मुज्जफरनगर में स्थित शुक्रताल धाम का रोचक इतिहास | Shukratal Temple History in hindi

शुक्रताल का इतिहास एवं इससे जुड़ी मान्यताएं क्या हैं (Shukratal Temple (Muzaffarnagar UP) History in hindi)

प्राचीन काल से ही हमारे भारतवर्ष में आस्था के प्रति लोगों का गहरा लगाव रहता है. भारतवर्ष का प्रत्येक हिंदू वर्ग अपनी धार्मिक मान्यताओं को और संस्कृति सभ्यताओं को पूरा करने एवं उसको सजाने के प्रति हमेशा सहज रहता है. आज हम जानेंगे महाभारत काल से जुड़ी हुई कुछ ऐसी ही एक धार्मिक स्थल के बारे में जो आज के समय में भी लोगों द्वारा इसके बारे में सुनने और कहने को मिलता है. राजधानी दिल्ली से करीब 150.2 किलोमीटर दूर स्थित उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में शुक्रताल नामक एक तीर्थ स्थल मौजूद है. कहा जाता है, कि इस तीर्थ स्थल की कहानी करीब महाभारत काल से जुड़ी हुई है.

आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे मुजफ्फरनगर में स्थित शुक्रताल नामक तीर्थ स्थल के बारे में और इससे जुड़ी कुछ मान्यताओं के बारे में भी हम इस आर्टिकल के माध्यम से आप लोगों को बताएंगे. यदि आप भी इस अनकही एवं अनसुनी धार्मिक तीर्थ स्थल के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें.

Shukratal Temple History hindi Muzaffarnagar

शुक्रताल का इतिहास क्या कहता है ?

मुजफ्फरनगर में स्थित शुक्रताल नामक तीर्थ स्थल पर दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं और यहां पर गंगा नदी में स्नान कर के अपने आस्था को पावन करते हैं. मुजफ्फरनगर के शुक्रताल तीर्थ स्थल पर अक्षवत नामक वृक्ष है, जो अपनी विशाल जताएं फैलाए हुए हैं.

यह पावन वृक्ष बहुत ही पुराना एवं प्राचीन काल का है. इस धार्मिक वृक्ष को श्रद्धालु जन पूजते एवं श्रद्धा सुमन करते हैं. इस तीर्थ स्थल पर मोक्ष के लिए समय-समय पर भागवत गीता का आयोजन किया जाता है और यहां पर भागवत कथाएं भी कहीं एवं सुनाई जाती हैं.

यहां का पूरा परिचय एक तीर्थ स्थल के रूप में ही विख्यात है. इस धार्मिक स्थल पर अनेकों प्राचीन मंदिर, धर्मशालाएं, समागम आदि स्थापित किए गए हैं. प्राचीन काल में धर्मस्थल गंगा नदी के बिल्कुल समीप था और वहां से गंगा नदी का प्रवाह हुआ करता था. मगर इस समय में गंगा नदी इस धार्मिक स्थल से काफी दूर हो चुकी हैं. इस धार्मिक स्थल में मंदिरों का दर्शन करने के लिए काफी सीढ़ियां चढ़कर जाना होता है. काफी सीढ़ियां चढ़ने के बाद आप ऊपर चढ़कर मंदिर में पूजा पाठ एवं देवी देवताओं के दर्शन कर सकते हैं.

गंगा नदी का इतिहास व महत्त्व जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रताल धार्मिक स्थल के बारे में पौराणिक एवं धार्मिक कथाएं क्या कहते हैं ?

भारतवर्ष के उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर नामक शहर में शुक्रताल नामक एक पौराणिक एवं ऐतिहासिक तीर्थ स्थल मौजूद है। पौराणिक एवं धार्मिक कथाओं के अनुसार वर्तमान काल से करीब 5000 साल पूर्व में महाभारत के काल में हस्तिनापुर के तत्कालीन महाराज पांडव वंशज राजा परीक्षित को शराब मुक्ति हेतु.

यहां के गंगा किनारे में स्थित अक्षवत वृक्ष है और इसी वृक्ष के नीचे करीब 5000 सालों पूर्व राजा परीक्षित को श्राप मुक्ति दिलाने के लिए को 88000 ऋषि-मुनियों एवं स्वयं सुखदेव जी महाराज ने श्रीमद् भागवत कथा को सुनाई थी.

कहा जाता है कि राजा परीक्षित के द्वारा एक अनजाने में गलती हो गई थी, जिससे उनको एक ऋषि के पुत्र ने सर्प मृत्यु का श्राप दे दिया था. श्री सुखदेव मुनि ने पांडव वंश के राजा परीक्षित को श्राप मुक्ति हेतु अक्षवत वृक्ष के नीचे 88 हजार ऋषि-मुनियों के साथ श्रीमद्भागवत गीता का कथा सुनाया था और राजा परीक्षित को श्राप से मुक्ति दिलाया था.

धृतराष्ट्र पांडू और विदुर का जन्म और उनके विवाह से जुडी जानकारी जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

धार्मिक वट वृक्ष के बारे में क्या और कथाएं एवं मान्यताएं हैं ?

शुक्रताल के धार्मिक स्थल पर प्राचीन काल से विराजमान वट वृक्ष की पूजा अर्चना आज भी हिंदू श्रद्धालु लोग करते हुए नजर आते हैं. यह धार्मिक वृक्ष आज भी अपनी मान्यताओं और अपनी मनमोहक छटा विराजे हुए इस स्थल का धार्मिक महत्व बनाए रखे हैं.

इस वटवृक्ष से संबंधित यदि हम बात करें तो कहा जाता है, कि जब सभी वृक्षों के पत्ते सूख कर जमीन पर गिरने लगते हैं, तब भी यह वृक्ष हरा भरा रहता है अर्थात इस धार्मिक वृक्ष के पत्ते कभी भी सूखते ही नहीं हैं. इस वृक्ष से संबंधित यदि हम आपको एक और बात और बताएं तो पता चलता है कि यह वृक्ष बहुत ही विशाल है और विशाल होने के बावजूद भी इसकी जताएं उत्पन्न नहीं होती और यह बहुत ही आश्चर्य चकित कर देने वाली बात है.

रामायण सीता का अद्भुत स्वयंवर जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

इस धार्मिक वट वृक्ष को लेकर क्या पौराणिक एवं आधुनिक मान्यताएं हैं ?
शुक्रताल में मौजूद यह धार्मिक वृक्ष बहुत ही पुराना एवं प्राचीन काल का है। धार्मिक वृक्ष प्राचीन काल का होने के बावजूद भी बहुत ही नया और जवान किस्म का लगता है.

इस धार्मिक स्थल के बारे में यदि हम आपको और बताएं तो इस धार्मिक वृक्ष के लगभग 200 मीटर की दूरी पर एक कुआं स्थित है और लोगों के अनुसार यह पांडव कालीन काल का कुआं है.

इस धार्मिक स्थल के स्थानीय निवासी बताते हैं कि यह बहुत ही प्राचीन एवं धार्मिक स्थानों में से एक है, मगर दुर्भाग्य से यहां की सरकारें इसके प्रचार-प्रसार का कार्यभार नहीं उठाती हैं.

मगर इसके बावजूद इस धार्मिक स्थल के पीठाधीश्वर ओमानंद महाराज बताते हैं कि इस धार्मिक स्थल की पूजा अर्चना एवं दर्शन करने हेतु कई श्रद्धालु देश के कोने-कोने से आते रहते हैं. पीठाधीश्वर स्वामी ओमानंद बताते हैं , कि यहां पर श्रद्धालु आकर श्रीमद्भागवत गीता एवं सत्यनारायण भगवान की कथा भी रुक कर करीब 1 हफ्तों तक कहते एवं सुनाते हैं.

सत्य नारायण की पूजा एवं कथा महत्व जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

इस स्थान पर आने वाला प्रत्येक श्रद्धालु इस धार्मिक वृक्ष के नीचे श्रीमद्भागवत गीता एवं सत्यनारायण भगवान का कथा सुनता है और कहता है. ऐसा कहते हैं कि जो भी श्रद्धालु अपने सच्चे मन एवं हृदय से इस प्राचीन एवं धार्मिक वट वृक्ष के नीचे धागा बांधकर कोई भी मनोकामना मानते हैं , तो उनकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है और जो भी श्रद्धालु सच्चे हृदय से यहां पर बैठकर सत्यनारायण भगवान या श्रीमद् भागवत कथा तो कहता सुनाता है, वह परम मोक्ष को भी प्राप्त होता है.

हमारे देश में बहुत सी ऐसी धार्मिक विरासत हैं, धरोहर हैं, जो अपने अंदर विशाल अद्भुत एवं अविश्वसनीय शक्तियों को लेकर विराजमान. मगर आज हमारे देश में कहीं ना कहीं एक अवश्य कमी दिखाई देती है, कि लोग इन प्राचीन विरासत एवं पौराणिक धरोहरों के प्रचार-प्रसार हेतु कोई भी ठोस कदम नहीं उठाते हैं.

आज हमारे देश के प्रत्येक नागरिक एवं सरकारों का यह कर्तव्य बनता है कि जो प्राचीन धरोहर एवं प्राचीन धार्मिक स्थल आज भी मौजूद हैं उनका प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए, जिससे अनजान श्रद्धालु अपनी आस्था को और भी बढ़ा कर सकें.

आज हमारे देश में धार्मिक आस्था को और भी उजागर करने की आवश्यकता है, हमारा देश हमारी संस्कृति एवं आस्था के लिए ही विश्व विख्यात है. आज के समाज में हमें आवश्यकता है , कि हमारे देश का प्रत्येक नागरिक अपने धार्मिक सभ्यता एवं प्राचीन काल के धरोहर की रक्षा करें. हमें यह बेहद खुशी होगी, कि हमने अपने इस प्लेटफार्म के जरिए आप सभी लोगों को इस धार्मिक स्थल के बारे में जानकारी प्रदान की है और इसका प्रचार-प्रसार हमने अपने स्तर पर करने की कोशिश की है.

आज हम आपसे यह निवेदन करते हैं, कि हमारे द्वारा प्रस्तुत यह धार्मिक लेख आप सभी लोगों को अपने मित्र जन एवं परिजनों के साथ शेयर करना होगा. आप जितना इस लेख को फैलाएंगे उतना ही इस धार्मिक स्थल के बारे में लोगों को ज्यादा से ज्यादा जानकारी हो सकेगी. 

Other links –

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं
Karnika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *