नाशपाती के फायदे व नुकसान | Pears benefits and side effects in hindi

0

Pears benefits and side effects in hindi शरीर के लिए आवश्यक सभी प्राकृतिक विटामिन्स, खनिज, किण्वक और द्रव्य में घुलनशील फाइबर प्रचुर मात्रा में नाशपाती में पाए जाते हैं, जिससे कि हमारी सेहत और स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है. नाशपाती अपने गुणों के कारण शरीर को कई प्रकार की बीमारियों से बचाता है. बारिश के समय में होने वाला यह फल नाशपाती, बाजार में लगभग सेब के आकार का अपने बेहतरीन स्वाद और गजब के पोषक तत्वों के कारण लोगों का मनपसंद फल है. इसलिए जिस तरह सेब खाने के फ़ायदे अनेक हैं, ठीक उसी प्रकार नाशपाती के भी कई फ़ायदे हैं.

इसका जैविकीय नाम ‘जीनस सेबी‘ है. इसे आप सेब के अनुवांशिकी के साथ जोड़ सकते हैं. सेब की तरह ही इसका आकार गोल होता है और पेड़ में यह घंटी की तरह लटका होता है. इस फल में औषधि के गुण कूट-कूट कर भरे होते है. इस फल को दैवीय उपहार भी समझा जाता है. ताजे नाशपाती का जूस शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है.

नाशपाती के फायदे व नुकसान ( Pears benefits and side effects in hindi )

Nashpati Pears Benefits

नाशपाती एक ऐसा फल है जिसके कई फ़ायदे होते हैं, जोकि इस प्रकार है –

नाशपाती के स्वास्थ्य के लिए फ़ायदे (Pears benefits for health)

नाशपाती के स्वास्थ्य के लिए कुछ फ़ायदे इस प्रकार हैं-

  • नाशपाती के सेवन से गर्भधारण करने वाली स्त्री को कई प्रकार के रोग से प्रतिरक्षा हो जाती है. साथ ही नाशपाती में उपलब्ध फॉलिक एसिड के कारण बच्चे को जन्म लेते समय कई प्रकार के दोषों से भी मुक्ति मिल जाती है.
  • नाशपाती में विटामिन सी, विटामिन के और कॉपर होता है जो कि शरीर कोशिकाओं को रूग्ण कीटाणुओं से बचाते हैं.
  • नाशपाती में अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जो कि शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करता है और हृदय घात से भी बचाता है. अगर आप नियमित रूप से नाशापाती का सेवन करे तो यह हृदय घात के जोखिम को कम से कम 50 प्रतिशत कम कर देता है.
  • नाशपाती में अधिक फाइबर होने की वजह से यह कोशिकाओं से कैंसरजनित तत्वों को निकाल देता है और कोलोन कैंसर से भी राहत मिलती है. प्रत्येक दिन एक नाशपाती के सेवन से मासिक धर्म रूक जाने के बाद यह महिलाओं को स्तन कैंसर से बचाता है.
  • दूसरे फलों की तूलना में नाशपाती एलर्जी पैदा नहीं करता है. यह उन फलों में से हैं जिसे नवजात शिशुओं को भी दिया जा सकता है.
  • हल्का मीठा होने के बाद भी इस फल में विद्यमान ग्लीसीरीन इंडेक्स रक्त में सुगर लेवल को कम करता है और मधुमेह से शरीर को बचाता है. मधुमेह के घरेलू उपचार के लिए यह अच्छा विकल्प है.
  • यह शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को भी मजबूत करता है और कई सारे रोगों से भी बचाता है.
  • यह ऑस्टीआपरोसिस यानि अस्थि सुषिरता से भी बचाता है. आजकल के खान पान के वातावरण में हड्डियों का कमजोर होना समान्य बात है. लोग शरीर के पीएच लेवल बनाये रखने के लिए कैल्सियम की गोली खाते है किन्तु नाशपाती इस कमी को इसके नियमित सेवन से दूर कर सकता है.
  • नाशपाती में अधिक मात्रा में शर्करा होता है जिसके कारण आप कमजोरी महसूस नहीं कर सकते है. यह शरीर में भी जल्दी घुल जाता है और उर्जा प्रदान करता है.
  • रोगग्रस्त बच्चों को भी नाशपाती खिलाया जा सकता है. लो एसिडिक होने के कारण उनके पाचन में कोई समस्या नहीं हो सकती है. ध्यान रहे कि इसे साफ तरीके से छीलकर बच्चों को खिलायें.
  • नाशपाती के नियमित सेवन से गालब्लाडर कोलाईटिस अर्थराईटिस संबंधी समस्या नहीं हो सकती है.
  • प्रति कैंसरकारक और एन्टीऑक्सीडेंट रहने के कारण ब्लड प्रेशर भी समान्य रहता है.
  • नाशपाती अपने ठंडेपन के कारण ज्वर को भी बढ़ने नहीं देता है.
  • ग्रीष्म में अक्सर बच्चों को सांस की तकलीफ होती है अगर आप उन्हें नियमित तौर पर नाशपाती का सेवन करायें तो ये तकलीफ नहीं होगी.

नाशपाती के त्वचा के लिए फ़ायदे (Pears benefits for skin)

  • नाशपाती में आहारयुक्त फाइबर भरा होता है जिसके कारण ये आपकी त्वचा को मुलायम और चिकना बनाये रखता है. इसकी शर्करा रक्त के साथ जल्दी घुल जाती है जिससे स्कीन की परत क्षय नहीं होती है.
  • नाशपाती के सेवन से झुर्रिया भी नहीं पड़ती है. यह विटामिन सी से भरा होता है. अगर आपकी त्वचा तेलीय है तो भी नाशपाती उसके लिए भी रामबाण है. यह प्राकृतिक रूप से स्क्रब के काम भी आता है. आप इसके प्रयोग से डेड स्कीन कोशिका को बाहर निकाल सकते हैं.
  • नाशपती के एक्सट्रैक्ट में लैक्टिक एसिड होने के कारण यह होंठों के लिए अच्छा माना जाता है. कई सारे सौन्दर्य प्रसाधन में इसका प्रयोग किया जाता है.
  • यदि आपकी त्वचा तेलीय हैं तो नाशपाती आपके लिए वास्तव में फायदेमंद हैं. एक नाशपाती के साथ ताज़ी क्रीम और शहद का मिश्रण बनाकर एक पेस्ट तैयार कर लें. इस पेस्ट को एक हफ्ते तक चेहरे पर लगायें, यह आपकी त्वचा से तेल को हटाने में मदद करेगा.
  • यह आपकी त्वचा को लम्बे समय तक के लिए नमी भी देता है, जिससे आपकी त्वचा रूखी नहीं लगेगी.
  • यह एक प्राकृतिक स्क्रब की तरह भी कार्य करता हैं जिससे आपकी त्वचा कोमल और मुलायम बनती है.
  • नाशपाती के विरोधी भड़काऊ गुण एक सौन्दर्य उपचार के रूप में कार्य करते हैं. नाशपाती के सेवन से कोई भी एलर्जी नहीं होती इसलिए यह त्वचा व शिशु दोनों के लिए काफी फायदेमंद है.

नाशपाती के बालों के लिए फ़ायदे (Benefits of Pears for hair)

  • नाशपाती में बालों को स्वस्थ्य और पौष्टिक बनाने की क्षमता होती है. नाशपाती, खासकर परिपक्वता में ‘सोर्बिटोल’ या ‘ग्लुसिटोल’ नामक एक प्राकृतिक शर्करा शराब होती है, जो बालों की जड़ों में पहुँच कर स्कैल्प को पोषित करता है और इससे बाल नमी युक्त बने रहते हैं.
  • बालों के नमी युक्त होने के कारण यह बालों के सूखेपन को भी कम करता है. विटामिन सी के कारण बालों की प्राकृतिक रूप से कंडीशनिंग हो जाती है. साथ ही यह बालों की कोशिकाओं को स्वस्थ बनाये रखने में भी मदद करता है.
  • फ्रिज्ज़ी बालों के लिए भी नाशपाती के नियमित सेवन करना चाहिए. यह उन टंगल्स को नष्ट करने में उपयोगी होता है. जिससे आपके फ्रिज्ज़ी बाल आसानी से प्रबंधनीय बन सकते हैं.
  • यदि आप अपने सुस्त और बेजान बालों से परेशान हैं तो आपको इसके लिए एक ताजे नाशपाती, सिरका और पानी के 2 चम्मच अर्क को मिलाकर बालों के लिए  एक प्राकृतिक पैक तैयार करना होगा. यह आपके सुस्त बालों को पुनर्जीवित कर सकता है और आपके बालों की खोई हुई चमक को वापस ला सकता है.
  • आपने बालों के कर्ल और रंग के रख रखाव के लिए नाशपाती बहुत आच्चा है इसके लिए आपको यह पैक की जरूरत पड़ेगी, सबसे पहले नाशपाती को छील कर ठीक से तोड़ लें, इसमें सोयाबीन के तेल को मिलाकर अच्छे से पेस्ट बना लें. इसे आपने बालों में लगाकर कुछ घंटे बाद शैम्पू से धो लें. अंतर आसानी से दिखाई देगा. 

नाशपाती के जूस के फ़ायदे (Pears Juice benefits)

  • नाशपाती का रस प्राकृतिक और त्वरित ऊर्जा से भरा होता है, क्योंकि इसमें उच्च फ्रुक्टोस और ग्लूकोस की मात्रा होती है.
  • नाशपाती के रस से शारीर को ठंडा प्रभाव पड़ता है, जिससे बुखार में राहत मिलती है.
  • नाशपाती के रस को नियमित रूप से पीना सर्दी से पीढित व्यक्ति के लिए बहुत मददगार होता है क्योकि यह ठण्ड से राहत देता है. इसलिए यह सर्दी जुकाम और गले में खराश के घरेलू उपचा के लिए अच्छा विकल्प है.
  • सुबह और गर्मी के दौरान रात में नाशपाती का रस पीने से शारीर पर प्रभाव ठंडा होता है, जिससे गले की समस्या भी नहीं होती है.
  • हल्के गर्म या गुनगुने नाशपाती के रस में कच्चे शहद को मिलाकर पीने से गले के साथ साथ मुखर कॉर्ड की समस्या से भी राहत मिलती है.
  • दैनिक आधार पर नाशपाती का सेवन नियमित रूप में करने से यह आँतों के मूवमेंट को बनाये रखता है.

नाशपाती के नुकसान (Pears side effects)

किसी भी चीज का ज्यादा सेवन करना आपके और आपके शारीर के लिए बहुत ही नुकसानदायक हो सकता है. इससे आपके शरीर पर अप्रत्याशित दुष्प्रभाव पैदा हो सकते हैं. आवश्यक मात्रा से अधिक नाशपाती फल खाने से कई समस्याएं हो सकती हैं. जैसा कि नाशपाती का फल विटामिन, खनिज, इलेक्ट्रोलाइट्स, फाइटोकेमिकल्स, आहार फाइबर आदि से भरा होता है, प्रत्येक की अधिक मात्रा तदनुसार बीमारियों की विविधता का कारण बन सकती है. इससे आपको पेट की परेशानी भी हो सकती है जिससे आप अस्वस्थ महसूस कर सकते हैं.   

नाशपाती का चुनाव व स्टोर कैसे करें (How to select and store Pears)

  • ताजे नाशपाती दुकानों में आसानी से मिल सकते हैं. जबकि बार्टलेट किस्म गर्मी के दौरान एक प्रमुख किस्म है, साथ ही कॉमिस, सीकल आदि मुख्य गिरावट के मौसम के नाशपाती के किस्म हैं. एशियाई नाशपाती आम तौर पर अगस्त तक फसल के लिए तैयार होते हैं, और सितम्बर तक दुकानों में उपलब्ध कराया जाता है.
  • अच्छे स्वाद के साथ ताजे, उज्ज्वल, फर्म बनावट वाले फल चुने. उन फलों से बचें, जिनकी सतह पर दबाव के निशान है, क्योंकि वे अंतर्निहित विचित्र पल्प दर्शाते हैं. कुछ फलों, विशेष रूप से एशियाई किस्मों में उनकी त्वचा पर जंगली धब्बे हो सकते है.
  • कमरे के तापमान पर अलग अलग चैम्बर के साथ एक टोकरी में अपर्याप्त नाशपाती रखें, या इसे पकाने के लिए पेपर में लपेटे, जैसे की आप पपीते के लिए करते हैं. जब इसमें कोमल दबाव पैदा होता है तब यह फल पका हुआ होता है. और इस तरह यह खाने के लिए तैयार हो जाता है. पपीते के गुण व फ़ायदे यहाँ पढ़ें.
  • अधिकतम पोषक लाभ प्राप्त करने के लिए ताजे नाशपाती का सेवन करें. अन्यथा उन्हें रेफ्रीजरेटर में रखें जहाँ वे कुछ दिनों के लिए ताजा रहेंगे.

नाशपाती में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Pears nutrition facts)

क्र. .पोषक तत्व के नाममात्रा (ग्राम)मात्रा (%)
1.एनर्जी58 कैलोरी3%
2.कार्बोहायड्रेट13.81 g11%
3.प्रोटीन0.38 g<1%
4.कुल फैट0.12 g0.5%
5.कोलेस्ट्रॉल0 mg0%
6.डाइटरी फाइबर3.10 g8%
7.विटामिन ए23 IU1%
8.विटामिन सी4.2 mg7%
9.विटामिन ई0.12 mg1%
10.पोटैशियम119 mg2.5%
11.कैल्शियम9 mg1%
12.कॉपर0.082 mg9%
13.आयरन0.17 mg2%
14.मैग्नीशियम7 mg2%
15.मैंगनीज        –2%
16.फॉस्फोरस11 mg2%
17.जिंक0.10 mg1%

नाशपाती के जुड़े कुछ रोचक तत्थ (Pears Related facts)

  • इसे उत्तरी अमेरिका में पहली बार सन 1620 में लाया गया था.
  • दुनिया भर के लगभग 3000 किस्मों में नाशपाती उपलब्ध है.
  • इसे अमरत्व के प्रतीक के रूप में चीनी द्वारा “ली” कहा जाता है.
  • इसकी प्रचुरता और मलाईदार बनावट के कारण इसे एक उपनाम “मक्खन फल” से भी जाना जाता है.
  • संगीत वाद्ययंत्र, लकड़ी की मूर्तियाँ, लकड़ी के रसोई के बर्तन और कुछ फर्नीचर नाशपाती की लकड़ी का उपयोग करके बनाया जाता है.
  • प्राचीन ग्रीस में, यह मतली के खिलाफ प्राकृतिक उपाय के रूप में इस्तेमाल किया गया था.
  • चीन, वार्षिक नाशपाती का प्रमुख उत्पादक है, चीन प्रतिवर्ष लगभग 1,50,00,000 टन नाशपाती का उत्पादन करता है.

नाशपाती की प्रजातियों के नाम (Pears species)

नाशपाती की विभिन्न प्रकार की प्रजातियाँ होती हैं, जोकि इस प्रकार है –

  • बार्टलेट
  • स्टार्करिमसन
  • बोसक
  • फोरेल
  • कॉमिस
  • सीकल
  • रेड अन्जौ
  • कॉनकार्ड
  • ग्रीन अन्जौ
  • रेड बार्टलेट आदि.

एक दिन में कितने नाशपाती खाना चाहिए (How many Pears should you eat a day)

एक दिन में एक नाशपाती में एक नाशपाती का सेवन करने से मानव शारीर में पर्याप्त मात्रा में इसके सभी आवश्यक पोषक तत्व पहुँच जाते हैं. हालाँकि यह शारीर की पसंद व ऊर्जा आवश्यकताओं के अनुसार एक से अधिक भी खाया जा सकता है.

अन्य पढ़े:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here