न्यू नेशनल पेंशन स्कीम महत्वपूर्ण जानकारी | National New Pension Scheme NPS in Hindi

न्यू नेशनल पेंशन स्कीम National New Pension Scheme NPS in Hindi (Calculator, Benefits, interest rate)

न्यू नेशनल पेंशन स्कीम यह एक जरुरी जानकारी हैं इसे पढ़े एवम अपने साथ अपने दोस्तों एवम रिश्तेदारों को इस तरह की योजनाओ के बारे में जानकारी दे ताकि सभी अपने भविष्य के लिए आज से तैयारी कर सके |

न्यू नेशनल पेंशन स्कीम वृद्धावस्था में आर्थिक सहायता देती हैं | जीवन का वह समय जब मनुष्य परिश्रम करके धन का उपार्जन नहीं कर सकता,उस समय न्यू पेंशन स्कीम उसकी लाठी बनती हैं | इस तरह के प्लान यह बताते हैं कि भविष्य में मनुष्य को पेंशन स्कीम के चलते कभी भी अपने जीवन में आर्थिक समझौता नहीं करना होगा | पर इस सबके लिए हमें वर्तमान समय में जागना होगा और भविष्य के प्रति चिंता करते हुए न्यू पेंशन स्कीम से जुड़ना होगा जिसके लिए आपको समय रहते कुछ इन्वेस्ट करना होगा जो आपको वृद्धावस्था में लाभ दे |

National New Pension Scheme NPS in Hindi

National New Pension Scheme NPS

क्या हैं न्यू नेशनल पेंशन स्कीम (What Is National New Pension Scheme NPS)

सामान्यतह भारत में रिटायर्मेंट की आयु 60 से 65 वर्ष हैं लेकिन भविष्य में इसे बढ़ाकर 75 कर देने की आशंका हैं | अधिक से अधिक वृद्ध व्यक्तियों को आर्थिक सुरक्षा मिले इसलिए सरकार द्वारा National Pension Scheme NPS चालू किया गया हैं |

History Of National New Pension Scheme NPS

सरकार द्वारा 10 अक्टूबर 2003 में पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (Pension Fund Regulatory & Development Authority की स्थापना की | जिसने वर्ष 1 जनवरी 2004 में National Pension Scheme (NPS) लॉन्च किया जिसका मुख्य उद्देश्य रिटायर्ड व्यक्तियों के लिए रिटायरमेंट इनकम प्रोवाइड कराना हैं |साथ ही नागरिको को भविष्य के प्रति जागरूक करना और बचत के लिए प्रोत्साहित करना भी PFRDA का काम हैं |

National Pension Scheme NPS ने 1st मई 2009 में सफलता पूर्वक पेंशन का कार्य शुरू किया जिसमे अनओर्गेनाइज़ सेक्टर के लोगो को भी शामिल किया गया | इसके पहले पेंशन केवल सरकारी कर्मचारी को मिलती थी जो कि सरकार द्वारा दी  जाती थी लेकिन 2003 के बाद जो लोग सरकारी नौकरी में लगे उन्हें सरकार द्वारा दी जाने वाली पेंशन बंद कर दी गई | और उन्हें NPS के तहत पेंशन देने का प्रावधान लाया गया | जिसमे वे खुद अपने योगदान द्वारा पेंशन बना सकते हैं साथ ही अन्य गैर सरकारी नौकरियों में लगे लोगो को भी NPS में शामिल किया गया |

What Is PRAN Card In NPS

NPS के तहत सब्सक्राइबर को PRAN Card प्रोवाइड कराया जाता हैं :NPS के तहत सब्सक्राइबर को खाते को नियमित रूप से संचालित करने हेतु a unique Permanent Retirement Account Number अर्थात PRAN नंबर दिया जाता हैं जो अद्वितीय होता हैं और एक सब्सक्राइबर द्वारा बदला नहीं जा सकता |यह उम्र भर समान होता हैं और पुरे देश में चलता हैं |

NPS के तहत दो तरह के अकाउंट खोले जाते हैं |

टियर 1 : यह नॉन विड्रावल सेविंग अकाउंट हैं जहाँ से 60 वर्ष की आयु के बाद ही पैसा मिलता हैं |

टियर 2 : यह एक साधारण सेविंग अकाउंट की तरह हैं जहाँ से सब्सक्राइबर पैसा निकाल सकता हैं | अतः इस पर कर लाभ नहीं मिलता |

जाने विस्तार से What Is Tier I And Tier II in NPS

क्र बिंदु टियर Iटियर II
1परिभाषाइससे सब्सक्राइबर पैसा नहीं निकाल सकता हैं | यहाँ भविष्य के लिए पैसा जमा होता हैं |यहाँ से सब्सक्राइबर पैसा निकाल सकता हैं |
2अकाउंट खोलने के लिए न्यूनतम धन राशि500 रूपए1000 रूपए
3न्यूनतम मासिक योगदान500 रूपये250 रूपये
4न्यूनतम वार्षिक योगदान6000 रूपये2000 रुपये
5योगदान का समयइसमें सब्सक्राइबर को 60 वर्ष की आयु तक योगदान करना अनिवार्य हैं |यह सब्सक्राइबर पर निर्भर करता हैं |
6टैक्स लाभyesno

नेशनल पेंशन स्कीम के मुख्य बिंदु (Key Point For National New Pension Scheme NPS)

  • नेशनल पेंशन स्कीम के लिए योग्यता :

Eligibility For NPS

  1. केंद्रीय सरकारी कर्मचारी :

आर्मी ऑफिसर्स के अलावा सभी केंद्रीय सरकारी कर्मचारी NPS से जुड़ सकते हैं | इसके अलावा अन्य सरकारी कर्मचारी भी आल सिटिज़न मॉडल के तहत पेंशन सुविधा से जुड़ सकते हैं |

  • NPS से जुड़ने का तरीका :

केन्द्रीय ऑफिसर्स इस योजना के तहत टियर 1 में पेंशन का लाभ ले सकते हैं |

  • योगदान :

केंद्रीय सरकारी कर्मचारी के लिए NPS अनिवार्य हैं |जिसके लिए प्रति माह 10 % उनकी सैलरी से कटता हैं और उतना ही योगदान सरकार द्वारा दिया जाता हैं |

  • विड्रावल :

सब्सक्राइबर को रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलती हैं | रिटायरमेंट के बाद वो टियर 1 के तहत पैसा निकाल सकता हैं | अगर सब्सक्राइबर की मृत्यु हो जाए तो सारा पैसा नॉमिनी को दिया जाता हैं |

  1. राज्य सरकार कर्मचारी :

किसी भी राज्य के सरकारी कर्मचारी भी इस NPS योजना से जुड़ सकते हैं जिसके लिए उन्हें राज्य सरकार के नोटिस की जरुरत होती हैं |अन्य सरकारी कर्मचारी जो इस NPS प्रणाली के अंतर्गत नहीं आते वे भी Point of Presence – Service Provider (POP-SP) के जरिये आल सिटिज़न मॉडल के तहत पेंशन का लाभ ले सकते हैं |

  • NPS से जुड़ने का तरीका :

NPS से जुड़ने के लिए राज्य सरकार के सरकारी कर्मचारी को एक फॉर्म भरकर DDO के हस्ताक्षर लेने पड़ते हैं |

  • योगदान :

जिसके लिए प्रति माह 10 % उनके मासिक वेतन से कटता हैं और उतना ही योगदान सरकार द्वारा दिया जाता हैं |

  • विड्रावल :

NPS के तहत सब्सक्राइबर को रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलती हैं अगर सब्सक्राइबर की मृत्यु हो जाये तो पूरा पैसा नॉमिनी को मिल जाता हैं |

  1. कॉर्पोरेट :

कॉर्पोरेट स्वतंत्ररूप से कॉर्पोरेट लेवल अथवा सब्सक्राइबर लेवल के अंतर्गत NPS के तहत जुड़ सकते हैं |यह आल सिटिज़न मॉडल के तहत किसी भी योजना में शामिल हो सकते हैं |

  1. असंगठित क्षेत्र के श्रमिक :

अन्य व्यक्ति भी NPS का हिस्सा बन सकते हैं इसके लिए 2015 के पहले स्वालंबन योजना का प्रावधान था लेकिन अब इसकी जगह अटल पेंशन योजना ने ले ली हैं |इसके लिए नागरिक की उम्र 18 वर्ष से 40 वर्ष की होनी चाहिये |विस्तार से जानने के लिए अटल पेंशन योजना Atal Pension Yojana APY  पर क्लिक करे |

न्यू पेंशन स्कीम के लाभ (Benefits NPS)

  • पारदर्शिता :

NPS एक लाभकारी पेंशन स्कीम हैं इसमें इन्वेस्ट करना लाभकारी हैं इसमें सभी कार्यो में पारदर्शिता बनी रहती हैं |पारदर्शिता मतलब इससे जुड़े लोग कभी भी निवेश एवम लाभ का ब्यौरा ले सकते हैं |

  • आसान प्रक्रिया :

NPS के रुल बहुत आसानी से समझे जा सकते हैं यह अन्य इनवेस्टमेंट की तरह कॉमप्लीकेटेड नहीं हैं | इसमें एक Permanent Retirement Account Number (PRAN) दिया जाता हैं जिसके जरिये आसानी से इसे इस NPS से जुड़ा जा सकता हैं |

  • पोर्टेबल स्कीम:

यह NPS की प्रक्रिया सुगम एवम सुचारू हैं | इसमें मिले प्रान नंबर के कारण सभी क्रियाये आसान एवम छोटी हो जाती हैं | यह प्रान नंबर फिक्स रहता हैं अगर आप अपना पेंशन ब्रांच/ ऑफिस बदलना भी चाहे तो आसानी से बदल सकते हैं लेकिन आपका प्रान नंबर वही रहता हैं |

  • NPS का सञ्चालन :

NPS की यह क्रिया पेंशन फंड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (Pension Fund Regulatory and Development Authority ) की देख रेख में चलती हैं | सभी संभव जानकारी PFRADA से ली जा सकती हैं |

  • टैक्स लाभ :

वर्तमान में, टीयर I में किए गए योगदान के लिए Exempted-Exempted-Taxed (EET) के तहत योगदान राशि धारा 80 सी के अनुसार 1.00 लाख रुपए तक सकल कुल आय से कटौती के लिए हकदार है। यह आयकर नियम के अनुसार समय- समय पर बदलता रहता हैं |

टियर I के तहत योगदान एवम एन्युटी पर कोई टैक्स नहीं हैं लेकिन 60 वर्ष के बाद मिलने वाली पेंशन टैक्सेबल हैं |

यह योजना भविष्य निधी के रूप में सब्सक्राइबर को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाती हैं | आज के वक्त में महंगाई को देखते हुए यह एक बहुत ही लाभप्रद एवम सरल योजना हैं जिससे सब्सक्राइबर आसानी से जुड़ सकता हैं और इसे बिना किसी अधिक भाग दौड़ के सुचारू रख सकता हैं |

गैर सरकारी लोगो के लिए सरकार द्वारा स्वावलंबन योजना का प्रावधान लाया गया था लेकिन उनमे कई कमियाँ होने के कारण अटल पेंशन योजना को लाया गया | और आज देश के कई लोग इस योजना से जुड़ रहे हैं | इसे और भी कामयाब बनाने के लिए सभी को इस योजना से जुड़ना चाहिये |

सरकार द्वारा कई बीमा पॉलिसी भी लाई गई हैं जिसके तहत भी आम जनता फायदा उठ सकती हैं अतः हम सभी को इस तरफ जागरूक होते हुए पेंशन स्कीम एवम बीमा पॉलिसी लेनी चाहिये ताकि वर्तमान एवम भविष्य सुरक्षित हो सके |

 इस तरह की योजना के बारे में आप और क्या जानना चाहते हैं अपने सवाल कमेंट बॉक्स में डाले | हम पूरी कोशिश करेंगे आपकी समस्या सुलझाने में |

यह योजना आपको कैसी लगी और क्या आप इससे जुड़े हैं हमें जरुर बताये | साथ ही इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने दोस्तों से जरुर शेयर करें |

NPS में अब पचास हज़ार का टैक्स बेनिफिट भी मिलेगा.

सरकार  नेशनल पेंशन स्कीम अब क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (Regional Rural Bank) कर्मचरियों के लिए अनिवार्य होगी. 31 मार्च के बाद ज्वाइन करने वाले सभी कर्मचारियों के लिए ये अनिवार्य होगी.

अन्य पढ़े :

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *