ताज़ा खबर

मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना हरियाणा | Mukhyamantri Vivah Shagun Yojana Haryana in Hindi

मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना हरियाणा  (Mukhyamantri Vivah Shagun Yojana Haryana in Hindi) [Application Form]

अक्सर यह देखा जाता है कि गरीब परिवारों के लोग अपनी बेटियों को बोझ समझते हैं. इसका कारण होता है उनकी आर्थिक स्थिति में कमी. जिसके चलते उनके विवाह एवं उनकी शिक्षा में मुश्किलें उत्पन्न होती है. किन्तु देश के अलग – अलग राज्यों में इस कमी को खत्म करने के लिए सरकारें कई प्रयास करती रही है. कुछ समय पहले वर्तमान हरियाणा सरकार ने भी राज्य की बेटियों के विवाह के लिए उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान करने की एक योजना शुरू की है, इसका लाभ उन कन्याओं को जोकि गरीबी रेखा से नीचे के परिवार से सम्बन्ध रखती है, उन्हें दिया जाता है.

Mukhymantri-Vivah-Shagun-Yojana-Haryana

लांच की जानकारी (Launched Details)

1. योजना का नाम मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना हरियाणा
2. पुरानी योजना का नाम इंदिरा गाँधी प्रियदर्शिनी विवाह शगुन योजना
3. योजना का लांच मई, सन 2005
4. योजना का री – लांच सन 2015
5. योजना की घोषणा हरियाणा  राज्य सरकार द्वारा
6. सम्बंधित विभाग अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग
7. योजना के लाभार्थी हरियाणा  की विवाह योग्य महिलाएं
8. हेल्पलाइन नंबर 0172-2707009
9. ईमेल पता scbcharyana@gmail.com
10. अधिकारिक वेबसाइट http://haryanawelfareschemes.org/

विशेषताएं (Features)

  • योजना की लाभार्थी :- इस योजना का लाभ हरियाणा राज्य की उन कन्याओं को प्रदान किया जायेगा, जोकि गरीबी रेखा से नीचे के परिवार की हो और साथ ही विधवा या निराधार महिला हो या उनकी बेटियां हो, महिला खिलाड़ी हो या अनाथ महिलाएं हो. सभी को सहायता प्रदान की जायेगी.
  • योजना में सहायता :- इस योजना में बेटियों को सम्मानित करने के लिए और उनका आनंदमय विवाह कराने के लिए वित्तीय सहायता की राशि ‘कन्यादान’ के रूप में उन्हें प्रदान की जाएगी. ताकि वे और उनके परिवार वाले उनके विवाह का उत्सव अच्छे से मना सकें.
  • बैंक खाता :- इस सामाज कल्याण योजना के सभी आवेदकों को दी जाने वाली वित्तीय राशि सीधे उनके बैंक खाते में ट्रान्सफर की जाएगी.
  • विवाह के बाद :- इस योजना के तहत हरियाणा की लाभार्थी उम्मीदवारों को विवाह के बाद 6 महीने तक इस योजना में आवेदन करने की भी अनुमति दी गई है. किन्तु इसके लिए उन्हें सहायता की राशि प्रदान नहीं की जाएगी.
  • मंजूरी देने वाले अधिकारी :– इस योजना के आवेदकों को अपना आवेदन फॉर्म विवाह तारीख के एक महीने पहले जमा करना होगा. यदि आवेदक विवाह के बाद फॉर्म जमा करता है, तो ऐसी स्थिति की मंजूरी के लिए सक्षम अधिकारी इस प्रकार है –
  1. विवाह तारीख के 1 महीने बाद तक – जिला कल्याण अधिकारी.
  2. विवाह तारीख के 2 से 3 महीने के अंदर तक – डिप्टी कमिश्नर.
  3. विवाह तारीख के 4 से 6 महीने के अंदर – सम्बंधित विभागीय आयुक्त.

लाभार्थियों को दी जाने वाली सहायता (Grant For Beneficiaries Under MVSY)

  • विधवाओं के लिए :- उन विधवाओं को जिनकी आय 1 लाख रूपये से कम है, इस योजना के तहत उन्हें 51,000 रूपये की सहायता प्रदान की जाएगी. इनमें से 46,000 रूपये विवाह समारोह के समय या उससे पहले प्रदान किया जायेगा. और बाकि 5,000 रूपये की राशि का भुगतान विवाह हो जाने के बाद विवाह प्रमाण पत्र जमा करने के 6 महीने के अंदर किया जायेगा.
  • गरीब परिवार, विधवा, तलाकशुदा, अनाथ के लिए :- इस योजना में अनुसूचित जाति, जनजाति की गरीबी रेखा से नीचे आने वाली महिलाओं और विधवा / तलाकशुदा / निराधार, अनाथ आदि महिलाओं को जिनका वेतन 1 लाख रूपये से अधिक न हो, उन्हें 41,000 रूपये प्रदान किये जाएंगे. इनमें से 36,000 रूपये की सहायता विवाह समारोह के समय या उससे पहले दी जाएगी और बचे हुए 5,000 रूपये विवाह के बाद 6 माह तक में प्रमाण पत्र जमा करने पर दिए जायेंगे.
  • सामान्य श्रेणी के गरीब परिवार के लिए :- योजना के अंतर्गत सामान्य श्रेणी की गरीब परिवार से सम्बन्ध रखने वाली और ओबीसी / अनुसूचित जाति / जनजाति की गैर -बीपीएल परिवार की महिलाओं को जिनके पास 5 एकड़ से कम भूमि हो और उनकी सालाना आय 1 लाख रूपये से कम हो वे 11,000 रूपये की राशि प्राप्त कर सकेंगे. 10,000 रूपये विवाह के समय या उससे पहले और बाकि के 1000 रूपये विवाह के बाद 6 महीने के अंदर विवाह प्रमाण पत्र जमा किये जाने पर दिए जायेंगे.
  • खेल महिलाओं के लिए :- राष्ट्र स्तरीय या राज्य स्तरीय महिला खिलाड़ियों को सरकार द्वारा उनके विवाह के लिए 31,000 रूपये की राशि प्रदान की जाएगी. इसके उम्मीदवारों के लिए कोई भी आय एवं जाति का मापदंड तय नहीं किया गया है. इसके लिए कोई भी खेल खेलने वाली महिला खिलाड़ी सक्षम है.

पात्रता मापदंड (Eligibility Criteria)

  • हरियाणा का निवासी :- इस योजना के लिए आवेदन करने की अनुमति केवल हरियाणा  राज्य के अंर्तगत आने वाली महिलाओं को प्रदान की गई है.
  • महिला एवं पुरुष की उम्र :- विवाह के लिए दी जाने वाली वित्तीय सहायता 18 साल या उससे ऊपर की महिलाओं को 21 साल या उससे ऊपर के पुरुष से विवाह करने पर दी जाएगी.
  • एक परिवार से 2 बेटियों के लिए :- इस योजना का लाभ एक परिवार की केवल 2 बेटियों के लिए प्रदान किये जाने का प्रावधान है. इससे ज्यादा होने पर भी केवल 2 बेटियों को ही इसका लाभ प्राप्त होगा.
  • विधवा या तलाकशुदा के लिए :- इस योजना में उन महिलाओं को शामिल होने की अनुमति है, जो विधवा या तलाकशुदा हो. किन्तु उन्होंने इससे पहले इस योजना का लाभ नहीं उठाया हो तभी उन्हें इसके लिए आवेदन करने की अनुमति मिलेगी.

आवश्यक दस्तावेज (Required Documents)

  • आधार कार्ड :- किसी भी उम्मीदवार को किसी भी योजना में आवेदन करने से पहले उन्हें उनके आधार कार्ड की फोटोकॉपी जमा करना आवश्यक होता है. इसलिए इस योजना में भी यह दस्तावेज फॉर्म के साथ अटैच होना आवश्यक है.
  • डोमिसाइल प्रमाण पत्र :- हरियाणा के निवासियों को इस योजना के तहत दी जाने वाली राशि का लाभ उठाने के लिए अपना डोमिसाइल प्रमाण पत्र फॉर्म के साथ देना होगा.
  • जाति प्रमाण पत्र :- इस योजना में अलग – अलग जाति के लोगों को अलग – अलग राशि प्रदान की जानी है. इसके चलते सभी आवेदकों को उनका जाति का प्रमाण भी देना होगा.
  • आयु प्रमाण :- इस योजना में विवाह योग्य कन्याओं की उम्र निश्चित की गई है. इसलिए इसमें विवाह करने वाले महिला और पुरुष दोनों का आयु प्रमाण पत्र जमा करना आवश्यक है.
  • तलाक का प्रमाण :- यदि कोई महिला तलाकशुदा है और वह दोबारा विवाह करना चाहती है तो उसे उसके पहले तलाक के दस्तावेज फॉर्म के साथ अटैच करने होंगे.
  • बीपीएल कार्ड :- इस योजना में गरीबी रेखा से नीचे आने वाली महिलाओं को सहायता प्रदान की जानी है, इसलिए उन्हें अपना बीपीएल श्रेणी में आने का प्रमाण देना आवश्यक है.
  • विवाह आमंत्रण पत्र :- विवाह आमंत्रण पत्र यह सुश्चित करेगा कि लाभार्थी का विवाह होने वाला है. इसके बिना लाभार्थी को लाभ प्राप्त नहीं होगा.
  • महिला एवं पुरुष की बोर्ड की अंकसूची :- इस योजना में विवाह करने वाले महिला एवं पुरुष का शिक्षित होना भी आवश्यक है, इसके लिए उन्हें उनके बोर्ड की परीक्षा की अंकसूची जमा करना आवश्यक है.
  • बैंक खाते की जानकारी :- इस योजना में दी जाने वाली राशि लाभार्थी के खाते में जमा की जाएगी. इसलिए लाभार्थी को अपने बैंक की पासबुक जिसमें खाता नंबर, आईएफएससी कोड और ब्रांच का नाम मौजूद हो, जमा करना होगा.
  • आय प्रमाण :- योजना में आय का मापदंड भी दर्शाया गया है. इसके लिए लाभार्थी के माता – पिता या अभिभावक की आय का प्रमाण फॉर्म के साथ जमा करना जरुरी है.

आवेदन करने की प्रक्रिया (How to Apply For MVSY Through Online and Offline Process)

इसके लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही माध्यमों से आवेदन किया जा सकता है, जोकि इस प्रकार है –

ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया :-

  • इस योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले उम्मीदवार को इसकी अधिकारिक वेबसाइट http://haryanawelfareschemes.org/ पर जाना होगा.
  • इसके बाद इसके होम पेज पर आपको ‘यूजर रजिस्ट्रेशन’ बटन पर क्लिक करना होगा. यहाँ आपके सामने एक नई विंडो खुलेगी. जहाँ आपसे आपकी कुछ जानकारी पूछी जाएगी. यह सब सही – सही भरकर ‘चेक अवैलेबिलिटी’ विकल्प पर क्लिक करें.
  • इसके बाद आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलेगा, यहाँ भी आपको सभी जानकारी को भरकर ‘सबमिट’ बटन पर क्लिक करना होगा.
  • जैसे ही आप यह सबमिट करते हैं आपको रजिस्ट्रेशन नंबर प्राप्त होगा. यह आगे की प्रक्रिया में काम आयेगा, इसलिए इसे सुरक्षित रखें.
  • यह हो जाने के बाद आपके आवेदन की प्रक्रिया पूरी हो जाती है. इसके बाद जिला कल्याण अधिकारी वित्तीय सहायता की मंजूरी देंगे और इसका भुगतान आवेदक के आधार कार्ड से लिंक बैंक खाते के माध्यम से किया जायेगा.
  • इस योजना से जुड़ी सभी जानकारी के बारे में जानने के लिए इस लिंक http://haryanascbc.gov.in/mukhya-mantri-vivah-shagun-yojna-0 पर भी क्लिक किया जा सकता है.

ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया :-

  • इस योजना में आवेदन फॉर्म जिला या तहसील कल्याण अधिकारी के कर्यालय से प्राप्त किया जा सकता है. यह प्राप्त करने के बाद इसमें पूछी जाने वाली सभी जानकारी को भरें.
  • इसके बाद इस फॉर्म में दिए गये सभी दस्तावेजों को फॉर्म के साथ अटैच कर इसे सम्बंधित तहसील या जिला कल्याण अधिकारी के पास निर्धारित प्रारूप में जमा कर दें.
  • जिला कल्याण कार्यालय द्वारा सभी आवश्यक औपचारिकताये पूरी हो जाने के बाद यह केस सम्बंधित डिप्टी कमिश्नर को भेजा जायेगा, जोकि इस योजना के तहत स्वीकृति अथॉरिटी होगी.
  • इसके बाद वे जिला कल्याण अधिकारी को आवेदकों के बैंक खाते में योजना में दी जाने वाली राशि जमा करने की अनुमति देंगे और उनके खाते में राशि जमा कर दी जाएगी.

निष्कर्ष 

इस योजना में दी जाने वाली राशि का उपयोग केवल लाभार्थी के विवाह के लिए किया जायेगा. यह बेटियों के विवाह में होने वाली वित्तीय मुश्किलों को कम करने के लिए हरियाणा  राज्य सरकार द्वारा उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम है.  

 अन्य पढ़े

  1. मुख्यमंत्री किसान एवं सर्वहित बीमा योजना उत्तरप्रदेश 2018
  2. छत्तीसगढ़ सहज बिजली बिल योजना
  3. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
  4. सुकन्या समृद्धि योजना 

 

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *