नरेगा मेट कैसे बनें | NREGA Mate Application form in hindi

नरेगा मेट कैसे बने (एप्लीकेशन फॉर्म, योग्यता, वेतन, मजदूरी, लिस्ट, आईडी) (NREGA Mate, Met, Application form, Eligibility, Payment, MGNREGA List, Vacancy, Salary, Qualification, Guideline)

महात्मा गाँधी नरेगा योजना के तहत नरेगा मेट की भी एक नौकरी होती है. नरेगा मेट को मजदूरी नहीं करनी पड़ती है, बल्कि वो मजदूरों की गिनती उनकी देख रेख के लिए होता है. नरेगा मेट बन कर आप अच्छी कमाई कर सकते है. मनरेगा का काम 2005 में केंद्र सरकार ने शुरू किया था, ताकि गरीब मजदूरों को काम के लिए दर-दर नहीं भटकना पड़े और उन्हें अपने आसपास के एरिया में काम मिल सके और उनकी कमाई भी रोज की अच्छी हो सके. नरेगा मेट की जॉब के बारे में बहुत कम ही लोग जानते है, आज हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे है, इसकी पात्रता, आवेदन प्रक्रिया, भर्ती, दस्तावेज, मजदूरी, सैलरी आदि सभी जानकारी इस आर्टिकल में मिलेगी. चलिए जानकारी को विस्तार से जानते है –

nrega-mate-kaise-bane-hindi-form-list-salary

मनरेगा जॉब कार्ड सूचीअब ऑनलाइन आप चेक कर सकते है, जॉब कार्ड सूचि में आपका नाम है कि नहीं

नरेगा मेट क्या है –

गरीब मजदूरों को नौकरी देने और रोज की मजदूरी देने के लिए सरकार ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम अर्थात मनरेगा रोजगार गारंटी योजना शुरू की थी. योजना के तहत सरकार मजदूरों का नाम रजिस्टर कर उन्हें जॉब कार्ड देती है. इन मजदूरों को साल में 100 का काम निश्चित रूप से दिया जाता है. इन मजदूरों को रोज की मजदूरी दी जाती है, जिसकी पूरी जानकारी उनके जॉब कार्ड में होती है. पहले मजदूरों को रोज की मजदूरी 192 रूपए मिलती जिसे अप्रैल में बढ़ाकर 202 रूपए प्रतिदिन कर दिया गया. इन मजदूरों के उपर एक इनका सुपरवाईजर होता है. प्रत्येक 40 मजदूर के उपर एक अधिकारी होता है, जिसे नरेगा मेट कहते है. ये नरेगा मेट इन मजदूरों के कार्य को देखता है, हाजरी लगाता एवं अन्य कार्य भी होते है.

नरेगा में मेट का क्या काम है (NREGA Mate Work) –

  • मेट का काम होता है, कि उसके कार्यस्थल में काम करने वाले मजदूरों को के कार्य को देखे.
  • मजदूरों की रोज हाजरी लगाना, देखना कौन आया कौन नहीं
  • मजदूरों के काम को रिकॉर्ड करना, कौन कितना काम करता है यह सबका का लिखित में रिकॉर्ड बनाना.
  • मजदूरों को रोज काम आवंटन करना.
  • नरेगा मेट कार्यस्थल में 5-5 मजदूरों का समूह बनाकर उन्हें काम देता है, जहाँ समूह नहीं बन पाते है, वहां मेट अपने अनुसार उन्हें काम देता है.
  • मेट मजदूरों के जॉब कार्ड देखकर ही उन्हें काम देगा, जॉब कार्ड में इन्फॉर्मेशन पूरी नहीं है तो वो उन्हें कार्य नहीं दे सकता है.
  • मेट रोज काम ख़त्म होने के बाद सभी मजदूरों के कार्य मात्रा लिखकर उनका हस्ताक्षर लेगा.
  • मेट सभी समूह और अकेले कार्य करने वाले मजदूरों के काम का निरीक्षण करेगा, जो अच्छे से काम नहीं कर रहा हो उसे काम को अच्छे से बताकर उत्साहित करना.
  • यदि किसी मजदूर ने एक दिन काम कम किया तो मेट उसको दुसरे दिन अतरिक्त काम देकर उसको पूरा काम करने के लिए प्रोत्साहित करे, जिससे किसी की भी मजदूरी में कोई कटौती न हो.
  • अगर कोई अपना काम निर्धारित जल्दी ख़तम कर देता है तो मेट के पास अधिकार होता है कि वो उनके हस्ताक्षर लेकर उन्हें घर भेज सके.
  • मेट यह भी ध्यान देगा कि सभी मजदूरों के पास जॉब कार्ड हो, जॉब कार्ड के बिना कोई भी उपस्थित न हो. सबको जॉब कार्ड लाना अनिवार्य है, यह कार्य मेट का होगा.
  • मेट का यह भी कार्य होगा कि वो ध्यान रखे किसी मजदूर को साल में 100 दिन से अधिक कार्य न मिले.
  • मेट का कार्य होगा कि वो श्रमिक के द्वारा की गई किसी भी शिकायत को लिखकर उस पर कार्य करे.
  • मेट को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि कार्यस्थल में मजदूरों के लिए शुध्य साफ़ पीने का पानी हो, आराम के समय छाँव वाली जगह हो.
  • प्राथमिक उपचार की व्यवस्था भी मेट करता है

प्रधानमंत्री आवास योजना – सरकार से 2.5 लाख रूपए प्राप्त कर बनायें अपने सपनों का घर

नरेगा मेट बनने के फायदे (लाभ) –

नरेगा मेट बन कर व्यक्ति को बहुत लाभ हो सकते है, उसे एक अच्छी सरकारी काम मिल सकते है  जैसे –

  • नरेगा मेट बनने के लिए आवेदक को कोई परीक्षा नहीं देनी होगी, सीधे आवेदन कर पात्रता के अनुसार आपका चयन होगा.
  • मेट को कोई शारीरिक मजदूरी का काम नहीं करना होता, बस उसे मजदूरों की देख रेख और लिखा पढ़ी का कार्य करना होगा.
  • नरेगा मेट की मजदूरी मनरेगा मजदूर से ज्यादा होती है, उन्हें रोज की अच्छी पेमेंट मिल जाती है.

नरेगा मेट की पात्रता क्या है (Qualification) –

सरकार ने नरेगा मेट बन्ने के लिए कुछ पात्रता शर्तें तय की है, जो इन शर्तों को पूरा करेगा, वही नरेगा मेट बन सकता है. पात्रता शर्त निम्नलिखित है –

  • नरेगा मेट के लिए जरुरी है कि व्यक्ति भारत का नागरिक हो, उसके पास इसके लिए आईडी प्रूफ हो.
  • नरेगा मेट बनने के लिए जरुरी है कि व्यक्ति कम से कम 10th पास हो, आंठवी के बाद अगर उसने सीधे बोर्ड परीक्षा देकर पास की है तो भी वो नरेगा मेट बन्ने के योग्य है.
  • नरेगा मेट बनने का अधिकार उसे ही है जो गाँव (ग्रामीण क्षेत्र) में रहता है. अगर वो शहर में रहता है तो मेट नहीं बन सकता है.
  • नरेगा मेट उसी को बन्ने का अधिकार है जिसके पास जॉब कार्ड है.
  • अगर पहले से कही कार्य कर रहा है व्यक्ति तो यह नरेगा मेट के योग्य नहीं है.

मध्यप्रदेश रोजगार सेतु योजना : मध्यप्रदेश लौटे श्रमिकों को मिलेगा रोजगार का नया मौका, आप भी जल्दी कराएँ रजिस्ट्रेशन

नरेगा मेट आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेज (Documents) –

  • आवेदक के पास उसका आधार कार्ड होना अनिवार्य है, यह बहुत मुख्य आईडी प्रूफ है.
  • आवेदन के पास जॉब कार्ड होना भी अनिवार्य है, इसलिए अगर आप नरेगा मेट के लिए आवेदन करना चाहते है तो पहले अपना जॉब कार्ड बनवा लें.
  • आवेदन के पास 10वीं पास की मार्कशीट होनी अनिवार्य है. आवेदन के समय उसे इसकी कॉपी जमा करनी होगी.
  • आवेदक का खुद के नाम से किसी भी बैंक में अकाउंट होना अनिवार्य है, फॉर्म में उसे सही-सही बैंक की जानकारी देनी होगी.
  • आवेदक को अपनी पासपोर्ट साइज़ फोटो भी संलग्न करनी होगी.

नरेगा मेट के लिए आवेदन कैसे करें (How to apply for NREGA Mate) –

  • नरेगा मेट और सुपरवाईजर बनना चाहते है तो आपको ऑफलाइन आवेदन फॉर्म भरकर खुद जमा करना होगा.
  • फॉर्म के लिए आवेदक को अपने गाँव की पंचायत में जाना होगा, पंचायत में अधिकारी या ग्राम सेवक से आप नरेगा मेट का फॉर्म मांगें.
  • फॉर्म में आपको सभी जानकारी को सही-सही भरना होगा, साथ ही आपको सारे दस्तावेज़ को भी संलग्न करना होगा. इस फॉर्म को आपको वही अधिकारी को दे देना होगा.
  • इसके बाद आपको 40 मजदूर की लिस्ट तैयार करनी होगी, ये 40 मजदूर आपके अंडर में काम करेंगें, जिसके आधार पर आप नरेगा मेट बन सकते है.
  • ये 40 मजदूर के जॉब कार्ड भी आपके पास होने चाहिए, इनके नाम और जॉब कार्ड की जानकारी की लिस्ट बनाकर आपको ग्राम पंचायत में जमा करना होगा.
  • फॉर्म एक्सेप्ट हो जाने के बाद आपको रोजगार मिल जायेगा और आपका नरेगा मेट का कार्य शुरू हो जायेगा.

नरेगा मेट पेमेंट मजदूरी कितनी है (वेतन) –

नरेगा मेट की मजदूरी दिहाड़ी हर प्रदेश में अलग अलग है. जिस प्रदेश में मनरेगा मजदूर की जितनी मजदूरी है उसके आधार पर ही नरेगा मेट की मजदूरी तय होती है. कई प्रदेश में नरेगा मेट को 175 रूपए तो कही, 246 रूपए तो कही 303 रूपए भी रोज की मजदूरी मिलती है.

राशन कार्ड ऑनलाइन आवेदन – अब घर बैठे बनवाएं नया राशन कार्ड, ऑनलाइन सुविधा है बेहद आसान

FAQ –

Q: नरेगा मेट की मजदूरी कितनी है?

Ans: केंद्र सरकार ने अप्रैल 2020 में नरेगा मेट की पेमेंट 213 रूपए से बढाकर 235 रूपए कर दिया गया है.

Q: मनरेगा मेट भर्ती आवेदन कैसे करें?

Ans: आपको इसके लिए करीबी पंचायत जाना होगा.

Q: नरेगा में मेट का पेमेंट कैसे देखें?

Ans: आप अपने जॉब कार्ड द्वारा ऑनलाइन इसे देख सकते है.

Q: नरेगा में मेट का कार्य क्या है?

Ans: उसके अंदर कार्य करने वाले 40 मजदूरों की देख रेख करना.

अन्य पढ़ें –

Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *