ताज़ा खबर

स्नेप चैट क्या है इसके फीचर्स और इसे डाउनलोड कैसे करें | Snapchat history features Use download in hindi

Snapchat history features Use download in hindi इन्टरनेट के इस्तेमाल ने लोगों से जुड़ने के कई माध्यम बनाए. इन बीच ईमेल का दौर कब आया और कब गया किसी को पता ही नहीं चला. लोगों के पास कई ऐसे माध्यम आ गये जिसकी सहायता से वह उन् सभी लोगों से जुड़ सकता है, जिनसे एक लम्बे अरसे तक मुलाक़ात नहीं होती. कई तरह के सोशल साइट्स मसलन वाट्सऐप, फेसबुक, हाइक, इन्स्टाग्राम आदि ने लोगों के बीच अपनी महत्वपूर्ण जगह बना ली है. स्नैपचैट भी इसी में एक है. ये भी एक सोशल साईट एप्लीकेशन है जिसे इन्टरनेट द्वारा चलाया जा सकता है. यूजर इसकी सहायता से फोटो, वीडियो आदि कैप्चर कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त आप इसमें अपना ‘स्टोरी’ स्नैप कर सकते हैं, 24 घंटे में जमा हुए सारी स्टोरी को ये एप्लीकेशन आपके स्नैपचैट फॉलोवर तक पहुँचा देता है. साथ ही इस ऐप के इस्तेमाल से यूजर अपने दोस्तों तक अपनी तथा उनकी पसंदीदा वीडियो, फोटो आदि शेयर कर सकता है. इन सब कामों के लिए स्नैप चैट वाई- फाई का इस्तेमाल करता है. स्नैप के तौर पर ये दोस्तों को 10 सेकंड तक दिखाई देता है और उसके बाद वहाँ से ग़ायब हो जाता है. अतः सन्देश देखते वक़्त देखने वाले को स्क्रीन पर अपनी उंगली जमाई रखनी होती है.

snapchat

स्नेप चैट क्या है इसके फीचर्स और इसे डाउनलोड कैसे करें

Snapchat history features Use download in hindi

मई 2013 में ‘इलेक्ट्रॉनिक प्राइवेसी इनफार्मेशन सेंटर’ ने फ़ेडरल ट्रेड कमीशन के पास ये शिकायत दर्ज की कि स्नैप चैट लोगों को झूठे तौर पर ये बात मनवाना चाहता है कि इसके सर्वर से सभी साझा की गयी तस्वीरें पूरी तरह से हट जाती हैं. नीचे इस एप्लीकेशन का विस्तृत वर्णन किया जा रहा है.

स्नैप चैट क्या है (What is Snapchat)

स्नैप चैट एक एप्लीकेशन है जो फोटो और वीडियो के माध्यम से सन्देश एक यूजर से दूसरे यूजर तक पहुंचाता है. इसकी अनोखी खासियत ये है कि एक समय के बाद साझा की गयी तस्वीरें ख़ुद ब ख़ुद इसमें से ग़ायब हो जाती हैं. सन्देश अल्पकालीन होने की वजह से यूजर अपने फ़ोन से स्नैप सन्देश का स्क्रीनशॉट लेकर तस्वीर की सूरत सेव रख सकता है. यूजर अपने स्नैप अपने दोस्तों से साझा करने से पूर्व सेव करके रख सकता है. इसकी मक़बूलियत बहुत कम समय में ही शिखर छूने लगी, जिसे देख कर फेसबुक ने इसे 3 बिलियन डॉलर में खरीदना चाहा. स्नैप चैट के संस्थापकों ने इस ऑफर को खारिज कर दिया. कालांतर में फेसबुक ने इसकी नक़ल करते हुए ‘स्लिंग शॉट’ नामक एक एप्लीकेशन निकाला था, किन्तु वो लोगों में कामयाब न हो सका.

स्नैपचैट अन्य सोशल साईट से भिन्न कैसे है (How is Snapchat different from other social media)

स्नैप चैट की एक खासियत जो इसे अन्य सोशल साइट्स से अलग बनाता है कि इसमें सन्देश पाने वाले और भेजने वाले में व्यक्तिगत संपर्क स्थापित होता है. साथ ही इसमें वीडियो चैट की व्यवस्था है. इस एप्लीकेशन में मौजूद ‘हियर’ विकल्प पर क्लिक करने पर, यदि चुने गए यूजर का चैट विंडो खुला होता है, तो उसे इसकी सूचना मिल जाती है. सुचना पाने वाला यूजर भी यदि इस विकल्प को चुन लेता है, तो दोनों में वीडियो चैटिंग शुरू हो जाती है. चैट ख़त्म होने के बाद ये पूरी तरह से एप्लीकेशन से हट जाता है.

इसी तरह अन्य सोशल साइट्स में साझा की गयी तस्वीरें या तो लोगों में आम हो जाती हैं अथवा तब तक निबोक्स में पड़ी रहती हैं, जब तक यूजर उसे ख़ुद डिलीट नहीं कर देता है, किन्तु स्नैपचैट में ऐसा नहीं है. इसमें तस्वीरों अथवा वीडियो के माध्यम से साझा किया गया सन्देश एक समय के बाद ख़ुद ब ख़ुद ग़ायब हो जाता है. इसे स्नैप कहा जाता है. यूजर किसी स्नैप का जवाब देने के लिए साधारण मेसेज का भी इस्तेमाल कर सकता है.

स्नैपचैट का इतिहास (Snapchat history)

स्नैप चैट लोगों के लिए सन 2011 में शुरू हुआ था. शुरूआती दस्तावेज़ों के अनुसार स्टाफोर्ड विश्वविद्यालय का एक छात्र रेगी ब्राउन ने ईवन स्पाईजेल के पास ‘डीसअप्पिअरिंग पिक्चर एप्लीकेशन’ का विचार लेकर पहुँचा, जिसकी वजह ये थी कि ईवन स्पाईजेल के पास पहले के व्यापारिक अनुभव थे. इन दोनों ने मिलकर इस विचार में बॉबी मर्फी नाम के अपने एक और दोस्त को शामिल किया, जिसे कोडिंग का बहुत बेहतर अनुभव था. ये तीनों इस विचर पर लगातार कुछ महीने तक काम करते रहे, ताकि जल्द से जल्द इस आईडिया का पहला प्रारूप जन्म ले. इस दौरान स्पाईजेल और मर्फी ने स्नैप चैट के लॉन्च के कुछ सप्ताह पहले ब्राउन का इसमें शामिल होना अस्वीकार कर दिया. शुरूआती समय में स्नैप चैट की टीम ने इसकी उपयोगिता और तकनीकी पहलुओं पर ध्यान देने की कोशिश की और ब्रांडिंग को द्वीतीय स्थान पर रखा.

8 मई 2012 में रेगी ब्राउन ने स्पाईजेल को एक ईमेल भेजा, जिसमे उसने कंपनी में अपने शामिल होने तथा एक मानक शेयर की बात कही. इस ईमेल के जवाब में स्नैप चैट के वकील ने कहा कि इस एप्लीकेशन के निर्माण में रेगी ब्राउन का किसी भी तरह से कोई भी रचनात्मक उपस्थिति नहीं थी. इसके उपरान्त अटोर्नी ने रेगी ब्राउन के ऊपर धोखा धड़ी का आरोप लगाते हुए कहा कि रेगी ब्राउन झूठ कह कर ख़ुद को इस एप्लीकेशन का इन्वेन्टर बता रहा है. साथ ही लॉ फर्म ने ये कहा कि रेगी ब्राउन ने इस एप्लीकेशन के निर्माण में कोई भी कार्य नहीं किया है, अतः इस कंपनी में उनका किसी तरह के शेयर का हक़ नही बनता. सितम्बर 2014 में ब्राउन ने इस बात पर स्पाईजेल और मर्फी से समझौता कर लिया और रेगी को स्नैप चैट कंपनी से 157.5 मिलियन डॉलर की प्राप्ति हुई, साथ ही रेगी को स्नैप चैट के असली इन्वेन्टर के रूप में पहचान भी मिली.

स्नैपचैट की विशेषताएँ (Snapchat features list)

किसी भी सोशल साईट का समय समय पर अपडेट आता रहता है. अतः स्नैप चैट भी समय समय पर अपने विशेष फीचर्स के साथ आता रहा है. नीचे स्नैप चैट के कुछ महत्वपूर्ण फीचर्स दिए जा रहे हैं,

  • स्नैप चैट के सबसे नए अपडेट में वीडीयो और वौइस् कॉलिंग की सेवा को बेहतर बनाया गया गया है. इससे यह समझना आवश्यक है कि इसके यूजर बहुत अधिक हैं, जो इसका प्रयोग वीडियो तथा वौइस् कॉलिंग के लिए करते हैं.
  • स्नैप चैट के (9.27.5.0) अपडेट में कुछ और भी बेहतर अपडेट किये गये. इस अपडेट में फॉण्ट पहले से अधिक खूबसूरत थे. साथ ही इसमें स्नैप के लिए लिखे जाने वाले साधारण सन्देश अब एक पंक्ति से अधिक लिखे जा सकते थे. अंततः यूजर दो पंक्तियाँ कुछ स्पेशल कैरेक्टर के साथ लिख सकता था.
  • यूजर इस एप्लीकेशन में बिटमोजी कार्टून का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए स्नैप चैट अकाउंट को बिटमोजी से संलग्न करना पड़ता है.
  • स्नैप चैट ओपन करते ही, यूजर को सर्वप्रथम कैमरा व्यू देखने मिलता है. इसमें यूजर अपने फोटो अथवा वीडीयो स्नैप कर सकता है. इसके बाद डूडल विकल्प में जा कर यूजर स्लाइडिंग रेनबो का इस्तेमाल करके अपने स्नैप को अधिक कलरफुल बना सकता है. रंग चुने और संपादित करने के लिए यूजर अपनी उंगली का इस्तेमाल करता है.
  • यूजर अपने स्नैप मे अतिरिक्त ‘स्पेशल टेक्स्ट’ डाल सकता है. ये बहुत आसान है. एक स्नैप कैपचर कर लेने के बाद स्नैप पर ही एक कोने में ‘टी’ का सिंबल प्रदर्शित होता है. इस पर क्लिक करने पर ये विकल्प यूजर को उसके स्नैप में ईमोजी तथा टेक्स्ट डालने का मौक़ा देता है. इसका इस्तेमाल करके अपने स्नैप को और भी आकर्षक बनाया जाता है.
  • स्नैप चैट की सेटिंग्स में जाकर यूजर अपने सन्देश भेजने वालों को चुन सकता है. तात्पर्य ये है कि, यूजर द्वारा चुने गये लोग ही उसे मैसेज कर सकते हैं. साथ ही यूजर अपने स्नैप चैट स्टोरी को भी उन लोगों से शेयर कर सकता है सिर्फ़ और सिर्फ जिससे वो शेयर करना चाहता है.
  • यूजर किसी भी समय अपने स्नैप चैट का यूजर नेम संपादित कर सकता है. कई लोग इतने मुश्किल यूजर नेम इस्तेमाल करते हैं कि याद रखना मुश्किल हो जाता है. यूजर अपनी सुविधानुसार इसे संपादित कर सकता है. कैमरा व्यू को स्वाइप करने से कांटेक्ट स्क्रीन सामने आ जाती है. वहाँ पर माई फ्रेंड के विकप्ल को चुन कर मित्र सूची मे जाया जा सकता है. यहाँ पर अपने किसी भी स्नैप चैट मित्र के यूजर नेम को अपनी तरह से संपादित किया जा सकता है.
  • मित्रों के साथ साथ किसी भी समय अपना यूजर नेम भी संपादित किया जा सकता है. कांटेक्ट स्क्रीन में दिख रहे अपने यूजर नेम पर डबल टैप करने पर क्विक मेनू प्रदर्शित होने लगता है. इस पर क्लिक करके यूजर अपना नाम संपादित कर सकता है.
  • स्नैप चैट के ईमोजी को वीडियो में दिखाई दे रहे वस्तुओं से भी जोड़ा जा सकता है. इससे ये सभी ईमोजी वीडियो में तैर रहे उन वस्तुओं के साथ घूमता दिखाई देता है जो अत्यंत ही आकर्षक है. इस फीचर का लाभ उठाने के लिए नीचे दिए गये निर्देशों का पालन करें :
  • स्नैप चैट चालू करके रिकॉर्ड बटन दबाएँ, इससे वीडियो रिकॉर्डिंग शुरू हो जायेगी.
  • इसके बाद स्क्रीन के दाहिने ‘टी’ विकल्प के पास दिए गये ईमोजी विकप्ल को चुनें.
  • वहाँ दिए गये ईमोजी में अपने पसंदीदा ईमोजी को चुने और वीडियो में संपादित करें.
  • ईमोजी से ऊँगली हटाते समय, इसके पास वीडियो में जो भी वस्तु होगी, ईमोजी उससे संलग्न हो जाएगा.
  • पिंचिंग का इस्तेमाल करके ईमोजी का आकार और गुरुनान नियंत्रित किया जा सकता है.

स्नैपचैट स्टोरीज (Snapchat story ideas)

स्नैप चैट स्टोरी किसी यूजर के द्वारा उसके अपने सेक्शन में पोस्ट किया गया वीडियो अथवा फोटो होता है, जिसे यूजर के सभी मित्र देख सकते हैं. एप्लीकेशन में दाहिने तरफ स्वाइप करने से ‘स्टोरीज’ का विकल्प देखने मिलता है. इसमें निहित ‘रीसेंट अपडेट’ में यूजर को उसके मित्रों के ‘स्टोरीज’ देखने मिलते हैं. यूजर अपने किसी भी मित्र के नाम पर टैप करके उसकी ‘स्टोरी’ देख सकता है. ये ‘स्टोरी’ 24 घंटे के लिए अपडेट रहती है, और इस अंतराल में कई बार देखा जा सकता है. 24 घंटे के बाद कोई भी ‘स्टोरी’ ख़ुद ब ख़ुद डिलीट हो जाती है. यदि यूजर कोई स्टोरी अपडेट करता है, तो उसका मित्र उसके स्टोरी को स्टोरी सेक्शन में जा के देख सकता है. हालाँकि सभी यूजर प्राइवेसी सेटिंग में जा कर ये तय कर सकते हैं कि उनके स्टोरी को कौन देख सकता है और कौन नहीं.

स्नैप चैट स्टोरी का इस्तेमाल क्यों करें (Why Snapchat is used)

इसकी सहायता से एक स्नैपचैट यूजर अपने दिन भर की कहानी को एक बार में कह सकता है. इससे अपने दोस्तों को ये बताने में आसानी होती है कि पिछले 24 घंटे में यूजर कौन कौन सा दिलचस्प काम किया है. वैसे लोग जिनके फॉलोअर की संख्या बहुत अधिक है, वे लोग इसका फायदा बहुत अच्छी तरह से एड के तौर पर इस्तेमाल कर सकते है. स्नैप चैट को मुख्यतः प्राइवेट मैसेजिंग एप्लीकेशन के तौर पर जाना जाता है, किन्तु इसके ‘स्टोरी फीचर्स’ का प्रयोग प्रचार के लिए भी बहुत अच्छे तरीक़े से किया जा रहा है. कई बड़े सितारे और बड़ी हस्तियाँ अपने स्नैप कॉड को लोगों से शेयर करते हैं, जिसका इस्तेमाल करके उनसे जुड़ा जा सकता है तथा उनके क्रियाकलापों से जुड़ा रहा जा सकता है.

स्नैप चैट की कार्यविधि (Snapchat works)

स्नैप चैट लगभग हर तरह के लोग इस्तेमाल करते हैं, किन्तु युवाओं और किशोरो में ये बहुत अधिक प्रचलित है. स्नैप चैट गूगल प्ले स्टोर अथवा दुसरे प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है. ये एप्लीकेशन स्मार्ट फ़ोन, आई फ़ोन, डोमो आदि में इस्तेमाल किया जाता है. नीचे एक एक करके आवश्यक बिन्दुओं पर प्रकाश डाला जा रहा है:

  • सबसे पहले किसी भी एप्प स्टोर से अपने आई –पैड अथवा आई- फ़ोन में ये एप्लीकेशन डाउनलोड करें, यदि आपके पास एंड्राइड है तो आप गूगल प्ले स्टोर का इस्तेमाल कर सकते हैं
  • स्नैप चैट एप्लीकेशन खोलने पर एक सफ़ेद भूत सा कुछ देखने मिलता है. वहाँ पर दिया गया विकल्प ‘साइन अप’ चुनने पर नया स्नैप चैट अकाउंट बनाने का मौक़ा मिलता है.
  • स्नैप चैट अकाउंट बनाते समय आपको अपना नाम, ईमेल आईडी, जन्म तारिख, मोबाइल नंबर आदि देना होता है. इन सभी के साथ अपने अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए पासवर्ड डालना होता है.
  • इसके बाद एक यूजर नेम सेट करना होता है. ये यूजर नेम दुसरे स्नैप चैट यूजर को दिखाई देता है. अतः यूजर नेम डालते समय ख़ुद से सम्बंधित कोई विशेष जानकारी का प्रयोग नहीं करना चाहिए.
  • अकाउंट बन जाने के बाद स्नैप चैट की तरफ से जांच के तौर पर एक ‘वेरिफिकेशन मेसेज’ आएगा. अपना फ़ोन नंबर वेरीफाई करने से कालांतर में पासवर्ड बदलने में सुविधा होती है.
  • अपने फ़ोन के कांटेक्ट लिस्ट से संगलन करने पर स्नैप चैट ऐप सभी कांटेक्ट को स्कैन करता है और जिन मोबाइल नम्बर का पंजीकरण स्नैप चैट के अधीन है, उसे आपके फ्रेंड लिस्ट में शामिल कर देता है. हालाँकि ये कार्य आवश्यक नहीं है.
  • अपने चुने गये मित्रों का यूजर नेम ‘एड बाई यूजर नेम’ के विकल्प में डाल कर यूजर अपने दोस्तों को अपने स्नैप चैट लिस्ट में शामिल कर सकता है.    

अन्य पढ़ें –

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति दीपावली वेबसाइट की एक अच्छी लेखिका है| जिनकी विशेष रूचि मनोरंजन, सेहत और सुन्दरता के बारे मे लिखने मे है| परन्तु साईट के लिए वे सभी विषयों मे लिखती है|
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *