Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल कैसे शुरू करें ?

बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल कैसे शुरू करें ? (How to Start a Youtube Channel for Kids in Hindi) [Ideas]

यूट्यूब वीडियो साझा करने का एक ऐसा प्लेटफॉर्म हैं जहाँ लोगों को यदि किसी चीज की जानकारी प्राप्त करना हो तो वो कर सकते हैं. लेकिन आजकल यह केवल जानकारी प्राप्त करने का ही नहीं बल्कि कमाई करने का भी जरिया बन गया हैं, और यह सब होता हैं यूट्यूब चैनल के माध्यम से. आज के समय में बच्चों में भी यह ज्यादा देखने को मिल रहा हैं कि वे यूट्यूब पर कुछ कार्टून, एंटरटेनमेंट या नॉलेज आदि से संबंधित वीडियो देखना बहुत पसंद करते हैं. बच्चों के लिए भी यूट्यूब चैनल शुरू किया जा सकता है. यदि आप बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल शुरू करते हैं, तो बच्चों के लिए यह काफी अच्छा हो सकता हैं. अब बात आती हैं कि बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल कैसे शुरू कर सकते हैं तो इसके लिए आप हमारे इस लेख के साथ अंत तक बने रहिये.

How to Start a Youtube Channel for Kids in Hindi

बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल शुरू करने का तरीका (Process of Creating YouTube Channel for Kids)

बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल शुरू करने से हमारा आशय यह है कि जब बच्चा 13 साल से कम उम्र का हैं, और जब वह 13 साल से अधिक उम्र का हैं, तो आप उनके लिए किस तरह से चैनल शुरू कर सकते हैं.

यदि आपका बच्चा 13 साल से कम उम्र का है, तो आप निम्न बिन्दुओं के आधार पर कार्य करते हुए यूट्यूब चैनल बना सकते हैं –

  • माता – पिता के अकाउंट का उपयोग करना :- यदि आपके पास जीमेल अकाउंट हैं तो उसकी सहायता से सबसे पहले आप यूट्यूब पर लॉग इन करें, और उसके बाद अकाउंट सेटिंग्स में जायें. इसके बाद अपलोड डिफ़ॉल्ट (जहाँ पर आप अपने वीडियोज को प्राइवेट बना सकते हैं) और कमेंट्स आदि पर विशेष ध्यान दें, जिसे आप लाइव होने या टर्न ऑफ करने से पहले अप्प्रूव कर सकते हैं. यदि आप अपने अकाउंट का इस्तेमाल करते हैं तो आप सभी अपलोडिंग कर सकते हैं, लेकिन इसके साथ ही आपका बच्चा भी चैनल के डिज़ाइन, डिस्क्रिप्शन और साथी ही वीडियो में कई क्रिएटिव कण्ट्रोल कर सकता है.
  • फॅमिली लिंक अकाउंट क्रिएट करना :- यदि आपके पास एक एंड्राइड डिवाइस है, तो आप गूगल के फॅमिली लिंक एप का उपयोग कर सकते हैं, जो आपको 13 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए सुपरवाइज्ड अकाउंट बनाने की सुविधा देता हैं.
  • एक अलग वेबसाइट का उपयोग करना :- यूट्यूब सबसे लोकप्रिय वीडियो साईट हैं लेकिन कुछ अन्य विकल्प ऐसे होते हैं जो बिल्ट – इन सुरक्षा उपायों का ऑफर देते हैं. आप उन सुरक्षित सोशल साईट में से एक का उपयोग कर सकते हैं.

इसके अलावा यदि आपका बच्चा 13 साल से ज्यादा उम्र का है तो उनके लिए निम्न सुझाव हम लेकर आये हैं उस पर भी आप ध्यान दे सकते हैं –

  • प्लानिंग करें :- आप अपने बच्चों को अपने चैनल के लिए एक प्रस्ताव बनाने के लिए कहें जोकि यह बताता हैं कि वह क्या पेश करना चाहता हैं, दर्शक कौन है, वह कितनी बार पोस्ट करेगा, वह ऐड लेगा या नहीं, आदि इसी तरह के अन्य विचार.
  • सामग्री के बारे में बात करें :- अब आप इस बात पर चर्चा करें कि पोस्ट करने के लिए क्या ठीक हैं, क्या प्राइवेट रहना चाहिए, इसके अलावा डिजिटल सिटीजनशिप के बारे में भी अन्य बेसिक बातें आदि करें.
  • एक ‘बीटा लांच’ करें :- कई टैक स्टार्ट – अप्स की किताबों में से आप एक पेज लें और लिंक आउट करने के लिए छोटी सी शुरूआत करें. यह प्राइवेसी सेटिंग्स और विश्वसनीय मित्रों और परिवार के सीमित दर्शकों के साथ शुरू करें, और जो काम कर रहे हैं एवं नहीं कर रहे हैं उनसे कंस्ट्रक्टिव प्रतिक्रिया भी लें.
  • चेक इन करें :- एक बार जब यह शुरू हो जाये और चलने लगे, तो उसका समर्थन करना जारी रखें. इसमें अनएक्सपेक्टेड मुद्दे चाहे सकारात्मक हो या नकारात्मक दोनों निश्चित रूप से सामने आते हैं. ऐसे में यह जानना कि वह आपके समर्थन पर भरोसा कर रही हैं एक बड़ी बात है.
  • फीडबैक संभालें :- टीनेज अक्सर यह जानकर आश्चर्यचकित हो जाते हैं कि जो कुछ वे अपलोड करते हैं वह यूनिवर्सल प्रशंसा प्राप्त नहीं करता हैं. यूट्यूब पर कमेंट्स बेहद हार्ष हो सकते हैं, लेकिन प्रतिक्रिया से निपटना एक सीखने का अनुभव है.
  • रिसर्च – यूट्यूब में बच्चों के लिए चैनल शुरू करना चाहते है तो पहले आपको रिसर्च वर्क करना होगा. देखना होगा यूट्यूब में किस तरह का कंटेंट लोग देखना पसंद करते है. वैसे तो आजकल यूट्यूब में बच्चों के लिए बहुत से चैनल है, लेकिन माता पिता को बच्चों को वही दिखाना चाहिए जिसमें उन्हें कुछ सीखने को मिले. यूट्यूब की दुनिया में अंजनी टॉय वर्ल्ड यूट्यूब चैनल आजकल बहुत उभर कर आ रहा है. इसमें पेरेंट्स अपनी 8 साल की बेटी के साथ विडियो बनाते है. जिसमें तरह तरह के गेम्स चैलेंज होते है, जिसे बच्चे देखकर खुद घर में भी कर सकते है.

अतः ये टिप्स आपको इसके माध्यम से उन्हें प्रशिक्षित करने में मदद कर सकते हैं.

अब बारी आती हैं कि आप बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल शुरू करने के लिए किन चरणों को अपनाएं, यह जानकारी हम यहाँ दे रहे हैं, लेकिन आपको यह बता दें कि यूट्यूब चैनल शुरू करने का तरीका किसी विशेष केटेगरी के लिए अलग नहीं होता हैं. यह सब के लिए एक समान ही हैं. बच्चों के लिए यदि आप यूट्यूब चैनल शुरू कर रहे हैं तो बस आपको अपने चैनल का नाम एवं उसका कंटेंट बच्चों के अनुसार ही रखना होगा.

  • सर्वप्रथम एक कंप्यूटर में जिसमें इंटरनेट कनेक्शन उपलब्ध हो उसमें आप यूट्यूब की लिंक https://www.youtube.com पर जाकर इस पर अपना अकाउंट बनाएं. इसे आप अपने गूगल अकाउंट के माध्यम से भी शुरू कर सकते हैं.
  • फिर जब आप सफलतापूर्वक अपने यूट्यूब अकाउंट पर साइनअप कर लेते हैं, उसके बाद बाएं हाथ की ओर आपको एक ‘क्रिएट अ यूट्यूब चैनल’ का विकल्प दिखाई देता हैं. आप उस पर क्लिक करें.
  • आपका चैनल चूकी बच्चों के लिए है, इसलिए आप अपने चैनल का नाम बच्चों के अनुसार रखें यानि कुछ ऐसा जो उनके लिए काफी आकर्षक हो. अभी पहले से ही बच्चों के लिए कुछ यूट्यूब चैनल बने हुए हैं जैसे विकी, मरी और लिजी ट्यूब आदि.
  • इसके बाद आप एक चैनल की आवश्यकता के अनुसार सारे एक्शन करने की कोशिश करें, जिसमें आपको वीडियो डालना, साथ ही कमेंट पोस्ट करना और फिर प्लेलिस्ट बनाना आदि शामिल हैं.

एक बार आपने बच्चों के लिए यूट्यूब चैनल बना लिया उसके बाद आप वीडियोस को अपलोड करने के लिए निम्न तैयारी करें.

बेहतर कंटेंट बनाये (Create Good Content)

यूट्यूब चैनल बनाना वैसे तो कोई बड़ी बात नहीं होती है इसे किसी भी व्यक्ति द्वारा बनाया जा सकता हैं, लेकिन इसके लिए जो सबसे आवश्यक चीज है वह हैं चैनल के अंदर का कंटेंट. आपको वास्तव में अच्छे वीडियो बनाने होंगे जो तुरंत बच्चों के बीच लोकप्रिय हो सकें. इसके लिए हम यहाँ कुछ सुझाव दे रहे हैं –

  • बच्चों को आकर्षित करें :- बच्चों के लिए जो वीडियोस आप बनाते हैं उसमें कुछ न कुछ स्टोरी होनी चाहिए, जिसमें हसी, रोना, खेलना, चलना और बोलना आदि सभी चीजें शामिल हो. यह बच्चों को एंगेज करने वाले कंटेंट साबित होते हैं. आप बच्चों के लिए ऐसे कंटेंट भी ऐड कर सकते हैं जिससे बच्चों को नई – नई चीजें सीखने को मिलें.
  • फॅमिली – फ्रेंडली कंटेंट :- यूट्यूब चैनल के लिए आपका कंटेंट फॅमिली – फ्रेंडली यानि परिवार के अनुकूल होना चाहिए. और साथ ही आप ऐसे वीडियो बनाएं जो पॉजिटिव इंटरेस्ट, शिक्षा और विकास को बढ़ावा देने वाले और साथ ही परिवार को एक – दूसरे और वास्तविक दुनिया से जुड़ने के लिए प्रेरित करें.
  • आयु उपयुक्त कंटेंट पर ध्यान दें :- आप हमेशा सेक्सुअली सजेस्टिव, हिंसक, अशिष्ट, अपराधिक, विवादास्पद या जो गलत वीडियो समझे जाते हैं, उनसे बचने का प्रयास करें.
  • बाल सुरक्षा पर विचार करें :- हमेशा यह सुनिश्चित करें कि आपके वीडियो में कोई भी बच्चा सुरक्षित महसूस करें, और दर्शक के लिए भी यह इसी तरह से हो.
  • एक अच्छे रोल मॉडल बनें :- आप इस तरह के व्यवहार के साथ वीडियो बनाएं कि वह एक अच्छा रोल मॉडल हो.
  • ओरिजिनल रहें :- रिपीटीटिव, कॉपीकैट और सनसनीखेज कंटेंट से बचें, इसके बजाय गहराई और वास्तविकता प्रदर्शित करने वाले कंटेंट का चयन करें.
  • ट्रेंड्स को परिवार के अनुकूल रखें :- यदि आप लोकप्रिय ट्रेंड में टैप करते हैं, तो इसे 100 % परिवार के अनुकूल रखें. आप इसे केवल इसलिए न करें कि एक अन्य क्रिएटर ऐसा करता हैं. यह आप खुद के अनुसार करें.

वीडियो की योजना बनाएं (Planning the Video)

अगर आपके मन में बच्चों के बारे में कुछ टॉपिक के आईडियाज हैं, तो आप उन आईडियाज को वैलिडेट करने के लिए कुछ अतिरिक्त कीवर्ड रिसर्च करियें. आपके आईडियाज के लिए जितनी अधिक लोकप्रियता और सर्च मात्रा होगी, उतनी ही आपके वीडियो के लिए आर्गेनिक ट्रैफिक की संभावना अधिक होगी.

सही सॉफ्टवेयर का चयन करें (Choose the Right Software)

कई ऑनलाइन वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर होते हैं, लेकिन आपका अपना सॉफ्टवेयर होना बहुत अच्छा होगा. ताकि आपको अपने वीडियो को अपनी पसंद के अनुसार संशोधित करने की अधिक स्वतंत्रता हो. चूकी आप वीडियो बच्चों के लिए बना रहे हैं इसलिए आपको यह ध्यान देना होगा कि उसमें विसुअल इफेक्ट्स बच्चों को काफी आकर्षित करने वाले हों. बाजार में बहुत सारे एनीमेशन बनाने वाले स्टूडियोज हैं आप उनकी मदद ले सकते हैं, जोकि बहुत कम रेट में आपके लिए एनीमेटेड वीडियो बना सकते हैं. 

हालांकि आमतौर पर आप सभी एडिटिंग के लिए यूट्यूब मूवी मेकर का उपयोग कर सकते हैं, इसके अलावा कुछ स्पेशल इफेक्ट्स के लिए एडोब आफ्टर इफ़ेक्ट का भी उपयोग कर सकते हैं. यूट्यूब मूवी मेकर विशेष रूप से यूट्यूब के लिए बनाया गया एक अनूठा और यूजर फ्रेंडली वीडियो / ऑडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर है, जोकि उपयोगकर्ताओं के अनुकूल सुविधाएँ प्रदान करता हैं. इसे किसी भी यूट्यूबर द्वारा उपयोग किया जाता हैं.

अच्छे मोबाइल कैमरा या डीएलएसआर एवं माइक्रोफोन का उपयोग (Use Good Mobile Camera / DLSR and Microphone)

आप जब वीडियो बनाते हैं तो आपके वीडियो की क्वालिटी एचडी जैसी हो एवं उसमें आने वाली आपकी वौइस् एक दम बेहतर हो. इसके लिए आपको अच्छी क्वालिटी के कैमरे एवं माइक्रोफोन का उपयोग करना होगा. आप इसके लिए अच्छी कंपनी के मोबाइल या फिर डीएलएसआर की मदद ले सकते हैं.

वीडियो और ऑडियो की एडिटिंग करें (Editing Video and Audio)

आपके वीडियो और ऑडियो ऐसे होने चाहिए जोकि दर्शकों के अनुकूल हो. आपको अपने सोर्स वीडियो फुटेज और ऑडियो को एडिट करने की आवश्यकता हैं, जिसमें आपको अनवांटेड कंटेंट को हटाने, वीडियो इमेज को ट्रिम करने, ग्राफ़िक्स ऐड करने, कलर एडजस्ट करने और अद्भुत बैकग्राउंड म्यूजिक ऐड करना आदि काम करने होंगे. सबसे अहम बात आपके वीडियो की ऑडियो क्वालिटी को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए. खराब ऑडियो क्वालिटी वास्तव में दर्शकों के अनुभव से अलग हो जाती है.

टेक्स्ट और सबटाइटल्स को ऐड करें (Add Text and Subtitles) 

अपने दर्शक आपके पब्लिश किये हुए वीडियो के साथ अंत तक बने रहें, यह पक्का करने के लिए वीडियो में कुछ टेक्स्ट और सबटाइटल भी ऐड करें. क्योंकि ऐसा करना बेहतर साबित हो सकता हैं. क्योंकि इससे लोगों को आपका वीडियो देखने में अच्छा लगेगा.

वीडियो का इंट्रो ऐड करें (Adding Video Intro)

यदि आप अपने टारगेट दर्शकों में कमी न लाकर बल्कि उसमें बढ़ोत्तरी करना चाहते हैं, तो आपको प्रारंभ में अपने उस टॉपिक का परिचय देना होगा जिसे आप अपने वीडियो में कवर करने जा रहे हैं. और अपने दर्शकों को वीडियो के अंत में यह कहना न भूलें कि वे आपके वीडियो को शेयर करें, आपके चैनल को सब्सक्राइब करें, आपकी वेबसाइट तक पहुंचें, कमेंट करें आदि. इस विशेष स्टेप को आप कभी भी न भूलें यह आपके सभी वीडियो में जाना चाहिए. क्योंकि इससे आपके दर्शक आपके साथ जुड़े रहेंगे.      

वीडियो को सेव करें (Save the Video)

आप यह हमेशा याद रखें कि जब आपका वीडियो बन कर तैयार हो जायें, तो आपको यूट्यूब मूवी मेकर के अंदर एमपी4 वीडियो फाइल के रूप में अपने वीडियो को सेव करना होगा, और साथ ही फाइल नाम में अपने वीडियो के लिए अपने मुख्य कीवर्ड भी ऐड करना होगा. आपके कंटेंट का जो मुख्य कीवर्ड हैं, वहीं आपके वीडियो की रैंक को एसआर में ऊपर करने में सहायता करेगा.

यूट्यूब पर वीडियो पब्लिश करें (Publish Video to YouTube)

जब आपने अपने वीडियो को सेव कर लिया तो अब यह पूरी तरह से पब्लिश करने के लिए तैयार हैं यानि इसे अब आपको अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड करना हैं. इसके लिए भी आपको निम्न बातों का ध्यान रखना हैं जैसे –

  • आपको अपने वीडियो में एक कॉम्पैलिंग टाइटल, डिस्क्रिप्शन और टैग्स ऐड करने होंगे, जिसमें मुख्य कीवर्ड शामिल होंगे, जिसे आपने अपने वीडियो के लिए चुना था. और जो आपके वीडियो को संबंधित कीवर्ड या टॉपिक के लिए सर्च रिजल्ट में रैंकिंग ऊपर कर आर्गेनिक ट्रैफिक को आकर्षित करने में मदद कर सकते हैं.
  • इसके अलावा अपने थंबनेल को ध्यान से चुनें, आपके द्वारा चुने गए थंबनेल प्रत्येक वीडियो के लिए आपके विचार से अधिक महत्वपूर्ण होते हैं. जब आप वीडियो अपलोड करते हैं तब इसे आकर्षित बनाने के लिए यूट्यूब आपको 3 थंबनेल चुनने के लिए विकल्प प्रदान करते हैं, लेकिन यदि आपको लगता हैं कि आपको किसी कैशियर की आवश्यकता है, तो आप बेहतर कस्टमाइज कर सकते हैं. और एक अच्छा थंबनेल उसमें जोड़ सकते हैं, इससे दर्शकों को वीडियो पर क्लिक करने में सहायता मिलेगी.
  • आपके लिए यह भी आवश्यक हैं कि अपने वीडियो अपलोड करने के लिए टाइम मैनेजमेंट का विशेष ध्यान दें, यानि आपके वीडियोस फिक्स टाइम शेड्यूल में नियमित रूप से पब्लिश होने चाहिए.

यूट्यूब वीडियो को प्रमोट करें (Promote the YouTube Video)

लंबे समय तक आपके वीडियो का गोल यही होता हैं कि अपने संबंधित कीवर्ड या टॉपिक के लिए सर्च रिजल्ट में आर्गेनिक ट्राफिक को बढ़ाना. अपने वीडियो को लॉन्ग टर्म बेसिस पर लगातार नए दर्शकों को आकर्षित करने का सबसे अच्छा मौका देने के लिए आपको अपने वीडियो को पब्लिश होने के तुरंत बाद प्रचार करना शुरू कर देना चाहिए. इससे ट्रैक्शन को इनिशियल बूस्ट करने में मदद मिलती हैं, जो यूट्यूब को आपके वीडियो को प्रतिस्पर्धी वीडियो से अधिक रैंक देने के लिए प्रोत्साहित करने में मदद करता हैं. इसलिए आपको अपने वीडियो को अपने सभी नेटवर्क, अपनी वेबसाइट्स, फेसबुक, ट्विटर, इस्टाग्राम, ब्लॉग आदि पर साझा करने की आवश्यकता है.  

आप जब वीडियोस बनाते हैं तो आपको यह ध्यान रखना होगा कि लोग आपके वीडियो को जल्द से जल्द ढूंढ लें, इसमें उन्हें ज्यादा परेशनी का सामना न करना पड़े. और आपके वीडियो और साथ ही ऑडियो की क्वालिटी ऐसी हो जो लोगों को खासकर बच्चों को पसंद आयें. और ज्यादा से ज्यादा बच्चे आपके चैनल को सब्सक्राइब कर सकें. उम्मीद हैं हमारे इस लेख के माध्यम से आपको बच्चों के लिए यूट्यूब वीडियो बनाने में मदद मिलेगी.

एफएक्यू’स (FAQ’s)

Q : क्या मैं अपने बच्चों के लिए यूट्यूब अकाउंट क्रिएट कर सकता हूँ ?

Ans : जब आप 13 वर्ष से कम उम्र के बच्चे के लिए एक गूगल अकाउंट बनाने के लिए फॅमिली लिंक का उपयोग करते हैं, तो आपका बच्चा यूट्यूब किड्स ऐप का उपयोग कर सकता है. हालांकि वे किसी भी अन्य यूट्यूब एप्लीकेशन, वेबसाइट्स या सुविधाओं का उपयोग नहीं कर सकते हैं, जब तक कि वे 13 वर्ष के नहीं हो जाते हैं और अपने स्वयं का गूगल अकाउंट का प्रबंधन नहीं कर लेते हैं.

Q : क्या 13 से कम उम्र में यूट्यूब अकाउंट हो सकता हैं ?

Ans : अधिकारिक तौर पर, यूट्यूब 13 वर्ष से कम आयु के बच्चों को अपने अकाउंट बनाने के लिए मना करता हैं, और 13 से 17 वर्ष के बच्चों को केवल माता – पिता की अनुमति से अकाउंट खोलने की अनुमति देता हैं.  

Q : क्या यूट्यूब बच्चों के लिए सुरक्षित हैं ?

Ans : यूट्यूब अधिकतर बच्चों के लिए सुरक्षित हैं, लेकिन इसके कुछ चांस भी हो सकते हैं कि बच्चे कुछ गलत चीजें देखते हैं, साथ ही साथ जंक फ़ूड जैसे सामान के लिए विज्ञापन भी देख सकते हैं.

Q : बच्चों को अनुचित वीडियो दिखाने से कैसे बचें ?

Ans : माता – पिता के लिए यह एक प्लस पॉइंट है कि यूट्यूब एक निष्पक्ष चेतावनी देता है कि बच्चे कुछ ऐसा देख सकते हैं जो आप उन्हें नहीं दिखना चाहते हैं. तब आप अनुचित वीडियो को ब्लॉक और रिपोर्ट कर अपने बच्चों को उसे देखने से रोक सकते हैं.

Q : यूट्यूब चैनल की लागत कितनी हैं ?

Ans : छोटे रूप में लेकिन अमेरिका के यूनाइटेड स्टेट में स्टैण्डर्ड यूट्यूब चैनल बिज़नस शुरू करने के लिए लागत 5 हजार डॉलर से 15 हजार डॉलर तक होती है.

Other links –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *