पीएम आवास योजना ग्रामीण की लाभार्थी सूची में अपना नाम दर्ज करवाने के लिए जानिए क्या है चयन प्रक्रिया

प्रधानमंत्री आवास योजना मुख्य रूप से दो भागों में बांटा है – ग्रामीण एवं शहरी. देश के हर कोने में इस योजना का लाभ पहुंचें इसलिए इसे 2 कैटेगरी में रखा गया है. चाहे कोई गाँव में रहे या शहर में साकार द्वारा निर्धारित नियम को अपनाकर वो पीएम आवास योजना का लाभ ले सकता है. आवास योजना के अंतर्गत एक रिपोर्ट के अनुसार 2019 के आखिरी तक 1 करोड़ लोगों को लाभ मिल चुका है. सरकार ने योजना में पारदर्शिता रखने के लिए इसकी बहुत आसान और सरल प्रोसेस बनाई है. कोई भी लाभार्थी आसानी से ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन कर लाभ प्राप्त कर सकता है. आवेदन के बाद अधिकारी आपके फॉर्म और दस्तावेज की सत्यता चेक करेंगें, अगर सब कुछ ठीक रहेगा तो आपके खाते में सीधे योजना के तहत पहली किश्त आ जाएगी. इसके बाद की किश्त के लिए आपको फिर से घर की फोटो और दस्तावेज अपलोड करने होंगें. सरकार ने योजना के तहत लाभार्थी से डायरेक्ट संपर्क रखा है, ताकि बीच में कोई बिचौलिया फायदा न ले पाए. आवास योजना के तहत सरकार चयन कैसे करती है, किसको पहले प्राथमिकता मिलती है, आज हम आपको बतायेंगें. अगर आप आवास योजना के तहत आवेदन करने का सोच रहे है तो इन बिन्दुओं पर विशेष ध्यान दें और आवेदन भी उसी के अनुसार करें.

pm-awas-yojana-selection-process-eligibility-hindi

प्रधानमंत्री आवास योजना न्यू लिस्ट में नाम चेक करने के लिए लिंक पर क्लिक करें.

पीएम आवास योजना के अंतर्गत पारदर्शिता –

मोदी सरकार ने सबको पक्का घर देने के उद्देश्य से पीएम योजना की शुरुआत 2014 में की थी. मोदी सरकार की प्रसिध्य और बड़ी योजनाओं में से एक आवास योजना दुसरे देश में भी विख्यात है. इसका मुख्य कारन है इसकी पारदर्शिता. सरकार ने योजना को इसी उद्देश्य से शुरू किया था कि इस योजना के में लाभार्थी और सरकार का डायरेक्ट संपर्क रहेगा, कोई बिचौलिया के द्वारा इसमें न आवेदन होगा न लाभ लिया जायेगा. अगर हम पहले की बात करें तो सरकारी योजना का लाभ लेने के लिए सरकारी दफ्तर के चक्कर लगाने पड़ते थे, अगर काम नहीं हो रहा है तो अफसरों को घूस खिला कर काम होता था. अब सब कुछ ऑनलाइन और स्टेप वाई स्टेप प्रक्रिया के साथ होता है, जिसमें पैसा भी डायरेक्ट लाभार्थी के खाते में आता है न की काश के लिए लाइन लगानी पड़ती है.

पीएम आवास योजना चयन प्रक्रिया, शर्तें –

सरकार ने योजना में पारदर्शिता रखी है, ताकि जो इसके रियल में लाभार्थी है, उन्हें ही इस योजना का लाभ मिलेगा. योजना का लाभ उनको न मिले जो इसके योग्य नहीं है. सरकार ने मुख्यरूप से गाइडलाइन में बताया था कि योजना का लाभ उन्हें ही मिलेगा जिनका नाम SECC 2011 लिस्ट में है. इस लिस्ट में जिनका नाम है उनमें से किसको प्राथमिकता मिलेगी यह ग्राम सभा के अधिकारी निश्चित करते है.

प्रधानमंत्री आवास योजना जरुरी दस्तावेज लिस्ट चेक करने के लिए लिंक पर क्लिक करें.

चलिए हम आपको बताते है किसको मिलेगा पहले लाभ –

  • आवास योजना के अंतर्गत अगर आपका नाम SECC 2011 लिस्ट में है, तो आप इसके लिए आवेदन कर सकते है.
  • लिस्ट में जो अनुसूचित जाति, जनजाति, अल्पसंख्यक एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के लोग है उन्हें पहले प्राथमिकता मिलेगी.

इन लोगों में से भी सरकार ने प्राथमिकता सुनिश्चित की है, जिसके आधार पर उन्हें आवास योजना का लाभ पहले मिल सकता है.

पीएम आवास योजना का पैसा जल्दी चाहते है तो इनके नाम पर डालें फॉर्म –

  • अगर किसी परिवार में 18 से 60 साल के बीच का कोई भी सदस्य न हो मतलब परिवार में 60 के उपर बुजुर्ग एवं नाबालिग ही रहते हो तो उस परिवार को प्राथमिकता मिलेगी.
  • उपर बताई केटेगरी में अगर किसी परिवार की मुखिया महिला हो, और परिवार में कोई भी सदस्य 18 से 60 साल की उम्र का न हो तो उसे भी आवास योजना के तहत प्रथमिकता मिलेगी.
  • जिस परिवार में 25 के उपर वाले सदस्य पढ़े-लिखे न हो, उस परिवार को भी पहले प्राथमिकता मिलेगी. 25 से कम उम्र वाले पढ़े लिखे हो सकते है.
  • जिस परिवार में कोई भी सदस्य 18 से 60 के बीच का न हो और उस परिवार में कोई दिव्यांग (विकलांग) सदस्य हो, उसे भी प्राथमिकता मिलेगी.
  • जिस परिवार के लोग मजदूरी करके अपना जीवनयापन करते है और उनके पास जमीन भी न हो तो उन्हें भी प्राथमिकता मिलेगी.

प्रधानमंत्री आवास योजना सब्सिडी की जानकारी के लिए लिंक पर क्लिक करें.

जिस भी लाभार्थी का चयन होगा, अधिकारीयों द्वारा उसकी जानकारी आवेदन के रजिस्टर मोबाइल नंबर सीधे एसएमएस द्वारा दे दी जाएगी. लाभार्थी को इसकी जानकारी मिलने के बाद अपने करीबी ब्लाक ऑफिस या आवास योजना की आधिकारिक साईट में जाकर लॉग इन आईडी का प्रयोग कर सेंशन पर्ची निकलवा सकता है. सरकार द्वारा आर्डर मिलने के बाद लाभार्थी को 12 महीने के अंदर अपने घर के निर्माण का कार्य शुरू करना होगा, अगर ऐसा नहीं हुआ तो आर्डर कैंसिल भी हो सकता है.

अन्य पढ़ें –

pavan

Director at AK Online Services Pvt Ltd
मेरा नाम पवन अग्रवाल हैं और मैं मध्यप्रदेश के छोटे से शहर Gadarwara का रहने वाला हूँ । मैंने Maulana Azad National Institute of Technology [MNIT Bhopal] से इंजीन्यरिंग किया हैं । मैंने अपनी सबसे पहली जॉब Tata Consultancy Services से शुरू की मुझे आज भी अपनी पहली जॉब से बहुत प्यार हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *