ओमीक्रोन वैरीएंट क्या हैं लक्षण,उपचार,सावधानी (Omicron Variant kya hain Symptoms Precautions In Hindi)

0

ओमीक्रोन वैरीएंट क्या हैं वायरस के लक्षण सावधानी उपचार उपाय (Omicron Variant kya hain symptoms, treatment in hindi)

कोरोना महामारी ने पूरे विश्व को अपनी भयानक चपेट से झकझोर कर रख दिया है। वर्ष 2020 से इसने अपने प्रकोप से ना जाने कितने लोगों की जान ले ली है। इससे बचने के लिए वैक्सीन के डोसेज भी पूरे विश्व भर में लोगों को लगाए जा रहे हैं और अब तक लगभग सभी लोगों ने कोरोनावायरस वैक्सीन के डोसेज लगवा लिए हैं। भारत देश की बात करें तो  सरकार, सरकारी संस्थानों और अन्य छोटे से लेकर बड़े संस्थाओं ने विभिन्न शिविर और कैंपेन्स के तहत भारत के सभी लोगों को इस महामारी से बचने के लिए वैक्सीन की डोसेज उपलब्ध करवाई हैं। इसका प्रभाव धीरे-धीरे कम महसूस होने लगा ही था कि अब कोरोना के एक नए और खतरनाक वेरिएंट ने दस्तक दे दी है। 

ओमीक्रोन वैरीएंट क्या हैं (Omicron Variant kya hain in Hindi)

हम बात कर रहे हैं ओमीक्रोन वेरिएंट(Omicron Variant) की। इसकी शुरुआत दक्षिण अफ्रीका से हुई जहां ओमीक्रोन वेरिएंट के केसेस सामने आए और अब इससे पूरी दुनिया में एक हड़कंप सा मच गया है। 26 नवंबर 2021 को w.h.o. यानी वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने इस वैरीअंट को गंभीर करार कर दिया है। हम इस आर्टिकल में आपको कोरोना के इस नए वेरिएंट के बारे में विस्तार रूप से बताएंगे। 

कितना खतरनाक है ऑमिक्रान वेरिएंट?

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की माने तो ओमी क्रोन वैरीअंट बहुत ही तेजी से फैलने वाला और खतरनाक वैरीअंट है। 

बी.1.1.529 वेरियेंट(ओमीक्रोन वैरीअंट) को काफी खतरनाक बताया जा रहा है। इस वैरीअंट के कई म्यूटेशन मिल चुके हैं लगभग 50 जिनमें से आधे इसके स्पाइक प्रोटीन में ही हैं। इस वैरीअंट का वायरस शरीर की सेल में प्रवेश करने के लिए स्पाइक प्रोटीन का सहारा लेता है और इस वैरीअंट को लेकर एक गंभीर बात यह है कि इसके बहुत सारे म्यूटेशंस हैं। भारत में सरकार कोरोना के इस खतरनाक वैरीअंट को लेकर पूरे जोर-शोर से लग चुकी है कि कैसे इस के प्रकोप से नागरिकों को बचाया जा सके। 

किन देशों में फैला ओमीक्रोन वैरीअंट?

कोरोना का यह वेरिएंट ज्यादातर 3 देशों में फैला है यानी साउथ अफ्रीका, हांगकांग और बोत्सवाना। इन तीन देशों के अलावा बेल्जियम, ऑस्ट्रिया, ब्रिटेन, डेनमार्क, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड्स, फ्रांस, इजरायल, स्कॉटलैंड और स्पेन में भी ओमीक्रोन वैरीअंट फैल चुका है।

ओमीक्रोन वैरीअंट के लक्षण Omicron variant Symptoms

माना जा रहा है कि कुछ लोगों ने इस वैरीअंट के लक्षण को काफी हद तक सर्दी, फ्लू, सर दर्द जैसा बताया है। कुछ लोगों ने बॉडी पेन, मसल पेन जैसे लक्षण भी बताएं हैं जो आमतौर पर सर्दी या फ्लू हो जाने पर महसूस करते हैं। हालांकि कुछ लोगों में सर्दी, फ्लू, नाक बहना, बुखार जैसे लक्षण नहीं पाए गए हैं। 

क्या वैक्सीन लगाने वालों को ओमीक्रोन वैरीअंट का असर होगा? 

वैज्ञानिकों की मानें तो दुनिया भर में कोविड वैक्सीन में अटैक स्पाइक प्रोटीन पर ही होता है। इसलिए जिन्होंने वैक्सीन लगवा ली है, उनके लिए यह जरूरी नहीं कि उन्हें इस वैरीअंट से खतरा नहीं हो सकता। यह वैरीअंट वैक्सीन के असर को खत्म करने वाला हो सकता है। मगर हां, वैक्सीन लगा लेने से और इस महामारी में सभी बातों का ध्यान रखने से आप स्वस्थ रह सकते हैं और इसकी चपेट में आने से अपने आप को सुरक्षित रख सकते हैं। वैज्ञानिकों द्वारा बताया गया है कि पुराने वैरीअंट के 32 म्यूटेशन स्पाइक प्रोटीन में ही है इसलिए यह माना जा रहा है कि यह वेरिएंट कोविड वैक्सीन को बेअसर बनाने की शक्ति रखता है। 

हांगकांग के दोनों मरीज फाइजर वैक्सीन की डोज ले चुके थे फिर भी जब वे अफ्रीका से वापस आए तब वे संक्रमित निकले। वैज्ञानिकों की मानें तो ये सबूत काफी है यह मानने के लिए कि कोविड वैक्सीन लेने के बाद भी ओमीक्रोन वेरिएंट वैक्सीन के असर को खत्म कर देने की क्षमता रखता है। 

भारत में ओमीक्रोन वैरीअंट के केसेस-

भारत में भूमि क्रोन वेरिएंट के कुल 200 केसेस हो चुके हैं। इनमें से सबसे ज्यादा केसेस महाराष्ट्र और दिल्ली में सामने आए हैं। ऐसा माना जा रहा है कि यह वैरीअंट काफी तेजी से फैल रहा है।  

सरकार द्वारा उठाये गये कदम- 

कोरोनावायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रोन वेरिएंट के बारे में पता लगते ही भारत सरकार पूरी तरह से एक्टिव हो चुकी है और देश के लोगों को इसकी चपेट में आने से रोकने हेतु कई स्टेप्स उठा रही है। भारत सरकार ने कई गाइडलाइंस बना दी है। यह रहे भारत सरकार द्वारा बनाई गई कुछ गाइडलाइंस: 

  • भारत आने वाले यात्रियों को 14 दिन के यात्रा दस्तावेज दिखाने आवश्यक होंगे। 
  • ऐसे आती जो संक्रमित देशों से आ रहे हैं उनका भारत आते ही टेस्ट किया जाएगा और फिर उन्हें 7 दिन के क्वॉरेंटाइन में भी जाना होगा।
  • भारत सरकार द्वारा सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की अच्छे से जांच करने का फैसला ले लिया गया है और इसकी शुरुआत भी की जा चुकी है। 
  • दक्षिण अफ्रीका, हांगकांग, बोत्सवाना और अन्य संक्रमित देशों से आने वाले लोगों की स्ट्रिक्ट स्क्रीनिंग करने का फैसला भी भारत सरकार द्वारा लिया गया है। सभी राज्यों को अपने राज्य के यात्रियों के आने जाने की पूरी खबर रखने को भी निर्देश दे दिया गया है। 
  • जो लोग संक्रमित पाए जाएंगे उनके सैंपल स्कोर प्लेयर में प्रायोरिटी के तौर पर भेजा जाएगा यानी तुरंत भेजा जाएगा और रेडियंट का पता लगाया जाएगा। जिससे इसका उपचार जल्द ही शुरू हो सकेगा। 

दुनिया भर में ओमीक्रोन वेरिएंट को लेकर ट्रैवल पर रोक-टोक

  • दुनिया भर में कई देशों ने ओमीक्रोन वैरीअंट के फैलते प्रकोप की वजह से ट्रैवल रिस्ट्रिक्शंस लगा दिए हैं। 
  •  दुनिया भर में कई सरकारों ने तो लॉकडाउन भी लगा दिए हैं। 
  •  यूनाइटेड किंगडम ने साउथ अफ्रीका से आने वाले लोगों को अपने देश में एंट्री देने पर प्रतिबंध लगा दिया है। 
  •  यूनाइटेड स्टेट्स ने भी दक्षिण अफ्रीका, बोत्सवाना आने वाले लोगों कि अपने देश में आने पर प्रतिबंध लगाया है मगर जो लोग यूनाइटेड स्टेट्स के ही रहने वाले हैं, उनकी एंट्री पर कोई प्रतिबंध नहीं है। 

डब्ल्यूएचओ द्वारा क्रिसमस पर निर्णय-

खबरों के मुताबिक डब्ल्यूएचओ द्वारा क्रिसमस को भीड़ भाड़ में ना मनाने का निर्णय दे दिया गया है। ओमीक्रोन वैरीअंट के केसेस बहुत तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इसके खतरे को देखते हुए पूरे विश्व भर में सरकारें अलर्ट हो चुकी हैं और अपने-अपने तरीकों से स्ट्रीक्ट कदम उठा रही हैं। 

FAQs: 

Q. ओमीक्रोन वैरीअंट का पहले पता किस देश से चला? 

Ans: दक्षिण अफ्रीका

Q. कौन-कौन से देश ओमीक्रोन वैरीअंट से संक्रमित हो चुके हैं? 

Ans: साउथ अफ्रीका, हांगकांग, बोत्सवाना देशों के अलावा बेल्जियम, ऑस्ट्रिया, ब्रिटेन, डेनमार्क, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड्स, फ्रांस, इजरायल, स्कॉटलैंड, चेक रिपब्लिक(czech republic) और स्पेन। 

Q. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (w.h.o) ने कब ओमीक्रोन वैरीअंट को गंभीर करार किया?

Ans: 26 नवंबर 2021

Q. क्या यूनाइटेड किंगडम ने दक्षिण अफ्रीका और उनसे जुड़े अन्य संक्रमित देशों से आने वाले लोगों पर प्रतिबंध लगा दिया है? 

Ans: हां। 

Q. क्या यूनाइटेड स्टेट्स के लोग संक्रमित देशों से यूनाइटेड स्टेट्स में वापस आ सकते हैं? 

Ans: हां। 

अन्य पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here