यूनिकॉर्न स्टार्टअप क्या है, लिस्ट 2022 Unicorn Startup Kya hain

भारत यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स (शुरुआत, खास बाते, क्या है, ) Bharat Unicorn Stratup (total unicorns, upcoming unicorns,)भारत यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स पर तीसरे नंबर पर।

यूनिकॉर्न क्या है?

जाने यूनिकॉर्न के बारे में। पिछले कुछ सालों में भारत यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स के क्षेत्र में एक अलग ही मुकाम हासिल करता हुआ नजर आ रहा है। यूनिकार्न्स को लेकर भारत की प्रगति सचमुच सराहनीय लायक है। हुरून रिसर्च रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत अब यूनिकार्न्स के मामले में पूरे विश्व में तीसरे नंबर पर आ चुका है। यह सचमुच भारत के लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भारत के यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स को मोटिवेट करते उनकी सराहना की है। प्रधानमंत्री के मुताबिक रिकॉर्ड लिस्टिंग भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप कंपनियां और भारतीय मार्केट के लिए एक नए युग की शुरुआत है। हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको भारतीय यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स के बारे में विस्तार से बताएंगे।

यूनिकॉर्न किसे कहते हैं?

यूनिकॉर्न एक ऐसी स्टार्टअप कंपनी को कहते हैं जिसकी वैल्यू एक बिलियन डॉलर ($1 billion) से ज्यादा की हो जाती है। सरल शब्दों में कहा जाए तो जब एक प्राइवेट स्टार्टअप कंपनी की वैल्यू एक बिलियन डॉलर की हो जाती है या फिर उससे भी ज्यादा तो उसे यूनिकॉर्न कहा जाता है। एक यूनिकॉर्न स्टार्टअप कंपनी से ही बनती है। कुछ लोग मिलकर एक कंपनी चालू करते हैं और फिर धीरे-धीरे उसमें पैसा बढ़ता है और वह कंपनी बढ़ने लगती है। जब इस प्राइवेट स्टार्टअप की वैल्यूएशन एक बिलियन डॉलर या फिर उससे ज्यादा हो जाती है तो वह यूनिकॉर्न बन जाती है।

स्टार्टअप क्या होता है?

किसी इंसान यह एक समूह के पास किसी भी समस्या का एक अनोखा या इनोवेटिव समाधान होता है जिसे वे आगे जाकर एक बड़े बिजनेस का रूप भी दे सकते हैं, उस कंपनी या किसी भी नए वेंचर या प्रोडक्ट को हम स्टार्टअप कहते हैं। यह एक ऐसी कंपनी होती है जो प्राइवेट होती है और एक स्केलेबल और किसी भी इनोवेटिव तरीके को एक बहुत बड़े टर्नओवर का बिजनेस बन सकती है। शुरुआत में स्टार्टअप कंपनी का टर्नओवर ज्यादा नहीं होता और कुछ स्टार्टअप कंपनियां ज्यादा आगे तक चल भी नहीं पाती। तो हमें ऐसा कह सकते हैं कि यह फेक कंपनियां होती हैं जो डेवलपिंग फेस में होती है और आगे जाकर एक बड़ा टर्नओवर के बिजनेस में भी तब्दील हो सकती है।

भारत में स्टार्टअप इंडिया की शुरुआत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने स्टार्टअप इंडिया की बात सबसे पहले 15 अगस्त 2015 में की थी। 16 जनवरी 2016 को स्टार्टअप इंडिया को दिल्ली के विज्ञान भवन से शुरू किया गया था। 2015 से पहले भारत में कुछ स्टार्टअप कंपनियां हैं जैसे TCS, Infosys, इत्यादि। स्टार्टअप इंडिया को प्रॉफिट और बिजनेस के अलावा इस मुकाम से भी शुरू किया गया था ताकि भारत की युवा पीढ़ी को नौकरी खोजने और अन्य परेशानियों का सामना ना करना पड़े ।

स्टार्टअप इडिया

  • भारत सरकार ने स्टार्टअप इंडिया को बढ़ावा और मदद करने के लिए 19 एक्शन प्लांस बनाए हैं।
  • रजिस्ट्रेशन फॉर्म सिंपल बनाया गया है।
  • भारत सरकार द्वारा स्टार्टअप कंपनियों को बढ़ावा देने के लिए 10 हजार करोड़ का फंड बनाया गया है।

यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स से जुड़ी खास बातें

  • भारत की यूनिकॉर्न क्लब में 84 स्टार्टअप्स हैं।
    यह भारत के लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि है श्री यूनिकॉर्न जिसका टर्न ओवर 1 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा होता है, ऐसे क्लब में भारत के पास अब 84 यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स हैं।
  • इनमें से 42 वर्ष 2021 में ऐड हुए हैं।
  • भारत विश्व में यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स के मामले में तीसरे नंबर पर आ चुका है।
  • यूनिकॉर्न भारत में अलग-अलग सेक्टर्स में आ रहे हैं।
  • यह है कुछ यूनिकॉर्न क्लब की स्टार्ट अप कंपनियां जो आज भारत में काफी आगे बढ़ चुकी हैं: Paytm, Swiggy, Quikr, Ola, Zomato, Flipkart, BYJU’s, Justdial इत्यादि।
  • अब भारतीय यूनिकार्न्स कंपटीशन और रिस्क लेने की प्रकृति में काफी अच्छा सामर्थ्य दिखा रहे हैं।
  • कोरोना जैसी महामारी में भी स्टार्टअप कंपनियों के लक्ष्य आगे बढ़ते जा रहे हैं। प्रधानमंत्री के मुताबिक इन्वेस्टर्स से भी भारतीय स्टार्टअप्स के लिए रिकॉर्ड रेस्पॉन्स देखने को मिल रहा है।

भारत में कितने यूनिकॉर्न?

  • भारत के यूनिकॉर्न क्लब में अब 84 स्टार्टअप्स हैं।
  • 84 में से वर्ष 2021 के अंत में 42 यूनिकार्न्स जुड़े हैं गए हैं।

अन्य पढ़े

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here