई के लिए आर्थिक सहायता प्राप्त होगी.
  • यह योजना मुख्य रूप से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के स्थान पर प्रारंभ की जाएगी.
  • इस योजना के अंतर्गत पंजीकृत किसानों को हुए नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी द्वारा की जाएगी.
  • जो भी किसान इस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करना चाहते हैं उन्हें इस योजना के अंतर्गत अपना पंजीकरण अवश्य कराना होगा.
  • इस योजना में प्राप्त आर्थिक सहायता से किसानों की आय में काफी हद तक वृद्धि होगी और वे आत्मनिर्भर बनने में सक्षम हो पाएंगे.
  • इस योजना के कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा 2000 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है.
  • इस योजना में लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को पंजीकरण के बाद प्रीमियम राशि का भुगतान करना होगा.

झारखंड फसल राहत योजना में लगने वाले आवश्यक दस्तावेज

  • किसान का आधार कार्ड
  • किसान का राशन कार्ड
  • आईडी कार्ड
  • बैंक खाता विवरण
  • निवास प्रमाण पत्र
  • खसरा नंबर के पेपर/ खेत का खाता नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • फोन नंबर
  • आय प्रमाण पत्र

पीएम कुसुम योजना : किसानों को सरकार दे रही हैं 90 % सब्सिडी पर सोलर पंप, जानिए आप कैसे कर सकते हैं आवेदन.

झारखंड फसल राहत योजना में पात्रता

  • योजना में आवेदन करने वाले किसान भाई का झारखंड राज्य का मूल निवासी होना जरूरी है.
  • किसी बीमा कंपनी में शामिल नहीं होना चाहिए.
  • किसान भाइयों के पास कृषि करने के लिए खुद की जमीन होनी अति आवश्यक है.
  • लोन की प्राप्त राशि का संबंध सीधे किसान भाई के बैंक के साथ होना चाहिए.
  • किसान भाई के पास उसका खुद का बैंक अकाउंट होना चाहिए और उसी अकाउंट में लोन की प्राप्त राशि का भी सारा विवरण होना चाहिए.

झारखंड फसल राहत योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया

झारखंड फसल राहत योजना में आवेदन के लिए अभी फिलहाल सरकार की तरफ से कोई भी ऑनलाइन ऑफिशल वेबसाइट ना तो जारी की गई है और ना ही कोई ऑफलाइन प्रक्रिया बताई गई है. सरकार द्वारा यही बताया गया है कि दिसंबर के अंत तक इस योजना से जुड़े आवेदन की प्रक्रिया के बारे में बता दिया जाएगा जानकारी मिलते ही तुरंत आपको सूचित कर दिया जाएगा.

झारखंड फसल राहत योजना का कट ऑफ डेट

इस लाभकारी योजना के जरिए झारखंड राज्य सरकार अल्पकालीन कृषि करने वाले किसान भाई बहन एवं ऐसे किसान भाई जिनकी आय का अधिकतम हिस्सा केवल किसान कर्ज को चुकाने में ही खत्म हो जाता है, ऐसे किसानों को इस योजना का लाभ सरकार सर्वप्रथम प्रदान करने के लिए तैयार है. योजना के अंतर्गत सरकार ने रवि फसल की ऋण माफी के लिए 2021 के पहले चरण में कुल 50 हजार रुपए किसानों को ऋण मुक्त करने पर मुहर लगा दी है. लगभग इस योजना के जरिए प्रदेश के 7 लाख से भी अधिक किसान भाई बहन ऋण मुक्त हो सकेंगे. जिन किसान भाई बहन ने 31 मार्च वर्ष 2020 से डायरेक्ट ऋण की राशि अपने बैंक में प्राप्त की है, ऐसे किसानों को अब इस योजना के अंतर्गत सरकार अपनी तरफ से 50 हजार रुपए की ऋण राशि सीधे लाभार्थी किसानों के बैंक खाते में स्थानांतरित करेगी. इस ऋण राशि के जरिए किसान कृषि लोन को चुका पाएंगे.

झारखंड फसल राहत योजना के लिए प्रदेश के कुल लाभार्थी किसान

सरकार ने इस योजना को तैयार करने से पहले किसान भाई बहन के अनुमानित संख्या का एक आंकड़ा तैयार किया है जिसके अंतर्गत लगभग आज के समय में 12.98 लाख किसान भाई बहन ऐसे हैं, जिन्होंने सीधे अपने बैंक खाते में किसान लोन को प्राप्त किया हुआ है और इन किसान भाई बहनों की संख्या में अब तक कुल 5800 करोड रुपयों का ऋण बकाया का विवरण प्राप्त किया गया है. हमने आपको जो आंकड़े बताए हैं, उन आंकड़ों में लगभग अब तक अनुमानित रूप से 9 लाख किसान ऋण राशि के बैंक खाते सक्रिय पाए गए हैं. बाकी बचे हुए खाते सरकार ने बताया है, कि अभी तक निष्क्रिय दिखाई दे रहे हैं. अब झारखंड राज्य सरकार इन्हीं सक्रिय बैंक खातों में लाभ प्रदान करने पर विचार किया है और सबसे पहले योजना का लाभ 7 लाख किसान भाई बहनों को लाभान्वित करने पर निर्णय ले चुकी है.

फसल राहत योजना का आधार सक्षम करना

झारखंड राज्य के कृषि मंत्री के निगरानी में झारखंड राज्य सरकार सभी फसल ऋण दाताओं के विवरण को देखेगी और फिर उसका सारा डाटा अच्छे से सरकार की निगरानी में तैयार किया जाएगा. इतना ही नहीं सरकार उन सभी बैंकों से संपर्क करेगी कि, जिन्होंने किसानों को ऋण दिया है और फिर सरकार उन बैंकों को इस योजना का लाभ कर्ज में डूबे हुए किसानों को प्रदान करने के लिए भी कहेगी. सरकार के जानकारी के अनुसार अब तक छह लाख आधार कार्ड 12 लाख रुपए के ऋण खातों में सक्षम कर दिए हैं. इस लाभकारी योजना का सफल संचालन करने के लिए और अधिक से अधिक कर्ज में डूबे हुए किसानों को लाभ प्रदान करने के लिए संबंधित विभाग योजना का एक आधिकारिक पोर्टल बनाने के लिए भी पूरी तैयारी कर रहा है और यह पोर्टल शीघ्र ही फसल ऋण योजना के लिए तैयार कर दिया जाएगा.

कोरोना वायरस की वजह से किसानों की आय में काफी ज्यादा गिरावट हुई है और अब तो कई सारे किसान भाई बहनों की आर्थिक स्थिति पहले से भी खराब हो चुकी है और झारखंड सरकार की इस योजना को शुरू होने से ऐसे किसानों को सीधा और एक अच्छा लाभ प्राप्त होगा, जिससे वे चिंता मुक्त होकर अपने ऋण राशि को योजना की धनराशि से प्राप्त करके चुका देंगे. अब सरकार ने अपने प्रदेश के किसानों के हित के लिए बड़े-बड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं और आगे भी ऐसे कदम सरकार की तरफ से किसानों के लिए उठाए जाएंगे.

झारखंड फसल राहत योजना FAQ

Q : झारखंड फसल राहत योजना का लाभ कौन प्राप्त कर सकता है ?

Ans : झारखंड के मूल निवासी किसान.

Q : झारखंड फसल राहत योजना का क्या उद्देश्य है ?

Ans : किसानों को प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान की वित्तीय भरपाई करना तथा उन्हें आत्मनिर्भर बनाना.

Q : झारखंड फसल राहत योजना के आधिकारिक वेबसाइट क्या है ?

Ans : अभी जारी नहीं हुई.

Q : झारखंड फसल राहत योजना में प्राकृतिक आपदा में हुए नुकसान की भरपाई के लिए राशि प्राप्त करने के लिए क्या करना होगा ?

Ans : योजना में पंजीकरण कराने के बाद प्रीमियम की राशि का भुगतान करना होगा.

Q : झारखंड फसल राहत योजना के लिए झारखंड सरकार ने कितना बजट निर्धारित किया है ?

Ans : 100 करोड़ रुपए

अन्य पढ़ें –

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here