स्क्रीन मिररिंग क्या है और कैसे करें | What is Screen Mirroring in Hindi

स्क्रीन मिररिंग क्या है, कैसे करें, डाउनलोड एप्प, स्मार्ट फोन, जियो फोन, एंड्राइड (What is Screen Mirroring in Hindi) (App, Download, Work, on Laptop, Iphone, TV)

आजकल दिन प्रतिदिन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में विकास होता ही जा रहा है और हमारे सही प्रकार के कामों को सरलता का रूप प्राप्त हो रहा है. आज हम आपको एक ऐसे टेक्नोलॉजी के बारे में बताने वाले हैं, जो स्क्रीन मिररिंग के नाम से जानी जाती है. इस टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से हम अपने छोटी स्क्रीन को एक बड़े पर्दे पर देख सकते हैं.आज के इस महत्वपूर्ण लेख में हम आप सभी लोगों को स्क्रीन मिररिंग क्या है और यह कैसे काम करती है एवं इसे कैसे किया जाता है इस विषय पर संपूर्ण रूप से जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

screen mirroring in hindi

जानिए क्या है गूगल मीट एप्प, एवं कैसे एक्सेस करते हैं इसे.

मीडिया स्ट्रीमिंग क्या है

मीडिया स्ट्रीमिंग के जरिए आप किसी भी अपने बड़े डिवाइस में इंटरनेट की सहायता से नेटफ्लिक्स और युटुब जैसे प्लेटफार्म की वीडियो का आनंद ले सकते हैं. इसमें हमें स्क्रीन स्क्रीमिंग करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है, बस हमें अपने इंटरनेट कनेक्शन को अपने टीवी से कनेक्ट करना है या फिर किसी भी प्रोजेक्टर पर कनेक्ट करना है और फिर हम अनेकों प्रकार के मीडिया स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर सकते हैं और एक बड़े स्क्रीन पर देख सकते हैं.

स्क्रीन मिररिंग और स्ट्रीमिंग में भिन्नता

स्क्रीन स्क्रीमिंग तकनीक में अपने किसी भी डिजिटल डिवाइस को किसी अल्टरनेट डिवाइस से कनेक्ट कर सकते हैं और फिर अपने सारे मेन डिजिटल स्क्रीन को किसी अन्य अल्टरनेट डिजिटल स्क्रीन से शेयर कर सकते हैं और इसमें हमें इंटरनेट की आवश्यकता नहीं होती है, इसमें हम अपने मेन डिवाइस में जो भी करेंगे वह आपके अल्टरनेट डिजिटल स्क्रीन पर दिखाई देगा. स्ट्रीमिंग की तकनीक में हमें इंटरनेट की आवश्यकता पड़ती है और इसमें हम अपने किसी भी बड़े डिस्टल स्क्रीन पर इंटरनेट की सहायता से यूट्यूब और नेटफ्लिक्स जैसे स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म के वीडियो को आसानी से देख सकते हैं.

जानिए नेटफ्लिक्स क्या है और इसे कैसे डाउनलोड करते हैं.

वास्तव में स्क्रीन मिररिंग क्या होता है

हम इस तकनीक में अपने लैपटॉप कंप्यूटर टेबलेट या फिर स्मार्टफोन जैसे डिजिटल डिवाइस को किसी भी एक अल्टरनेट डिस्टल डिवाइस के साथ स्क्रीन मिररिंग तकनीक की सहायता से अपने किसी भी अल्टरनेट डिजिटल डिवाइस को कनेक्ट करके अपने स्क्रीन को बिना किसी इंटरनेट की सहायता से साझा कर सकते हैं. इस तकनीक में हमें टेबल या फिर जैसे तकनीक का सहारा लेना पड़ता है और तब जाकर हम स्क्रीन स्क्रीमिंग के प्रक्रिया को पूरा कर पाते हैं. इस तकनीक में हम अपने मुख्य स्क्रीन की कॉपी को अल्टरनेट स्क्रीन पर देख सकते हैं और इस प्रकार से हम पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन या की-नोट की प्रेजेंटेशन किसी भी स्क्रीन पर इस प्रक्रिया के वजह से देख सकते हैं.

स्क्रीन मिररिंग में कैपेबिलिटी की समस्या

ज्यादातर हम किसी भी डिवाइस को स्क्रीन मिररिंग नहीं कर सकते हैं और इस प्रक्रिया को पूरा करने में हमें अनेकों प्रकार की समस्याएं भी देखने को मिलती है. जब हम किसी दूसरी कंपनी के द्वारा बनाए गए किसी भी प्रकार के डिवाइस को किसी अन्य कंपनी के डिवाइस के साथ कनेक्ट करते हैं, तो इस प्रक्रिया में दोनों ही डिवाइस एक दूसरे के साथ कनेक्ट होने के लिए कैपेबल नहीं होते और यही कारण है, कि इस प्रक्रिया को आसानी से पूरा नहीं किया जा सकता. हम किसी भी एप्लीकेशन के सहायता से भी अपने किसी भी डिवाइस को एक अल्टरनेटिव डिवाइस के साथ कनेक्ट नहीं कर सकते हैं.उदाहरण के लिए एप्पल का कोई भी डिवाइस एप्पल के किसी भी डिवाइस के साथ आसानी से स्क्रीन मिररिंग करने के लिए कैपेबल होता है और इसी प्रकार से आप बिना किसी रूकावट के स्क्रीम मिररिंग कर पाएंगे.

आईपी एड्रेस क्या है, एवं इसे कैसे फाइंड करते हैं जानिए.

स्क्रीन मिररिंग कैसे काम करता है

यदि हम किसी भी डिजिटल डिवाइस को किसी अन्य डिजिटल डिवाइस के साथ कनेक्ट करने का प्रयास करते हैं, तो हमें इस प्रक्रिया में दो प्रकार के कंपोनेंट की आवश्यकता होती है, पहला कंपोनेंट वह होता है, जिसके माध्यम से हम अपने स्क्रीन को शेयर करना चाहते हैं और दूसरा कंपोनेंट उस दूसरे डिवाइस के स्क्रीन मिररिंग को रिसीव करने का काम पूरा करेगा. उदाहरण के तौर पर समझो तो आईफोन एप्पल डिवाइस एप्पल एयरप्लेन के साथ आसानी से स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया को पूरा करता है और वहीं पर क्रोमबुक गूगल कास्ट के जरिए स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए सक्षम माना जाता है. जब दोनों डिवाइस एक दूसरे के साथ कनेक्ट होने के लिए कैपेबल होंगे, तो वह स्क्रीन मिररिंग के प्रोटोकॉल को फॉलो करते हुए एक दूसरे के साथ कनेक्ट हो जाते हैं और फिर इस प्रकार से हम एक स्क्रीन को दूसरे स्क्रीन पर देख सकते हैं. यदि कोई भी डिवाइस एक दूसरे के साथ कनेक्ट होने के लिए कैपेबल नहीं है, तो ऐसे में डिट्टो जैसी क्रॉस प्लेटफार्म कैपेबिलिटी के जरिए हम एक इनकैपेबल डिवाइस को कैपेबल करके स्क्रीन मिररिंग आसानी से कर सकते हैं.

अपने एंड्रॉयड डिवाइस को किसी टीवी के साथ कैसे स्क्रीन मिररिंग करें

कोई भी क्रोमकास्ट कैपेबल डिवाइस दूसरे क्रोमकास्ट कैपेबल डिवाइस के साथ आसानी से कनेक्ट हो सकता है और स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया को पूरा कर सकता है. गूगल कास्टिंग के द्वारा हम स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं और यह एंड्राइड 4.4.2 में सुविधा प्रदान की गई थी और यह लेटेस्ट वर्जन के एंड्रॉयड में आसानी से कनेक्ट हो सकता है. हालांकि इस प्रक्रिया के में हमें इंटरनेट का सहारा लेना होगा और यह एक मीडिया स्क्रीमिंग के जरिए ही स्क्रीन शेयर कर देता है. चलिए जानते हैं, कि एंड्रॉयड डिवाइस में किसी भी टीवी को कैसे स्क्रीन मिररिंग करें.

  • सबसे पहले आपको अपने एंड्राइड फोन में क्रोमकास्ट ओपन करना है और फिर वाईफाई नेटवर्क के साथ जुड़ जाना है.इसके बाद आप गूगल होम एप्लीकेशन को डाउनलोड करें और फिर इसका इस्तेमाल करें.
  • सबसे पहले आपको गूगल होम एप्लीकेशन को अपने फोन में ओपन करना है और फिर इसके “मैन्युबार” में जाना है.
  • गूगल होम के “मैन्युबार” में जाने के बाद आपको “कास्ट स्क्रीन” नामक विकल्प पर क्लिक करना है.
  • इतना करने के बाद आपको “ऑडियो” नामक विकल्प का चयन करना है और फिर इसके बाद आपको “कास्ट स्क्रीन ऑडियो” के विकल्प के अंदर जाना है.
  • इतना करने के बाद आपको अपने फोन में क्रोमकास्ट के जरिए अपने टीवी के क्रोमकास्ट के साथ कनेक्ट करना है और फिर आसानी से स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया को पूरा कर देना है.
  • इस प्रक्रिया के जरिए आप अपने स्क्रीन को मिररिंग तो कर सकते हैं, परंतु आपको इसमें अपने इंटरनेट डाटा को भी खर्च करना होगा, तभी आपकी यह प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूरी हो सकेगी.

रिलाइंस जियो डीटीएच प्लान्स ऑफर क्या हैं, जानिए आवेदन करने की जानकारी.

माइक्रोसॉफ्ट वायरलेस डिस्प्ले एडाप्टर के साथ स्क्रीन मिररिंग

अगर आप चाहे तो माइक्रोसॉफ्ट वॉयरलैस एडाप्टर के जरिए अपने स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं. इस प्रक्रिया में हमें ज्यादा कुछ करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है, बस कुछ ही स्टेप मे आप अपने स्क्रीन को दूसरे स्क्रीन में देख सकते हैं. चलिए जानते हैं, कि आप माइक्रोसॉफ्ट वॉयरलैस डिस्पले एडाप्टर के जरिए अपने स्क्रीन मिनरिन को कैसे पूरा कर सकते हैं .

  • माइक्रोसॉफ्ट वॉयरलैस डिस्पले एडाप्टर को इंस्टॉल कर के इस्तेमाल करना काफी आसान है.
  • सबसे पहले आपको अपने टीवी में वायरलेस डिस्प्ले एडाप्टर से यूएसबी और एचडीएमआई वायर से टीवी को प्लगइन करें.
  • इतना करने के बाद आपको एडाप्टर के जरिए पियर-टू-पियर वाईफाई नेटवर्क का प्रयोग करते हुए अपने मेन डिवाइस को रिसीवर डिवाइस के साथ कनेक्ट करें. इस प्रकार से आप अपने मेन डिजिटल डिवाइस को किसी अल्टरनेट डिजिटल डिवाइस स्क्रीन के साथ स्क्रीन मिरर करने की प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं.
  • इस प्रक्रिया में माइक्रोसॉफ्ट मीरा कास्ट नामक तकनीक का इस्तेमाल करते हुए इस प्रक्रिया को पूरा करता है.

आज के इस महत्वपूर्ण लेख के जरिए आप लोगों को पता चल गया होगा, कि स्क्रीन मिररिंग क्या है और इसे कैसे करते हैं. इस तकनीक का इस्तेमाल करते हुए आप किसी भी एक डिवाइस को किसी भी बड़े डिवाइस के साथ कनेक्ट करके बड़े स्क्रीन को देखने का मजा ले सकते हैं.

FAQ

Q : स्क्रीन मिररिंग का मतलब क्या है ?

Ans : स्क्रीन मिररिंग के जरिए हम अपने किसी डिजिटल डिवाइस गैजेट को किसी अन्य डिजिटल डिवाइस के साथ कनेक्ट करके स्क्रीन शेयर कर सकते हैं.

Q : स्क्रीन मिररिंग क्यों करें ?

Ans : जब हम किसी छोटे स्क्रीन के गैजेट से किसी बड़े स्क्रीन के डिजिटल गैजेट में किसी भी प्रकार की चीज को शेयर करना चाहते हैं और उसमें देखना चाहते हैं, तो हम इस परिस्थिति में स्क्रीन मिररिंग करते हैं.

Q : क्या हम किसी भी एंड्राइड या आईओएस एप्लीकेशन के माध्यम से स्क्रीन मिररिंग कर सकते हैं ?

Ans : बिल्कुल भी नहीं यह इस प्रकार संभव नहीं.

Q : क्या किसी भी कंपनी की डिवाइस किसी अन्य कंपनी ब्रांड के साथ स्क्रीन मिररिंग के फीचर को सपोर्ट करेगी ?

Ans : बिल्कुल भी नहीं किसी भी अन्य कंपनियां ब्रांड के साथ किसी अन्य कंपनी का ब्रांड के गैजेट को हम स्क्रीन मिररिंग नहीं कर सकते.

Q : स्क्रीन मिररिंग के लिए क्या हमें सेम कंपनी के गैजेट की आवश्यकता होती है ?

Ans : स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया केवल सेम टू सेम कंपनी के डिजिटल गैजेट के साथ आसानी से हो पाती है.

Q : स्क्रीन मिररिंग करने के लिए क्या करें ?

Ans : स्क्रीन मिररिंग की प्रक्रिया के बारे में जानने के लिए आर्टिकल को शुरू से अंतिम तक अवश्य पढ़ें.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *