ताज़ा खबर

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना Pradhan Mantri Khanij Kshetra Kalyan Yojana (PMKKKY) In Hindi 

केन्द्र सरकार ने प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना ( PMKKKY ) की घोषणा की । यह खनन संबंधित कार्यों से प्रभावित क्षेत्रों के लोगों के कल्याण के लिए शुरू किया गया नया कार्यक्रम हैं |इस कार्य के लिए फंड  जिला खनिज मूलाधार (District Mineral Foundations (DMFs)) से लिया जायेगा |

Pradhan Mantri Khanij Kshetra Kalyan Yojana (PMKKKY) In Hindi

PMKKKY की घोषणा केंद्र मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने 17 सितम्बर को की | इस तरह की योजना जिसमे खदानों के आस-पास रहने वाले लोगो जिनका जीवन किसी न किसी खनन के कार्य से प्रभावित होता आ रहा हैं के लिए, पहली बार आई हैं | मोदी जी ने अपनी स्पीच में एक बार इस बात का जिक्र किया था कि जिन लोगो के क्षेत्र के कारण देश का विकास हो रहा हैं | उन्ही का विकास कहीं न कहीं रुक गया हैं | ऐसे में उनके लिए सोचना बहुत जरुरी हैं | इस दिशा में पहले कदम की घोषणा मोदी जी के जन्मदिवस के दिन प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र के कल्याण योजना के रूप में की गई |

Pradhan Mantri Khanij Kshetra Kalyan Yojana (PMKKKY) Key Points :

प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के मुख्य बिंदु :

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य खदान क्षेत्र के विकास के साथ- साथ वहाँ के रहवासी के कल्याण के लिया कार्य करना हैं |
  • इस योजना के तहत यह भी ध्यान रखा जायेगा कि खनन के कारण वातावरण में जो हानि पहुँच रही हैं उससे कैसे निपटा जाये ? एवम कैसे प्रदुषण को कम किया जाये | खनन के कार्य से क्षेत्र में होने वाले प्रदुषण को कम करना भी इस योजना का उद्देश्य हैं |
  • स्थानीय लोगो के लिए रोजगार के अवसर भी बढायें जायेंगे |

इस योजना के अनुसार  सरकार द्वारा स्वस्थ जीवन शैली की तरफ अधिक ध्यान दिया जायेगा |

खासतौर पर जिन सुविधाओं को PMKKKY में शामिल किया गया हैं वे इस प्रकार हैं –

  1. स्वास्थ्य देखभाल की सुविधा,
  2. स्वच्छ और स्वास्थ्यकारी पीने के पानी की सुविधा
  3. कौशल का विकास,
  4. शिक्षा,
  5. स्वच्छता,
  6. बच्चों और महिलाओं की देखभाल,
  7. विकलांग और वृद्ध लोगों के लिए कल्याणकारी उपाय |

इस सभी बिन्दुओं के आधार पर प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र के कल्याण योजना कार्य करेगी |

इन सभी कार्यो के लिए फंड खनिज मूलाधार (District Mineral Foundations (DMFs)) से लिया जायेगा जिसमे से 60 % फंड का उपयोग पर्यावरण विकास एवम कौशल विकास में किया जायेगा |इसके आलावा फंड व्यव निन्मानुसार किया जायेगा :

  1. जलमार्ग परियोजनाओं।
  2. रेल
  3. पुलों और सड़कों का निर्माण
  4. वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत।
  5. किसानों के लिए सिंचाई की सुविधा

Pradhan Mantri Khanij Kshetra Kalyan Yojana के जरिये सरकार की इच्छा हैं कि खदान के आस-पास रहने वाले लोगो के निचले जीवन स्तर में सुधार आयें जिनमे आदिवासी, जंगली एवम खनन प्रभावित क्षेत्र के लोग आते हैं |

इन सबके लिए लगने वाला फंड DMFs के द्वारा अपने- अपने क्षेत्र से आएगा | इस दिशा में सरकार द्वारा  12 जनवरी 2015 को केंद्रीय सरकार ने खान और खनिज ( विकास और विनियमन) संशोधन अधिनियम पारित किया हैं  |

इसके लिए केंद्र सरकार ने खनिको को पहले ही नोटिस भेज दिया हैं जिसमे :

  1. खनिक जो कि 12/01/15 के पहले ही खनन एक्टिविटी के लिए लीज (Lease) ले चुके हैं वे DMF को दी जाने वाली रोयल्टी पेमेंट से अतिरिक्त भुगतान करेंगे जो कि 30 % अधिक होगा |
  2. जिन खनिको ने लीज 12/01/15 के बाद ली हैं वे रोयल्टी पेमेंट से 10 % अधिक का भुगतान करेंगे |
  3. इस प्रकार मिले अतिरिक्त पेमेंट के द्वारा DMF अपने- अपने जिलो में PMKKKY के अनुसार विकास का कार्य करेंगे |

राज्य सरकार को भी 1957 MMDR Act’s Section 20A के तहत इस योजना के तहत नोटिस भेजा गया हैं जिसके अनुसार DMF से गाइड लाइन के तहत काम करवाना राज्य सरकार की जिम्मेदारी हैं | राज्य सरकारों DMFs के लिए लागू होने वाले नियम एवम दिशा निर्देशों को लागू करना होगा |

दूसरी तरफ DMF को केंद्र सरकार को भी विकास का ब्यौरा देना होगा जिससे होने वाली गतिविधियों में पारदर्शिता बनी रहे | समय सारणी के अनुसार DMF को कार्य करना होगा और PMKKKY के अनुसार रिपोर्ट तैयार करनी होगी |

Update –

29/8/2018

केन्द्रीय खाद्य मंत्रालय की निर्देशक डी वीणा कुमारी ने 31 जुलाई को यह घोषणा की कि प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के दिशानिर्देशों में जिला खनिज फाउंडेशन फण्ड को सुचारू रूप से लागू करने के लिए केंद्र द्वारा जल्द ही संशोधन किया जायेगा. उनके अनुसार ऑडिटिंग परफॉरमेंस को इसमें शामिल किया जायेगा, जोकि एजेंसियों और ग्राम सभा को लागू करने के निर्माण की क्षमता पर ध्यान केन्द्रित करेगी. उन्होंने सीएसई द्वारा तैयार की गई डीएमएफ स्टडी रिपोर्ट जारी करते हुए यह भी कहा कि “जिन क्षेत्रों को मजबूत करने की आवश्यकता हैं उनकी पहचान की जा रही है. हमारी अलग-अलग खनिज प्रभाव वाले राज्यों में राज्य स्तरीय वर्कशॉप्स करने की योजना हैं. एवं फीडबैक से प्राप्त प्रतिक्रियाओं को भी संशोधित दिशानिर्देशों में शामिल किया जायेगा”.

अन्य पढ़े :

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *