शिक्षक स्कॉलरशिप योजना : टीचर्स डे के मौके पर सरकार ने शिक्षकों को दी नयी सौगात, पढाई के बाद छात्रवृत्ति के साथ पायें नौकरी गारंटी

हमारे देश में गुरुओं का सबसे उच्च स्थान है. आदिकाल से ही गुरु, शिक्षक को सर्वोपरि रखा जाता है. लेकिन आज के कलयुग की बात करें तो देश में शिक्षकों का दर्जा गिरते जा रहा है. डॉक्टर, इंजिनियर को जो नौकरी, पैसा, रुतबा मिलता है वो अब शिक्षकों को नहीं मिलता है. यही कारन है कि देश में अब कम ही लोग शिक्षक बन के अपना भविष्य बनाना चाहते है. ऐसे में सरकार ने देश की शिक्षा नीति में एक बड़ा बदलाव किया है. बच्चों को मिलने वाली शिक्षा के साथ साथ, उन्हें पढ़ाने वाले शिक्षकों को नयी नीति अपनानी होगी. इसके अंतर्गत शिक्षकों को नौकरी की गारंटी के साथ-साथ, स्कालरशिप भी सरकार देगी. इसके साथ ही सरकार और भी कई तरह के लाभ शिक्षकों को नयी शिक्षा नीति के अंतर्गत देने वाली है. चलिए जानते है कि, शिक्षकों के लिए सरकार ने नयी शिक्षा निति में क्या-क्या बदलाव किये है. उसके लाभ किसे और कैसे मिलेंगें. आर्टिकल को अंत तक पढ़े, जिससे सभी बैटन को अच्छे से समझ सकेंगें.

new-shiksha-niti-hindi-scholarship-job-guarantee

भारत में शिक्षक दिवस का महत्व : जानिए हमारे देश में शिक्षक को भगवान् के बराबर का दर्जा क्यों दिया गया है.

शिक्षकों के लिए शिक्षा नीति में बदलाव का उद्देश्य–

शिक्षकों को नयी शिक्षा नीति के अंतर्गत बहुत लाभ मिलेंगें. सरकार का मुख्य उद्देश्य है कि लोग शिक्षक बनकर अपना करियर बनाये, ये तभी मुमकीन होगा जब शिक्षकों को अच्छे तरह तरह के लाभ मिलेंगें. सरकार का योजना के अंतर्गत बदलाव ग्रामीण क्षेत्र के विकास को ध्यान में रखकर किया गया है. योजना के अंतर्गत सरकार गाँव के जो बच्चे है, उन्हें विशेष लाभ देगी, ताकि वे आगे बढ़ कर देश और अपने गाँव के विकास में भागीदार हो सके.

शिक्षकों के लिए शिक्षा नीति की विशेषताएं –

  • जॉब में मिलेगी सुरक्षा – सरकार ने देश में बेरोजगारी की समस्या को कम करने के लिए शिक्षकों को नयी सेवा दी है. देश में अभी भी लोग शिक्षक बनकर भविष्य नहीं बनाना चाहते है, क्यूंकि इसके द्वारा उन्हें अच्छी सैलरी नहीं मिलती है. साथ ही जॉब की कोई गारंटी नहीं होती है. कई जगह तो देखा जाता है कि शिक्षक को अपने अनुसार रख लेते हैफिर निकाल भी देते है. जॉब में सुरक्षा नहीं होती है. सरकार के हस्तक्षेप से अब सभी शिक्षा स्थानों में शिक्षक को जॉब में सुरक्षा मिलेगी, उन्हें कभी ऐसे कोई निकाल नहीं सकेगा.
  • बेरोजगारी होगी कम – देश में बेरोजगारी की समस्या से हर कोई जूझ रहा है, आजादी के बाद से अभी तक कोई सरकार इस समस्या से पूरी तरह नहीं निपट पाई है. मोदी सरकार ने शिक्षा नीति में बदलाव के द्वारा एक नया कदम उठाया है. लोगों को शिक्षक बनने के लिए कई आकर्षित लाभ दिए जा रहे है, जिससे गाँव, शहर के छात्र शिक्षक बनने के लिए प्रोत्साहित हो और देश में बेरोजगारी की समस्या धीरे-धीरे कम हो.
  • सरकारी स्कूल में अच्छे शिक्षक भर्ती हो – नयी शिक्षा नीति में बदलाव का एक मुख्य कारण यह भी है कि सरकारी स्कूल में अच्छे योग्य शिक्षक भर्ती हो. शिक्षकों की पढाई, कोर्स में इसलिए बदलाव भी किये गए है ताकि अच्छी गुणवत्ता के योग्य व्यक्ति ही सेलेक्ट होकर शिक्षक बने.
  • बच्चों को किया जायेगा प्रोत्साहित – स्कूलों में जो शिक्षक पढ़ाएंगे उन्हें बच्चों के सामने एक रोल मॉडल की तरह प्रदर्शित किया जायेगा, ताकि बच्चे भी प्रोत्साहित हो और शिक्षक बनकर अपना करियर बनायें. स्कूल में अगर अच्छे टीचर होंगें तो बच्चे भी उनकी तरह बनकर आगे बढ़ना चाहेंगें.
  • बच्चों को मिलेगा उज्जवल भविष्य – अच्छे, योग्य, होशियार शिक्षक जब स्कूल में पढ़ाएंगे तो बच्चों को भी उनसे सीखने मिलेगा, और फिर उनका भविष्य भी उज्जवल एवं सुरक्षित होगा.

मध्यप्रदेश प्रतिभाशाली छात्र प्रोत्साहन योजना : सरकार दे रही है मेधावी छात्र को फ्री लैपटॉप, जाने कैसे मिलेगा.

शिक्षा नीति में हुए बदलाव –

  • बीएड चार वर्षों का कोर्स – भारत देश में शिक्षक बनने के लिए बीएड पास होना अनिवार्य होता था. पहले यह कोर्स 2 वर्ष का होता था, जिसे अब नयी शिक्षा नीति के अंतर्गत इसे इंजीनियरिंग कोर्स की तरह 4 वर्षीय कोर्स कर दिया गया है.
  • छात्रवृत्ति सुविधा – बीएड में जो भी छात्र एडमिशन लेकर उसकी परीक्षा पास करेगा, उसकी मेरिट के आधार पर सूची तैयार की जाएगी, जिसके बाद उन्हें स्कॉलरशिप भी सरकार देगी.
  • नौकरी की गारंटी – कोर्स पुरा होने के बाद सभी छात्र-छात्रों को सरकार नौकरी की गारंटी देगी. मतलब अब कोर्स के बाद जॉब के लिए उन्हें यहाँ वहां नहीं भटकना होगा. इससे बीएड करने के लिए ज्यादा से ज्यादा लोग आकर्षित होंगें.
  • स्थानीय क्षेत्र में मिलेगी नौकरी – सरकार ने यह भी कहा है कि कोर्स कम्पलीट करने के बाद छात्र-छात्रों को उनके रहवास के मतलब स्थानीय क्षेत्र में ही नौकरी मुहैया करायी जाएगी, जिससे उन्हें अपने परिवार को छोड़ कर दूसरी जगह नहीं जाना होगा.
  • ग्रामीण क्षेत्र के स्कूल में होगी भर्ती – सरकार ने योजना को तो पुरे देश में लागु करने की घोषणा की है, लेकिन सरकार चाहती है कि इसका मुख्य फोकस गाँव में रहे. गाँव में आज भी स्कूलों की हालत बहुत ख़राब है, वहां अच्छे शिक्षक जाने से कतराते है. ऐसे में सरकार को तरह-तरह सुविधाएँ देकर आकर्षित कर रही है.

प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना : सरकार देती है सभी छात्रों को विशेष स्कॉलरशिप की सुविधा, जाने कैसे मिलेगा आपको लाभ

शिक्षकों को मिलने वाले अन्य लाभ –

  • आवास सुविधा – अगर कोई शिक्षक गाँव में जाकर स्कूल में पढ़ाने को तैयार हो जाता है तो उन्हें सरकार विद्यालय आसपास ही आवास सुविधा भी मुहैया कराएगी, ताकि इसके लिए शिक्षकों को खर्चा न करना पड़े. अगर किसी के पास आवास सुविधा है तो उन्हें सरकार आवासीय भत्ता देगी.
  • तबादले पर रोक – अभी तक सरकारी स्कूल के शिक्षकों के कभी तबादले कर दिए जाते थे, अधिकारी अपनी सुविधा और मनमर्जी के हिसाब से तबादले किया करते थे. लेकिन अब इस पर भी सरकार रोक लगा रही है. बिना किसी बड़े कारन और नोटिस के तबादले नहीं हो सकेंगें. इसके साथ ही इसकी पूरी प्रक्रिया को अब ऑनलाइन किया जा रहा है. सरकार एक पोर्टल बनाएगी, जिसमें सभी शिक्षक की ज्वाइनिंग से लेकर काम की पूरी जानकारी होगी, इससे पारदर्शिता बढ़ेगी.
  • प्रदर्शन देखकर होगी भर्ती – शिक्षकों को नौकरी के पहले अपनी योग्यता का प्रदर्शन बच्चों के सामने क्लास में करना होगा, इसके उनकी जांच बड़ी अधिकारी भी करेंगें. अगर वो योग्य होंगें तभी उनको नौकरी दी जाएगी.
  • स्थानीय भाषा पर जोर – शिक्षकों को अपनी क्षेत्रीय भाषा का कितना ज्ञान है, इसपर भी अधिकारी आकलन करेंगें और उसके आधार पर उन्हें आगे नौकरी दी जाएगी.

नयी शिक्षा नीति से देश में शिक्षा का लेवल अच्छा होगा, और आज के युवा भी शिक्षक बनकर अपना भविष्य बनायेगें.

अन्य पढ़ें –

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *