PM कुसुम योजना : किसानों को 90% सब्सिडी पर मिलेंगें सोलर पंप, जाने आप कैसे कर सकते है ऑनलाइन आवेदन

कुसुम योजना : ऑनलाइन आवेदन, पात्रता (Kusum Yojana in hindi, Online Registration Form, Portal, Eligibility, Full Form)

कृषि के लिए सिंचाई बहुत ही अहम होती हैं, इसके लिए किसानों को सोलार पम्प की आवश्यकता होती है. किन्तु इनकी कीमतें ज्यादा होने की वजह से किसान इसे खरीदने में असमर्थ हो जाते हैं. किसानों की इसके लिए मदद करने के लिए पिछले साल प्रधानमंत्री कुसुम योजना की शुरुआत की गई थी. जिसकी पूर्व वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली जी ने अपने अंतिम बजट के दौरान घोषणा की थी. इस योजना के मुताबित किसानों को उनकी कृषि में सिंचाई के लिए उपयोग में लाये जाने वाले पंप खरीदने के लिए सरकार की ओर से कुछ सब्सिडी प्रदान की जाती है. इस योजना से किसानों को कितना लाभ मिलता है और इसमें आवेदन करने की प्रक्रिया क्या हैं यह जानने के लिए आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़िए.

kusum-yojana-hindi-online-registration

कुसुम योजना के लांच की जानकारी (KUSUM Yojana Launched Details)

योजना का नाम

प्रधानमंत्री कुसुम योजना

पूरा नाम

(Full Form)

प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा उत्थान महा अभियान योजना

घोषणा की तारीख

फरवरी, 2019 में

घोषणा की गई

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली जी द्वारा

लाभार्थी

किसान

संबंधित विभाग

कृषि विभाग

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत जिन लोगों के पास खेत नहीं है उन्हें भी मिलेगा फायदा जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

कुसुम योजना की विशेषताएं (KUSUM Yojana Features)

  • योजना का उद्देश्य :- इस योजना का मुख्य उद्देश्य बेहतर मूल्य में सिंचाई की सुविधा प्रदान कर किसानों की आय में बढ़ोत्तरी करना और उनकी स्थिति को बेहतर बनाना है. और साथ ही यह योजना ऊर्जा सुरक्षा उत्थान महा अभियान भी हैं, जिसके तहत सोलर पैनल स्थापित करके बिजली का अधिक उत्पादन करना है. और इसे भी किसानों की आय का एक साधन बनाना है.
  • योजना में दी जाने वाली सुविधा :- इस योजना के तहत लाभार्थी किसानों को सौर ऊर्जा से चलने वाले कृषि सिंचाई पंप प्रदान करने के लिए सब्सिडी दी जाती है, ताकि वे अपने खेतों में अच्छे से सिंचाई कर सकें.
  • लोन एवं सब्सिडी :- इस योजना में सिंचाई पंप के लिए दी आने वाली सब्सिडी एवं लोन का लाभ लाभार्थियों तक इस तरह से पहुंचाया जा रहा है कि कुल लागत का 60 % सरकार दे रही हैं, 30 % बैंक द्वारा लोन दिया जा रहा है. और बाकी का बचा हुआ 10 % किसानों स्वयं ही दे रहे हैं.
  • बिजली का उत्पादन :- इस योजना के तहत बिजली का उत्पादन करने का कुल लक्ष्य वित्तीय वर्ष 2022 तक 25,750 मेगावाट की सौर ऊर्जा उत्पादन का है. और इसके लिए केंद्र सरकार द्वारा कुल 34,422 करोड़ रूपये की वित्तीय सहायता के लिए बजट का आवंटन किया गया है.
  • रोजगार के अवसर में वृद्धि :- जब किसान अपने खेतों में खास कर जो जमीन बंजर हो चुकी हैं उन स्थानों पर सोलार पैनल स्थापित करके अधिक मात्रा में बिजली का उत्पादन करते हैं, तो वे उसे बेच कर पैसे भी कमा सकते हैं. इसलिए इस योजना के माध्यम से अधिक रोजगार के अवसरों में भी वृद्धि की जा रही है. इस योजना के तहत ऐसे श्रमिक जोकि कुशल हो या अकुशल उनके लिए 6.31 लाख नौकरियां भी शुरू की जा रही है.

किसान ट्रैक्टर योजना के तहत सरकार दे रही है ट्रैक्टर खरीदने के लिए ₹500000, लाभ पाने के लिए यहाँ क्लिक करें

कुसुम योजना के मुख्य घटक (KUSUM Yojana Components)

कुसुम योजना में लाभार्थी को दी जाने वाली कृषि सिंचाई पंप सहायता को 4 घटकों के आधार पर लाभार्थियों को प्रदान किया जा रहा है.

  • पहला घटक :- कुसुम योजना के पहले चरण में 17.5 लाख सोलार पंप का वितरण किसानों को किया गया है, जिसके लिए सरकार द्वारा 22,000 करोड़ रूपये के बजट का आवंटन किया गया है.
  • दूसरा घटक :- इस योजना के दूसरे भाग में भारत में जितनी भी बंजर जमीनें है वहां पर 10 हजार मेगावाट की क्षमता वाले सौर ऊर्जा पैनल बनाएं जाने है. जिसके लिए सरकार की ओर से 4,875 करोड़ रुपयों का बजट पेश किया गया है.
  • तीसरा घटक :- कुसुम योजना में तीसरा भाग में लाभार्थियों को 8,250 मेगावाट की क्षमता वाला सरकारी ट्यूबवेल प्रदान किया जा रहा है, जिसके लिए सरकार ने 5,000 करोड़ रूपये बटन का आवंटन किया है.
  • चौथा घटक :- यदि किसानों के पास पहले से ही कम से कम 7,250 मेगावाट क्षमता वाले ट्यूबवेल हैं तो उन्हें सौर ऊर्जा के साथ जोड़ा जा रहा है. इसके लिए सरकार ने 15,750 करोड़ रूपये के बजट का आवंटन करने का निश्चय किया है.  

कुसुम योजना के लाभार्थियों के लिए पात्रता मापदंड (KUSUM Yojana Eligibility Criteria)

  • यह योजना चूकी केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई हैं इसलिए इस योजना का लाभ देश के सभी राज्यों के सभी किसानों को प्राप्त हो सकता है.
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए यह जरुरी हैं कि किसान के पास यदि खुद की जमीन है या लीज पर ली हुई जमीन है, फिर चाहे वह किसान अकेला हो, सूमह में हो, सहकारी, पंचायत किसान उत्पादक संगठन हो या जल उपभोक्ता एसोसिएशन हो सभी इसका लाभ लेने के लिए पात्र हैं.

किसान क्रेडिट कार्ड का लाभ पाने के लिए सिर्फ एक पेज का फॉर्म भर कर बनवा सकते हैं कार्ड, लाभ पाने के लिए यहाँ क्लिक करें

कुसुम योजना में ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया (KUSUM Yojana Online Application Process)

  • सर्वप्रथम किसानों को कुसुम योजना की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
  • इसके बाद उन्हें होम पेज में पहुँच कर ‘आवेदन करें’ लिंक पर आवेदन करने के लिए क्लिक करने की आवश्यकता होगी.
  • इसके बाद उनकी स्क्रीन पर रजिस्ट्रेशन फॉर्म प्रदर्शित हो जायेगा. यहाँ किसानों से उनकी कुछ बेसिक जानकारी मांगी जाएगी जिसे उन्हें सही – सही देना होगा.
  • एक बार उन्होंने अपनी सभी जानकारी सही – सही दे दी फिर उन्हें फॉर्म को ‘सबमिट’ बटन पर क्लिक करते हुए जमा कर देना है. इससे उनका इस वेबसाइट में रजिस्ट्रेशन हो जायेगा.
  • जब वे इसमें खुद को रजिस्टर कर लेंगे तब इसके बाद उन्हें वापस होमपेज में आने के बाद लॉग इन करना होता है.
  • इस वेबसाइट में लॉग इन कर लेने के बाद उन्हें कुसुम योजना का आवेदन फॉर्म प्राप्त होगा, जिसे भरकर उन्हें सबमिट करना होगा और फिर इस योजना में दी जाने वाली सब्सिडी का लाभ वे उठा सकते हैं.

इस योजना से वातावरण में कार्बनडाय ऑक्साइड का स्तर कम होगा, और साथ ही कच्चे तेल की खरीद में भी कमी आयेगी. इससे विदेश में जाने वाले पैसों में भी कमी आयेगी. और हर साल कम से कम 1.2 बिलियन लीटर डीज़ल की बचत भी होगी. इसलिए यह योजना कई सारे लाभों के साथ सरकार ने शुरू की है.

अन्य पढ़े –

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *