प्रधानमंत्री आवास योजना : घर खरीदने में मिलेगी 2.67 लाख की राहत यहाँ जानिये योजना की जानकारी

प्रधानमंत्री मोदी जी जब पहली बार सत्ता में आये थे तब उन्होंने कई सारी बड़ी योजनाओं की शुरुआत की थी, उन्हीं में से एक हैं प्रधानमंत्री आवास योजना. इस योजना के तहत सन 2022 तक की अवधि में देश के प्रत्येक नागरिकों को जोकि शहरी एवं ग्रामीण दोनों क्षेत्र के हो सकते हैं, उन्हें पक्का घर उपलब्ध कराया जाने का लक्ष्य तय किया गया था. ये घर घर की महिलाओं के नाम से बनवाएं जा रहे हैं. इसमें वे 30 वर्ग मीटर कार्पेट एरिया में घर बनवा सकती हैं. इसके अलावा जो निम्न एवं मध्यम वर्ग के लोग हैं उन्हें अपना घर बनवाने के लिए कम ब्याज दर पर लोन की सुविधा भी दी गई हैं. इसका संचालन केंद्र एवं राज्य सरकारों के साथ ही केन्द्रीय नोएड एजेंसी की देखरेख में किया जा रहा है.

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर खरीदने के लिए 2.67 लाख रूपये तक की राहत लाभार्थियों को मिल रही हैं. इसकी जानकारी के लिए इस लेख के साथ अंत तक बने रहिये.

pm-awas-yojana-hindi-online-registration-form

क्रेडिट लिंक सब्सिडी स्कीम

इस योजना के तहत मध्यम आय वर्ग के लोगों के लिए क्रेडिट लिंक सब्सिडी योजना चलाई जा रही हैं जिसे सीएलएसएस भी कहते हैं. जोकि आवास योजना की शुरुआत के समय सन 2017 तक था. इसके बाद इसे बढ़ाया गया और सन 2020 कर दिया गया. हालही में इसे और बढ़ा दिया गया हैं अब इसमें अवधि मार्च सन 2021 कर दी गई हैं. इसके तहत मध्यम वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को सब्सिडी प्रदान की जाती हैं. जोकि 2.67 लाख रूपये है.

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्र में लाभार्थियों का सत्यापन हुआ शुरू, पात्रता के नियम यहाँ पढ़ें

प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ किसे मिलेगा

इस योजना को शुरू करने के पीछे केंद्र सरकार का उद्देश्य हर व्यक्ति को आवास प्रदान करना है. इसमें लाभ उन लोगों को दिया जाता हैं जिनके पास खुद का पक्का घर नहीं हैं. यदि किसी व्यक्ति के पास खुद का घर हैं या उसके परिवार के किसी सदस्य के पास घर है. तो वह इसका लाभ प्राप्त करने का हकदार नहीं होगा. इसमें जो लाभार्थी परिवार होगा उसमें पति – पत्नी एवं उनके अविवाहित बच्चे आदि शामिल होने चाहिए.

प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत MIG को कैसे मिलता है फायदा, जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

ईडब्ल्यूएस, एलआईजी एवं एमआईजी श्रेणी क्या है

ऐसे परिवार जिनकी वार्षिक आय 3 लाख रूपये से कम हैं वे ईडब्ल्यूएस यानि कमजोर वर्ग की श्रेणी में आते हैं. जिनकी आय 3 लाख से 6 लाख रूपये सालाना हैं उन्हें एलआईजी श्रेणी में रखा गया हैं. और जिनकी आय 6 लाख रूपये से ले करके 12 लाख रूपये प्रतिवर्ष हैं उन्हें एमआईजी – 1 श्रेणी में रखा गया है. एमआईजी की 2 श्रेणियां हैं पहली एमआईजी – 1 और दूसरा एमआईजी – 2 जिनमें 12 लाख से 18 लाख रूपये सालाना कमाने वाले लोग आते हैं. एमआईजी 1 एवं 2 दोनों श्रेणी के लोगों को ब्याज सब्सिडी 4 प्रतिशत दी जाती हैं जोकि 9 लाख रूपये तक के लोन में दी जाती हैं. जबकि 12 लाख रूपये तक के लोन में यह ब्याज सब्सिडी 3 प्रतिशत हैं.

आवास योजना की सूची जारी, आधार नंबर से अपना नाम खोजने के लिए यहाँ क्लिक करें

प्रधानमंत्री आवास योजना कैसे काम करती है

हम आपको एक उदाहरण के माध्यम से बता रहे हैं कि प्रधानमंत्री आवास योजना किस तरह से काम करती हैं. तो मान लीजिये कि आप एमआईजी – 2 श्रेणी में आते हैं. और आपको एक घर खरीदना हैं जिसकी कीमत 50 लाख रूपये है. यदि इसके लिए आप नगद रूप में 20 प्रतिशत का भुगतान कर देते हैं यानि 10 लाख रूपये का भुगतान कर देते हैं. और बाकी का लोन लेते हैं. तो आप 40 लाख रूपये का लोन लेंगे. जिसमें से इस योजना के मुताबिक 12 लाख पर आपको 3 प्रतिशत की ब्याज पर लोन मिलेगा और बाकी के 28 लाख रूपये का लोन आपको बैंक की सामान्य ब्याज दर के अनुसार प्राप्त होगा.   

क्या आवास योजना में खाली प्लाट पर मकान बनवा सकते हैं

जी हाँ, आवास योजना में खाली प्लाट में मकान बनवाने की स्वीकृति हैं. इसमें लाभार्थी को ब्याज सब्सिडी भी दी जाएगी. लेकिन इसमें कुछ सीमा निर्धारित की गई हैं जैसे, जो लोग एमआईजी – 1 श्रेणी में आते हैं. उनके लिए 160 वर्ग मीटर कार्पेट क्षेत्र निर्धारित किया गया हैं, और जो एमआईजी – 2 श्रेणी के हैं उनके लिए 200 वर्ग मीटर का कार्पेट क्षेत्र निर्धारित किया गया हैं. 

अन्य पढ़ें  

pavan

Director at AK Online Services Pvt Ltd
मेरा नाम पवन अग्रवाल हैं और मैं मध्यप्रदेश के छोटे से शहर Gadarwara का रहने वाला हूँ । मैंने Maulana Azad National Institute of Technology [MNIT Bhopal] से इंजीन्यरिंग किया हैं । मैंने अपनी सबसे पहली जॉब Tata Consultancy Services से शुरू की मुझे आज भी अपनी पहली जॉब से बहुत प्यार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *