मकर संक्रांति 2022 स्लोगन व अनमोल वचन | Makar Sankranti 2022 Quotes and Slogan In Hindi

मकर संक्रांति 2020 स्लोगन, कविता व अनमोल वचन ( Makar Sankranti Quotes, Poem and Slogan In Hindi)

संक्रांति हमारे देश का अनोखा त्यौहार है, जिसे अलग अलग ना से पूरा देश मनाता हैं. कोई इसे संक्रांति कहता है, तो कोई बैसाखी का त्यौहार, तो कोई पोंगल का त्यौहार, परन्तु उद्देश्य सभी का सामान हैं प्रेम भाव को जगाना. इसलिए आप अपने प्रेम को इस हिंदी स्लोगन के जरिये प्रकट कर सकते हैं.

मकर संक्रांति त्यौहार का अपना ही एक महत्त्व होता है. मकर संक्रांति हर साल 15 जनवरी  को मनाई जाती है. यह इकलौता हिन्दू पर्व हैं, जो तारीख से मनाया जाता हैं. इस दिन परिवार के सभी लोग पतंग उड़ाते हैं, इसलिए इसे  पतंगों का त्यौहार भी कहा जाता है.

 मकर संक्रांति स्लोगन व अनमोल वचन  (Makar Sankranti Quotes and Slogan )

सपनों को लेकर मन में
उड़ायेंगे पतंग आसमान में
ऐसी भरेगी उड़ान मेरी पतंग
जो भर देगी जीवन में खुशियों की तरंग

Makar Sankranti Quotes Hindi

धूम-धूम धक-धक धूम-धूम धक
उड़ायेंगे पतंग मिलकर हम सब
चिंटू मन्नू जल्दी आ जाओ
तिल्ली के लड्डू गब- गब खा जाओ
लूटेंगे खूब पतंगे मांजा इस बार
आया हैं मकर संक्रांति का त्यौहार  




Kite Sankranti Festival Slogan

नीले- नीले आसमां में
उड़ती रंग बिरंगी पतंगे
जैसे नीले-नीले सागर में
तैरती रंग बिरंगी मछलियाँ
मस्त मानेगा संक्रांति का त्यौहार
जब साथ  होंगे मौहल्ले के यार





Kite Sankranti Festival Slogan




काटा रे, काटा रे चिल्लाये मौहल्ले वाले
पतंगे मांजा लुटने सभी जोरो से भागे
कभी करते मजाक, कभी करते लड़ाई
फिर जोर जोर से गाते संक्रांति हैं भाई संक्रांति हैं भाई
Kite Sankranti Festival Slogan

 

तिल गुड़ को मिलाते हैं
स्वादिष्ट लड्डू बनाते हैं
हैप्पी संक्रांति कह कह कर
एक दूजे को खिलाते हैं

Kite Sankranti Festival Slogan

कैसे मानते हैं यह त्यौहार मेरे घर में (How to Celebrate Makar Sankranti)

  • कई दिनों से तैयारी शुरू हो जाती हैं. घर में तिल्ली लाई जाती हैं उसे साफ करके सेंका जाता हैं फिर उसमे गुड़ मिलाकर स्वादिष्ट लड्डू बनाये जाते हैं.
  • मेहमानों की लिस्ट बनाई जाती हैं हमारे यहाँ लड़की और उसके घर के लोगो को बुलाने का रिवाज हैं.
  • इस तरह लिस्ट बनाई जाती हैं जिसमे दोस्तों को भी शामिल किया जाता हैं. फिर सभी को आमंत्रित करते हैं.
  • घर के बच्चे कई दिनों ने मांजा बना कर रखते या खरीद लाते हैं.
  • साथ ही ढेर सारी पतंगे खरीद कर लाते हैं.
  • मिष्ठान के साथ साथ गरम गरम कचौरी बनती हैं जिसे लेकर सभी अपने घरों की छत पर चढ़ जाते. और पतंग उड़ाते.
  • घर के सभी लोगो का पूरा दिन पतंग उड़ाने और काटने बीतता.
  • उस दिन सही मायने में हम सभी घर वाले एक साथ अपने पड़ौसियों से मिलते और खूब मस्ती करते.
  • इस तरह हस्ते खेलते बीतता यह मकर संक्रांति का त्यौहार.
  • इस दिन खिचड़ी और अनाज का दान भी दिया जाता. और गाय को घास भी खिलाई जाती हैं.

भारत देश त्यौहारों का देश हैं जहाँ त्यौहार का मूल उद्देश्य एकता की भावना जगाना और ख़ुशी से रहना हैं.

अन्य पढ़े :




Karnika
कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं | यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here