Top 5 This Week

spot_img

Related Posts

PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana 2024 क्या हैं? उद्देश्य, लाभार्थी, आवेदन प्रक्रिया

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना 2024 (लाभलाभार्थीऑनलाइन आवेदनअधिकारिक वेबसाइटहेल्पलाइन नंबरताज़ा खबरस्टेटसरजिस्ट्रेशन pdf, पात्रतादस्तावेज)  PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana ( PM Matsya Kisan Samridhi Saha yojana in hindi,Benefit, Beneficiary, Latest News, Status, Online Apply, Registration pdf, Eligibility, Documents, Official Website, Helpline Number, how to apply, last date, official website)

भारत एक कृषि प्रधान देश है, जहां विभिन्न प्रकार के कृषि कार्यों के साथ-साथ मत्स्य पालन को भी बड़ा महत्व प्रदान किया जाता है। मत्स्य पालन, भारत की अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और यह लाखों लोगों के लिए आजीविका का मुख्य साधन भी है। इस क्षेत्र की समृद्धि और विकास के लिए, भारत सरकार ने विभिन्न पहलें की हैं, जिनमें से एक है “प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना”। आइए इस लेख के माध्यम से इस योजना के बारे में विस्तार से जानते हैं।

Table of Contents

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना क्या है? (What is PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana?)

“प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना” केंद्र सरकार की एक महत्वपूर्ण पहल है जो मत्स्य पालन क्षेत्र को मजबूती प्रदान करने और उसे औपचारिक रूप देने के लिए आरंभ की गई है। इस योजना की घोषणा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई थी और इसे केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी प्रदान की है। योजना के तहत, 6000 करोड़ रुपए का एक बड़ा निवेश मत्स्य पालन क्षेत्र के विकास के लिए किया जाएगा।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य मत्स्य पालन करने वाले किसानों, मछुआरों और मछली पालन से जुड़े मजदूरों को सस्ते दरों पर लोन प्रदान करना है, ताकि वे अपने व्यवसाय को और अधिक विस्तारित कर सकें। इस योजना के जरिए, सरकार मत्स्य पालन क्षेत्र में गुणवत्ता और सुधार की दिशा में काम करना चाहती है, जिससे घरेलू बाजार में मछली और मत्स्य उत्पादों की मांग में वृद्धि हो सके।

इस योजना से न केवल व्यक्तिगत किसानों और मछुआरों को फायदा होगा, बल्कि यह मत्स्य पालन क्षेत्र के समग्र विकास में भी योगदान देगा, जिससे आने वाले समय में एक लाख नई नौकरियों के सृजन की संभावना है। इस प्रकार, “प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना” मत्स्य पालन क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है, जो इस क्षेत्र के विकास और प्रगति को नई दिशा प्रदान करेगा।

Complete Information about PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana in hindi

योजना का नामPM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana
शुरू की गईकेंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थीमछली और मत्स्य पालन करने वाले नागरिक
उद्देश्यमत्स्य पालन क्षेत्र को औपचारिक बनाना और मत्स्य पालन से जुड़े सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों को समर्थन देना
बजट राशि6,000 करोड़ रुपए
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजना
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन ऑफलाइन
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च होगी

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना के उद्देश्य (PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana Objectives)

केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई “PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana” का मुख्य उद्देश्य मत्स्य पालन क्षेत्र में व्यापक सुधार और समर्थन प्रदान करना है। योजना के अंतर्गत, घरेलू बाजार में मछली उत्पादों की गुणवत्ता में सुधार, पर्यावरण संरक्षण की पहल को बढ़ावा, गुणवत्तापूर्ण मछली उत्पादन, व्यवसायिक सुगमता और पारदर्शिता, उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि के लिए जलीय कृषि बीमा कवरेज, मूल्यवर्धन और निर्यात में प्रतिस्पर्धा को बढ़ाना शामिल है। साथ ही, इस योजना के माध्यम से महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने और सुरक्षित कार्य स्थल सृजन करने की दिशा में भी कार्य किया जा रहा है, जो मत्स्य पालन से जुड़े समुदाय के  विकास को सुनिश्चित करता है।

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना के लाभ (Benefits of PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana) 

 

  • वित्तीय निवेश: वित्त वर्ष 2023-24 से 2026-27 तक की अवधि में मत्स्य सेक्टर में 6000 करोड़ रुपए का भारी निवेश किया जाएगा।

  • मछली उत्पादन में वृद्धि: इस योजना से मछली और सी फूड प्रोडक्शन में सहायता मिलेगी, जिससे उत्पादन में बढ़ोतरी होगी।

  • नौकरी के अवसर: मछुआरों, मत्स्य पालन से जुड़े लोगों और युवाओं के लिए नई नौकरियों के अवसर सृजित किए जाएंगे।

  • सब्सिडी में बदलाव: मछली पालन में पारंपरिक सब्सिडी से प्रदर्शन आधारित प्रोत्साहन की ओर बदलाव होगा।

  • डिजिटल प्लेटफॉर्म: 40 लाख छोटे और सूक्ष्म उद्यमों को कार्य आधारित पहचान प्रदान करने के लिए एक राष्ट्रीय मत्स्य पालन डिजिटल प्लेटफॉर्म का निर्माण किया जाएगा।

  • सहकारी समितियों को सहायता: 6.4 लाख सूक्ष्म उद्यमों और 5,500 मत्स्य पालन सहकारी समितियों को संस्थागत ऋण तक पहुंच प्रदान की जाएगी।

  • नौकरियों का सृजन: इस योजना से कुल 1.70 लाख नई नौकरियों के अवसर पैदा होंगे, जिनमें से 75,000 नौकरियां महिलाओं के लिए होंगी।

  • महिला सशक्तिकरण: नौकरी और सुरक्षित कार्य स्थलों के संरक्षण के माध्यम से महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा मिलेगा।

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह–योजना 2024 के लक्ष्य (Objectives of PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana 2024)

  • डिजिटल पहचान का निर्माण: नेशनल फिशरीज डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए मछुआरों, मछली किसानों, और सहायक श्रमिकों की कार्य आधारित डिजिटल पहचान तैयार करना, जिससे उनके स्वयं पंजीकरण की प्रक्रिया सरल और सुगम बने।

  • संस्थागत वित्तपोषण तक पहुंच: मत्स्य पालन से जुड़े सूक्ष्म और लघु उद्यमों को संस्थागत वित्तपोषण तक पहुंच प्रदान करना, जिससे वे अपने व्यावसायिक उद्यमों को विकसित और विस्तारित कर सकें।

  • बीमा प्रोत्साहन: लाभार्थियों को बीमा खरीदने के लिए एकमुश्त प्रोत्साहन प्रदान करना, जिससे वे विभिन्न जोखिमों से अपने उद्यमों और उत्पादन को सुरक्षित रख सकें।

  • प्रदर्शन अनुदान के माध्यम से प्रोत्साहन: नौकरियों के निर्माण और रखरखाव, साथ ही मछली पालन क्षेत्र की मूल्य श्रृंखला दक्षता में सुधार के लिए छोटी और माइक्रो यूनिट्स को प्रदर्शन अनुदान के माध्यम से प्रोत्साहित करना।

  • मछली व मत्स्य उत्पाद सुरक्षा और गुणवत्ता में वृद्धि: मछली और मत्स्य उत्पादों की सुरक्षा और गुणवत्ता प्रणालियों को अपनाने और उनके विस्तार के लिए सूक्ष्म और लघु उद्यमों को प्रोत्साहित करना, जिससे उत्पादों की बाजार में मांग और मूल्यवर्धन हो सके।

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना के लक्षित लाभार्थी (Target Beneficiaries of PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana)

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना के अंतर्गत विविध श्रेणी के व्यक्तियों और संगठनों को लक्षित लाभार्थियों के रूप में चिन्हित किया गया है, जो मत्स्य पालन मूल्य श्रृंखला के विभिन्न चरणों में योगदान देते हैं:

1. मछुआरे और मछली किसान: वे व्यक्ति जो सीधे मछली पालन, उत्पादन और मत्स्य संसाधनों के संरक्षण में संलग्न हैं।

2. मछली श्रमिक: उन व्यक्तियों को भी लाभार्थी के रूप में शामिल किया जाएगा जो मछली पकड़ने, संसाधन, पैकेजिंग या वितरण जैसे कार्यों में शामिल हैं।

3. मछली विक्रेता: वे व्यक्ति जो मछली और मत्स्य उत्पादों का विक्रय करते हैं या मत्स्य पालन मूल्य श्रृंखला में अन्य भूमिकाएं निभाते हैं।

4. मछली किसान उत्पादक संगठन (FFPOs): किसान उत्पादक संगठन जो मछली पालन क्षेत्र में सक्रिय हैं।

5. सूक्ष्म और लघु उद्यम: मालिकाना फॉर्म, साझेदारी फॉर्म, पंजीकृत कंपनियां, सोसायटी, समिति देयता भागीदारी, और सहकारी समितियां जो मत्स्य पालन और जलीय कृषि मूल्य श्रृंखला में सक्रिय हैं।

6. स्टार्टअप्स: ग्राम स्तरीय संगठनों और स्टार्टअप्स जो मत्स्य पालन क्षेत्र में नवाचारऔर विकास को बढ़ावा देते हैं।

7. अन्य लाभार्थी: भारत सरकार के मत्स्य पालन विभाग द्वारा विशेष रूप से लक्षित किए गए अन्य व्यक्ति या संगठन, जो मत्स्य पालन मूल्य श्रृंखला के विभिन्न पहलुओं में योगदान देते हैं।

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना 2024 के लिए पात्रता (Eligibility for PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana 2024)

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना (PM MKSSY) के तहत आवेदन करने के लिए निम्नलिखित पात्रता मानदंड निर्धारित किए गए हैं:

  1. भारतीय नागरिकता: आवेदक को भारत का नागरिक होना चाहिए।

  2. जल कृषि और मछली पालन में संलग्न व्यक्ति: जल कृषि करने वाले किसानों, मछुआरों और मछली पालन करने वाले लोग इस योजना के लिए पात्र हैं।

  3. सूक्ष्म एवं लघु उद्यमी: मत्स्य पालन क्षेत्र के सूक्ष्म और लघु उद्यमी योजना के लिए पात्र होंगे।

  4. महिला पात्रता: इस योजना के लिए महिलाएं भी पात्र हैं, जो मत्स्य पालन और संबंधित क्षेत्रों में सक्रिय हैं।

  5. मछली किसान और उत्पादक संगठन: मछली किसान उत्पादक संगठनों (FFPOs) और किसान उत्पादक संगठन (FPOs) इस योजना के लिए पात्र हैं।

  6. बैंक खाता और आधार लिंकेज: आवेदक का बैंक खाता उनके आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए, जिससे सब्सिडी और अन्य वित्तीय सहायता सीधे उनके खाते में ट्रांसफर की जा सके।

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज (Required Documents for PM Matsya Kisan Samridhi Saha Yojana)

यदि आप प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना (PM MKSSY) के तहत आवेदन करने का इच्छुक हैं, तो निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी:

  1. आधार कार्ड: आवेदक की पहचान और पते का सत्यापन।
  2. निवास प्रमाण पत्र: आवेदक के निवास का प्रमाण।
  3. आय प्रमाण पत्र: आवेदक की आर्थिक स्थिति का प्रमाण।
  4. बैंक खाता पासबुक: आवेदक के बैंक खाता विवरण का प्रमाण।
  5. मोबाइल नंबर: संचार के लिए आवेदक का संपर्क नंबर।
  6. पासपोर्ट साइज फोटो: आवेदक की हालिया फोटोग्राफ।

प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना 2024 के तहत आवेदन कैसे करें? (Application Process)

फिलहाल, केंद्र सरकार द्वारा PM MKSSY के अंतर्गत आवेदन करने की विस्तृत प्रक्रिया और गाइडलाइंस सार्वजनिक नहीं की गई हैं। योजना के लागू होने और आवेदन प्रक्रिया की जानकारी जैसे ही सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी, आवेदकों को सूचित कर दिया जाएगा। इसलिए, इच्छुक आवेदकों को सरकारी अधिसूचनाओं और समाचारों पर नजर रखनी चाहिए ताकि वे समय पर आवेदन कर सकें और इस योजना के तहत लाभ प्राप्त कर सकें। आवेदन संबंधित अधिक जानकारी के लिए संबंधित सरकारी वेबसाइटों और अधिकारिक सूचना पत्रों का अनुसरण करें।

FAQ – 

 

प्रश्न 1: प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना क्या है?

उत्तर: प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना एक केंद्र सरकारी योजना है जिसे मत्स्य पालन क्षेत्र को मजबूती प्रदान करने और मछली पालन से जुड़े लोगों को सहायता प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है।

प्रश्न 2: इस योजना के तहत किस प्रकार का निवेश किया जाएगा?

उत्तर: इस योजना के तहत वित्त वर्ष 2023-24 से 2026-27 तक के चार वर्षों में मत्स्य सेक्टर में 6000 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा।

प्रश्न 3: प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना के लिए कौन पात्र है?

उत्तर: मछुआरे, मछली किसान, मछली श्रमिक, मछली विक्रेता, मछली किसान उत्पादक संगठन, सूक्ष्म और लघु उद्यमी, और अन्य संबंधित व्यक्ति या संगठन इस योजना के लिए पात्र हैं।

प्रश्न 4: प्रधानमंत्री मत्स्य किसान समृद्धि सह-योजना के तहत आवेदन कैसे करें?

उत्तर: वर्तमान में, केंद्र सरकार द्वारा इस योजना के तहत आवेदन प्रक्रिया की विस्तृत जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई है। जैसे ही आवेदन प्रक्रिया और गाइडलाइंस सार्वजनिक की जाएंगी, इच्छुक आवेदकों को सूचित किया जाएगा।

अन्य पढ़ें – 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Popular Articles