एसपीजी (SPG Security) क्या हैं (full form, Salary) | प्रधानमंत्री की सुरक्षा कैसे की जाती हैं

0

एसपीजी सुरक्षा क्या है ( फुल फॉर्म, ) SPG Security kya hai (full form), Guard Salary, Weapon, Recruitment Process, SPG commando salary प्रधानमंत्री की सिक्योरिटी कौन करता करता हैं कैसे करता हैं.एसपीजी कमांडो सैलरी, एसपीजी कमांडो का फुल फॉर्म, एसपीजी कमांडो कैसे बने

दुनिया में जितने भी देश हैं उन सभी देश के प्रधानमंत्री को सुरक्षा देने के लिए किसी न किसी एजेंसी को काम पर लगाया जाता है। हमारे देश के प्रधानमंत्री श्रीमान नरेंद्र मोदी जी की सुरक्षा करने का जिम्मा एसपीजी के ऊपर है। एसपीजी में वही काबिल लोग भर्ती होते हैं जो विभिन्न प्रकार के टेस्ट को पास करते हैं क्योंकि यहां पर बात इंडिया के प्रधानमंत्री की है इसलिए प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए भर्ती होने से पहले जो अभ्यर्थी सभी प्रकार के टेस्ट को पास करता है उसे ही प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए एसपीजी में भर्ती किया जाता है, तो आइए जान लेते हैं कि आखिर एसपीजी क्या है अथवा एसपीजी का मतलब क्या है।

एसपीजी सुरक्षा (SPG Security)

पूरा नाम:स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप  
सिद्धांत:बहादुरी, समर्पण, सिक्योरिटी  
निर्मित:8 अप्रैल, 1985  
कुल कर्मचारी:  3000
सालाना बजट:429.05 करोड़  
देश:  भारत
हेड क्वार्टर:नई दिल्ली  
डायरेक्टर:अरुण कुमार सिन्हा  
वेबसाइट:  Spg.nic.in
काम:‌स्पेशल लोगों को सिक्योरिटी देना  

एसपीजी सुरक्षा क्या है SPG Security kya hai

जिस प्रकार देश में अन्य लोगों की सुरक्षा करने के लिए अलग-अलग प्रकार की सेना है उसी प्रकार भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा करने की जिम्मेदारी एसपीजी सेना के ऊपर है। आपको बता दें कि ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ भारत के प्रधानमंत्री की सुरक्षा करती है। इसके अलावा भी इंडिया में ऐसे कई लोग हैं जिन्हें एसपीजी सुरक्षा प्राप्त है।

भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री के अलावा भारत के पूर्व पीएम की सुरक्षा, उनके परिवार वालों की सुरक्षा एसपीजी करती है। हालांकि पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार वाले एसपीजी सुरक्षा ले या ना ले यह उनके मन के ऊपर होता है। कुछ वीआईपी नेताओं की भी सुरक्षा आवश्यकता पड़ने पर दी जाती है और आवश्यकता खत्म हो जाने पर एसपीजी सुरक्षा उनसे हटा ली जाती है।

एसपीजी का फुल फॉर्म क्या है? SPG Full Form

SPG का अंग्रेजी में पूरा नाम Special Protection Group है, वहीं हिंदी में इसका पूर्ण नाम विशेष सुरक्षा बल है।

एसपीजी में भर्ती होने के लिए जवानों को कठिन परिश्रम करके सभी प्रकार की प्रक्रिया को पूरा करना पड़ता है। उसके बाद जो योग्य जवान होते हैं, उन्हें ही इसमें शामिल किया जाता है।

एसपीजी सिक्योरिटी क्यों दी जाती है?

हमारे देश का प्रधानमंत्री देश के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण व्यक्ति होता है। जो हमेशा देश के हित के बारे में सोचता है। कई बार प्रधानमंत्री को मारने की प्लानिंग ऐसे लोग करते हैं जो देश के दुश्मन होते हैं, उन्हीं लोगों से प्रधानमंत्री की सुरक्षा करने के लिए प्रधानमंत्री को एसपीजी सिक्योरिटी दी जाती है, ताकि प्रधानमंत्री पर किए जाने वाले किसी भी संभावित हमले को टाला जा सके अथवा हमला होने पर प्रधानमंत्री की हर प्रकार से रक्षा की जा सके।

जो भी जवान एसपीजी सिक्योरिटी में शामिल होते हैं उन्हें पहले ही यह कह दिया जाता है कि उनका सबसे पहला कर्तव्य है प्रधानमंत्री की सुरक्षा करना। फिर चाहे उन्हें उनकी सुरक्षा के लिए अपनी जान ही क्यों न देनी पड़े या फिर दुश्मन की जान ही क्यों न लेनी पड़े।

वर्तमान में एसपीजी सिक्योरिटी किसे दी जाती है?

 इंडिया में एसपीजी सुरक्षा भारत के प्रधानमंत्री को दी जाती है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब कहीं पर जाते हैं तब उनके साथ 24 घंटे एसपीजी के जवान होते हैं। एसपीजी के जवान को अगर यह महसूस होता है कि प्रधानमंत्री की जान को खतरा है तो वह अपनी जान पर खेलकर के प्रधानमंत्री की जान बचाने का काम करते हैं।

• पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

• मनमोहन सिंह की पत्नी गुरुशरण कौर

• नमिता भट्टाचार्य ( अटल बिहारी वाजपेई की बेटी)

• सोनिया गांधी 

• राहुल गांधी

स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप को कब बनाया गया था?

बता दे कि स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप का निर्माण  देश की राजधानी नई दिल्ली में साल 1988 में 2 जून के दिन किया गया था और इसका निर्माण करने के लिए संसद के एक अधिनियम का इस्तेमाल किया गया था। दिल्ली में ही इसे बनाने के कारण इसका हेड क्वार्टर दिल्ली राज्य में ही स्तिथ है। 

जिस प्रकार सेंट्रल की कई सिक्योरिटी फोर्स है उसी प्रकार इसकी गिनती भी सेंट्रल की एक स्पेशल सिक्योरिटी फोर्स में होती है। मुख्य तौर पर इनका काम होता है ऐसे लोगों को 24 घंटे सुरक्षा देना जिन्हें गवर्नमेंट के द्वारा एसपीजी सुरक्षा दी गई है।

स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप कमांडो की विशेषता क्या है?

जिस भी जवान का सिलेक्शन एसपीजी कमांडो के तहत होता है उन्हें नौकरी प्राप्त हो जाने के बाद हमेशा 24 घंटे प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगे हुए रहना होता है। प्रधानमंत्री जहां भी जाते हैं उन्हें उनके साथ जाना पड़ता है। 

एसपीजी जवान काले रंग का कोट पहनते हैं और इनके पास एक ऐसी ऑटोमेटिक गन होती है जो एक ही बार में कई राउंड फायर कर सकती है। उस गन को एफएनएफ असाल्ट राइफल कहा जाता है।

एसपीजी जवान हमेशा अपनी आंखों पर चश्मा लगाकर रखते हैं। यह किसी फैशन के कारण नहीं होता है बल्कि यह इसलिए लगाया जाता है ताकि दुश्मन को यह ना दिखाई दे कि आखिर एसपीजी जवान की नजर कहां है।

दुश्मन की गोलियों से बचने के लिए एसपीजी जवान अपने पेट के हिस्से में बुलेट प्रूफ जैकेट भी पहन कर के रखते हैं।‌ इसके अलावा वह अपनी सिक्योरिटी के लिए एल्बो भी लगाते हैं।

स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप के जवान ऐसे जूते पहनते हैं जिनकी ग्रिप अच्छी हो, ताकि वह फिसलने से बचें।

एसपीजी में शामिल जवानों को ऐसे हैंड ग्लब्स दिए जाते हैं जो उन्हें हाथों में लगने वाली विभिन्न प्रकार की हानिकारक चोटों से बचाने का काम करते हैं।

एसपीजी में भर्ती होने के लिए क्या करें?

अगर कोई अभ्यर्थी एसपीजी में भर्ती हो जाता है तो उसे एसपीजी कमांडो कहा जाता है। बता दे कि कि जितने भी अभ्यर्थी एसपीजी में भर्ती होते हैं उनका सिलेक्शन करने के लिए बीएसएफ, सीआईएसएफ, आईटीबीपी, सीआरपीएफ का इस्तेमाल होता है और इन्हीं में से कुछ स्पेशल जवानों का सिलेक्शन करके उन्हें ट्रेनिंग दी जाती है और ट्रेनिंग पूरी होने के बाद उन्हें एसपीजी में शामिल कर लिया जाता है।

यह ट्रेनिंग बहुत ही कठिन होती है। इसलिए जिनका सिलेक्शन ट्रेनिंग के लिए होता है उसमें से भी कई अभ्यर्थी ट्रेनिंग पूरी नहीं कर पाते हैं और आधे रास्ते से ही वह बाहर हो जाते हैं। जो अभ्यर्थी ट्रेनिंग पूरी कर लेते हैं उन्हें एसपीजी कमांडो कहा जाता है।

आपको यह भी बता दें कि स्पेशल प्रोटक्शन ग्रुप एजेंसी की देखरेख इंडिया के होम मिनिस्टरी डिपार्टमेंट के अंतर्गत होती है, क्योंकि एसपीजी इसी के अंतर्गत काम करती है।

एसपीजी कमांडो की सैलरी क्या है SPG Salary

एसपीजी कमांडो की सैलरी के बारे में बात की जाए तो स्टार्टिंग में इन्हें महीने में ₹84,236 से लेकर के ₹90000 तक की सैलरी प्राप्त होती है और इनकी अधिकतम सैलरी महीने में ₹240457 के आसपास तक होती है। बोनस के तौर पर इन्हें ₹153 से लेकर के ₹16,913 प्राप्त होते हैं और इन्हें तकरीबन ₹10000 तक का कमीशन भी मिलता है।

अच्छी सैलरी के अलावा एसपीजी कमांडो को साल भर में कई छुट्टियां भी दी जाती है। इसके अलावा उनका पीएफ और टीडीएस भी कटता है ताकि भविष्य में उन्हें रिटायरमेंट के बाद अच्छे पैसे प्राप्त हो। 

इसके अलावा इन्हें रेलवे में मुफ्त यात्रा का प्रावधान भी है, साथ ही प्रधानमंत्री के साथ रहने के कारण इनके खाने पीने की व्यवस्था और उनका खर्चा गवर्नमेंट के कोटे से कटता है।

FAQ:

Q: एसपीजी की ऑफिशियल वेबसाइट क्या है?

Ans: http://spg.nic.in/

Q: एसपीजी सिक्योरिटी किसे दी जाती है?

Ans: भारत के प्रधानमंत्री के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री और उनकी पत्नी को एसपीजी सिक्योरिटी दी जाती है। इसके अलावा आवश्यकता पड़ने पर भी गवर्नमेंट किसी व्यक्ति को एसपीजी सिक्योरिटी दे सकती है।

Q: एसपीजी को कब बनाया गया?

Ans: 2 जून 1988

Q: वर्तमान में स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप के डायरेक्टर कौन है?

Ans: अरुण कुमार सिन्हा

Q: एसपीजी का मुख्यालय कहां पर स्थित है?

Ans: भारत देश के नई दिल्ली राज्य में

Q: एसपीजी की स्थापना कब की गई थी?

Ans: 8 अप्रैल साल 1985

Q: एसपीजी का पूरा नाम क्या है?

Ans: स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप

Q: एसपीजी किसके अंतर्गत काम करती है?

Ans: भारत के गृह मंत्रालय के अंतर्गत

Q: एसपीजी सुरक्षा किसे प्राप्त होती है?

Ans: भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री और उनके परिवार वालों को, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार वालों को साथ ही गवर्नमेंट के द्वारा जिसे यह सुरक्षा दी जाती है उसे एसपीजी सिक्योरिटी मिलती है।

Q: एसपीजी सुरक्षा में कितने जवान होते हैं?

Ans: प्रधानमंत्री की सुरक्षा करने के लिए एसपीजी के 24 जवान होते हैं।

Q: एसपीजी का सैलरी कितना होता है?

Ans: इन्हें महीने में ₹60000 से लेकर के ₹75000 तक की सैलरी मिलती है।

Q: पीएम की सुरक्षा कौन करता है?

Ans: एसपीजी

अन्य पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here