Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
ताज़ा खबर

तनूजा मुख़र्जी का जीवन परिचय | Tanuja Mukherjee biography in hindi

Tanuja Mukherjee biography in hindi तनूजा मुखर्जी एक लोकप्रिय भारतीय अभिनेत्री है जिन्होंने बांग्ला, मराठी और हिंदी फिल्मों में भी काम किया है. वैसे वे मुखयतः हिंदी फिल्मों में ही ज्यादा काम की है. तनूजा एक बहुमुखी प्रतिभाशाली अभिनेत्री है, जिन्होंने अपने जीवन के पांच दशक भारतीय हिंदी फिल्मों को दिए है. वह 1952 से 1975 तक भारतीय सिनेमा में सक्रीय रही, फिर कुछ अन्तराल के बाद 2002 से अब तक वह मनोरंजन की दुनिया में अपना योगदान दे रही है. अभी हाल ही में उनके द्वारा अभिनीत एक सीरियल आ रहा है जिसका नाम है आरम्भ. यह सीरियल इसलिए ज्यादा चर्चित हो रहा है, क्योकि इसकी कहानी सुपरहिट फ़िल्म बाहुबली से मिलती जुलती है. बाहुबली 2 द कन्क्लूज़न फिल्म रिव्यु के बारे में पढ़े. इस सीरियल में तनूजा ने राज माता के किरदार को निभाया है. आरम्भ आगामी स्टार प्लस सीरियल यहाँ पढ़ें.

Tanuja mukharjee
       तनूजा मुख़र्जी का जीवन परिचय

Tanuja Mukherjee biography in hindi

तनूजा मुख़र्जी का जन्म और शिक्षा (Tanuja Mukherjee education)

तनूजा समर्थ का जन्म 23 सितम्बर 1943 को मुम्बई, महारष्ट्र में हुआ था, जिनको हम उनके मशहुर नाम तनूजा मुखर्जी से जानते है. तनूजा मुखर्जी की प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा विल्ला थेरेसा जोकि एक किंडरगार्टन था, में हुई. फिर उसके बाद उनका नामांकन वाल्सिंग्हम के एक को-एड अर्थात जिसमे लड़के और लड़कियां दोनों साथ पढ़ते है, में हुआ था. उसके बाद उनका नामाकंन सैंट जोसेफ़ बोर्डिंग स्कूल में हो गया. तनूजा मुखर्जी के अनुसार उनका पढाई में बिलकुल भी मन नहीं लगता था.     

तनूजा मुख़र्जी का पारिवारिक जीवन (Tanuja Mukherjee family)  

तनूजा का जन्म एक मराठी परिवार में हुआ था. तनूजा मुखर्जी का एक भरा पूरा परिवार है. तनूजा के दादाजी रतन बाई और उनकी आंटी नलिनी जयवंत भी फ़िल्म में अभिनय कर चुके है. उनके पिता का नाम कुमारसेन समर्थ है, वो एक फिल्म निर्माता थे और उनकी माता जी का नाम शोभना समर्थ है जोकि फ़िल्म अभिनेत्री थी. तनूजा मुखर्जी की तीन बहने है और एक भाई भी है जिनके नाम है नूतन, ये उनकी बड़ी बहन है जोकि मशहुर फ़िल्म अभिनेत्री भी थी और उनकी दूसरी बहन का नाम चतुर है जोकि एक आर्टिस्ट है तथा तीसरी रेशमा है. उनके भाई का नाम जयदीप है, उन्होंने भी अभिनय की दुनिया में अपना योगदान दिया है. उन्होंने फ़िल्म निर्माता शोमू मुखर्जी से सन 1973 में शादी की. जिससे उनकों दो बेटीयाँ है है जिनमे से एक का नाम काजोल है और दूसरी बेटी का नाम तनिषा मुखर्जी है. उनकी बड़ी बेटी एक सफल अभिनेत्री है जिन्होंने अभिनेता अजय देवगन से शादी की है और उनके भी दो बच्चे है. इस तरह तनूजा मुखर्जी के परिवार में दामाद और नाते- नतिनी भी है. वह रिश्ते में अभिनेता मोहनीश बहल, रानी मुखर्जी, सर्बानी मुखर्जी और निर्देशक अयन मुखर्जी की चाची लगती है.

तनूजा मुख़र्जी का व्यक्तिगत जीवन (Tanuja Mukherjee personal life)  

तनूजा मुखर्जी अपने पति से अलग रहती थी, लेकिन उन्होंने तलाक नहीं लिया था. उनके पति की मौत हार्ट अटैक की वजह से 10 अप्रैल 2008 को 64 वर्ष की अवस्था में हो गयी थी. तनूजा मुखर्जी की राशि तुला है और उनकी उचाई 1.57 मीटर है.               

तनूजा मुख़र्जी का करियर (Tanuja Mukherjee career)  

तनूजा मुखर्जी के करियर का वर्णन हम साल के अनुसार नीचे वर्णित कर रहे है जो निम्नलिखित है –   

  • 1950 : तनूजा ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत 1950 में आई फ़िल्म हमारी बेटी से की, जिसमे उनके साथ उनकी बड़ी बहन नूतन भी थी. इस फ़िल्म में उन्होंने एक बच्ची के किरदार को निभाया था.
  • 1960 : एक वयस्क के किरदार में तनूजा अपनी माँ और बहन नूतन के द्वारा निर्देशित फिल्म ‘छबीली’ में अभिनय किया. उस वक्त उनकी उम्र 16 वर्ष थी. इसी वर्ष उन्होंने बंगाली फ़िल्मों में भी अपने करियर की शुरुआत की थी.
  • 1961 : एक हिरोइन के रूप में उनकी पहचान 1961 में आई फिल्म ‘हमारी याद आएगी’ से हुई, जिसको केदार शर्मा ने निर्देशित किया था. इसके पहले इन्होने राज कपूर, मधुबाला और गीता बाली जैसे अभिनेता और अभिनेत्रियों की खोज की थी.
  • 1963 : इस वर्ष उनकी बांग्ला फ़िल्म आई थी जिसका नाम ‘देया नेया’ था, जिसमे उनके हीरो उत्तम कुमार थे.
  • 1966 : इस वर्ष उनकी फ़िल्म आई ‘बहारे फिर भी आयेंगी’. इस फिल्म को शाहीब लतीफ़ ने निर्देशित किया था. संयोग वश यह फ़िल्म गुरुदत्त टीम की अंतिम फ़िल्म बन गयी इस फ़िल्म के एक गाना जोकि था ‘वो हंसके मिले हमसे में दिखाई दिए’. इस फिल्म में उन्होंने तनूजा को अभिनय का गुन सीखते हुए प्राकृतिक और सहज कलाकारी के लिए प्रोत्साहित किये. जिसका अच्छा परिणाम आया. तनूजा ने हिट फ़िल्म ‘ज्वेल थीफ’ में एक महत्वपूर्ण सहायक रोल से अपनी अभिनय क्षमता का परिचय दिया था.
  • 1967 : वह बांग्ला के फ़िल्म ‘एन्थोनी फिरिंगी’, जोकि 1967 में आई थी में काम कर चुकी है.
  • 1969 : उनकी सबसे बड़ी हिट फ़िल्म इस वर्ष आई जिसका नाम था ‘जीने की राह’. जिसमें उनके हीरो थे जीतेन्द्र. इसके बाद उन्होंने फिल्म ‘पैसा और प्यार’ में सहायक अभिनेत्री का रोल किया जिसके लिए उन्हें अवार्ड भी प्राप्त हुआ था.
  • 1970 : इसके अलावा वो फ़िल्म ‘राजकुमारी’ जो की 1970 में आई थी. बांग्ला फ़िल्म के सुपर स्टार सोमित्रा चटर्जी के साथ उनकी केमेस्ट्री को दर्शकों ने खूब पसंद किया. उनके साथ उन्होंने फिल्म ‘तीन भुवानेर परे’ जोकि 1969 में आई थी और फिल्म ‘प्रोथोम कदम फूल’ इत्यादि में काम किया था. तनूजा ने बांग्ला फ़िल्म के आलावा गुजरती फ़िल्में भी की है जिसका नाम ‘जाकोल’, ‘नारी तू नारायणी’ में भी काम किया है.      
  • 1971 : इस वर्ष भी उनकी हिट फिल्म आई जिसका नाम ‘हाथी मेरे साथी’ था. उसके बाद उन्होंने फ़िल्म ‘मेरे जीवन साथी’, ‘दो चोर’ और 1972 में आई फिल्म ‘एक बार मुस्कुरा दो’ में अभिनय किया. इसके अलावा भी उन्होंने बहुत सारी फ़िल्म की जिनके नाम है पवित्र पापी, भूत बंगला, अनुभव इत्यादि. 

इसके बाद उन्होंने कई सालों तक फ़िल्मों से दूरी बना के रखी, लेकिन जब उनकी वैवाहिक जीवन में समस्या आई तो उन्होंने अपने पति से दुरी बनाते हुए फ़िल्मों की तरफ़ दुबारा से रुख़ कर लिया. उनको फ़िल्मों में हीरो की सहायक भूमिका के लिए पेशकश होने लगी. उन्होंने 1982 में आई फ़िल्म ‘ख़ुदार’ के लिए भाभी का किरदार निभाया था. उस फ़िल्म के हीरो अमिताभ बच्चन थे जो तनूजा के देवर बने थे. तनूजा ने अमिताभ बच्चन के साथ हिरोइन के रूप में फ़िल्म ‘प्यार की कहानी’ में काम किया था. अमिताभ बच्चन का परिवार और जीवनी यहाँ पढ़ें. इसके बाद उन्होंने राज कपूर की फ़िल्म ‘प्रेम रोग’ में भी सहायक किरदार को निभाया. इसके बाद वे 2002 में आई फ़िल्म ‘साथिया’, 2003 में फिल्म ‘रूल्स और खाकी’ में भी सहायक अभिनेत्री के रूप में दिख चुकी है.

  • 2008 : 2008 में तनूजा जी टीवी के शो ‘रॉक एंड रोल फैमिली’ में जज की भूमिका में दिखाई दीं. इस शो में उनके दामाद अजय देवगन और बेटी काजोल भी शामिल हुए थे.
  • 2012 : सन 2012 में उन्होंने फिल्म ‘सन ऑफ़ सरदार’ में भी अभिनय किया.
  • 2013 : तनूजा 2013 में भी एक मराठी फिल्म में दिख चुकी है जिसका नाम था ‘पित्रुरून’, जिसमे उन्होंने एक विधवा के किरदार को निभाया था, इस फ़िल्म का निर्माण नितीश भारद्वाज के द्वारा किया गया था.                                            

तनूजा मुख़र्जी के अवार्ड और उपलब्धियां (Tanuja Mukherjee award)  

तनूजा मुखर्जी ने अपने फ़िल्मों में दिए योगदान के लिए कई पुरस्कार जीते है. जिसे नीचे प्रदर्शित किया गया है-

वर्ष अवार्ड फ़िल्म कटेगरी
1964 बंगाल फ़िल्म जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन अवार्ड बेनजीर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री हिंदी फिल्मों के लिए
1970  फ़िल्म फ़ेयरअवार्ड पैसा या प्यार सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री
2013 20 वा लाइफ ओके स्क्रीन अवार्ड पितुर रून सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री मराठी फिल्मों के लिए
2014 गिल्ड अवार्ड        – लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड के लिए
2014 फ़िल्म फेयर        – लाइफ़ टाइम अचीवमेंट अवार्ड के लिए

तनूजा मुख़र्जी का विवाद (Tanuja Mukherjee)

तनूजा मुखर्जी उस वक्त चर्चा में आई जब एक अख़बार को दिए अपने इंटरव्यू में उन्होंने कहा मुझे रानी मुखर्जी के शादी में नहीं बुलाया गया था, लेकिन ये अच्छी बात है कि अब भी हम संपर्क में है और पूजा के समय अब भी जब हम मिलते है बहुत ही गर्म जोशी के साथ मिलते है. 

तनूजा मुख़र्जी के चर्चित वचन (Tanuja Mukherjee quotes)

  • मै अपने जीवन को अपने ऊसूलों पर जीती हूँ और न तो मै मौत से डरती हूँ और ना ही अपने भविष्य को लेकर चिंतित रहती हूँ, मुझे रोमांस पसंद है और मै लोगो की कंपनी भी पसंद करती हूँ लेकिन वो भी अपने ही शर्त पर.
  • अपने फ़िल्मी या अभिनय करियर के 5 दशक में मै कभी भी अपने किरदार को अपनी अभिनय क्षमता से जीवंत करने के लिए दिमाग से नहीं सोचती हूँ, बल्कि उसे मै हमेशा दिल से करने के बारे में सोचती हूँ और ऐसा करती भी हूँ.   

अन्य पढ़े:

Ankita

Ankita

अंकिता दीपावली की डिजाईन, डेवलपमेंट और आर्टिकल के सर्च इंजन की विशेषग्य है| ये इस साईट की एडमिन है| इनको वेबसाइट ऑप्टिमाइज़ और कभी कभी आर्टिकल लिखना पसंद है|
Ankita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *