Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

लोकसभा 2019 चुनावों की तारीखों की घोषणा | Lok Sabha Chunav 2019 Dates in Hindi

17th लोकसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा [ कब हैं]  (dates declared, date list, survey, predictions, results, aachar sanhita, analysis, parties, kab hai, bhavishyavani, BJP, congress, प्रधानमंत्री के चुनाव 2019, chunav, चुनाव 2019 कौन जीतेगा, 2019 चुनाव के आंकड़े, 2019 चुनाव के नतीजे)

लोकतंत्र के सबसे बड़े उत्सव लोकसभा चुनावों की घोषणा के साथ ही देश में परिवर्तन का पांचजन्य शंख बज चूका हैं. देश के कोने-कोने में अगले 4 महीने सिर्फ लोकसभा चुनाव और इससे जुड़े मुद्दों और मसलों पर चर्चा होगी. ये चुनाव वो धागा हैं, जिसमें देश के सभी नागरिक रुपी पुष्प इसमें पिरोये जायेंगे, फिर चाहे वो गणमान्य की श्रेणी में आते हो, आम हो, या फिर कागजों एवं जीवन शैली में गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले वर्ग हो. इसलिए चुनाव आयोग की प्रत्येक घोषणा अब महत्वपूर्ण हो गयी हैं.  

2019 के चुनावों की घोषणा 10 मार्च
मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा
चुनाव की घोषणा का स्थान विज्ञान भवन
लोकसभा चुनावों के कुल चरण 7
लोकसभा चुनाव की शुरुआत 11 अप्रैल से
लोकसभा चुनावों की अंतिम तिथि 19 मई
कुल लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र 543
मतगणना की तिथि 23 मई

Lok Sabha Chunav 2019

चुनाव की घोषणा (2019 Election announcement)

चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनावों के तारीखों की घोषणा के साथ ही आगामी माह में चुनावों की रूपरेखा देश को समझा दी हैं. चीफ इलेक्शन कमिश्नर (सीइसी) सुनील अरोड़ा ने प्रेस कांफ्रेंस आयोजित की, जिसमें उनके साथ इलेक्शन कमिश्नर सुशिल चन्द्र और अशोक लवास भी थे.  543 लोक सभा निर्वाचन क्षेत्रों में लगभग 90 करोड़ मतदाता अपना मत डालकर देश की सरकार बनाने में अपना मूल्य योगदान देंगे. चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही आचार संहिता भी लागू हो गयी हैं. और देश में आचार-संहिता लागू होने से देश में कई सरकारी, गैर-सरकारी काम भी इस चुनाव पर निर्भर हो गये हैं. इसके अलावा भी कुछ मुख्य बातें निर्वाचन आयुक्त ने समझाई.

चीफ इलेक्शन कमिश्नर के भाषण के मुख्य बिंदु ( Key Highlights from Chief Election Commissioner’s speech) 

  • उन्होंने कहा, कि चुनाव आयोग काफी समय से इस चुनाव की तैयारियां कर रहा हैं. कमिशन ने इलेक्शन कमिश्नर के साथ मीटिंग काफी पहले शुरू कर दी थी. इसके लिए कई चरणों में एमएचए और अन्य विभागों जैसे रेल्वे के साथ डिस्कशन किये गये, जिससे कि चुनाव बिना किसी बाधा के सम्पन्न कराए जा सके.
  • वोटर्स के बारे में बताते हुए सीइसी सुनील अरोड़ा ने कहा, कि 90 करोड़ में कुल इलेक्टोरेट होंगे, जिनमें 1.5 करोड़ लोग 18-19 वर्ष की उम्र के बच्चे होंगे. अरोड़ा ने ये भी कहा, कि एंड्राइड एप वोटर्स की मदद करेगा और चुनावी उलंघन को चुनाव आयोग को भेजेगा.
  • एक स्पेशल टीम उन राज्यों में भेजी जाएगी, जहां सुरक्षा सम्बंधित कुछ समस्या होने की संभावना हो. आचार संहिता भी 10 मार्च से पूरे देश में लागू हो जाएगी, और किसी भी तरह से इसका उल्लंघन करने पर सख्त कारवाही की जायेगी.
  • इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (इवीएम) की सुरक्षा को और ज्यादा दुरुस्त करने के लिए इन मशीनों को जीपीएस के द्वारा ट्रैक किया जायेगा. वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल का उपयोग बूथ पर किया जायेगा. चिन्ह के सामने प्रतिभागी की फोटो भी होगी.
  • किसी भी तरह की अव्यवस्था को नजरंदाज करने के लिए बच्चों के परीक्षा कार्यक्रम का विशेष ध्यान रखा जायेगा. भारत ये चुनाव करवाकर देश के लिए एक प्रकाश-स्तम्भ की भांति काम करेगा.
  • उन्होंने ये भी कहा, कि आयोग ने राजनीतिक पार्टियों से भी चुनाव के बारे में विचार-विमर्श किया हैं. शांतिपूर्ण और पारदर्शी चुनाव करवाने में चुनाव आयोग तैयार हैं. सीइसी ने बताया, कि नामांकन के दिनांक तक मतदाता सूची को अपडेट किया जाएगा.
  • वोटिंग बूथ में फोटो वोटर स्लिप का उपयोग गाइडेंस के लिए किया जा सकेगा, लेकिन इसे पहचान प्रमाण नहीं माना जाएगा. बूथ पर इवीएम के साथ 17.4 लाख वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (Voter-verified paper audit trail) का उपयोग किया जाएगा. 10 बजे से लेकर 6 बजे तक लाउडस्पीकर के उपयोग पर प्रतिबन्ध रहेगा.

जम्मू और कश्मीर के विधानसभा चुनावो पर सीइसी सुनील अरोड़ा की घोषणा (CEC Sunil Arora on J&K Assembly polls)

सुनील अरोड़ा ने कहा कि तात्कालिक परिस्थितियों को देखते हुए जम्मू कश्मीर में कोई चुनाव नहीं होंगे. कमिशन ने तय किया हैं कि जम्मू-कश्मीर में केवल लोकसभा चुनाव होंगे. सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग लोकसभा सीट पर 3 चरणों में चुनाव होंगे.

2014 के लोकसभा  चुनावों की तुलना में 2019 के लोकसभा चुनाव में होने वाले परिवर्तन (Notable deviations from 2014 election)

साल 2014 के लोकसभा चुनावों की घोषणा भी मार्च के पहले सप्ताह में (5 मार्च 2014) हुयी थी, और चुनाव 9 चरणों में अप्रैल और मई में सम्पन्न हुए थे. पहला चरण 7 अप्रैल को, जबकि अंतिम चरण 12 मई को हुआ था.

इस बार ओड़िसा में 2 के स्थान पर 4 चरणों में चुनाव होंगे, जबकि पश्चिम बंगाल में 7 के स्थान पर 5 चरणों में चुनाव होंगे. दिल्ली, हरियाणा और पंजाब में मई में बाद के चरणों में चुनाव होंगे. जबकि जम्मू-कश्मीर में अभी विधान सभा चुनाव नही होंगे. सीइसी सुनील अरोडा ने कहा कि इस बार लोकसभा 10 लाख पोलिंग बूथ होंगे, जबकि 2014 में 9 लाख पोलिंग बूथ थे.

राज्य और चरण के अनुसार चुनाव की जानकारी  (State and phase wise poll details) 

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा हैं, की 17वे लोकसभा चुनाव 7 चरणों में सम्पन्न होंगे. चुनाव की शुरुआत 11 अप्रैल को होगी, जो कि 19 मई तक चलेगी. और समस्त चरणों की मतगणना 23 मई को ही होगी. आन्ध्रप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, गोवा, गुजरात, हरयाणा, हिमाचल प्रदेश, केरल, मेघालय, मिज़ोरम, नागालैंड, पंजाब, सिक्किम, तेलांगना, तमिलनाडु, उत्तराखंड, अंडमान, दादर और नागर की हवेली, दमन और दिव, लक्ष्ध्वीप, दिल्ली, पुंडूचेरी, चंडीगढ़ में होगी. कर्नाटक, मणिपुर, राजस्थान और त्रिपुरा में 2 चरणों में चुनाव होंगे. असम और छतीसगढ़ में 3 चरणों में चुनाव होंगे. झारखंड, मध्यप्रदेश और ओड़िसा में 4 चरणों में चुनाव होंगे.

प्रथम चरण 20 राज्यों के 91 निर्वाचन क्षेत्रों में
दूसरा चरण 13 राज्यों के 97 निर्वाचन क्षेत्रों में
तीसरा चरण 14 राज्यों में 115 निर्वाचन क्षेत्रों में
चतुर्थ चरण 9 राज्यों में 71 निर्वाचन क्षेत्रों में
पांचवा चरण 7 राज्यों के 51 निर्वाचन क्षेत्रों में
छठा चरण 7 राज्यों के 59 निर्वाचन क्षेत्रों में
सातवा चरण 8 राज्यों के 59 निर्वाचन क्षेत्रों में

लोकसभा चुनाव के प्रथम चरण की महत्वपूर्ण जानकारियाँ (Phase 1 of Lok Sabha elections: Important information)

  • 18 मार्च को इसके लिए गजेट नोटिफिकेशन ज़ारी होगा. इस चुनाव में नामांकन के लिए अंतिम तिथि 25 मार्च तय की गयी हैं. नामों की संवीक्षा 26 मार्च को होगी, और 28 मार्च तक नाम वापिस लिए जा सकेंगे.
  • 11 अप्रैल को पहला चरण होगा, जिसमें आंध्रप्रदेश की 25 सीट्स, अरुणाचल की 2 सीट्स, असम की 5 सीट्स, बिहार की 4 सीट्स, छतीसगढ़ की 1 सीट, जम्मू और कश्मीर की 2 सीट, महारष्ट्र की 7 सीट, मणिपुर की 1 सीट, मेघालय की 2 सीट, मिजोरम, सिक्किम, त्रिपुरा, अंडमान, लक्षद्वीप और नागालैंड की 1 सीट, तेलांगना की 17 सीट, यूपी की 8 सीट, उतराखंड की 5 सीट, वेस्ट बंगाल की 2 सीट की मिलाकर कुल 91 सीट पर चुनाव होंगे.

लोकसभा चुनाव के द्वितीय चरण महत्वपूर्ण जानकारियाँ  (Phase 2 of Lok Sabha elections: Important informations )

चुनाव का दूसरा चरण 18 अप्रैल को होगा, जिसमें  असम और बिहार  की 5 सीट, जम्मू कश्मीर की 2 सीट, कर्नाटक की 14 सीट, महाराष्ट्र की 10 सीट, मणिपुर की 1 सीट, ओड़िसा की 5 सीट, तमिलनाडु की 39 सीट, त्रिपुरा की 1 सीट, यूपी की 8 सीट, पश्चिम बंगाल की 3 और पांडुचेरी की 1 सीट मिलाकर कुछ 97 सीट पर चुनाव सम्पन्न होंगे.

लोकसभा चुनाव के तृतीय चरण की मुख्य जानकारियां (Phase 3 of Lok Sabha elections: Important informations)

23 अप्रैल को तीसरे चरण के चुनाव कुल 115 निर्वाचन क्षेत्रों में होंगे, जिसमें कुल 14 राज्य असम, बिहार, छत्तीसगढ़, गुजरात, गोवा, जम्मू और कश्मीर, कर्णाटक, केरल, महाराष्ट्र, ओड़िसा, उत्तर-प्रदेश, वेस्ट बंगाल, दादरा और नगर की हवेली, दमन और  दीव शामिल हैं.

चतुर्थ चरण में लोकसभा चुनावों की मुख्य जानकारियाँ (phase 4 of Lok Sabha elections: Important informations )

इस चरण में 9 राज्यों के 71 निर्वाचन क्षेत्रों में 29 अप्रैल को चुनाव होंगे. बिहार, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, मध्य-प्रदेश, महाराष्ट्र, ओड़िसा, राजस्थान, उत्तर-प्रदेश और वेस्टपश्चिम बंगाल में इस चरण में चुनाव होंगे.

पांचवे चरण में लोकसभा चुनावों की मुख्य जानकारियाँ ( Phase 5 of Lok Sabha elections: Important informations)

6 मई को 7 राज्यों में कुल 51 निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव होंगे. ये राज्य बिहार, झारखंड, जम्मू-कश्मीर, मध्यप्रदेश, राजस्थान, उत्तर-प्रदेश और पश्चिम बंगाल हैं.

छठे चरण के लोकसभा चुनाव की महत्वपूर्ण जानकारियां (Phase 6 of Lok Sabha elections: Important informations)

12 मई को 7 राज्यों (दिल्ली-एनसीआर, बिहार, हरयाणा, झारखंड, मध्य-प्रदेश, उत्तर-प्रदेश और वेस्ट बंगाल) के कुल 59 निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव सम्पन्न होंगे.

लोकसभा चुनाव की सातवाँ चरण की महत्वपूर्ण जानकारियां (Phase 7 of Lok Sabha elections: Important informations)

बिहार, झारखंड, मध्य-प्रदेश, पंजाब, पश्चिम बंगाल, चंडीगढ़, उत्तरप्रदेश और हिमाचल प्रदेश के 59 निर्वाचन क्षेत्रों में 19 मई को इस चरण के चुनाव सम्पन्न होंगे.

17th लोकसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा (Election date declared list in 2019)

States in India Total Seats Election Date
Andhra Pradesh 25 Apr 11
Arunachal Pradesh 2 Apr 11
Assam 14 Apr11, 18 ,23
Bihar 40 All
Chhattisgarh 11 Apr 11, 23
Goa 2 Apr 23
Gujarat 26 Apr 23
Haryana 10 May 12
Himachal Pradesh 4 May 19
Jammu and Kashmir 6 Apr 23, 29, May 6
Jharkhand 14 Apr 11, 29, May 6, May 12, 19
Karnataka 28 Apr 23
Kerala 20 Apr 23
Madhya Pradesh 29 Apr 29, May 6, 12, 19
Maharashtra 48 Apr 11, 23, 29
Manipur 2 Apr 11
Meghalaya 2 Apr 11
Mizoram 1 Apr 11
Nagaland 1 Apr 11,23
Odisha 21 Apr 11,29
Punjab 13 May 19
Rajasthan 25 Apr 29, May 6
Sikkim 1 Apr 11
Tamil Nadu 39  
Telangana 17 Apr 11
Tripura 2 Apr 11
Uttar Pradesh 80 All
Uttarakhand 5 Apr 11
West Bengal 42 All
     
     
Union Territory Total Seats Election Date
Andaman and Nicobar Islands 1 Apr 11
Chandigarh 1 May 19
Dadar and Nagar Haveli 1 Apr 23
Daman and Diu 1 Apr 23
Delhi 1 May 12
Lakshadweep 7 Apr 11
Puducherry (Pondicherry) 1  


चुनाव की घोषणा पर नेताओं की प्रतिक्रिया

चुनाव की घोषणा वाले दिन सुबह से ही सरकार और विपक्ष के सभी नेताओं की ट्वीट और आम-जन सभाओं में चुनाव के सम्बंध में बयानबाजी चल रही थी, लेकिन घोषणा के पश्चात इनमें तीव्रता आ गयी और पक्ष-विपक्ष के कई नेताओं ने इस सन्दर्भ में प्रेस कांफ्रेस, जन-सभा या ट्विटर के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया दी.

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विट किया, कि लोकतंत्र के पर्व लोकसभा चुनावों की घोषणा हो चुकी हैं, मैं सभी भारतीय भाई-बहिनों से अपील करता हूँ, कि वो इस चुनाव में भाग लेकर ऐतिसाहिक परिवर्तन के साक्षी बने. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा, कि मोदी सरकार ने 130 करोड़ भारतीयों के भविष्य के लिए काफी बड़ा और महत्वपूर्ण निर्णय लिया हैं.
  • कांग्रेस ने भी लोकसभा चुनावों की घोषणा का अभिनंदन करते हुए कहा, कि सत्य की विजय होगी. शाम 7.30 बजे पाटीदार हार्दिक पटेल ने घोषणा की, कि वो 12 मार्च को राहुल गाँधी की उपस्थिति में कांग्रेस में शामिल होंगे, उस दिन अहमदाबाद में कांग्रेस वर्किंग कमिटी की मीटिंग होगी. रात 8 बजे समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनाव के दिनांकों को बदलने की मांग की.
  • कश्मीर के नेताओं ने लोकसभा चुनावों के साथ ही जम्मू और कश्मीर के विधानसभा चुनाव सम्पन्न ना करवाने के लिए केंद्र सरकार की निन्दा की. जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करते हुए कहा, कि वो देश की सुरक्षा का ध्यान नहीं रख रहे.
  • दिल्ली के वर्तमान मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता अरविन्द केजरीवाल ने कहा, कि भारत के इतिहास में डिक्टेटोरियल और एंटी-फेडरल रही सरकार को हटाने का समय आ गया हैं. दिल्ली के 7 लोकसभा सीट पर 12 मई को चुनाव होंगे.
  • इन सबके अतिरिक्त मायावती, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह, ओड़िसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, केप्टन अमरिंदर सिंह जैसे कई नेताओं ने घोषणा से पहले ही ट्वीट करके अपने विचार व्यक्त करने शुरू कर दिये थे, और ये कार्यक्रम देर रात तक ज़ारी.

वास्तव में इस लोकसभा चुनाव में ये सभी क्रिया-प्रतिक्रिया अभी मात्र शुरुआत हैं, अब क्षण-प्रतिक्षण मुद्दों के साथ नेताओं से लेकर मीडिया और आम लोगों के मध्य सिर्फ चुनाव की तैयारी और पूर्व-सरकारों के कार्यों समीक्षा ही होनी हैं, इसलिए 2019 का वर्ष इन लोकसभा चुनावओं के कुंभ का साक्षी भी बनने वाला हैं. 

 

अन्य पढ़े:

2 comments

  1. Mahavir Singh Rawat

    Modi is the best

  2. 1. प्राथमिक स्वास्थ्य चुनाव का मुद्दा क्यों नहीं हे ?
    2.एक भी नेता और एक भी पार्टी प्राथमिक स्वाथ्य जैसे गंभीर मुद्दे पर कोई बात क्यों नहीं करते?
    3.देश में दिन प्रति दिन बिगड़ती हुई स्वाथ्य की हालत के बारे में क्यों कोई बात नहीं करता ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *