नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन (एनडीएचएम) – भारत के प्रत्येक नागरिक का बनेगा हेल्थ आईडी कार्ड, जानिए पूरी जानकारी

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन क्या है, (एनडीएचएम) (National Digital Health Mission in Hindi) हेल्थ कार्ड कैसे बनवाएं, डाउनलोड, ऑनलाइन, फायदे (NDHM, Launch Date, Registration, Website, Health ID Cards, Documents)

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन की पहल हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा की गई है जिसको जनवरी 2021 में देश भर में लागू किया जाएगा. यहां जानकारी के लिए बता दें कि डिजिटल हेल्थ मिशन का मुख्य उद्देश्य देश के हर व्यक्ति को यूनीक हेल्थ आईडी प्रदान करना है जो कि एक हेल्थ अकाउंट के रूप में काम करेगी जिसमें व्यक्ति का पिछला सारा मेडिकल रिकॉर्ड शामिल होगा जैसे कि व्यक्ति की स्थिति, इलाज और निदान इत्यादि. नेशनल हेल्थ अथॉरिटी को इस मिशन के लिए नोडल एजेंसी बनाया गया है. यहां बता दें कि केंद्र सरकार ने नेशनल हेल्थ डाटा मैनेजमेंट को अंतिम आकार दे दिया है और यूनियन हेल्थ मिनिस्टर हर्षवर्धन के अप्रूवल के बाद अब इसे संपूर्ण देश में लागू कर दिया जाएगा.

national digital health mission in hindi

नया राशन कार्ड आवेदन : अब वार्षिक आय के अनुसार बनेगा सबका राशन कार्ड, जानिए क्या हैं नये नियम.  

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

योजना का नाम नेशनल हेल्थ मिशन
घोषणा की तिथि अगस्त 2020
कब लांच होगी जनवरी 2021
किसने शुरू की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
उद्देश्य सभी नागरिकों को डिजिटल रूप से हेल्थ सुविधा प्रदान करना
वेबसाइट nha.gov.in/
टोल फ्री नंबर 1800-11-4477/14477

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन क्या है

जानकारी के लिए बता दें कि नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक नई पहल है जिसकी घोषणा उन्होंने 15 अगस्त 2020 को की थी. इस मिशन के तहत देश के सभी नागरिकों को डिजिटल हेल्थ आईडी प्रदान करना था जिसमें उनका सारा मेडिकल रिकॉर्ड दर्ज होने के साथ-साथ बीमारी और उसका इलाज जैसी महत्वपूर्ण बातों को शामिल किया गया था. इस प्रकार जब व्यक्ति का सारा रिकॉर्ड किसी डॉक्टर के साथ शेयर कर दिया जाएगा तो उसे उचित और उत्तम इलाज दिया जा सकेगा. यहां जानकारी दे दें कि नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के द्वारा पूरे देश में सभी स्वास्थ्य सेवाओं को सभी नागरिकों तक पहुंचाया जाएगा, जिससे कि संपूर्ण देश में स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच की इक्विटी को मजबूत किया जाएगा. यहां बता दें कि एनडीएचएम मौजूदा हेल्थ सिस्टम को एक नागरिक केंद्रित दृष्टिकोण बनाने के लिए इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी और दूसरी अन्य संबंधित तकनीको से फायदा उठाएगा.

भारत में नेशनल फिल्म अवार्ड की सूची देखें.

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन का उद्देश्य

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन का मुख्य उद्देश्य देश भर में डिजिटल हेल्थ सिस्टम प्रदान करने के लिए एक बुनियादी ढांचे का निर्माण करना व हेल्थ डाटा को प्रबंधित करना है. जो भी भारत के नागरिक इस योजना के तहत लाभ लेना चाहेंगे उनका सारा हेल्थ रिकॉर्ड डॉक्टरों को आसानी से उपलब्ध हो जाएगा जिससे कि वह उनका इलाज बहुत ही अच्छे तरीके से कर सकेंगे क्योंकि उन्हें फिर मरीज की बीमारी को समझने में अधिक समय नहीं लगेगा. इसके अलावा स्वास्थ्य सेवाओं में ट्रांसपेरेंसी होने की वजह से नागरिकों को मिलने वाली स्वास्थ्य सेवाओं में अत्यधिक सुधार भी होगा. इस प्रकार इस मिशन के द्वारा देश के लोगों को उत्कृष्ट और अफॉर्डेबल स्वास्थ्य सेवाएं समय पर प्रदान की जाएंगी.

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के फायदे

  • देश के स्वास्थ्य उद्योग से जुड़े व्यक्तियों, मेडिकल प्रोफेशनल, हेल्थ केयर संस्थानों और अन्य लोगों वह संस्थानों को एनडीएचएम के तहत लाभ मिलेगा.
  • इस मिशन के द्वारा सभी स्वास्थ्य सेवाओं के वितरण में दक्षता के साथ साथ प्रभावशीलता और पारदर्शिता में सुधार होगा.
  • इस मिशन से देश में स्वास्थ्य रिकॉर्ड और स्वास्थ्य सेवाओं की पोर्टेबलटी के आदान-प्रदान को भी सुनिश्चित किया जाएगा.
  • यह मिशन योजना व्यक्तियों के इलाज के लिए प्राइवेट या सरकारी स्वास्थ्य सुविधा का चयन करने का ऑप्शन भी देगी.
  • हेल्थ रिकॉर्ड के माध्यम से टेलीफोन कंसल्टेशन और ई फार्मेसी जैसी सुविधाओं में भी मदद करेगी.
  • इसका एक लाभ यह भी है कि हेल्थ बीमा कंपनियां किसी भी रोगी के इलाज की जानकारी और उसके मेडिकल रिकॉर्ड को डिजिटली एक्सेस कर सकेंगी.
  • इसके अलावा इसका यह लाभ भी है कि हेल्थ केयर और मेडिकल रिसर्चर अपने प्रोजेक्टो पर उत्तम तरीके से कार्य कर सकेंगे.
  • माइक्रो और मैक्रो लेवल पर हेल्थ डाटा एनालिटिक्स की सहायता से सरकार और पॉलिसी निर्माता बेहतर स्वास्थ्य देखभाल के निर्णय लेने में सक्षम हो सकेंगे.

NRC क्या है, जानिए क्यों हुआ इस पर बवाल.

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन में डिजिटल सिस्टम

यहां जानकारी के लिए बता दें कि नेशनल डिजिटल सिस्टम को सबसे पहले 4 प्राइमरी डिजिटल सिस्टम के साथ शुरू किया जाएगा और धीरे-धीरे उसमें सुधार करते हुए दूसरी प्रणालियों को भी जोड़ा जाएगा.

  • हेल्थ आईडी जो व्यक्ति इस मिशन योजना का हिस्सा बनेंगे उन सभी को एक यूनिक हेल्थ आईडी प्रदान की जाएगी जिससे वह अपने मेडिकल रिकॉर्ड को आसानी से एक्सेस कर सकेंगे.
  • डीजी डॉक्टर- देश के नामांकित डॉक्टर का सारा विवरण जैसे उनका नाम, योग्यता, शिक्षा लेने का संस्थान, स्पेशलाइजेशन, रजिस्ट्रेशन नंबर,एक्सपीरियंस इत्यादि उपलब्ध होगा.
  • पर्सनल हेल्थ रिकॉर्डहर व्यक्ति के पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड को भी इस सिस्टम में शामिल किया जाएगा जैसे कि व्यक्ति को अपने स्वास्थ्य की सारी जानकारी हो सके.
  • हेल्थ फैसिलिटी रजिस्टरी सभी प्रकार की स्वास्थ्य सेवाओं को भी रजिस्टर्ड किया जाएगा जिनमें सभी अस्पतालों का सारा विवरण दिया होगा.
  • इलेक्ट्रॉनिक मेडिकल रिकॉर्ड्स यहएक डिजिटल चार्ट की तरह होगा जिसमें रोगी का सारा मेडिकल रिकॉर्ड, इलाज रिकॉर्ड होगा.

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन में हेल्थ आईडी कार्ड

जो भी रोगी अपने हेल्थ रिकॉर्ड को डिजिटल रूप से उपलब्ध कराना चाहेगा उसके लिए उसे अपनी हेल्थ आईडी बनानी होगी और हेल्थ आईडी कार्ड. इस प्रकार अपनी आईडी का प्रयोग करके वह अपने हेल्थ केयर रिकॉर्ड को स्टोर करने के अलावा एक्सेस भी कर सकेगा.  यहां आपको बता दें कि हेल्थ आईडी एक यूनिक आईडी होगी जो कि आधार नंबर का प्रयोग करके और मोबाइल नंबर से क्रिएट की जा सकेगी.

नेशनल समोसा वीक 2020 सेलिब्रेशन इन यूनाइटेड किंगडम, जानिए पूरी जानकारी.

ऑनलाइन हेल्थ आईडी कार्ड कैसे बनवाएं

इसके लिए आपको इससे संबंधित आधिकारिक वेबसाइट जोकि जल्द ही लांच होगी पर क्लिक करना होगा. यहाँ वेबसाइट के होम पेज पर आपको क्रिएट हेल्थ आईडी का लिंक दिखेगा उस पर क्लिक करने के बाद आप दूसरे पेज पर पहुंच जाएंगे. जहां पर आपको क्रिएट योर हेल्थ आईडी नाऊ (create your health id now) दिखेगा, उस पर क्लिक करने के बाद आप अपने आधार कार्ड के द्वारा अपनी हेल्थ आईडी बना सकते हैं.

हेल्थ आईडी कार्ड कैसे प्राप्त करें

जब नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन शुरू हो जाएगा तो उसके बाद जो नागरिक हेल्थ आईडी लेना चाहते हैं वह देश के किसी भी पब्लिक हॉस्पिटल, कम्युनिटी हेल्थ सेंटर या फिर स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र से बनवा सकता है. इसके अलावा व्यक्ति किसी भी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से भी प्राप्त कर सकता है जो कि नेशनल हेल्थ केयर इंफ्रास्ट्रक्चर से संबंधित हो.

नेशनल हेराल्ड मामला घोटाला क्या है, जानिए इस पर सुनवाई की जानकारी.

हेल्थ आईडी कार्ड बनवाने के लिए आवश्यक दस्तावेज / पात्रता

  • उम्मीदवार भारत का स्थाई नागरिक होना चाहिए.  
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल नंबर और आधार नंबर
  • राशन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो

हेल्थ रिकॉर्ड कैसे एक्सेस करें

सभी हेल्थ आईडी होल्डर्स के लिए यूज़र आईडी और पासवर्ड उत्पन्न किया जाएगा जिसका प्रयोग करते हुए वह अपने अकाउंट को एक्सेस कर सकेंगे, और वहां पर अपनी पर्सनल इंफॉर्मेशन मॉडिफाई करने के साथ-साथ अपने हेल्थ से जुड़ी हुई इंफॉर्मेशन भी हासिल कर सकेंगे.

FAQ

Q : नेशनल हेल्थ मिशन योजना को किसने शुरू किया है ?

Ans : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.

Q : क्या देश के प्रत्येक नागरिक की हेल्थ आईडी यूनिक होगी ?

Ans : जी हां.

Q : नेशनल हेल्थ मिशन योजना की घोषणा कब की गई थी ?

Ans : अगस्त 2020 स्वतंत्रता दिवस पर.

Q : नेशनल हेल्थ मिशन योजना किसके लिए शुरू की गई है ?

Ans : भारत के सभी नागरिकों के लिए.

Q : यूनिक हेल्थ आईडी बनाने या लॉगिन में समस्या हो तो कहां संपर्क करें ?

Ans : ndhm@nha.gov.in  या फिर टोल फ्री नंबर 1800-11-4477/14477.

अन्य पढ़ें –

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *