ने‍फियू रियो की जीवनी | Neiphiu Rio Biography In Hindi, New CM Nagaland

ने‍फियू रियो की जीवनी (Neiphiu Rio Biography In Hindi, New CM Nagaland)

ने‍फियू रियो का नाम हमारे देश के कद्दावर नेताओं में गिना जाता है. भारत के बेहद ही छोटे से राज्य, नागालैंड से नाता रखने वाले रियो इस राज्य के 3 बार मुख्यमंत्री बन चुके हैं. वहीं एक बार फिर इनकी पार्टी नागालैंड राज्य में सत्ता में रही है. इनकी पार्टी बीजेपी के साथ गठबंधन कर अपनी सरकार इस राज्य में बनाएगी. वहीं आज हम आपको अपने इस लेख में इनका जीवन परिचय देने जा रहे हैं.

ने‍फियू रियो की जीवनी

पूरा नामने‍फियू रियो
जन्म स्थानकोहिमा, नागालैंड
जन्म तारीख11 नवंबर, 1 9 50
पेशाभारतीय राजनेता
पार्टी का नामनेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी)
पदनागालैंड के मुख्यमंत्री,
  
माता का नाम
पिता का नामगुलहॉली रियो
पत्नी का नामकैसा रियो
कुल भाई-बहनएक
कुल बच्चेछह
लंबाई5’6
वजन65 किलो
आखों का रंगकाला
बालों का रंगकाला
धर्म ईसाई
कुल संपत्ति31 करोड़ के करीब
जातिनागा जनजाति
Neiphiu Rio Biography

  नेफियू रियो का जन्म और शिक्षा (Neiphiu Rio Birth And Education)

नेफियू रियो का जन्म सन् 1950 में तुफेमा गांव में हुआ था. वहीं इन्होंने अपने जन्म स्थान नागालैंड के ही बैप्टिस्ट इंग्लिश स्कूल से अपनी प्रारंभिक शिक्षा हासिल की थी. कुछ सालों तक इस स्कूल में पढ़ने के बाद रियो ने पश्चिम बंगाल के सैनिक स्कूल में दाखिला ले लिया था और अपनी आगे की शिक्षा यहां से जारी रखी थी. वहीं इन्होंने अपनी डिग्री की पढ़ाई दार्जिलिंग के सेंट जोसेफ कॉलेज से की है. इसके अलावा इन्होंने कोहिमा के आर्ट्स कॉलेज से भी स्नातक किया हुआ है.

नेफियू रियो का परिवार  (Neiphiu Rio Family)

नेफियू रियो ने साल 1975 में कैसा रियो (Kaisa Rio) से विवाह किया था और इनके कुल छह बच्चे हैं, जिनमें से एक बेटा और अन्य बेटियां हैं. वहीं इनकी पत्नी का अपना हैंडलूम का व्यापार है.

नेफियू रियो का राजनीति करियर (Neiphiu Rio Political Career)

नागा जनजाति से नाता रखने वाले रियो ने शुरू से ही राजनीति में आने की ठान रखी थी. अपने सपने को पूरा करने के लिए इन्होंने अपने कॉलेज के दौरान ही राजनीति में कदम रख दिया था. अपने कॉलेज के दिनों में इन्होंने कई छात्र चुनाव लड़े थे. वहीं साल 1974 में इन्हें यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट की युवा शाखा का अध्यक्ष बनाया गया था. वहीं यहां से इन्होंने अपने राजनीति करियर को और कामयाब बनाया.

साल 1989 में लड़ा पहला चुनाव-

साल 1989 में रियो ने पहली बार नागालैंड विधानसभा का चुनाव लड़ा था. इन्होंने ये चुनाव कांग्रेस पार्टी की तरफ से लड़ा था. कांग्रेस पार्टी ने रियो को उत्तरी अंगामी- II चुनाव क्षेत्र से अपना उम्मीदवार खड़ा किया था और इस चुनाव में इन्हें जीत मिली थी.

वहीं साल 1993 में रियो ने एक बार फिर इसी सीट से चुनाव लड़ अपनी जीत दर्ज करवाई थी. इस चुनाव में कांग्रेस पार्टी की जीत हुई थी और रियो को पार्टी की ओर से नागालैंड राज्य का गृह मंत्री बनाया गया था. साथ ही इन्होंने नागालैंड की रेड क्रॉस सोसाइटी में कुछ समय तक अपनी सेवाएं भी दी हैं. हालांकि कुछ विवाद होने के कारण रियो ने साल 2002 में कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया था.

तीन बार बने राज्य के मुख्यमंत्री-

कांग्रेस पार्टी से अलग होने के बाद रियो नागा पीपुल्स फ्रंट पार्टी का हिस्सा बन गए. वहीं साल 2003 में राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में इनकी पार्टी को जीत मिली और इनको इस राज्य का मुख्यमंत्री बनाया गया. लेकिन 3 जनवरी 2008 को इस राज्य में राष्ट्रपति शासन के आदेश दिए गए , जिसके बाद इनको अपनी कुर्सी छोड़नी पड़ी. वहीं 2008 में फिर से इस राज्य में हुए चुनावों में इनको जीत मिला और ये दोबारा से मुख्यमंत्री बनने में कामयाब हुए. वहीं साल 2013 में इनको एक बार फिर से विधानसभा चुनावों में जीत मिली और ये तीसरी बार इस राज्य के मुख्यमंत्री बन गए.

साल 2018 में एनडीपीपी पार्टी में हुए शामिल

नागा पीपुल्स फ्रंट पार्टी के कुछ सदस्यों ने अपनी एक अलग पार्टी बना ली थी. साल 2017 में अक्टूबर के महीने में बनी इस पार्टी का नाम राष्ट्रवादी डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी रखा गया था. वहीं 2018 में रियो भी इस पार्टी में शामिल हो गए थे.

फिर बनने जा रहे हैं नागालैंड के मुख्यमंत्री- (Neiphiu Rio CM Of Nagaland)

राष्ट्रवादी डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी के नेता रियो और बीजेपी की पार्टी मिलकर नागालैंड राज्य में सरकार बनाने जा रही है. ऐसे में एक बार फिर से रियो को ही इस राज्य का मुख्यमंत्री चुना गया है. वहीं कुछ दिनों के अंदर ये चौथी बार इस राज्य के मुख्यमंत्री बनने की शपथ ग्रहण कर लेंगे.

नेफियू रियो  को मिले पुरस्कार-

रियो को भारतीय राजनीति में किये गये सराहनीय कार्यो के लिए, मदर टेरेसा मेमोरियल अवॉर्ड दिया गया. यह साल 2007 में दिया गया था.

नेफियू रियो  के पास कुल संपत्ति (Neiphiu Rio Assets And Net Worth)

साल 2008 में नागालैंड के विधानसभा चुनाव में अपना हलफनामा देते हुए रियो ने अपनी कुल संपत्ति 6 करोड़ रुपए बताई थी. वहीं साल 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में अपने एफिडेविट में रियो ने अपनी कुल संपत्ति 31 करोड़ रुपए बताई थी.

नेफियू रियो द्वारा संभाले गए पद

राज्य सरकार में संभाले हैं कई पद-

कांग्रेस पार्टी की और से इन्हें राज्य का खेल और स्कूल शिक्षा मंत्री बनाया गया था. इसके अलावा इन्होंने नागालैंड खादी और ग्राम उद्योग बोर्ड और नागालैंड के विकास प्राधिकरण में बतौर अध्यक्ष भी अपनी सेवाएं दी हैं.

Other Articles

Pavan Agrawal
मेरा नाम पवन अग्रवाल हैं और मैं मध्यप्रदेश के छोटे से शहर Gadarwara का रहने वाला हूँ । मैंने Maulana Azad National Institute of Technology [MNIT Bhopal] से इंजीन्यरिंग किया हैं । मैंने अपनी सबसे पहली जॉब Tata Consultancy Services से शुरू की मुझे आज भी अपनी पहली जॉब से बहुत प्यार हैं।

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here