Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

तानाजी मालुसरे का इतिहास एवं आने वाली फिल्म | Tanaji Malusare History and Upcoming Movie in hindi

तानाजी मालुसरे का इतिहास एवं आने वाली फिल्म | Tanaji Malusare History and Upcoming Movie in hindi

इतिहास की बात की जाये तो हमें कई ऐसे नाम पता हैं, जिनका पराक्रम हमें ज़ुबानी याद हो गया है. किन्तु कई पराक्रमी योद्धा ऐसे भी हुए हैं, जिन्हे हालाँकि याद नहीं किया जाता, किन्तु वे भी काफ़ी पराक्रमी थे. उन्होंने काफ़ी बड़ी लड़ाइयाँ लड़ीं और अपने सम्राज्य, अपनी मातृभूमि की रक्षा की. तानाजी भी ऐसे ही योद्धाओं में से एक है. तानाजी मालुसरे मराठा साम्राज्य की सेना के सेनापति थे, जिन्होंने छत्रपति शिवाजी महाराज के साथ मुगलों से युद्ध किया. इनके द्वारा लड़े गये युद्धों में सबसे महत्वपूर्ण युद्ध सन 1670 में सिन्हगढ़ का युद्ध रहा है. जिसमें इन्होने भाग लिया और शहीद हो गए. इनके इतिहास पर आधारित अजय देवगन अभिनीत एक फिल्म भी बनने जा रही है. यहाँ पर इससे जुडी कुछ बातों का वर्णन किया जा रहा है.

तानाजी मालुसरे का इतिहास (Tanaji Malusare History in hindi)

कथाओं के अनुसार, जिस समय सिंहगढ़ का युद्ध होने वाला था उस समय तानाजी मालुसरे अपने पुत्र के विवाह की तैयारी कर रहे थे, किन्तु जैसे ही उन्हें मराठा साम्राज्य की तरफ से युद्ध का समाचार प्राप्त हुआ, उन्होंने उसी क्षण अपने बेटे का विवाह छोड़ कर युद्ध के लिए निकल गये. शिवाजी की योजना इस समय कोंडाना को पुनः मराठा साम्राज्य में मिलाने की थी. इस समय शिवाजी से कोंडाना का कमान लेकर तानाजी मालुसरे कोंडाना के लिए रवाना हो गये. द ग्रेट मराठा ओल्ड दूरदर्शन धारावाहिक यहाँ पढ़ें.

कोंडाना पहुँचने के बाद तानाजी और उनके लगभग 300 सैनिक इस किले में रात के समय किले के पश्चिमी तरफ से घुस गये. इस कार्य में तानाजी और उनके साथियों का साथ किले के अन्दर से यशवंती नामक एक स्त्री ने दिया था, जिसे घोर्पद के उपनाम से बुलाया जाता था. किले में घुसने के लिए इस दल को काफ़ी मेहनत करनी पड़ी. तानाजी ने इस किले में घुसने के लगातार 2 प्रयास किये, किन्तु असफल रहे. उन्होंने इन दो असफलताओं से सबक लेकर तीसरी बार इस किले में घुसने की योजना बनायी. तीसरी बार उन्हें इस कार्य में सफलता प्राप्त हो गई. तानाजी और उनके दल के सैनिकों ने इस बार सफलता प्राप्त की और इस किले में घुसने में सफ़ल हों गये

इस किले में एक कल्याण दरवाजा है. इस दरवाज़े से तानाजी के भाई सूर्याजी ने अपने साथ 500 सैनिकों को लेकर हमला किया और किले के इस क्षेत्र को भी अपने अधीन कर लिया. इस समय इस किले पर उदयभान का अधिकार था. छत्रपति शिवाजी ने तानाजी के नेतृत्व में उदयभान के सैनिकों से युद्ध किया. यह एक भीषण युद्ध था. इस युद्ध में तानाजी एक शेर की तरह युद्ध कर रहे थे. इस युद्ध में हालाँकि तानाजी की सेना को विजय प्राप्त हुई और किला इनके द्वारा जीत लिया गया, किन्तु इस भीषण युद्ध में तानाजी शहीद हो गये. तानाजी को युद्ध भूमि में वीरगति प्राप्त हुई. छत्रपति शिवाजी ने इस किले का नाम इस वीर योद्धा की याद में कोंडाना से बदलकर सिंहाडा कर दिया.

ताना जी के जीवन पर एक पुस्तक लिखी गयी हैं, जिसका नाम ‘गढ़ आला पण सिंह गेला’ है.         

taanaji malusare

तानाजी – द अनसंग वोर्रियर आने वाली फ़िल्म (Taanaji – The Unsung Warrior Upcoming Movie)

बॉलीवुड समय समय पर ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर फिल्मे बनाता रहता है. इसी तरह से बॉलीवुड में तानाजी पर भी फ़िल्म बनने वाली है. इस फ़िल्म में मशहूर अभिनेता अजय देवगन काम करने वाले हैं. इस फ़िल्म के निर्देशक ॐ राउत हैं. इस फ़िल्म अभी शूटिंग चल रही है, और यह फिल्म वर्ष 2019 में रिलीज़ होगी. ॐ राउत इससे पहले लोकमान्य तिलक की जीवनी पर मराठी में फ़िल्म बना चुके हैं. इसा अनुमान किया जा रहा है कि इस फ़िल्म में अजय देवगन एक नए अवतार में दिखेंगे और फ़िल्म में भरपूर एक्शन होगा. अजय देवगन ने स्वयं इस फ़िल्म का पोस्टर अपने ट्वीटर पर शेयर किया है. इसमें वे एक मराठा मैन यानि मराठी सूट और टोपी और साथ ही हाथ में तलवार लिए हुए दिख रहे हैं. इस शेयर के बाद अजय के फैन्स बेसब्री से फ़िल्म के ट्रेलर की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

अन्य पढ़ें – 

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *