ताज़ा खबर

ऋषभ पंत का जीवन परिचय | Rishabh Pant biography in hindi

Rishabh Pant biography in hindi ऋषभ पंत भारत के होनहार और बढ़ते युवा क्रिकेटर हैं. मूल रूप से ये हरिद्वार उत्तराखंड से सम्बन्ध रखते है लेकिन ये दिल्ली के लिए खेलते हैं. ये सिर्फ 19 साल के है, और इन्होंने क्रिकेट के सभी रूपों में बेहतरीन प्रदर्शन किया है. ये विकेटकीपर बल्लेबाज हैं. इन्होंने सन 2015 – 16 की रणजी ट्रॉफी में 22 अक्टूबर सन 2015 को अपने कैरियर की शुरुआत की, लेकिन वे प्रमुख तब हुए जब वे 2016 अंडर – 19 क्रिकेट विश्व कप के लिये भारत की टीम में शामिल होने के लिए नामित किये गए, और उन्होंने प्रसिद्धी तब हासिल की जब टूर्नामेंट के दौरान 18 बॉल्स में अर्द्धशतक पूरा किया था. ऐसे ही इन्होंने अपनी बेहतरीन बल्लेबाजी से दर्शकों के दिलों में जगह बना ली है.

Rishabh-Pant

ऋषभ पंत  का जीवन परिचय

Rishabh Pant biography in hindi

ऋषभ पंत का जीवन परिचय

ऋषभ पंत का जीवन परिचय निम्न तालिका में दर्शाया गया है-

क्र.म. जीवन परिचय बिंदु जीवन परिचय
1. पूरा नाम ऋषभ राजेन्द्र पंत
2. निक नाम पंत
3. जन्म 4 अक्टूबर सन 1997
4. उम्र 19 साल
5. जन्म स्थान हरिद्वार, उत्तराखंड भारत
6. पेशा भारतीय क्रिकेटर
7. राष्ट्रीयता भारतीय
8. पिता राजेन्द्र पंत
9. बल्लेबाजी करने का तरीका लेफ्ट – हैंडेड
10. कद 5 फुट 7 इंच
11. कोच / मेंटर तारक सिन्हा

 

ऋषभ पंत के कैरियर की शुरुआत (Rishabh Pant career) –

ऋषभ पंत खुद का नाम बनाने के लिए किशोरावस्था में एक शहर से दूसरे शहर जाते रहे. मूल रूप से वे उत्तराखंड में पैदा हुए, इन्होंने यहाँ अपने शुरूआती स्कूल की पढ़ाई पूरी की. इसके बाद इनके पिता राजेन्द्र पंत सन 2005 में दिल्ली आ गये, उनके साथ ऋषभ भी दिल्ली आ गये. यहाँ उन्होंने अपनी बाकी की स्कूल की पढ़ाई पूरी की. यह उनका क्रिकेट ही था, जिस वजह से इसके पिता को मजबूर होकर दिल्ली में स्थानांतरित होना पड़ा. दरअसल, जब ऋषभ राजस्थान क्रिकेट दौरे के लिए गये, तब उन्होंने भारत के सबसे महान कोचों में से एक “मिस्टर तारक सिन्हा” के बारे में सुना. ऋषभ ने सिर्फ अपने कैरियर की खातिर ही अपने परिवार को दिल्ली स्थानांतरित करने के लिए आश्वस्त किया.

इनके पिता को पहले से ही अपने बेटे ऋषभ की क्रिकेट की क्षमता के बारे में पता था, और इसलिए वे दिल्ली आने को तैयार हो गए. ऋषभ जब दिल्ली आये तो उन्होंने मिस्टर तारक सिन्हा को उनका कोच बनने के लिए आश्वस्त किया. तारक ने उनके विकेटकीपिंग की क्षमता को देखा, और वे उससे बहुत प्रभावित हुए. इसलिए वे उसे विकेटकीपर के साथ – साथ एक विस्फोटक बल्लेबाज में भी बदलना चाहते थे. असल में, आधुनिक काल में क्रिकेट की दुनिया का समय बदल गया है और वर्तमान में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चयन करने के लिए केवल विकेटकीपर उसे माना जाता है जोकि बल्लेबाजी भी कर सकता है. तारक ने ऋषभ को प्रशिक्षित करने के लिए एडम गिलक्रिस्ट के सैकड़ों वीडियों दिखाए.

ऋषभ पंत गिलक्रिस्ट से बहुत प्रेरित हुए, जिससे उन्होंने गिलक्रिस्ट की तरह ही खेलना शुरू किया. धीरे – धीरे वे उन्हीं की तरह लेफ्ट – हैंडेड विकेटकीपर बल्लेबाजी करने लगे, इससे वे गिलक्रिस्ट की तरह ही विकेटकीपर बल्लेबाज बन गये. उनके कोच तारक सिन्हा ने ऋषभ को एक विस्फोटक विकेटकीपर बल्लेबाज बनाने के लिए सावधानी से और अच्छी तरह प्रशिक्षित किया. ऋषभ ने कई क्लब के लिए खेला और इसके बाद वे लाइम लाइट में आकर्षित हो गए, और इसकी वजह थी इनके विस्फोटक बल्लेबाजी का तरीका. कुछ समय बाद उन्हें दिल्ली रणजी ट्रॉफी के लिए चयनित किया गया और यहाँ उन्होंने अपनी क्रिकेट की क्षमता दिखाई. राहुल द्रविण उन्हें अनदेखा न कर सके और विद्रोही बिहारी भूमिहार ईशान किशन द्वारा अंडर – 19 भारतीय विश्वकप में टीम के नेतृत्व के लिए ऋषभ की सिफ़ारिश की. इस तरह इनका शुरूआती कैरियर रहा. 

ऋषभ पंत का अब तक का कैरियर

ऋषभ पंत ने अपने अब तक के कैरियर में बहुत कुछ हासिल कर लिया है. ऋषभ सिर्फ 18 साल के थे, जब अक्टूबर सन 2015 को इन्होंने दिल्ली रणजी ट्रॉफी में अपने कैरियर की शुरुआत की और इसकी दूसरी पारी में अर्धशतक बनाया. और इसके बाद 23 दिसम्बर सन 2015 को 2015 – 16 विजय हजारे ट्रॉफी में सूची A में अपने कैरियर की शुरुआत की. दिसम्बर 2015 में ही वे 2016 अंडर – 19 क्रिकेट विश्वकप के लिए भारत का नेतृत्व करने के लिए नामित किये गये.

बांग्लादेश में सन 2016 अंडर – 19 विश्वकप में पंत 267 रन बनाकर भारत के दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले व्यक्ति बने. 1 फरवरी सन 2016 को टूर्नामेंट के दौरान इन्होंने 18 बॉल्स में अर्द्धशतक पूरा किया. 6 फरवरी सन 2016 को वे दिल्ली डेयरडेविल्स द्वारा 10 लाख रूपये तक के आधार मूल्य से 1.9 करोड़ रूपये तक के लिए ख़रीदे गए. उसी दिन उन्होंने अंडर – 19 विश्वकप में भारत के लिए शतक बनाया, और सेमीफाइनल में भारत का मार्ग दर्शन किया.

दिल्ली डेयरडेविल्स के इस प्रतिभाशाली स्टार ने 3 मई सन 2016 को अपने पहले मैच में गुजरात लायंस के खिलाफ 40 बॉल्स में 69 रन बनाये. कुइनटन डेकोक के साथ उनकी साझेदारी अद्भुत थी. उन्होंने सही मायने में अपनी शानदार बल्लेबाजी की शैली, अपने काम के प्रति समर्पण व्यक्तित्व और तेज के साथ दर्शकों को प्रभावित किया. रणजी ट्रॉफी के 2016 – 17 के सत्र में महाराष्ट्र के खिलाफ एक मैच में पंत ने 308 रन बनाये. इससे ऋषभ सबसे कम उम्र के तीसरे और कुल मिलाकर चौथे भारतीय क्रिकेट के खिलाड़ी बन गए है, जिन्होंने प्रथम श्रेणी के क्रिकेट में तिहरा शतक बनाया.

8 नवंबर सन 2016 को पंत ने झारखंड के खिलाफ रणजी ट्रॉफी में दिल्ली के लिए खेलते हुए 48 बॉल्स में शतक बनाकर एक रिकॉर्ड कायम कर दिया. जिससे देश के लोग उनके प्रदर्शन से बहुत प्रभावित हुए. इस वर्ष की रणजी ट्रॉफी सत्र में केवल पांच मैच में पंत ने 44 छक्के लगाये. जनवरी सन 2017 में उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ उनकी श्रंखला के लिए भारत की टी – 20 इंटरनेशनल टीम में शामिल किया गया है. इस तरह इनका अब तक का कैरियर बहुत ही शानदार रहा है.

अन्य पढ़ें –

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

One comment

  1. today rishabh pant played one of the finest innings of IPL. He smashed 128 not out runs. India is in good hands.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *