ताज़ा खबर

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी कराएगी सभी प्रवेश परीक्षा | National Testing Agency for All Entrance Examination in Hindi

National Testing Agency for All Entrance Examination in Hindi वर्ष 2017-18 के बजट में केंद्र सरकार ने शिक्षा क्षेत्र में सुधार के लिए एक बड़ा ऐलान किया है. इस ऐलान के तहत उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए अब एक केन्द्रीयकृत ‘राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी’ (National Testing Agency) का गठन किया जाएगा. यह एजेंसी अगले वित्त वर्ष से काम करना शुरू कर देगी और वर्ष 2018 में इंजीनियरिंग, मेडिकल जैसे उच्च शिक्षा के संस्थानों में प्रवेश के लिए यही एजेंसी परीक्षा लेगी. इंजीनियरिंग एग्जाम की तैयारी व कोर्स की जानकारी के लिए पढ़े.

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी कराएगी सभी प्रवेश परीक्षा

 National Testing Agency for All Entrance Examination in Hindi

गौरतलब है कि अबतक केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) दसवीं और बारहवीं की परीक्षा के साथ-साथ मेडिकल और आइआइटी में प्रवेश के लिए परीक्षा आयोजित करता रहा है. इसी प्रकार कॉलेज और यूनिवर्सिटी में शिक्षक हेतु पात्रता के लिए यूजीसी-नेट की परीक्षा होती रही है. जबकि तकनीकी कोर्सेज (Technical Courses) में प्रवेश के लिए परीक्षा लेने की जिम्मेदारी भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद् (AICTE) के पास है. केंद्र सरकार ने यह कदम उच्च शिक्षण संस्थानों को अधिक स्वायत्तता (Autonomy) प्रदान करने के तहत उठाया है जिससे वे छात्रों के नामांकन में अधिक से अधिक पारदर्शिता (Transparencies in Admission) ला सकें. केंद्र सरकार का यह भी मानना है कि इस कदम से शिक्षा की गुणवत्ता (Quality of Education) में भी सुधार लाने में सहायता मिलेगी.

राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के गठन से क्या होंगे फायदे? (What will be the advantage of National Testing Agency-NTA)-

  • पहले से ही जिम्मेदारियों के बोझ से दबे CBSE, UGC, AICTE और विभिन्न राज्यों में स्थानीय स्तर पर उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करने वाली एजेंसियों को राहत मिलेगी. इस राहत का उपयोग वे अपनी अन्य जिम्मेदारियों की गुणवत्ता को सुधारने में कर सकेंगे और अधिक पेशेवर (Professional) परिणाम देने में सक्षम होंगे.
  • वर्तमान में राज्य स्तर पर होने वाली प्रवेश परीक्षाओं में अधिकतर उसी राज्य के परीक्षार्थी (Candidates) प्रतिभागी होते है. अब जब एक राष्ट्रीय एजेंसी सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए संयुक्त परीक्षा का आयोजन करेगी तो समग्र तौर पर देश के सभी हिस्सों के प्रतिभागियों के लिए नामांकन के विकल्प का दायरा बढ़ जाएगा.
  • अब कई निजी शिक्षण संस्थान भी अपने संस्थान में प्रवेश के लिए अलग से प्रवेश परीक्षा आयोजित करते रहे हैं. जाहिर है, इसमें पारदर्शिता का अभाव रहा है. इन संस्थानों की मनमर्जी के कारण एक तरफ जहाँ शिक्षा का व्यवसायीकरण हुआ वहीँ शिक्षा के क्षेत्र में भ्रष्टाचार का भी बोलबाला बढ़ा. परन्तु सरकार द्वारा प्रवेश परीक्षा के लिए एक केन्द्रीयकृत एजेंसी के गठन से इन संस्थानों की मनमर्जी पर लगाम लग जाएगा और उन्हें भी NTA में सफल प्रतिभागियों में से अपने संस्थान में प्रवेश के लिए चुनाव करना अनिवार्य होगा.
  • जाहिर है कि उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए किसी राष्ट्रीय एजेंसी की जिम्मेदारी होने से देश की प्रतिभा को बिना किसी भेदभाव के मौका मिलेगा. परिणामस्वरूप देश की शिक्षा व्यवस्था में गुणात्मक सुधार का दौर शुरू होगा.
  • NTA के गठन के बाद से अब तक प्रबंधन, मेडिकल और इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए जिम्मेदार एजेंसियों जैसे, नेट (NET), जेईई (JEE), गेट (GATE), कैट (CAT) आदि का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा.

राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के गठन के साथ अन्य सुविधाएँ (Other Facilities will be introduce with Formation of NTA)

वर्ष 2017-18 के बजट में शिक्षा क्षेत्र में सुधार के लिए सरकार ने जहाँ केन्द्रीयकृत राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के गठन की घोषणा की है, वहीँ छात्रों के वित्तीय और मानसिक बोझ (Financial and Mental Burden) को कम करने के लिए ऑनलाइन शैक्षणिक कोर्स को शुरू करने का भी प्रस्ताव रखा है. इस व्यवस्था से छात्र एक तरफ जहाँ अन्य कार्य करते हुए अपना पढाई जारी रख सकते हैं वहीँ उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश की तैयारी के लिए उन्हें ऑनलाइन उच्च गुणवत्ता की पाठ्य सामग्री (Study Materials) भी आसानी से उपलब्ध हो सकेगी.

National Testing Agency Entrance Examination

इसके लिए सरकार ने ‘स्वयं’ (SWAYAM) नाम से एक फ्री ऑनलाइन एजुकेशन प्लेटफार्म को शुरू करने का बजट में प्रस्ताव रखा है. यहां ‘स्वयं’ का अर्थ है – Study Webs of Active Learning for Young Aspiring Minds. इस शैक्षणिक प्लेटफार्म के तहत 350 ऑनलाइन कोर्स शुरू किए जाएंगे. इस व्यवस्था के लागू हो जाने से जन-जन तक शिक्षा का प्रसार करने का सरकार का लक्ष्य काफी हद तक पूरा होने की उम्मीद की गई है.

आईआईटी का राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी का अंग बनने पर संशय (Diffidence on IITs to be a part of NTA)

क्या देश का प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग संस्थान राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (Indian Institute of Technology) भी, अपने यहां प्रवेश के लिए NTA परीक्षा में सफल प्रतिभागियों में से चुनाव करेगा? इस मुद्दे पर न तो सरकार की ओर से कोई स्पष्टीकरण आया है और न ही आईआईटी प्रबंधन ने कोई टिपण्णी की है. परन्तु माना जा रहा है कि आईआईटी प्रबंधन सरकार की इस कवायद से अपने आपको दूर ही रखेगा. गौरतलब है कि आईआईटी अपने यहां प्रवेश के लिए प्रतिवर्ष आईआईटी-जेईई (IIT-JEE) नाम से प्रवेश परीक्षा आयोजित करता है और इसमें सफल प्रतिभागियों को रैंकिंग के आधार पर अपने संस्थान में नामांकन के लिए चुनाव करता है.

बहरहाल, अगर आईआईटी केंद्रीयकृत प्रवेश एजेंसी NTA से अलग होता है तो सरकार की शिक्षा में सुधार की इस कवायद को बहुत बड़ा धक्का लगेगा. इसकी वजह से प्रतिभाओं को एक बार फिर प्रवेश के लिए दो-दो परीक्षाओं से गुजरना होगा जबकि सरकार की राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के गठन की पूरी कवायद ही  प्रतिभागियों को कई परीक्षाओं की झंझट से मुक्ति दिलाना है.

अंततः कहा जा सकता है कि केंद्र सरकार ने उच्च शिक्षण संस्थानों में अकादमिक गतिविधियों को केंद्र में रखने के लिए उनकी अन्य जिम्मेदारियों में कटौती करने का दूरगामी कदम उठाया है. यहां गौरतलब है कि प्रतिवर्ष CBSE, IITs, IIMs और AICTE द्वारा आयोजित सात प्रमुख प्रवेश परीक्षाओं CAT, JEE (Main), JEE (Advanced), GATE, CMAT, NEET और NET में लगभग 40 लाख प्रतिभागी अपना भाग्य आजमाते हैं. इसके लिए एक प्रतिभागी को कहीं भी प्रवेश पाने के लिए सात अलग-अलग परीक्षाओं के कठिन दौर से गुजरना पड़ता है. इससे जहाँ प्रतिभागियों को मानसिक तनाव से गुजरना पड़ता है वहीँ बार-बार असफलता मिलने से उनमें कुंठा भी घर कर जाती है. ऐसे में प्रवेश परीक्षा के केंद्रीयकृत सिस्टम से प्रतिभागियों को न केवल परीक्षा की तैयारी के लिए पूरा वक्त मिलेगा बल्कि वे परीक्षा में अपनी प्रतिभा का अधिक से अधिक उपयोग भी कर सकेंगे. शिक्षा क्षेत्र के विशेषज्ञों ने भी NTA के गठन को एक बड़ा कदम बताया है और इसकी तुलना अमेरिका के ETS सिस्टम से की है जो न केवल बड़े स्तर पर उच्च शिक्षा में प्रवेश के लिए परीक्षा का आयोजन करता है बल्कि यह शोध (Research) के क्षेत्र में भी अग्रणी भूमिका निभाता है.

अन्य पढ़े:

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *