शादी का लड्डू हिंदी कविता | Shadi Ka Laddu Vivah Kavita Poem In Hindi

Shadi Ka Laddu Vivah Kavita Poem In Hindi खासतौर पर शादी एवम महिला संगीत के फंक्शन के लिए लिखी गई हैं |भारत में शादी की परिभाषा अलग हैं इसे जिंदगी की सबसे अनमोल रस्म माना जाता हैं फिर भले ही जोर जोर से चिल्लाये “शादी का लड्डू जो खाये पछताये जो ना खाये वो भी पछताये”|

शादी समारोह को यादगार बनाने के लिए(Anchoring script)

Vivah Kavita Poem In Hindi..
 

शादी का लड्डू हिंदी कविता

Shadi Ka Laddu Vivah Kavita Poem In Hindi

मेरे देश का एक बड़ा झोल  
पैदा होते ही बजता शादी का ढोल

सपने दिखाते शादी के ही हर दम
पढ़ले बेटा नहीं तो दहेज़ मिलेगा कम

शादी के लड्डू कभी किसी को ना भाये
पर बिना इसे खाये रहा भी ना जाये

कैसी विकट परिस्थिती हैं भैया
रोटी गोल बनेगी तो ही मिलेगा सैंया

सात फेरों का हैं यह काला जादू
ख़ुशी मनाये दुनियाँ फंस जाये राजा बाबू

जो लड़की होती थी घर की रानी
सांतवे फैरे के बाद बन जाये नौकरानी

काला जादू ना कहे तो क्या कहे
जो खाये पछताए जो ना खाये वो भी पछताए
कर्णिका पाठक

शादी समारोह में Anchoring script in Hindi में खासतौर पर हिंदी कवितायेँ बोलने का चलन हैं इसी लिए Shadi Ka Laddu Vivah Kavita Poem In Hindi आपके लिए लिखी गई हैं |

अन्य पढ़े :

Karnika
कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं | यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here