नव वर्ष की शायरी एवं कविता 2022

नव वर्ष की शायरी एवं कविता 2020 [New Year Shayari and Poem in hindi]

नव वर्ष नये संकल्पों को साधकर पुराने पलों को मन में कहीं छिपाकर आगे बढ़ने की प्रेरणा देता हैं. हर वर्ष कई सुख दुःख को समेटा होता हैं पर सच्चा राही वही हैं जो आगे बढ़ता हैं जो हर अच्छी बुरी यादों को संजोकर प्रगति की और कदम रखता हैं.

nav varsh

नव वर्ष की शायरी एवं कविता ( New Year Poem in hindi)

आज जब मैं जागी तब मैंने सोचा था
कुछ नया नजारा होगा
आसमां में कुछ नया रंग छाया होगा




भाग कर मैंने अखबार उठाया
शायद देश परदेश में कुछ नया आया होगा

हर पन्ने को मैंने पलटाया
पर कुछ खास ना मैंने पाया





उदास होकर मैंने माँ से पूछा
क्यूँ कल रात इतना जश्न मनाया




सबने कहा था नया वर्ष हैं आया
कब से ढूंढ रही हूँ मैं
पर कुछ नया ना मैंने पाया

माँ ने मुस्कुराकर मुझे बताया
जश्न तो बीती बातो का था
पुरानी यादों का था

अब तो नयी कोरे कागज की गट्ठी हैं
जिसमे नीली स्याही पिरौनी हैं

रंग बिरंगे रंगो के साथ
नयी कहानी रचनी हैं

एक नया संकल्प तुम साधो
नयी राह पर आगे बढ़कर
जीवन पथ को तुम बढ़ाओ

नए युग का निर्माण कर
युवा की शान तुम बढ़ाओ.|

अन्य पढ़े :




Karnika
कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं | यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here