Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

क्रोध ने हमको बांधा हैं या हमने क्रोध को

एक  बार एक व्यक्ति एक महात्मा के पास गया और उसने उस महात्मा से कहा कि हे ! महात्मा मुझे बहुत क्रोध आता हैं | कृपया कोई उपाय बताये | तब महत्मा ने धीरे से मुस्कुरा कर हाथ आगे बढाया और अपने हाथ की मुट्ठी बांधकर कहा – हे भाई ! मेरी यह मुठ्ठी बंद हो गई हैं खुल नहीं रही हैं | तब उस व्यक्ति ने आश्चर्य से कहा हे महात्मा| आपने ही यह मुठ्ठी बाँधी हैं आप खुद ही इसे खोल सकते हैं |

guru chaila

तब महात्मा ने मुस्कुराकर कहा हे भाई ! जब यह मुठ्ठी मुझे बांधकर नहीं रख सकती तब क्रोध तुम्हे कैसे बाँध सकता हैं मन के जिस कोने में क्रोध को पकड़ रखा हैं उसे वहाँ से जाने दो | मन में उसे बैठाकर नहीं रखोगे तो उससे दूर करने का उपाय भी नहीं पूछना होगा |

Moral Of The Story:

बुराई खुद जन्म नहीं लेती | हमारा मन ही उसे जगह देता हैं | जब हम अच्छा बुरा जानते हैं तब उन्हें अपने अन्दर पनपने से भी रोक सकते हैं | जैसे एक शराबी जानता हैं कि शराब पीने से उसका कोई लाभ नहीं | बल्कि भविष्य में उससे उसे तकलीफ ही होगी |तो क्या वह अपने आपको इस बुराई से दूर नहीं कर सकता ?

बुराई को जान कर पाल कर रखना, रखने वाले की गलती होती हैं बुराई की नहीं |

अन्य हिंदी कहानियाँ एवम प्रेरणादायक प्रसंग के लिए चेक करे हमारा मास्टर पेज

हिंदी कहानी

Karnika

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

One comment

  1. Nice website

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *