Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

101 कारण जिस वजह से नरेंद्र मोदी को 2019 में प्रचंड बहुमत से जीत मिली

101 कारण जिस वजह से नरेंद्र मोदी को 2019 में प्रचंड बहुमत से जीत मिली- मोदी सरकार के जीत के कारण ( 101 Reasons Why Narendra Modi won by such a huge margin in Lok Sabha 2019 Elections in hindi) – Modi ke jeet ke karan

भारत के लोकतंत्र के इतिहास में 48 वर्षों बाद देश ने पूर्ण बहुमत के साथ वापिस उस सरकार को चुना हैं, जिसने 5 वर्ष तक शासन किया हो. ऐसा पहली बार हुआ हैं, कि जनता में सरकार के प्रति आक्रोश से कही ज्यादा विश्वास रहा हो. इसके पीछे कई कारण हैं, लेकिन मुख्य रूप से नरेंद्र मोदी और उनकी टीम को इसके लिए जिम्मेदार माना जा रहा हैं. गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को विकास का जो मोडल दिया, उसके कारण सबकी उम्मीदें उनसे बढ़ गयी. और यदि नरेंद्र मोदी के पक्ष और विपक्ष के मतों को देखे, तो भी समझा जा सकता हैं कि 2019 का चुनाव पूरी तरह से एक व्यक्ति के आस-पास ही रहा और इसके आगे कई मुद्दे गायब हो गये. 2014 से लेकर 2019 तक ऐसी कई घटनाए, योजनायें और सरकार के फैसले आये है, जिन्हें जीत से जोड़ा जा सकता है. लोकसभा चुनाव से पूर्व भारतीय जनता पार्टी का घोषणा पत्र और इसके नेताओं की चुनावी रैलियों के साथ भाजपा अध्यक्ष अमित भाई शाह की चुनावी रणनीति जैसे कारण भी जीत की वजह हैं. क्या यह जीत बीजेपी की हैं? या यह कहे की यह जीत केवल मोदी की हैं? कई तरह के सवाल दिमाग में आते हैं, कि क्यूँ उसी जोश के साथ मोदी इस बार फिर पूर्ण बहुमत प्राप्त कर, सत्ता में आये है? मोदी को भारत की जनता क्यों पसंद करती है? मोदी को पसंद करने के कारण क्या है?

Narendra Modi Historic win in 2019 Lok Sabha Elections

भारत के लोकतंत्र के इतिहास में 48 वर्षों बाद देश ने पूर्ण बहुमत के साथ वापिस उस सरकार को चुना हैं जिसने 5 वर्ष तक शासन किया हो. ऐसा पहली बार हुआ हैं कि जनता में सरकार के प्रति आक्रोश से कही ज्यादा विश्वास रहा हो. इसके पीछे कई कारण हैं लेकिन मुख्य रूप से नरेंद्र मोदी और उनकी टीम को इसके लिए जिम्मेदार माना जा रहा हैं. गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री ने देश को विकास का जो मोडल दिया, उसके कारण सबकी उम्मीदें उनसे बढ़ गयी. और यदि नरेंद्र मोदी के पक्ष और विपक्ष के मतों को देखे तो भी समझा जा सकता हैं कि 2019 का चुनाव पूरी तरह से एक व्यक्ति के आस-पास ही रहा और इसके आगे कई मुद्दे गौण हो गये. 2014 से लेकर 2019 तक ऐसी कई घटनाए, योजनायें और सरकार के फैसले आये है, जिन्हें जीत से जोड़ा जा सकता है. लोकसभा चुनाव से पूर्व भारतीय जनता पार्टी का घोषणा पत्र और इसके नेताओं की चुनावी रैलियों के साथ भाजपा अध्यक्ष अमित भाई शाह की चुनावी रणनीति जैसे कारण भी जीत की वजह हैं. क्या यह जीत बीजेपी की हैं? या यह कहे की यह जीत केवल मोदी की हैं? कई तरह के सवाल दिमाग में आते हैं कि क्यूँ उसी जोश के साथ मोदी इस बार फिर पूर्ण बहुमत प्राप्त कर, सत्ता में आये है? मोदी को भारत की जनता क्यों पसंद करती है? मोदी को पसंद करने के कारण क्या है?

मोदी सरकार की जीत के 101 कारण हम आपको यहाँ बताने जा रहे है –  

  1. नरेन्द्र मोदी ने बहुत ही योजनाये चलाई जिससे लोगो को बहुत फायदा मिला, किसानों को राहत मिली, गरीबों को घर मिला, महिलाओं को धुएं से छुटकारा मिला. पर क्या यह काम कांग्रेस के राज में नहीं होता था? क्या मोदी ने इन पांच सालों में बेरोजगारी हटा दी, भ्रष्टाचार हटा दिया, गरीबी कम हुई? नहीं, ना तो ऐसा था कि कांग्रेस के समय में योजनाये नहीं थी और ना ऐसा की मोदी ने अच्छे दिन दिए, फिर क्यूँ मोदी इस बार? इसका मुख्य कारण है कि योजनाओं के बारे में आम जनता तक जागरूकता. मोदी सरकार ने योजना का बहुत तेजी से बड़े स्तर में प्रचार-प्रसार किया, जिससे पुरे देश में लोगों तक इसकी जानकारी पहुंची. योग्य व्यक्ति ने इसकी जानकरी प्राप्त कर, इसका लाभ भी बहुतायत से उठाया. मोदी सरकार की योजनायें इसलिए इतनी हाईलाइट हुई, और आम जनता तक पहुंची. ये भी एक कारण है कि चारों और मोदी क्रांति की लहर सी छा गई.
  2. मोदी जी पिछले 5 सालों से लगातार काम कर रहे है. उन्होंने किसी भी कारण से कोई छुट्टी नहीं ली है. 2014 से २019 तक कार्यकाल प्रधानमंत्री कार्यलय के इतिहास में शायद पहला समय रहा होगा जब किसी प्रधानमंत्री ने न केवल कोई छुट्टी ली, बल्कि दिन – रात एक करके देश के लिए काम को ही प्राथमिकता दी. और इस बात का असर उस एक कार्यालय तक ही सीमित नहीं रहा, बल्कि देश के सभी सरकारी दफ्तरों में भी यह परिवर्तन जनता को देखने मिला.
  3. वास्तव में जमीनी स्तर पर सरकार ने कुछ ऐसी योजनाएं लागू की जिसने आम-वर्ग को न केवल लाभ दिया बल्कि प्रेरित भी किया कि वो मोदी सरकार के प्रति आकर्षित हो सके.
  4. डिजिटल इंडिया – मोदी सरकार और कांग्रेस सरकार की तुलना की जाये तो दोनों के काम करने के तरीके में बहुत अंतर है. मोदी सरकार का काम आज के दौर के अनुसार चलता है, जिसका उदहारण “डिजिटल इंडिया” है. पुरे देश को डिजिटल बनाने के लिए मोदी सरकार ने सरकारी दफ्तरों से लेकर कैशलेस ट्रांसेक्शन तक, सब कुछ डिजिटल किया. मोबाइल, इन्टरनेट के इस दौर में सरकार ने ऐसी योजनायें बनाई, जिसमें बैंक के अकाउंट में सीधे पैसा जाने लगा. गरीब को भी डिजिटल बनाया गया, भीम एप्प के द्वारा काम किया गया.
  5. विदेशी रणनीति – नरेन्द्र मोदी एक राष्ट्रवादी नेता हैं जिन्होंने भारत की जनता को राष्ट्र से प्रेम करना सिखाया. अब तक लोगो ने भारत देश के लिए यही सुना था कि यह गरीब हैं पिछड़ा हैं, यहाँ तक भारतीय भी यही सोचते थे. लेकिन मोदी जी ने भारतियों को अपने देश से प्यार करने और उसे ऊँचा उठाना सिखाया. मोदी जी की विदेश निति भी बहुत खूब है, हमेशा विदेश यात्रा के लिए निशाने पर रहे मोदी ने भारत की अंतरराष्ट्रिय स्तर पर छवि काफी मजबूत की हैं. विदेशों में जा-जाकर अपने देश का परचम फैलाना मोदी जी को बहुत अच्छे से आता है. यही वजह है, आज विदेशों में भारत का दर्जा ऊँचा हुआ है. विदेशों में अब भारत को गरीब, लाचार नहीं बल्कि शक्तिशाली, विकासशील देश के रूप में देखा जा रहा है. उन्होंने चाइना,मालदीव और श्रीलंका के साथ रिश्ते सुधारे, वही ईस्ट एशिया और वेस्ट एशिया के साथ भी भौगोलिक और आर्थिक रिश्ते बनाए एवं यूएस के साथ भी भारत की दोस्ती को एक नयी दिशा की.
  6. युवाओं को जागृत किया – मोदी सरकार का काम युवाओं को बहुत आकर्षित करता है, क्यूंकि मोदी जी एक युवा सोच के साथ काम करने में विश्वास करते है. मोदी जी भारत देश के नौजवानों को जगाने का काम किया है. उन्होंने कहा कि देश की 33 करोड़ जनता युवा है, जो भारत का भविष्य है. आज का युवा अपनी ताकत समझता है, कई माध्यमों से वो अपनी आवाज उठाना जानता है, सरकार के साथ कन्धा से कन्धा मिलाकर चलता है.
  7. मतदान जागरूकता अभियान – मोदी सरकार ने मतदाताओं को उनकी ताकत बताते हुए, देश की जनता को मतदान करने के लिए प्रेरित किया गया. केन्द्रीय सरकार ने इसके लिए अनेकों अभियान किये. पहली बार वोट डालने वाले मतदाताओं को भी विशेष दर्जा देकर जागृत किया गया. 2014 के चुनाव से इस बार 2019 में मतदान प्रतिशत में बढ़ोतरी हुई है.
  8. स्वच्छ भारत अभियान- मोदी ने 2014 में सत्ता संभालते ही गांधीजी के पद-चिन्हों पर चलते हुए भारत में स्वच्छता की शुरुआत की थी,जिसे देशवासियों न केवल पसंद किया बल्कि इसके लिए आवश्यक योगदान भी दिया. मोदी जी ने भारतियों को स्वछता के प्रति बहुत जागृत किया है. स्वच्छता अभियान इतनी तेजी से किसी भी सरकार द्वारा नहीं चलाया गया था. बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक, मोदी जी ने स्वच्छता की बात पहुंचाई है.
  9. सेना को उसका दर्जा देना – भारत के इतिहास में मोदी जी की ही सरकार ऐसी है, जिन्होंने 2 बार पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक की. मोदी सरकार ने देश की सेना को एक ऊँचा दर्जा दिया. सेना के हित में कई निर्णय लिए. शहीद सैनिक को सम्मान के साथ उनकी शहादत का बदला भी लिया.
  10. सेना पर दबाब न डालना – फरवरी 2019 के पुलवामा अटैक के बाद मोदी जी ने स्वयं देश की आर्मी को पूरी छूट दी कि वो जो चाहे कर सकते है, और अपने नौजवान भाई के शहादत का बदला ले सकते है. सेना ने मोदी जी की अनुमति के साथ ही 12 दिन में इसका बदला पाकिस्तान से लिया.
  11. पाकिस्तान पर दबाब – देश का जब एक सैनिक “अभिनन्दन” युद्ध के दौरान गलती से पाकिस्तान चला गया तो मोदी सरकार ने उसे वापस लाने के लिए सारे दांव पेंच लगा दिए. अमेरिका से लेकर ब्रिटेन तक भारत से बातचीत की और पाकिस्तान पर चारों ओर से दबाब बनाया. इसी का नतीजा था कि अभिनन्दन सही सलामत पाकिस्तान से अपने देश वापस आ गया. देश के इतिहास में पहले ऐसा कभी नहीं हुआ था, जनता ये खुद अनुभव किया और मोदी सरकार ने बहुत तारीफ़ बटोरी.
  12. गरीब सवर्णों को आरक्षण बिल: केंद्र सरकार ने भारत में आरक्षण की परम्परा को तोड़ते हुए सवर्णों के हितों के लिए जो आरक्षण बिल प्रस्ताव दिया उसने हर उस गरीब सवर्ण को सांत्वना दी, जो कई वर्षों से आरक्षण के कारण दबा हुआ एवं आक्रोशित था. ऐसी विकट स्थिति जिसमें ना आरक्षण हटाया जा सकता था, ना ही सबको दिया जा सकता था, उसमें जो बीच का रास्ता मोदी सरकार ने बनाया उसे देश की जनता ने बेहद पसंद किया.  
  13. आयुष्मान भारत योजना (प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना): मोदी केयर के नाम से विख्यात हुयी आयुष्मान भारत योजना अथवा प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जब से लागू हुयी लोगों का सरकार में विशवास बढ़ गया क्योंकि इस योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार को पांच लाख रूपये तक का स्वास्थ बीमा उपलब्ध करवाया जाना था. 10 करोड़ बीपीएल परिवारों को यजना का लाभ देने के बाद शेष भारतियों को भी इसमें शामिल किया जाएगा.
  14. उज्ज्वला योजना: देश को उज्ज्वला योजना में तब नई उम्मीद नजर आई जब मोदी ने अपील की कि सम्पन्न परिवार गैस सिलिंडरों पर मिलने वाली सब्सिडी को स्वेच्छा से छोड़ दे और सच में करोड़ो लोगों ने सब्सिडी छोड़ दी, जिसके कारण लगभग पांच करोड़ गरीब महिलाओं के रसोई तक गैस पहुँच सकी, और इस तरह की आधारभूत आवश्यकता को पूरी करने के लिए देश के एक वर्ग को योगदान देने के लिए जिस तरह से प्रेरित किया गया, वो स्वाभाविक था कि मोदी सरकार को प्रशंसा मिले और वापिस उनकी सरकार बनाने के लिए माहौल बने.
  15. जन-धन बैंक खाते: देश की स्वतंत्रता के बाद 7 दशक बीत जाने के बाद भी करोड़ों के पास बैंक का खाता नहीं था, ऐसे में नरेंद्र मोदी द्वारा बनाई गयी जन धन योजना से देश के ऐसे हर व्यक्ति का बैंक खाता खोला गया, जिसके पास इससे पहले एकाउंट नहीं था, मतलब सरकार द्वारा जीरो-बैलेंस बैंक बचत के साथ भी खातों के खुलने से गरीबों में आत्म-विश्वास के साथ सरकार के प्रति भी विशवास जगा.
  16. जनसुरक्षा योजना – भारत सरकार ने जीवन बीमा करवाने के लिए प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना  की घोषणा की, जिसमें दो लाख तक का बीमा दिया गया और इस नीति ने आम-जन को काफी आकर्षित किया.
  17. जीएसटी – जीएसटी को भारत देश में लागु करने की कवायत एक अरसे से चल रही थी, इस बीच कई सरकारें आई और गई लेकिन किसी ने इसे लागु करने की हिम्मत नहीं दिखाई. मोदी सरकार ने जीएसटी को लागु करके देश को आर्थिक मजबूती दी. इस कदम से शुरुवात में देश का व्यापारी वर्ग नाराज था, लेकिन समय के साथ सभों को इसका महत्त्व समझ आया, और सभों ने इसे स्वीकारा. मोदी सरकार का यह कदम भी पूरी दुनिया में चर्चा का विषय रहा.
  18. नोटबंदी – 8 नवम्बर 2016 भारत देश के लिए एक एतिहासिक दिन है. मोदी जी ने रात 8:30 बजे अचानक 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए. नोटबंदी जैसा बड़ा कदम, मोदी जैसा 56 इंच का सीना लिए इन्सान ही कर सकता है. नोटबंदी से रातोंरात कालेधन वालों की नींद उड़ गई. मोदी जी के इस कदम को भी सभी ने बहुत सराहा.
  19. अंतरिक्ष में सफलता – मोदी सरकार ने पिछले 5 सालों में भारत देश को अंतरिक्ष में भी ऊँचा स्थान दिया. भारत को अंतरिक्ष में लगातार मिलती उपलब्धियों ने भी आम-जन को प्रभावित किया.
  20. भारतीय जनता पार्टी और एनडीए की सरकार के प्रति जनता को पहले से श्रद्धा का भाव था, क्योंकि अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने जिस तरह से कारगिल युद्ध और पाकिस्तान के साथ रिश्तों को संभाला, वो प्रभावित करने वाला था. हालांकि तब एनडीए इस मुद्दे को केंद्र में रखकर वापिस सरकार नहीं बना पायी, लेकिन मोदी सरकार ने 2019 के चुनावों में इस मुद्दे को काफी भुनाया.
  21. देश की सुरक्षा सर्वप्रथम – वास्तव में भारत सरकार ने उरी अटैक से लेकर पुलवामा अटैक तक पाकिस्तान के खिलाफ जो रुख अपनाया उसे देश की जनता ने बेहद पसंद किया. यूपीए की सरकार में 10 वर्षों तक जहां लगातार बम धमाकों की खबरें आती रही, वही मोदी सरकार में सर्जिकल स्ट्राइक और पकिस्तान के घोषित बहिष्कार की बातें न्यूज में छाई रही. इसलिए इसमें कोई दो राय नहीं कि देश की सुरक्षा के मुद्दे को आम-जन ने ना केवल महत्वपूर्ण माना बल्कि इसे अन्य मुद्दों के समक्ष प्राथमिकता भी दी.
  22. जनता से रूबरू होना – मोदी जी हमेशा से भारतीय जनता के बीच रहे है, उनसे रूबरू होते रहे है. मोदी जी ने हर छोटी बड़ी बात जनता के साथ बांटी, जनता से बात करने के लिए किसी स्पेशल समय का इंतजार नहीं करते वो. नरेंद्र मोदी जनता के सामने समस्त जानकारी बड़े ही अलग अंदाज में प्रस्तुत करते थे. इसलिए तत्कालीन प्रधानमंत्री पर लोगों का विश्वास बढ़ गया.
  23. आतंकवाद के खिलाफ मुहीम – मसूद अजहर को आतंकी घोषित करना हो या आतंकवाद के मुद्दे पर दुनिया के सामने पाकिस्तान का असली चेहरा दिखाना, मोदी इन पांच वर्षों में जनता की अपेक्षाओं पर खरे उतरे और उन्होंने राष्ट्रवाद की भावना को विस्तार दिया.
  24. देश प्रेम प्रथम, परिवार बाद में – आरएसएस बैकग्राउंड के नरेंद्र मोदी के लिए निजी जीवन कभी महत्वपूर्ण नही रहा और इस बात को देश की जनता ने बेहद पसंद किया क्योंकि इससे पहले और उनके समकक्ष के अन्य नेताओं द्वारा अपने परिवार जनों को किसी न किसी बहाने से फायदा पहुचाना ही, राजनीति में उनके आने का उद्देश्य हैं. लेकिन खुद को फ़क़ीर कहने वाले इस व्यक्ति ने सच में साबित किया हैं कि वो निस्वार्थ भाव से देश की सेवा हेतु सत्ता में आया हैं.
  25. धर्म की राजनीती खत्म की – देश में स्वतंत्रता के बाद से चली रही जाति और धर्म की जो राजनीति हैं उसे मोदीजी ने खत्म करने की न केवल कोशिश की बल्कि जनता ने इसे खुले दिल से स्वीकार भी किया.
  26. परिवारवाद की राजनीती खत्म की – मोदीजी के कार्यकाल में कई तरह की योजनायें आई और सफल भी रही, लेकिन कोई भी योजना मोदी या नरेंद्र या उनके परिवार के किसी भी व्यक्ति के नाम की नहीं थी. जबकि पहले की सरकारें, व्यक्ति विशेष के नाम पर ही योजनायें लाती रहीं है.
  27. राष्ट्रवाद को मुख्यधारा में लाकर प्रखर और सशक्त आवाज़ के साथ पड़ोसी देश से लाकर आतंकवादियों को ललकारने वाले मोदीजी को देश ने इसलिए भी पसंद किया क्योंकि उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए कभी कोई समझौता नहीं किया. सर्जिकल स्ट्राइक हो या पाकिस्तान के साथ सम्बंध रखने के मुद्दे उन्होंने और उनकी सरकार के नेताओं ने किसी भी तरह के द्वि-अर्थी बातों से देशवासियों को नहीं बरगलाया.
  28. भ्रष्टाचार खत्म करने की मुहीम – जीएसटी और नोटबंदी के कारण देश में आई भ्रष्टाचार में कमी ने आम आदमी की नजर में मोदीजी के कद को और ऊँचा कर दिया. जिस पर भी लगातार आलोचनाओं के उपरांत भी अपने कार्य में लीन उस व्यक्ति के समर्पण के भाव को जनता ने समझा और उन्हें फिर से चुना.
  29. सड़कों का विकास – देश में सड़क-व्यवस्था सुधारना हो या रेलवे के स्तर को ऊपर उठाना मोदी सरकार ने परिवहन और संचार के साधनों देश को कही से निराश नहीं किया.
  30. विवादों के बावजूद आगे बढ़ते रहे – चाय बेचने से लेकर राजनीति में प्रवेश और फिर गोधरा के समय आरोपों के बावजूद भी गुजरात का जो मैनेजमेंट मोदी ने किया उसे देश ने देखा. मतलब देश को समझ आया कि नरेंद्र मोदी कभी साम्प्रदयिक दंगों और धार्मिक विभिन्नता को अपनी राजनीति के लिए पनपने नहीं देंगे और ये बात सच में कारगर साबित हुयी जिसके कई उदाहरण इन पांच सालों में देखे गए.
  31. मोदी सरकार ने भारत की मिडिया के साथ एक नया समय देखा. देश में पक्ष और विपक्ष बन गया, जिसके बाद सोशल मिडिया ने मोदी सरकार की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने में काफी मदद की, मतलब पहली बार एक गृहणी भी सोच पा रही थी कि वोट किसे देना और क्यों देना हैं??
  32. किसानों का विकास – किसानों के समग्र विकास के खोखले दावों से कही आगे आकर बढ़कर मोदी सरकार ने किसानों के हितों में जो योजनाएं लागू की, उसके कारण देश के सबसे महत्वपूर्ण किसान वर्ग ने मोदीजी को ना केवल जीत की राह दिखाई बल्कि कुछ और उम्मीदे भी बाँध ली.
  33. सभी धर्मों के लिए किये कार्य – अपनी कट्टर हिंदुत्व वाली छवि को दरकिनार करते हुए नरेंद्र मोदी की सरकार ने जो मुस्लिम महिलाओं के हितों की बात की और इसके लिए संसद में आवाज़ उठाई, उसने निश्चित रूप से मुस्लिम वर्ग को एक बार सोचने को मजबूर कर दिया. तीन तलाक पर रोक के अलावा कई तरह की योजनाएँ थी जो मोदी सरकार द्वारा लागु की गयी.
  34. मजदूरों के लिए किये कार्य – नरेंद्र मोदी ने अन्य प्रधानमंत्रियों की तरह मजदूरों के लिए केवल योजनाएं बनाई ही नही उनको क्रियान्वित भी की जिसके कारण मजदूर वर्ग इस सरकार को चुनने के लिए प्रेरित हो सका.
  35. नरेंद्र मोदी ने कोई जादू की छड़ी गरीबों के हित में घुमाकर काम किया हो, ऐसा नहीं हैं. उन्होंने देश को जोड़ने के लिए साफ़ शब्दों में देश के समृद्ध वर्ग से गरीब और पिछड़े वर्ग की मदद हेतु आगे का आह्वान किया, मतलब उन्होंने वो पूल बनाया जिसकी जरूरत भारतीय समाज को जाने कब से थी. सामजिक समरसता एक बात हैं लेकिन आर्थिक सम्पन्न वर्ग को प्रेरित करना कि वो गरीबों के लिए सरकार द्वारा प्राप्त सभी तरह की सब्सिडी (ट्रैन, गैस आदि) छोड़ दे, ये इससे पहले नहीं हुआ था.
  36. नरेंद्र मोदी सरकार ने कुछ ऐसे अनछुए पहलुओं को छुआ हैं जिनके कारण देश उनका आभारी रहेगा, जैसे एक बहुत बड़ी आबादी के पास बैंक में खाता तक नहीं था,ये बात न कभी चुनावों के अतिरिक्त उठाई जाती थी ना ही कभी इस पर कुछ करने का सोचा जाता था लेकिन नरेंद्र मोदी ने समाज के निम्नतम तबके को बैंक से जोड़ा और उन्हें आर्थिक विकास में शामिल करने के लिए एक जमीन तैयार की.
  37. भारत के उत्तर-पुर्व हिस्से की बात करें, तो वहां के लोग वर्षो से सड़क, बिजली, बाढ़-प्रबन्धन जैसे कई मूलभूत सुविधाओं के लिए परेशान थे. मोदी सरकार ने एक-एक करके न केवल इन समस्याओं को हल करन शुरू किया बल्कि उत्तर-पूर्व के जनमानस पर भी विजय हासिल की, जिसका परिणाम देखने को मिला.
  38. विश्व की सबसे ऊँची मूर्ति बनवाने का इतिहास बनाया – गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल की विश्व की सबसे ऊँची मूर्ति बनवाई, जिससे पुरे विश्व में भारत का नाम ऊँचा हुआ.
  39. मुगल काल में बदले गये शहरों के नामों को वापिस सम्मान के साथ पूर्व नाम देने का श्रेय भी मोदी सरकार को जाता है.
  40. उत्तर प्रदेश में कुम्भ का सफल और विश्व स्तर का बड़ा आयोजन का श्रेय भी मोदी सरकार को ही जाता है.
  41. पाकिस्तान को अकेला करना – मोदी जी ने विश्व के बाकि देशों के अच्छे और गहरे संबंध बनाये है, दुसरे देशों के नेता भी मोदी जी और उनकी राजनीती की तारीफ करते है. यही वजह है पाकिस्तान का दुसरे देशों से सम्बन्ध ख़राब होते गए और पाकिस्तान आज अलग-थलग अकेला खड़ा दिखाई देता है.
  42. आर्मी के लिए योगदान – पुलबामा अटैक के बाद मोदी जी ने सैनिकों की सुरक्षा के लिए 1.86 लाख बुलेट प्रूफ जैकेट और 1.59 लाख बैलिस्टिक हेल्मेट आर्मी के लिए दिए.
  43. मेक इन इण्डिया – भारत को सशक्त बनाने के किये मेक इन इण्डिया जैसे बड़े मिशन शुरू किये, जिससे बहुत से नौजवान लाभांन्वित हुए.
  44. अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस – विश्व में योग को विशेष स्थान देने का श्रेय मोदी जी को ही जाता है. मोदी जी ने ही 2015 में 21 जून को हर साल अन्तराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की घोषणा की थी.
  45. बेटी बचाओ-बेटी पढाओ योजनादेश में बेटियों को उच्च दर्जा देने के लिए, मोदी सरकार ने पिछले पांच सालों में इन मिशन के अंदर कई कार्य किये है.
  46. मोदी सरकार द्वारा ही मुस्लिम समुदाय को हज में मिलने वाली सब्सिडी को बंद किया गया, ताकि बाकि धर्म में किसी तरह का रोष न रहे और सभी धर्मों को समान अधिकार मिले.
  47. नक्सलवाद पर कड़ा वार – नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्रों को कड़ी सुरक्षा मोदी सरकार द्वारा दी गई, इसी कारण आज के समय में नक्सलवाद प्रभावित जिलों की संख्या 126 से गिरकर 52 हो गई है.
  48. मजबूत मंत्रिमंडल तैयार किया – मोदी सरकार में मंत्रिमंडल के चयन में किसी भी तरह के दबाव या पक्षपात का सामना नही होता, सिर्फ काम के आधार और देश हित में काम करने वाले मंत्रिमडल का गठन किया जाता हैं जिसे जनता ने 5 साल तक देखा कि तरह से मंत्रिमंडल में परिवर्तन होते रहे. ये एक नयी बात थी कि मंत्रियों के काम की निगरानी की जा रही हो, इस बात ने जनता को काफी प्रभावित किया.
  49. मोदी जी देश में सभी राज्यों को बराबर महत्व देते हुए उनकी मदद करने में विश्वास करते है. इसलिए केंद्र द्वारा चलित योजनाओं को बड़े रूप में राज्य में भी लागु किया जाता है.
  50. स्टार्ट-अप इण्डियादेश के पढ़े-लिखे नौजवान देश से बाहर नौकरी के न जाएँ, इसके लिए मोदी सरकार ने स्टार्ट-अप इण्डिया कार्यक्रम शुरू किया, जिसके अंतर्गत नौजवानों को अपना काम शुरू करने के अच्छे अवसर मिले.
  51. मोदी सरकार की जीत का जो सबसे बड़ा कारण माना जाता हैं वो हैं विपक्ष में कोई सशक्त नेतृत्व नहीं था,ना ही विपक्ष किसी भी मुद्दे को लेकर सरकार पर हावी हो सकी थी,उसके अलावा राष्ट्रवाद के मुद्दे पर मोदी सरकार ने जो आक्रामक रुख था उस पर भी विपक्ष के कई ऐसे बयान आये जिससे जनता को विपक्ष के खिलाफ कर दिया.
  52. मोदी सरकार के विरुद्ध सभी क्षेत्रीय दल एक हो गए और एक मंच पर आकर सरकार के सामने चुनावी मैदान में आए. लेकिन इनके पास भी वोही बात थी ऐसा कोई ठोस मुद्दा नहीं था जिसके कारण जनता गठबंधन की तरफ आकर्षित हो सके.
  53. 2014 में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने वाली मोदी सरकार को पांच वर्षों तक विपक्ष की आलोचनाओं का सामना जरुर करना पड़ा लेकिन ये बात भी रही कि विपक्ष कभी कोई ऐसा मुद्दा नहीं उठा पाया जिसके कारण मोदी सरकार बैकफुट पर जा सकती, उस पर  सुरक्षा और सर्जिकल स्ट्राइक जैसे सेंसिटिव मुद्दों पर विपक्ष के नेताओं के बयानों ने जनता के बीच सरकार की छवि को और मजबूत किया.
  54. जैसा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कई बार कहा कि इन पांच वर्षों में किसी तरह का घोटाला नहीं सामने आया, ना ही कोई ऐसी घटना हुयी जिसके कारण विपक्ष हावी हो सके.
  55. उसके बाद चुनाव के नजदीक आने पर क्षेत्रीय दलों ने एकजुट होकर, जिस तरह से मोदी सरकार को हराकर एक गठबंधन सरकार बनाने की मंशा जाहिर की वो निश्चित रूप से मोदी सरकार के पक्ष में रहा. क्योंकि जब विपक्ष की प्रमुख पार्टी भी कोई तरह का बड़ा एजेंडा सामने नहीं ला सकी, तो विभिन्न राजनैतिक दलों द्वारा की गयी कोशिशों और इसके स्तर को जनता ने न केवल समझा बल्कि इसे नकारा भी और इसके पीछे बीजेपी की रणनीति महत्वपूर्ण रही.
  56. जब भी किसी नेता या क्षेत्रीय राजनीति की कोई बात उठी तो स्वयं मोदी के साथ उनके सहयोगी नेताओं ने आंकड़ों और प्रामाणिकता के साथ उन बातों को खारिज किया,जिसका काफी प्रभाव पड़ा.
  57. मोदी ने देश में जातिवाद और वंशवाद की राजनीति को पूरी तरह से खत्म किया, इसकी शुरुआत उन्होंने गुजरात में अपने मुख्यमंत्री कार्यकाल से ही कर दी थी और राष्ट्रीय स्तर पर इस बात को जिस तरह से स्वीकार से किया गया वो अनपेक्षित था.
  58. मोदी ने देश में अगड़ी-पिछड़ी जाति के पारम्परिक समीकरण को बदलकर रख दिया उन्होंने ना केवल जातिगत सीटों को दरकिनार किया, बल्कि बार-बार अपने भाषणों में भी बताया कि किस तरह से वो जातिगत ध्रुवीकरण और धार्मिक तुष्टिकरण को हटाकर देश को केंद्र में रखकर देश को आगे ले जाना चाहते है.
  59. भाजपा ने सोशल मिडिया का पूरा उपयोग किया और इसके पीछे मोदी की रणनीति ये रही कि उन्होंने ना केवल मन की बात जैसे कार्यक्रम से पारम्परिक रेडियो से अपनी बात जनता तक पहुचाई.
  60. समय-समय पर डिजिटल तकनीकों को अपनाते हुए मोदी जी जनता के बीच में भी आये. इस तरह डिजिटल इंडिया का मॉडल पेश करने वाले मोदी, डिजिटली ही नहीं बल्कि ईवीएम में भी पसंद किये गए और रिकॉर्ड जीत के साथ अब सरकार बनाने के लिए अपनी विनम्रता और सशक्त विजन के साथ  फिर से प्रस्तुत हैं. 
  61. वास्तव में देश में जो परिवारवाद की राजनीति दशकों से चल रही थी उसे 2014 में भारतीय जनता पार्टी ने चुनौती दी थी और इस कारण ही जनता में इसके प्रति रुझान जगा क्योंकि लगातार एक ही वंश से बेरोजगारी, गरीबी जैसे मुद्दे पर बरगलाने के बाद भी कुछ परिवर्तन ना दिखने पर जनता ने उस दल को मौका देने का सोचा, जिसमें वंशवाद और जातिवाद का वर्चस्व उस हद तक नहीं था जितना अन्य पार्टियों में देखा जा रहा था.
  62. मोदी जी के पिछले पांच वर्षों के कार्यकाल में जनता को समझ आया कि उनका ये निर्णय बेहद ही सकारातमक रहा, इस कारण ही 2019 में भी जनता को प्रेरित किया कि वो मोदी सरकार को ही फिर से चुने.
  63. मोदी जी का 2022 तक सबके पास पक्का घर का मिशन भी लोगों को पसंद आया. हर एक गरीब के पास खुद का पक्का घर मोदी जी ने दिया, जो उनकी जीत का बड़ा कारण भी बना.
  64. मोदी जी ने सभी देश वासियों के के लिए एक पहचान पत्र को मजबूत बनाया, वो था आधार कार्ड. आधार कार्ड को हर जगह अनिवार्य मोदी सरकार ने ही किया.
  65. मोदी जी ने बेरोजगारी हटाने के लिए, कई योजनायें शुरू की. खुद के व्यवसाय खोलने के लिए लोन सुविधा दी. जिससे कुछ हद तक बेरोजगारी कम हुई है.
  66. मोदी जी ने खुले में शौच न हो इसके लिए अभियान चलाया और पिछले 5 सालों में 6 लाख टॉयलेट बनवाए. आम जनता तक इसकी जागरूकता फ़ैलाने के लिए उन्होंने बड़े-बड़े स्टार्स का भी सहारा लिया.
  67. देश के हर घर में बिजली पहुँचाने के लिए सौभाग्य योजना शुरू की, जिससे लगभग आज पूरा देश जगमगा रहा है.
  68. मोदी जी ने 59 मिनट में लोन प्राप्त करने की सबसे तेज योजना भी शुरू की.
  69. मोदी ने अपने ऑफिशियल एप और सोशल मिडिया के माध्यम से लोगों से संवाद किया. उन्होंने खुद हर एक योजना/मिशन के लाभकारीयों से बात की और यह भी जाना की कैसे उस पर काम हो रहा है.
  70. देश में उच्च शिक्षा के लिए भी मोदी सरकार ने बहुत कार्य किये, बच्चों से सीधे बातचीत भी किया करते थे मोदी.
  71. समान नागरिक संहिता: भारत में सभी नागरिकों को चाहे वो किसी भी धर्म,जाति या लिंग का व्यक्ति हो उसके लिए एक ही कानून का प्रस्ताव मोदी सरकार की बहुत बड़ी जीत हैं.
  72. आधार कार्ड: प्रत्येक भारतीय की पहचान के लिए आधार-कार्ड बनवाना और इसे अनिवार्य करने की नीति मोदी सरकार के लिए ना केवल सफल साबित हुयी बल्कि देशवासियों ने इसे सहर्ष स्वीकार भी किया क्योंकि इससे पहचान बनने के साथ ही भ्रष्टाचार में कमी, बैंक में पारदर्शिता और समाज में एक स्तर पर समानता का उद्भव हुआ हैं.
  73. कृषि विकास: कृषि क्षेत्र में मोदी सरकार द्वारा किये गये कार्यों को भी जनता ने काफी प्रोत्साहित किया, इसमें पीएम फसल बीमा योजना, फसल बीमा योजना जैसी कई योजनाओं ने किसानों के समग्र विकास में योगदान दिया.
  74. इन्फ्रास्ट्रकचर: देश में इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए मोदी सरकार ने जो बुलेट ट्रेन,14 लेन एक्सप्रेस वे, मुंबईट्रांस हार्बर लिंक,शिवाजी मेमोरियल और कई तरह के बाँध बनवाए उस कारण भी मोदी सरकार को जनता ने पसंद किया.
  75. जीडीपीग्रोथ: विश्व बैंक द्वारा जारी की गयी रिपोर्ट के अनुसार 2018-19 में जीडीपि वृद्धि दर 7.२ प्रतिशत रही, इसके अलावा 2018 में खाद्य सामग्री और तेल के दाम में आई कमी के साथ रूपये की विनिमय दर में तेजी से महंगाई दर में कमी आई हैं, इस कारण जनता को आने वर्षों में मोदी सरकार से उम्मीदें बढ़ गयी और उन्होंने वापिस मौका दिया.
  76. फ्रांस के साथ राफेल डील: यूपीए सरकार में फ्रांस के साथ जो राफेल डील ना हो पायी थी जिसके मोदी सरकार ने एक नयी दिशा दी, इसमें प्रधानमंत्री की 2015 में फ्रांस यात्रा का योगदान रहा, जिसमें मोदी ने फ्रांस के साथ विमान खरीद को लेकर समझौता किया.
  77. डोकलाम मुद्दे को सम्भालना: चीन के साथ रिश्ते सुधारने की प्रक्रिया के समानांतर जिस तरह से मोदी सरकार ने भारत-चीन की सीमा डोकलाम से जुड़े विवादित मुद्दे को संभाला उससे जनता काफी प्रभावित हुयी,
  78. मोदी की निर्णय लेने की क्षमता: गुजरात के कार्यकाल के दौरान नरेंद्र मोदी ने बेहतरीन निर्णय क्षमता का प्रदर्शन किया था, जिसके कारण 2014 में जनता ने उन्हें चुना और प्रधानमंत्री के कार्यकाल के दौरान कई तरह के मुदों जिसमे विशेषकर राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे मुद्दों जैसे सर्जिकल स्ट्राइक पर प्रधानमंत्री के त्वरित निर्णय क्षमता सरहानीय रही.
  79. आर्टिकल 370 को खत्म करने की उम्मीद: मोदी सरकार ने जो 2019 चुनाव से पहले जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 को खत्म करने की उम्मीद ने भी मोदी सरकार की जीत को सुनिश्चित किया.
  80. मोदी सरकार की पारदर्शिता: मोदी सरकार की प्रशंसा इस कारण भी की जाती हैं क्योंकि सरकार ने कोयला ब्लाक आवंटन में पारदर्शी नीलामी, विभिन्न निविदाओं में ऑनलाइन व्यवस्था की शुरुआत जैसे कई ऐसे कार्य शुरू किये जिसके कारण सिस्टम में पारदर्शिता आई
  81. विश्व भर में मानवता का प्रचार-प्रसार: भारत की वसुधैव कुटुम्बकम के सिद्धांत को विश्व में प्रचारित करते हुए मोदी सरकार ने कई ऐसे कार्य किये जिसके कारण विभिन्न देशों ने भारत की सरहाना की जैसे यमन में फंसे हुए लोगों को वहां से निकालना और कई देशों में प्राकृतिक आपदा या युद्ध सम्बन्धित आपदा में भारत द्वारा त्वरित गति से मदद पहुंचाना,ऐसे काम हैं जिनके कारण भारत एक सशक्त देश माना जाने लगा हैं.
  82. मोदी का टीमवर्क में विश्वास: मोदी सरकार में कभी किसी व्यक्ति को महत्ता देते नहीं देखा गया, फिर चाहे वो चुनाव के लिए अभियान हो या सरकार से जुड़े काम, हर क्षेत्र में टीम वर्क किया जाता हैं,जिसके कारण अविश्वसनीय परिणाम देखे जाते हैं.
  83. ई-गवर्नेंस को आसान और प्रभावशाली बनाना: नरेंद्र मोदी ने ई-गवर्नेस को काफी मजबूत किया हैं, ये ना केवल आर्थिक रूप से प्रभावी हैं बल्कि इको-फ्रेंडली भी हैं,इसके कारण भविष्य में पेपरलेस ऑफिस की कल्पना की जा सकती हैं. नेशनल ई-गवर्नेस प्लान से भी काफी उम्मीदे हैं.
  84. महिला सम्मान : मोदी सरकार ने महिलाओं के सम्मान के लिए ना केवल बहुत सी योजनाएं लागू की बल्कि समाज में महिलाओं के समग्र विकास हेतु बहुत कार्य किये, जिनमें तीन तलाक पर प्रतिबन्ध, सुकन्या योजना, महिलाओं के लिए शौचालय बनवाना, हर महिला की रसोई तक गैस पहुंचाना, बेटी बचाओ-बेटी पढाओ, महिला हेल्पलाइन, गर्भवती महिलाओं को कई तरह की सुविधा दिलवाना, रेप पीड़िताओं को जल्द-जल्द से न्याय दिलवाना जैसे कई कार्य शामिल हैं. वास्तव में ये वो आधारभूत कार्य हैं जो महिला के आत्म-सम्मान के लिए आवश्यक हैं.
  85. भारत को क्वालिटी एज्युकेशन का हब बनाना: भारत में आईआईटी और एम्स के विकास के साथ ही कई तरह के उच्च स्तरीयशिक्षा संस्थाओं की शुरुआत करके देश को शिक्षा के क्षेत्र में एक कदम आगे ले जाने में मोदी सरकार ने काफी कार्य किया और इसी दिशा में अनन्य अपेक्षाओं के साथ जनता ने फिर से इस सरकार को चुना हैं.
  86. दुनिया में तीसरी सबसे ज्यादा विश्वास की जाने वाली सरकार: 2017 में वर्ल्ड इकनोमिक फोरम की लिस्ट में भारत सरकार को विश्व में तीसरी सबसे ज्यादा विशवास की जाने वाली सरकार (ट्रस्टेड गवर्नमेंट) माना गया. 74 प्रतिशत भारतीयों ने माना कि उन्हें अपनी सरकार पर पूरा भरोसा हैं.
  87. मोदी सरकार पर एक भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा: गत पांच वर्षों के कार्यकाल में मोदी सरकार पर एक भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा, ये बात अपने आप में काफी प्रशंसनीय हैं लेकिन इस बात से भी इंकार नही किया जा सकता कि मोदी सरकार की भ्रष्टाचार के प्रति सतर्कता और मंत्रिमडल की कर्म-निष्ठा को देखते हुए जनता ने उन्हें दुसरा मौका दिया हैं.
  88. एक भारत-श्रेष्ठ भारत: भारत एक विविधताओं वाला देश हैं ऐसे में विविध भाषाओं,संस्कृतियों के लिए एक भारत-श्रेष्ठ भारत जैसे कार्यक्रम शुरू करके उनके मध्य की भौगोलिक दूरी को कम करते हुए देश मेंएकता के विकास का श्रेय भी मोदी सरकार को जाता हैं.
  89. फसल बीमा योजना: किसानों की खराब होने वाली फसलों के लिए लायी गयी फसल बीम योजना ऐसी योजना हैं जिसके कारण भारत का कृषक मुख्यधारा से जुड़ने में सफल हो सका हैं
  90. पांच लाख रूपये तक टैक्स में छुट: मोदी सरकार ने चुनाव से पहले निकाले बजट में आम-आदमी को टैक्स में जो छूट दी उसका सीधा फायदा देखने को मिला हैं. सेक्शन 87ए के तहत पांच लाख से कम आय वाले लोगों को टैक्स में पूरी तरह से छूट दी गयी.
  91. भीम-एप: भारत में कैशलेस विनिमय को मजबूती देने के लिए मोदी सरकार द्वारा शुरू की गयी भीम एप भी काफी सकारात्मक रही.मोदी ने स्वयं सभी मंत्रियों,विभागों और राज्य सरकारों से भी ये अपील की कि वो भीम एप का इस्तेमाल करे.
  92. सुकन्या समृद्धि योजना: मोदी सरकार ने भारत की बेटियों की पढाई और शादी के खर्चों के लिए सुकन्या सम्रद्धि योजना की शुरुआत की,इसे बेटी बचाओ-बेटी पढाई स्कीम के अंतर्गत लांच किया गया
  93. भारत के भविष्य के लिए स्पष्ट विजन: मोदी सरकार पर जनता का भरोसा होने का जो सबसे बड़ा कारण हैं वो हैं सरकार का देश के भविष्य को लेकर स्पष्ट विजन मतलब उद्देश्य/लक्ष्य होना, क्योंकि सरकार ने प्रत्येक वर्ष जनता के समक्ष अपने कामों का ब्यौरा दिया और वो सपने दिखाए जिसके पुरे होने की उम्मीद देश शायद ही कभी कर सकता था,इसलिए विगत किये गये कार्यों के साथ ही आने वाले पांच वर्षों में कौनसी योजनाये और कौनसे मुदों पर सरकार काम करेगी इसका अनुमान देशवासियों को हैं.
  94. कश्मीरी पंडितों का लौटना: कश्मीर से मारकर और अपमानित करके भगाए गये पंडितों के लिए जहाँ अब तक कोई सरकार कुछ नहीं कर पाई थी वही मोदी सरकार ने उनके घावों को भरते हुए एक नई उम्मीद दी हैं और अपनी गतिविधियों से ये परोक्ष भरोसा दिलाया हैं कि उनका कश्मीर में पुनर्वास के बारे में सरकार कोई ठोस कदम उठा सकती हैं और शायद उस भरोसे का ही परिणाम हैं कि वर्षों के बाद कश्मीरी लोगों ने अपने घर लेटना शुरू किया हैं.
  95. नए भारत में वीआईपी कल्चर को खत्म करना: मोदी सरकार ने लाल बत्ती गाड़ियों और वीआईपी संस्कृति को हटाकर ये जताया हैं कि देशका प्रत्येक नागरिक उतना ही महत्वपूर्ण हो सकता हैं जितना कोई अधिकारी या मंत्री होता हैं.
  96. मोदी जी का सादा जीवन – मोदी जी की दिनचर्चा से भी लोग बहुत प्रभावित होते है, वे रोजाना सिर्फ 3-4 घंटे की नींद लेते है. रोजाना 4 बजे योग करते है. मोदी जी की दिनचर्या साधारण से आम आदमी जैसी ही है.
  97. मोदी जी स्वामी विवेकानंद के अनुयायी है, उनकी सीख पर जीवन में आगे बढ़ते है. लोग इस बात से भी प्रभावित है.
  98. मोदी जी के पास अमित शाह जैसे सच्चे साथी है. राजनीती के हर उतार चढाव में अमित शाह मोदी जी के साथ रहे है. मोदी जी को इस मुकाम में लाने के लिए अमित शाह का भी बड़ा हाथ है. बिना अमित शाह के रणनीति के इतनी बड़ी जीत मोदी जी को नहीं मिल सकती थी.
  99. मोदी जी की चुनावी रणनीति भी लोगों को पसंद आती है. वे जनता से झूठे वादे नहीं करते. किसी विशेष समुदाय, वर्ग को पकड़कर चुनाव नहीं लड़ते, जैसा की दुसरे दल करते है.
  100. मोदी जी ने मध्यमवर्ग के लोगों को भी उड़ान योजना के द्वारा हवाई जहाज में सफ़र करने का मौका दिया. मध्यमवर्ग इससे बहुत प्रभावित हुआ.
  101. मोदी जी ने सरकारी सेवा आसान करने के लिए सीएससी सेंटर खुलवाए, जिससे लोगों को आसानी से सरकारी सेवा की जानकारी मिलने लगी और आसानी से लोग उसके लिए आवेदन भी कर सके. सीएससी सेंटर के द्वारा देश में रोजगार भी बहुत बढ़ा है.

पिछले 5 सालों में देश में कुछ ऐसे काम भी हुए है, जिसे देश की जनता ने पहले भारत देश में होते कभी नहीं देखा था, इसका उदहारण बालाकोट एयरस्ट्राइक, सर्जिकल स्ट्राइक, नोट बंदी है. देश की जनता ऐसे नेता को फिर से मौका देना चाहती है, जो देश को सर्वप्रथम रखता है.

Other articles –

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

2 comments

  1. i do agree all the points mentioned here… the best is… unpar kabhi bhrastachar ka aarop nahi laga.. inhone samaj ke har ek warg ke liye kaam kiya hai chahe wo student ho ya phir MSME…

  2. My Words Hindi

    आपने बिलकुल सही लिखा है, मोदीजी के इस विकास कार्य के कारण ही उन्हे इस चुनाव मे जीत मिली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *