लॉकडाउन के फायदे और नुकसान | Lockdown Advantages and Disadvantages in hindi

लॉकडाउन के फायदे और नुकसान पर निबंध (लाभ, पर्यावरण को फायदा) (Lockdown Advantages and Disadvantages in hindi) (Lockdown ke fayde Essay, benefits)

लॉकडाउन एक ऐसी परिस्थिति जो मैंने अपने जीवन की अब तक की जिंदगी में पहली बार देखा शायद हमारे दादा और नाना के जमाने में भी ऐसी परिस्थिति नहीं आई होगी जो आज हमारी इस जनरेशन ने देखी है। लॉकडाउन हमारे लिए बहुत सारी मुसीबतें भी लेकर आया तो बहुत सारे फायदे भी लेकर आया. अब वैसे तो सबके अपने अपने पर्सनल अनुभव है कि वह लॉकडाउन को किस नजरिए से देखते हैं। लेकिन आज हम अपने थोड़े से अनुभव आपसे शेयर करना चाहते हैं जिसमें हम आपको लॉकडाउन के फायदे और नुकसान के बारे में बताएंगे और यह भी बताएंगे कि इस लॉकडाउन से हमने अपने जीवन का कौन सा सबक लिया। तो चलिए बिना देरी के शुरू करते हैं लॉकडाउन के फायदे नुकसान और उससे मिलने वाला सबक…..

lockdown ke fayde nuksan in hindi

लॉकडाउन क्या होता है – जानिए लॉकडाउन के दौरान क्या होता है, ऐसी परिस्थति पहले कब बनी थी.

लॉकडाउन के फायदे क्या है –

लॉकडाउन के दौरान हमें इसके बहुत फायदे भी समझ आये है, जिससे सभी ने महसूस किया है. चलिए विस्तार से इसके बारे में बात करते है.

लॉकडाउन के पर्यावरणीय फायदे

यदि सोचा जाए तो हम अपने नुकसान के बारे में ज्यादा सोचते हैं क्योंकि पर्यावरण को आज के समय में ध्यान में रखना इतना टाइम तो किसी के पास है ही नहीं। लेकिन सच में बताएं तो इस लॉक डाउन की परिस्थिति ने हमारे पर्यावरण पर इतने ज्यादा सकारात्मक प्रभाव डाले हैं कि उन्हें देखने के बाद हम असली पर्यावरण के महत्व को समझ पाए हैं।

  • लॉकडाउन के दौरान जब सभी लोग अपने घरों में थे तब जंगलों से ऐसी जानवरों की प्रजाति रोड पर देखने को मिली जो आसानी से किसी चिड़ियाघर में देखने को भी नहीं मिलते हैं।
  • जब लोगों ने घर से बाहर निकलना बंद कर दिया तो वायु में प्रदूषण की इतनी ज्यादा गिरावट देखी गई थी कि जिसे देखने के बाद लोगों को स्वच्छ हवा का महत्व समझ में आया और महसूस हुआ।
  • इसके अलावा जो भी नदी नाले बहुत ज्यादा गंदे हुआ करते थे वह इतने ज्यादा स्वच्छ और साफ हो गए कि उन में तैरती हुई मछलियां साफ नजर आने लगी जिसका सबसे बड़ा उदाहरण हरिद्वार में बहती गंगा नदी है।
  • हाल ही में आई एक खबर के अनुसार यह बताया गया कि ओजोन परत में पहले जो कमी आ गई थी अब उसकी भरपाई धीरे-धीरे हो रही है विशेषज्ञों ने यह उम्मीद जताई कि ओजोन परत बहुत जल्द पहले जैसी होती हुई दिखाई दे सकती है।
  • यदि देखा जाए तो इन सब बातों से सिर्फ एक ही बात सामने आती है कि मनुष्य ने आज अपनी प्रकृति को इतना ज्यादा गंदा कर दिया है कि स्वच्छता क्या होती है उस बात का उन्हें शायद अंदाजा ही नहीं है परंतु प्रकृति ने भी इस लॉकडाउन से उन सभी परिस्थितियों की भरपाई आखिर इंसान से करवा ही ली।

लॉकडाउन के अन्य फायदे –

लॉकडाउन के दौरान जब लोगों को घरों में बंद कर दिया गया तब उन्हें अपने परिवार के साथ बिताए गए समय की महत्वता को समझने में सहायता मिले। चलिए देखते हैं उसके कुछ फायदे

  • लोग परिवार के सदस्यों के साथ रहना सीख गए
  • आपस में एक दूसरे के साथ पुराने दिन गुजारने लगे पुरानी गेम्स ने फिर से लोगों के बीच अपनी जगह बना ली।
  • घर पर सब ने एक साथ बैठकर डिनर करना और विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाना भी प्रारंभ किया।
  • लॉकडाउन से लोगों को घर पर ही काम करने की परमिशन भी मिली जिससे भी अपनी फैमिली के साथ भी वक्त गुजार पाए और अपने काम पर भी ध्यान दे पाए।

लॉकडाउन के बाद बिजनेस आईडिया – जानिए लॉकडाउन ख़तम होने के बाद, आप कौनसा व्यापर शुरू करके अच्छी कमाई कर सकते है.

लॉकडाउन के नुकसान

लॉक डाउन की परिस्थिति ने लोगों की जिंदगी को सुधारा भी तो काफी हद तक बिगाड़ भी दिया। जिस के कुछ मुख्य उदाहरण नीचे दिए गए हैं।

  • लॉक डाउन की वजह से स्कूल कॉलेज और ऑफिस सब बंद हो गए जिसकी वजह से घर पर बैठे लोगों ने टाइम पास करने के लिए अपना सहारा मोबाइल, टीवी को बना लिया और दिन भर बच्चे बड़े और बूढ़े सिर्फ बस इसी में ही अपना दिन गुजारने लगे।
  • लॉक डाउन की वजह से भारत की अर्थव्यवस्था को बहुत बड़ा नुकसान हुआ क्योंकि अर्थव्यवस्था जिस प्रकार से सुचारू रूप से चल रही थी लॉक डाउन की वजह से वे सभी कार्य बंद हो गए।
  • इंटरनेशनल व्यापार को भी बहुत बड़ा नुकसान लॉक डाउन की वजह से हुआ।
  • सबसे बड़ा नुकसान देश के भविष्य को बनाने वाले विद्यार्थियों का हुआ क्योंकि उनका पूरा साल बर्बाद हो गया क्योंकि ना तो वे स्कूल जा सकते थे और ना ही कॉलेज।
  • दूसरे राज्यों में जाकर काम करने वाले प्रवासी मजदूरों को भी इस लॉकडाउन ने भूखे मरने पर मजबूर कर दिया।
  • बहुत से लोग ऐसे थे जिनकी आमदनी के साधन पूरी तरह बंद हो गए थे क्योंकि वह बहुत गरीब होने के साथ-साथ ऐसे थे जो रोज कमाने और खाने वाले काम किया करते थे, ऐसे में उनकी कमाई के सभी जरिए बंद हो चुके थे जिसके चलते उनके सर से छत भी छिन गई थी और खाने को दाना भी नहीं था।
  • अचानक लॉकडाउन की परिस्थिति की वजह से बहुत से लोग दूसरे देशों में अपने घरों से दूर और दूसरे राज्यों में भी फंस गए थे।

लॉक डाउन की परिस्थिति ना तो कभी पहले आई थी और शायद आने वाले समय में भी कभी ना आए। इस परिस्थिति में हमारे देश को ही नहीं बल्कि दुनिया के बहुत सारे देशों को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाया है। हालांकि प्रकृति को इसके फायदे भी बहुत पहुंचे हैं और लोगों को भी काफी हद तक इसके फायदे प्राप्त हुए हैं फायदे के साथ-साथ बहुत से नुकसान भी लोगों को हुए हैं जिनका भुगतान उन्हें आने वाले कई सालों तक करना पड़ सकता है।

लॉकडाउन की पारिस्थिति में क्या सीख मिली –

  • यदि निजी अनुभव से बात की जाए तो इस लॉकडाउन ने एक सबसे बड़ी बात जो समझाई है वह यही की प्रकृति से खिलवाड़ ना किया जाए तो बेहतर है और समय की महत्वता को समझना बेहद आवश्यक है।
  • जिस तरह से लोकडाउन के दौरान देश दुनिया बंद हुई थी, उससे पता चलता है कि विज्ञान कितना भी आगे क्यूँ न पहुँच जाये वो श्रृष्टि के कर्ता धर्ता से पीछे ही है. पल भर में सबको घर पर बंद कर देने का काम सिर्फ वही कर सकते है.
  • ऐसी परिस्तिथि में पता चलता है कि जिंदगी के उपर कुछ नहीं है, पैसा, घर, गाड़ी, जेवर सब दिखावा है. अरबपति आदमी भी लॉकडाउन के समय पर उसी तरह घर पर बैठा था, जैसे एक गरीब इन्सान.
  • लॉकडाउन के दौरान जब काम काज बंद हो गए थे, तब हमें उसकी अहमियत भी समझ आई. सबको छुट्टी पसंद है, लेकिन जब लम्बी छुट्टी मिल गई तो सभी लोग इससे बोर हो गए तो जल्द से जल्द काम पर लौटना चाहते थे. अतः हमें इससे सीख मिलती है कि हमें अपने काम की वैल्यू सदा करना चाहिए.

रोजगार पंजीयन क्या है – जानिए कैसे ऑनलाइन आप रजिस्ट्रेशन कराकर नौकरी पा सकते है.

लॉकडाउन के दौरान ज़िन्दगी के बहुत सी बातें हमें सीखने को मिली, ये ऐसा टफ समय रहा है, जिसको पूरी दुनिया एक साथ फेस किया है. भगवन न करे ऐसी परिस्थति कभी भी दोबारा बने. कोरोना का कहर तो अभी भी देश में व्याप्त है, अतः आप अपनी सुरक्षा को ध्यान रखते हुए पूरी प्रोसेस को फॉलो करें, भले लॉकडाउन खुल गया है, लेकिन कोरोना अभी भी नहीं गया है, ये हमें नहीं भूलना चाहिए.

FAQ –

Q: लॉकडाउन में सबसे ज्यादा किस कंपनियों किसको फायदा हुआ है?

Ans: मोबाइल नेटवर्क एवं इन्टरनेट प्रोवाइडर कंपनी

Q: लॉकडाउन में प्रकृति को कैसे फायदा हुआ है?

Ans: सब घर में बंद थे, कोई गाड़ी या फैक्ट्री नहीं चल रही थी, जिससे वायु प्रदुषण बहुत कम हो गया था.

Q: लॉकडाउन से देश को नुकसान क्या हुआ है?

Ans: गरीबी बढ़ गई है

Q: लॉकडाउन के बाद सबसे ज्यादा किसका व्यापार ठप्प है?

Ans: कपड़ा व्यापारी

Q: लॉकडाउन में बच्चो का कैसे नुकसान हुआ?

Ans: पढाई के साथ साथ उनको शारीरिक रूप से भी नुकसान हुआ है, क्यूंकि वे घर से बहार नहीं खेल पा रहे थे, दिन भर मोबाइल टीवी चलाने से आँखों को बहुत नुकसान हुआ है.

अन्य पढ़ें –

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *