लाड़ली लक्ष्मी योजना मध्यप्रदेश की जानकारी 2020

लाड़ली लक्ष्मी योजना मध्यप्रदेश विशेषताएं, योग्यता, रजिस्ट्रेशन फॉर्म प्रक्रिया 2020 [छात्रवृत्ति पंजीयन, सर्च नेम, प्रमाणपत्र डाउनलोड]  Ladli Laxmi Yojana MP Eligibility Criteria,  Application Form Online/offline, Certificate, How to Check name list, Status, Scholarship, Portal, Helpline Number

मध्यप्रदेश सरकार ने अपने राज्य के स्त्रियों के विकास के लिए इस विशेष योजना का आरम्भ किया है. इस योजना द्वारा सरकार समाज में फैली लैंगिक असमानता को दूर करना चाहती है. इस योजना का प्रयोग राज्य की कन्याओं की शिक्षा के लिए किया जा सकेगा.

Ladli Laxmi Yojana In Madhya Pradesh.योजना की मुख्य विशेषताएं (Ladli Laxmi Yojana Key Features)

  1. लड़कियों का सशक्तिकरण: इस योजना का मुख्य लक्ष्य राज्य की लड़कियों को सशक्त करना है. इस एक योजना की सहायता से सरकार लड़कियों के तमाम परेशानियों को दूर करना चाहती है राज्य के अन्दर लैंगिक असमानता, लिंग अनुपात, लड़कियों की शिक्षा का दर आदि की समस्याओं को सरकार इस योजना की सहायता से हल करना चाहती है, और उनके भविष्य के लिए आर्थिक सहयोग प्रदान करेगी.
  2. लड़कियों को आर्थिक सहयोग: इस योजना के अंतर्गत सरकार लड़कियों को शिक्षा के खर्च में मदद करने का काम करेगी ताकि माँ पिता अपनी बेटियों को स्कूल भेज सकें. सरकार स्कूल के लिए होने वाले खर्च को किस्त में देगी.
  3. एक समय पर भुगतान एवं प्रमाणपत्र: सरकार इस योजना के अंतर्गत सरकार आवेदक के परिवार को 1 लाख रूपए का भुगतान करेगी. साथी ही योजना का प्रमाणपत्र देगी. सरकार यह भुगतान आवेदक की शादी के लिए करेगी. हालांकि यह राशि तब ही प्राप्त हो सकेगी जब किसी लड़की की शादी 18 वर्ष से अधिक की आयु में हो. इस पैसे का प्रयोग दहेज के लिए नहीं किया जा सकेगा.

पुरस्कार राशि की योग्यता  (Ladli Laxmi Yojana Award Price Eligibility)

  1. इस योजना के तहत 6 हजार पाँच वर्षो तक एमपी लाड़ली सुरक्षा निधि में जमा किए जायेंगे, इस तरह कुल 30 हजार रुपये की राशि बालिका के नाम पर जमा होगी. अन्य भुगतान किश्तों के रूप में होगा जो निम्नानुसार हैं.
  2. पहली किश्त: लड़की के परिवार को पहली किश्त तब प्राप्त होगा जब लड़की कक्षा 6 में पहुंचेगी. इस समय मध्यप्रदेश सरकार की तरफ से परिवार को 2000 रूपए का सहायता प्राप्त होगा.
  3. दूसरी किश्त: इस योजना में दूसरा किश्त तब प्राप्त होगा जब लड़की का प्रवेश कक्षा 9 में कराया जायेगा. इस समय लड़की के परिवार को 4,000 रूपए की सहायता प्राप्त हो सकेगी.
  4. तीसरी किश्त: इस योजना में तीसरा किश्त 11 वीं कक्षा में प्राप्त हो सकेगा. इस समय सरकार के द्वारा लड़की के परिवार को 6000 रूपये का सहायता प्राप्त हो सकेगा.
  5. चौथी किश्त: मध्यप्रदेश की सरकार चौथे किश्त के दौरान लड़की को 12 वी कक्षा में 6000 रुपये e-पेमेंट के जरिये दिया जायेगा
  6. पांचवी किश्त: जब बालिका 21 वर्ष की होती हैं एवं 12 की परीक्षा में बैठती हैं तब उसे अंतिम किश्त के रूप में 1 लाख रुपये दिये जाते हैं लेकिन शर्त यह हैं कि उसका विवाह 18 वर्ष से अधिक की आयु में हुआ हो.

योजना के लिए योग्यता (Eligibility Criteria for Yojana):

इस योजना के लिये योग्यताओं का वर्णन निम्नलिखित है.

  • मूल निवासी :- इस योजना के अंतर्गत जिन लाभार्थियों के माता – पिता मध्यप्रदेश के मूल निवासी हैं, उनके परिवार की बेटी को इस योजना का लाभ उठाने का अवसर प्राप्त होगा.
  • गरीब परिवारों के लिए :- इस योजना में दिया जाने वाला लाभ बीपीएल कार्ड धारकों को ही प्रदान किया जायेगा, और साथ ही वे आवेदक जोकि आयकर का भुगतान नहीं करते हो वे ही इस योजना में आवेदन करने के योग्य होंगे.
  • बैंक खाता धारक :– इस योजना का लाभ उठाने के लिए यह सबसे आवश्यक है कि बच्ची के नाम से एक बचत बैंक खाता हो, क्योंकि दी जाने वाली सभी तरह की राशि उनके बैंक खाते में ही जमा की जाएगी.
  • बच्ची के 1 वर्ष के होने पर :- बच्ची के जन्म लेने के बाद 1 साल के अंदर उसका इस योजना में रजिस्ट्रेशन कराना आवश्यक है. किन्तु उस दौरान यदि बच्ची के माता – पिता की किसी कारण से मृत्यु हो जाती है, तो बच्ची के 5 साल के होने तक रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है.
  • आयु सीमा :- यदि किसी छात्रा का 18 साल की उम्र पार करने से पहले विवाह कर दिया गया हो, तो उसे एवं ऐसे परिवार की बेटियों को यह लाभ प्रदान नहीं किया जायेगा.
  • बीच में पढ़ाई छोड़ने (ड्रापआउट) वालों को लाभ नहीं: इस योजना के अंतर्गत उन्हीं लड़कियों को लाभ प्राप्त नहीं हो सकेगा, जिन्होंने कभी भी पढ़ाई को बीच में बंद ना किया हो. अतः इस योजना में आवेदन देने से पहले इस बात का ध्यान रखना अनिवार्य है.
  • एक परिवार की दो बच्चियों के लिए :- इस योजना का लाभ उठाने वाले परिवार के लिए यह सबसे आवश्यक मापदंड हैं, कि उसके परिवार की केवल 2 बच्चियां ही इस योजना में शामिल हो सकती हैं.
  • जुड़वाँ बच्चियों के लिए :- जिस परिवार में पहले किसी लड़की या लड़के ने जन्म लिया हैं और उसके बाद उन्हें जुड़वाँ लड़कियाँ होती हैं, तो उन जुड़वाँ बच्चियों को इस योजना का लाभ प्रदान किया जायेगा.
  • अनाथ बच्चियों के लिए :- यदि किसी परिवार ने बालिका को गोद लिया हो,उस स्थिति में अनाथालय से प्रमाणपत्र लेना आवश्यक हैं. अनाथालय में भर्ती होने के 1 वर्ष के पूर्व एवं उस बालिका की आयु 6 वर्ष के कम होना जरूरी हैं तब ही वे इस योजना में पंजीकृत हो सकेगी
  • आंगनवाड़ी केंद्र में उपस्थिति :- लाभार्थी बच्चियों के माता – पिता को अपनी बच्ची के जन्म के बाद उसका आंगनवाड़ी केंद्र में रजिस्ट्रेशन कराना आवश्यक है. क्योकि इससे बच्ची का स्वास्थ्य और उसका टीकाकरण बेहतर एवं नियमित रूप से हो सकेगा.
  • फैमिली प्लानिंग की शर्त :- 2 बच्चियों के बाद उनके माता – पिता का फैमिली प्लानिंग अपनाना आवश्यक है. यदि किसी परिवार में अधिकतम 2 संतानें हैं और उसके माता या पिता की मृत्यु हो जाती है, तो इस स्थिति में फैमिली प्लानिंग की शर्त पूरी करना आवश्यक नहीं है. किन्तु बच्ची के माता या पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र देना आवश्यक है.

योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज (Required Documents):

इस योजना में शामिल होकर फायदा पाने के लिए आवश्यक दस्तावेजों को नीचे वर्णित किया जा रहा है.

  • चूँकि यह योजना केवल मध्य प्रदेश के लोगों को केंद्रित करके ही बनाई गयी है, जिसके कारण इस योजना के अंतर्गत आवेदक के पास मध्य प्रदेश का आवासीय प्रमाण पत्र होना अनिवार्य है.
  • इस योजना के लिए आवेदक को अपने आयु से सम्बंधित कानूनी दस्तावेज देने की आवश्यकता होती है. आवेदक को अपने फॉर्म के साथ बच्ची की जन्मपत्री भी जमा करने की आवश्यकता होती है.
  • आवेदक को अपने आवेदन के साथ बैंक खाते की जानकारी देने की जरूरत होती है. आवेदक को पासबुक की फोटोकॉपी देनी होता है, जिसमे बैंक का नाम, शाखा अकाउंट नंबर आदि दिए हुए हों.
  • इस योजना के लिए भी अन्य योजना के अनुसार सरकार आधार कार्ड की मांग करती है. अतः मध्यप्रदेश की सरकार की इस योजना के लाभ हेतु आवेदक के पास आधार कार्ड का होना अनिवार्य है.
  • आवेदक को अपने आवेदन के साथ परिवार नियोजन पत्री भी जमा कराना पड़ता है. इतना ही नहीं इसके साथ आवेदक को अपने आवेदन पत्र में अपनी तस्वीर लगाने की आवश्यकता होती हैं.

योजना का आवेदन पत्र (Application Form)

इस योजना के लिए आवेदन पत्र सरकार द्वारा जारी किये गये वेबसाइट से प्राप्त किया जा सकता है. इसके लिए एम पी लाड़ली लक्ष्मी योजना  पोर्टल  है. जहां से आप इस योजना से सम्बंधित हर तरह की जानकरी पा सकते हैं.

लाडली लक्ष्मी योजना पंजीकरण की प्रक्रिया (How to Apply or Registration process For Ladli Laxmi Yojana In Hindi):

इस योजना के अंतर्गत ऑनलाइन अथवा ऑफलाइन दोनों तरह से पंजीकरण कराया जा सकता है. हमने दोनों प्रक्रियाओं को मद्देनजर रखते हुए जानकारी नीचे दी है.

  • ऑफलाइन पंजीकरण प्रक्रिया (Offline Registration Process):
  1. जो आवेदक ऑफलाइन प्रक्रिया से पंजीकरण कराना चाहते हैं, वो अपने नजदीकी आंगनवाडी से फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं. फॉर्म भर कर आवेदक को इसी आंगनवाडी में फॉर्म जमा करने की आवश्यकता होती है.
  2. आवेदक को आंगनबाड़ी में अपने आवेदन के साथ समस्त आवश्यक दस्तावेज जमा करने होते हैं. यह सभी कार्य आवेदक को अपनी बच्ची के एक वर्ष की आयु से पहले करने होते हैं.
  • ऑनलाइन पंजीकरण प्रक्रिया (Online Registration Process)
  1. अगर आप इस योजना के तहत लाभ लेना चाहते है तो अपने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए आपको सर्वप्रथम इसकी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा. यहाँ पर एप्लीकेशन फॉर्म के लिए लिंक मौजूद होगा.
  2. इसके बाद आवेदक को यहाँ उपस्थित एप्लीकेशन के बटन को सिलेक्ट करना होगा या फिर आवेदक चाहे तो डायरेक्ट  इस लिंक लाड़ली लक्ष्मी योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म के जरिए वहाँ पहुच सकता है.
  3. अब जैसे आप इस ऑप्शन को सिलेक्ट कर लेते है आप अगले पेज पर पहुँच जाते है जहाँ पर आपको अन्य तीन ऑप्शन मिलते है.
  4. अब यहाँ पर आवेदक को “जन सामान्य” के ऑप्शन को सिलेक्ट करना होता है. अब आप जैसे ही इसे सिलेक्ट करते है आप फॉर्म पर पहुँच जायेंगे
  5. अब यहाँ आपको संपूर्ण फॉर्म को अच्छे से पढ़कर सभी जानकारी को ध्यानपूर्वक भर देना होता है, अब जब आप यह फॉर्म पूरी तरह से भर ले तो आपको सेव बटन पर क्लिक करना होता है.
  6. अब अंत में आवेदक को सभी जरुरी कागजात कि स्कैन कॉपी यहाँ अटेच करनी होती है और फिर सबमिट बटन पर क्लिक करके अपने फॉर्म को सिलेक्शन कि प्रोसेस के लिए भेजना होता है.

लाडली लक्ष्मी योजना का प्रमाण पत्र (Ladli Laxmi yojna certificate)

योजना में पंजीकरण के बाद सभी दस्तावेजों का सत्यापन कार्यालयों द्वारा किया जायेगा एवं सत्यापन की पुष्टि हो जाने पर बालिका के नाम से 1 लाख 18 हजार का प्रमाण पत्र बनाया जायेगा, बालिका का वह प्रमाणपत्र इस लिंक के जरिये प्राप्त होगा “लाड़ली लक्ष्मी योजना प्रमाणपत्र डाउनलोड लिंक”

लाडली लक्ष्मी योजना सूची एवं नाम की जांच (Ladli laxmi yojana list and search name):

एक बार योजना के अंतर्गत पंजीकरण करा लेने के बाद बच्ची के माता पिता को सरकार द्वारा जारी की गयी सूची की जांच करनी होती है. योजना की सूची का वर्णन नीचे के लिंक से प्राप्त किया जा सकता है  “लाड़ली लक्ष्मी योजना लाभार्थी लिस्ट”

Update

अब मध्य प्रदेश कि बेहद सफल “लाडली लक्ष्मी योजना” (Ladli Laxmi Yojana Bill) जल्द ही एक लॉ (Bill) का रूप ले लेगी. सोमवार के दिन शुरू होने वाले पांच दिवसीय मानसून सत्र के दौरान लाडली लक्ष्मी विधेयक 2018 को राज्य कि विधान सभा में पेश किया गया. इस योजना का मुख्य उद्देश्य लडकियों को शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करना, लिंग अनुपात को संतुलित करना, महिला भ्रूण हत्या को रोकना आदि है.

अन्य पढ़े :

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *