Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

स्वाभिमान ओल्ड टीवी धारावाहिक | Swabhiman old TV serial in hindi 

Swabhiman old tv serial in hindi स्वाभिमान सन 1995 के दौरान डीडी नेशनल पर प्रसारित होने वाले धारावाहिकों में बहुत लोकप्रिय धारावाहिक था. इसका प्रसारण दोपहर में किया जाता था. लोगों में इस सीरियल के प्रति अलग उत्साह देखने को मिलता है. इंसानी ज़िन्दगी में खो रही मानवता और शिथिल पड़ते रिश्तों का अध्ययन इस सीरियल में बहुत क़रीब से किया गया. शहरी ज़िन्दगी के दौरान लोगों के दिलों में संवेदना को पुनः जगाने के लिए इस सीरियल में वो सभी चीज़ें दिखाई गयी, जो एक सभ्य समय में होता रहा है, और जो अनापेक्षित है. इस सीरियल की जानकारी यहाँ पर दी जा रही है.

swabhiman old tv serial

स्वाभिमान ओल्ड टीवी सीरियल की कहानी (Swabhiman old tv serial story in hindi)

इस सीरियल को रहस्य, ड्रामा और रोमांच, इन सभी से मिलाकर सफ़ल करने की कोशिश की गयी थी. इसमें रिश्तों की अहमियत को बहुत क़रीब से परखा गया.

ये सीरियल दरअसल एक बहुत ही आकर्षक स्त्री स्वेतलाना की कहानी पर आधारित था. स्वेतलाना एक जिंदादिल किरदार थी, जो ज़िन्दगी में ऐसे मरहलों से गुज़रती है जहाँ पर उसे डर, असुरक्षा, संदेह आदि एक साथ उस से उलझ जाते हैं, और उसकी जिंदा दिली को ख़त्म करने की कोशिश करते है. स्वेतलाना को इस दौरान इन सभी साजिशों से निकलकर अपने पहले वाले मक़ाम को फिर से पाना होता है. सीरियल के आगे बढ़ने पर सीरियल के एक किरदार केशव मल्होत्रा की मृत्यु हो जाती है, जिसके बाद किरदारों में विरासत के लालच की जंग शुरू हो जाती है. इस सीरियल में इस सच्चाई को बहुत ही अच्छे से उजागर किया गया. धीरे धीरे स्वेतलाना के आस पास के लोग उसे भावनाओं का सहारा लेकर तोड़ने की कोशिश करने लगते हैं.

अंततः इस सीरियल में भी सच्चाई की जीत होती है और अंत में कुछ नकारात्मक किरदारों को मार दिया जाता है. अर्थात उन नकारात्मक किरदारों की मृत्यु हो जाती है.

स्वाभिमान सीरियल के पात्र और किरदार (Swabhiman old tv serial cast)  

नब्बे का दशक वो दौर था, जब कई लोग अपना करियर अभिनय में बनाने की कोशिश कर रहे थे. टेलीविज़न उनके लिए वरदान था, क्योकि सिनेमा पर कुछ चेहरों को ही दिखाने की परंपरा थी. इस सीरियल में कई ऐसे चेहरों ने काम किया जिन्हें आज दुनिया एक बहुत ही अच्छे अभिनेता के रूप में जानती है. इस सीरियल में मनोज वाजपेयी, रोहित रॉय, आशुतोष राणा आदि कई अभिनेताओं ने काम किया. नीचे किरदार और उसे निभाने वाले अभिनेता का नाम दिया जा रहा है :

किरदार के नाम अभिनेता के नाम
स्वेतलाना बनर्जीकितु गिडवानी
रोंनीअभिमन्यु सिंह
रंजना देवीअंजू महेन्द्रू
महेंद्र मल्होत्रादीपक पाराशर
निशि मल्होत्राकुनिका
रिषभ मल्होत्रारोहित रॉय
मेधा हेगड़ेचन्ना रुपारेल
अभिजीतविनोद पाण्डेय
शीलाप्रभा सिन्हा
ऋतू मल्होत्राशीतल ठक्कर
सुनीलमनोज बाजपेयी
नीतूरिंकू कर्मारकर
बॉबीकरण ओबेरॉय
सोहाअचिंत कौर
बबलीतनाज़ कुर्रिम
युवराजअनुपम भट्टाचार्य
त्यागीआशुतोष राणा
शिवानीसंध्या मृदुल
कुंवर सिंहअरुण बाली
रक्षंदासागरिका सोनी
रणजीतराजेश खेडा
वाल्टरराजीव पॉल
केशव मल्होत्रानासिर अब्दुल्लाह

सभी अभिनेताओं ने बखूबी अपना किरदार निभाया और सीरियल की कहानी को आगे बढाने और सार्थक रखने में अहम भूमिका निभाई.

स्वाभिमान सीरियल के बारे में खास (Swabhiman old serial)

पहली बार कोई सीरियल विरासत की जंग के विषय पर इतनी खूबसूरती से बनायी गयी. दौलत की हवस में नंगे होते रिश्तों का खेल बहुत ही बेहतरीन तरीक़े से दिखाया गया था. जहाँ एक तरफ विरासत के वारिस को उसके सभी रिश्तेदार ऊपर ही ऊपर खूब प्यार देते हैं, तो वहीँ दूसरी तरफ़ किसी भी तरह उस वारिस से उसके बाप दादा का कमाया सब कुछ उससे छीन लेना चाहते हैं. कहानी मौजूं और हालाते- हाज़िर से वाबस्ता होने की वजह से लोगों ने इसे खूब पसंद किया, और ये सीरियल लगातार दो साल तक सन 1995 से 1997 तक चला. भारतीय टेलीविज़न के इतिहास में ये पहला सीरियल था, जिसने अपने 500 एपिसोड पूरे किये थे.

स्वाभिमान सीरियल से जुड़ी कुछ बातें (Swabhiman old tv serial)

स्वाभिमान सीरियल से जुडी कुछ बातें इस प्रकार हैं-

सीरियल का नामस्वाभिमान
जेनरड्रामा
रचनाकारअमित खन्ना
पटकथा और संवादशोभा डे, विनोद रंगनाथन और सुरभि पाण्डेय
निर्देशकमहेश  भट्ट
टाइटल थीम और गायककैसे उन्हें भूल जाएँ – शान
निर्माताअमित खन्ना
चैनलडी डी नेशनल
भाषाहिंदी
प्रति एपिसोड समय25 मिनट
सीजन1
प्रसारण समय1995 – 1997

 

अन्य पढ़ें –

 

Vibhuti
Follow me

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.
Vibhuti
Follow me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *